ईद उल फ़ित्र पर निबंध Essay on Eid Ul Fitr Festival in Hindi

इस लेख में आप पढ़ेंगे ईद उल फ़ित्र पर निबंध Essay on Eid Ul Fitr Festival in Hindi। ईद या ईद-उल-फितर मुस्लिम धर्म क लोगों का सबसे बड़ा पर्व होता है।

इस दिन को पुरे विश्व के मुस्लिम समुदाय के लोग बहुत ही धूम-धाम से मनाते हैं। खासकर मुस्लिम 3 मुख्य त्यौहार मनाते हैं – ईद उल फ़ित्र, ईद उल जुहा, ईद ए मिलाद उन नबी

ईद उल फ़ित्र पर निबंध Essay on Eid Ul Fitr Festival in Hindi

ईद उल फ़ित्र 2021 कब है? When is Eid Ul Fitr?

12-13 मई , 2021

ईद उल फ़ित्र का महत्व? Importance of Eid Ul Fitr

ईद उल फ़ित्र के त्यौहार को रमज़ान का अंतिम समय होता है। रमज़ान मुस्लिम धर्म के लोगों का एक पवित्र माह होता है उपवास रखने के लिए। रमज़ान के लिए, सभी इस्लाम से जुड़े लोग पुरे महीने सभी दिन रमज़ान के चन्द्रमा दिखने तक उपवास रखते हैं।

मुस्लिम समुदाय या कुरान के अनुसार यह मानना है की रमज़ान के माह में उपवास रखने से आत्मा का शुद्धिकरण होता है। साथ ही यह भी मानना है कि इस महीने में इस रस्म को निभाने से पूरा जीवन सुख-शांति से गुज़रता है।

इन उपवास (ईद उल फ़ित्र) के दिनों को सभी मुस्लिम भक्त या लोग समय अनुसार नमाज़ (पवित्र कुरान को पढ़ते हैं) जिसमें वो गरीबों को खाना खिलने और उनकी मदद करने के सुविचारों को और भी अच्छे से समझते हैं।

रमज़ान के माह के ख़त्म होने के बाद सभी अपने रोजा (उपवास) को बंद करते हैं। इसी के अगले दिन से सभी लोग ईद का उत्सव मनाने लगते हैं। यह दिन शहवाल के माह के पहले दिन पड़ता है। इस दिन को दुनिया भर के मुस्लिम बहुत ही बड़े पैमाने में मनाते हैं।

इसे भी पढ़ें -  2019 दोल जात्रा पर निबंध व जानकारी Essay on Doljatra Festival in Hindi

पढ़ें: जमात-उल-विदा पर निबंध

ईद उल फ़ित्र त्योहार का उत्सव? Celebration of Eid Ul Fitr

ईद उल फ़ित्र के दिन सभी मुस्लिम लोग सुबह जल्दी उठते हैं। उसके बाद वे सभी स्नान करके अपने पारंपरिक कपड़ों को पहनते हैं।

उनका सबसे पहला काम घर की साफ़ सफाई और घर को सजाने से शुरू होइ है। उसके बाद कुछ लोग दूर के बड़े मस्जिदों और कुछ लोग अपने घर के पास स्थित मस्जिदों में जा कर नमाज़ अदा करते हैं।

साथ ही वहां लोग अपने रिहतेदारों और अन्य लोगों से ईद मुबारक कहते हुए गले मिलते हैं। लोग अपने घरों में स्वादिस्ट मिठाइयाँ बनाते हैं और अपने पड़ोसियों और रिहतेदारों को बंटाते हैं।

साथ ही लोग अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को दावत में भी बुलाते हैं। जगह-जगह मेला भो लगता है जहाँ ढेर सारे झूले, बच्चों के लिए खिलौने और मिठाइयाँ भी मिलती हैं।

भारत में भी सभी मुस्लिम समुदाय के लोग ईद को बहुत ही धूम धाम से मनाते हैं। अन्य देशों की तरह भारत में भी इस दिन मुस्लिम ईद उल फ़ित्र का त्यौहार मनाते हैं। हिन्दू, सिख, हो या ईसाई सभी इस दिन अपने मुस्लिम भाइयों और दोस्तों को ईद मुबारक कह कर शुभकामनायें जताते हैं।

ईद उल फ़ित्र का त्यौहार सबके दिल में एक नया उमंग और भाईचारा की भावना लाता है। इस त्यौहार से लोगों के बीच प्यार बढ़ता है और लोगों के मन से ईर्ष्या और नफ़रत की भावना दूर होती है।

अब्राहम ने अल्लाह के आदेश पर अपने पुत्र इश्माएल का बलिदान किया था। उसे भी इस दिन बहुत ही मुख्य तौर पर याद किया जाता है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.