औरंगजेब बायोग्राफी और इतिहास Aurangzeb Biography and History in Hindi

औरंगजेब बायोग्राफी और इतिहास Aurangzeb Biography and History in Hindi

क्या आप महान मुग़ल औरंगजेब के विषय में जानना चाहते हैं ?
क्या आप जानना चाहते हैं औरंगजेब मुग़ल साम्राज्य के अंत का कारण क्यों बना?

  • नाम- औरंगजेब (Aurangzeb)
  • पूरा नाम- अबुल मुज़फ्फर मुहि-उद-दिन मुहम्मद औरंगजेब (Abul Muzaffar Muhi-ud-Din Muhammad Aurangzeb)
  • जन्म- 3 नवम्बर, 1618 दाहोद, मुग़ल साम्राज्य
  • मृत्यु- 3 मार्च, 1707 अहमदनगर,
  • दफ़न किया गया स्थान- औरंगजेब का मकबरा, खुल्दाबाद, औरंगाबाद, महाराष्ट्र, भारत (Tomb of Aurangzeb, Khuldabad,
  • Aurangabad, Maharastra, Bharat)
  • धर्म- इस्लाम
  • पिता- शाह जहाँ
  • माता- मुमताज़ महल

औरंगजेब का इतिहास व जीवनी Aurangzeb Biography and History in Hindi

औरंगजेब का शुरुवाती जीवन Early Life of Aurangzeb in Hindi

औरंगजेब मुग़ल राजा शाहजहाँ और मुमताज़ महल का तीसरा बीटा था। औरंगजेब के पिता शाहजहाँ ने अपने प्रेम रानी मुमताज़ महल के लिए ताजमहल बनवाया था। औरंगजेब का शुरुवाती जीवन बहुत ही गंभीर रहा और वह एक भक्त रूप में बड़ा हुआ। वह बहुत दिन तक मुस्लिम कट्टरपंथियों से जुड़ा रहा और मुग़ल साम्राज्य के शाहिपने, मादकता और वासना से दूर रहा।

उसने बहुत जल्द ही सैन्य और प्रशासनिक क्षमता दिखाई और अपने सबसे बड़े भाई के साथ प्रतिद्वंदता छिड गयी जिसको उसके पिता ने उत्तराधिकारी के रूप में चुना था। 1636 में औरंगजेब नें कुछ मुख्य नियुक्तियाँ की और उसने कुछ सैनिक तैयार किया उज़बेक और फारसियों के खिलाफ(1646-47)।

जब शाहजहाँ 1657 में बहुत बीमार पड़े तो औरंगजेब और उसके बड़े भाई के बिच तनाव और भी बढ़ गया और युद्ध छिड गया।

AURANGZEB KE BHAI, औरंगजेब बायोग्राफी और इतिहास Aurangzeb Biography and History in Hindi
औरंगजेब के ३ भाई – दारा शिकोह, मुराद बक्श, शाह शुजा (चित्र सोर्स – GOOGLE.COM)

बुंदेला का युद्ध Bundela War

15 दिसम्बर 1634, औरंगजेब नें अपनी पहली सेना तैयार की जिसमे कुल 10000 घोड़े और 4000 लोग थे। औरंगजेब कि सेना लाल तम्बुओं का इस्तेमाल करती थी। शाहजहाँ द्वारा बुंदेलखंड भेजी गयी सेना का दायित्व औरंगजेब के हाँथ में रखा गया था। यह युद्ध ओरछा के शासक झुझार सिंह के खिलाफ लड़ा गया और इसमें जुझार सिंह को वहाँ से हटा दिया गया।

इसे भी पढ़ें -  51+ दलाई लामा के अनमोल कथन Dalai Lama Quotes in Hindi

औरंगजेब का शासन कल दो बराबर भागों में गिर पड़ा लगभग 1680 तक। वह एक मिश्रित हिन्दू-मुस्लिम साम्राज्य का सक्षम मुस्लिम सम्राट था। लोग खासकर उसके बेरहमी स्वभाव कि वजह से उसे पसंद नहीं करते थे परन्तु उसकी ताकत और कौशल के लिए उसे सम्मानित भी किया जा चूका था।

इस अवधि के दौरान उसने दो बार 1664 और 1670 में महँ बंदरगाह लूटा। फारसियों कि जगह, मध्य एशिया, तुर्क पर भी कब्ज़ा कर लिया था। फारसियों कि जगह, मध्य एशिया, तुर्क पर भी कब्ज़ा कर लिया था।

औरंगजेब नें अपने परदादा अकबर के नुस्कों को अपनाया, हर किसी कि दुश्मन है, उन्हें सामजस्य में रखो और उन्हें शाही सेवा में रखो। इस प्रकार शिवाजी को हराया गया और सुलह के लिए 1666, आगरा में, सेना में एक स्थान दिया गया।

1680 में शिवाजी कि मृत्यु के पश्चात, औरंगजेब को अपने शासन के दृष्टिकोण और नीति में एक परिवर्तन करना पड़ा।

औरंगजेब के शासन काल Reign of Aurangzeb in Hindi

औरंगजेब के 50 वर्ष के शासन काल को दो भागों में देखा जा सकता है। उसने अपने शासन काल के पहले भाग में अपनी राजधानी में (1658-1682) शासन किया और दुसरे भाग में डेक्कन में (1682-1707)।

पहले पलामू बिहार में औरंगजेब ने शासन किया साथ ही, बंगाल और असम में भी अहोम राजा जयद्ध्राजा को हरा कर। और राजा अरकान, मीर जुमला और शाइस्ता खान को हरा कर चिट्टागोंग और संद्विप पर भी कब्ज़ा किया।

मृत्यु Death

औरंगजेब बहुत ही लम्बे समय तक जीवित रहा और 28 फरवरी, 1707 को 88 वर्ष कि आयु में उसकी मृत्यु हो गयी।

11 thoughts on “औरंगजेब बायोग्राफी और इतिहास Aurangzeb Biography and History in Hindi”

  1. wow! great knowledge about Aurangzeb……..History is my favorite subject……Aurangzeb Bharat me sabse jyada samay tak Sashan karne vale kings me se ek tha………

    Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.