हेलोवीन दिवस पर निबंध Essay on Halloween Day in Hindi

हेलोवीन दिवस पर निबंध Essay on Halloween Day in Hindi

भारत त्योहारों का देश है, यहां हर महीने या हर हफ्ते, कैलेंडर पर एक नया त्योहार नज़र आता है। हालांकि यह तो नहीं कहा जा सकता है कि त्योहारों के कारण ही समाज में खुशियां हैं, लेकिन त्योहारों का हमारी खुशियों और हमारे मेल मिलाप में बहुत बड़ा योगदान होता है। हर त्योहार का अपना एक महत्व है।

हैलोवीन ईसाई धर्म का एक बहुत बड़ा त्योहार है। हैलोवीन को 31 अक्टूबर के दिन मनाया जाता है। इसे भारत के साथ ही पूरे विश्व में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। हैलोवीन का त्योहार अपने मरे हुए रिश्तेदारों और दोस्तों को तर्पण यानी कि श्रध्दांजलि देने के लिए मनाया जाता है।

हैलोवीन एक थीम पर आधारित त्योहार है, जिस प्रकार दीपावली पर दिये अथवा प्रकाश का महत्व होता है या फिर होली पर रंगों का महत्व होता है, उसी प्रकार हैलोवीन में डरावनी चीजों को एक अलग तरह से रिप्रेजेंटेट किया जाता है।

क्यों मनाया जाता है हैलोवीन? Why Halloween festival is celebrated?

हैलोवीन की उत्पति 2,000 साल पहले हुई थी। तब इस त्योहार को हैलोवीन के नाम से नहीं जाना जाता था, लेकिन अपेक्षाकृत यह लोगों में काफी ज्यादा प्रचलित त्योहार था। 2,000 साल पहले धरती पर मौजूद सेल्ट्स द्वारा इस त्योहार को मनाया जाता था।

वे लोग तब 1 नवंबर को नव वर्ष मनाया करते थे। सेलट्स आयरलैंड, यूनाइटेड किंगडम और उसके आस पास के इलाकों में फैले हुए थे। उन लोगों द्वारा एक नवंबर को नया साल मनाया जाता था। ये गर्मियों के खत्म होने के कारण था।

वे लोग ऐसा मानते थे कि सर्दियों के साथ में नए साल की शुरुआत होती है। और चूंकि नई फसल भी नवम्बर के बाद ही लगनी आरंभ होती है इसलिए वे इस कारण को भी नए साल के आने का कारण मानते थे।

और पढ़ें -  दिवाली पर 6 कहानियाँ Diwali Stories in Hindi & History of Diwali

हैलोवीन की उत्पति तो यहीं से हुई थी लेकिन हैलोवीन की ड्रेस का कारण भी यही सेलट्स लोग ही हैं। दरअसल जब वो लोग नया साल मनाते थे तब वे लोग अपनी फसलों और अपनी खेती वाली जगह को सुरक्षित रखने के लिए एक तरह की आग जलाया करते थे।

वे इस आग में पुरानी फसल के कचरे और जानवरों को जलाते थे जिससे कि उनके इष्ट देव प्रसन्न हो। उसके साथ ही उस पवित्र आग के आस पास तरह तरह के नृत्य प्रदर्शन किए जाते थे।

उन नृत्य प्रदर्शनों के दौरान यह कोशिश की जाती थी कि वे लोग सर पर अलग अलग तरह के जानवरों के सर पहनकर रखें। ऐसा करने से उन्हे एक प्रकार की खुशी मिलती थी। हालांकि ये सिर बस मिट्टी के मुखौटे होते थे लेकिन उन्हे पहनकर यह सुनिश्चित हो जाता था कि लोग प्रसन्नता से पर्व को मना रहे हैं।

हैलोवीन का महत्व Importance of Halloween

जीवन में इंसान जिन चीजों से सबसे ज्यादा परेशान है उसमें उसका डर भी शामिल है। ऐसा कई बार होता है कि हम नदी पार तो कर पाते हैं लेकिन तैरने के डर से कहीं किनारे पर ही रह जाते है और फिर ज़िन्दगी वहीं कहीं डर के साये में ही खत्म हो जाती है, और हम उस पार की संभावनाओं को कभी तलाश ही नहीं पाते। हैलोवीन का त्योहार भी इसी लिए मनाया जाता है ताकि हम अपने रूहानी डरों से लड़ पाएं और उनसे उबर पाएं।

हेलोवीन डे मनाने का तरीका How Halloween Day is Celebrated?

हेलोवीन दिवस लोग कई परम्पराओं और रीती रिवाजों से मनाते है –

  1. ट्रिक और ट्रेटिंग
  2. विविध वेशभूषा
  3. जैक और लैंटर्न बना कर
  4. खेल और दूसरी गतिविधियाँ

हैलोवीन का अमेरिका में आगमन Celebration of Halloween

हैलोवीन का अमेरिका में आगमन हैलोवीन की शुरुआत के बहुत सालों बाद हुआ हालांकि तब तक वह केवल इंग्लैंड जैसा देशों तक ही सीमित था। हालांकि बाद में अमेरिका की खोज हुई और उसके बाद चीजों, संस्कृतियों और त्योहारों का भी आदान प्रदान हुआ जिससे कि अमेरिका में भी हैलोवीन पहुंच गया।

और पढ़ें -  जीवन में खुशियाँ कैसे ढूँढें? Finding own Happiness in the Happiness of others in Hindi

यह सब कुछ 19वीं शताब्दी में हुआ। हालांकि अमेरिका में अब भी एक बहुत बड़ी जनसंख्या हैलोवीन को हेय दृष्टि से देखती है लेकिन हैलोवीन मनाने वालों की जा जनसंख्या बढ़ रही है। एक आंकड़े के अनुसार यह 2017 में केवल 16% था और 2018 तक बढ़ कर यह 20% पर आ चुका है।

1 thought on “हेलोवीन दिवस पर निबंध Essay on Halloween Day in Hindi”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.