सकारात्मक सोच क्यों और कैसे? Positive thinking Why & How?

सकारात्मक सोच क्यों और कैसे? Positive thinking Why & How?

आज के दिन में Success पाने के लिए अपने भीतर सकारात्मक सोच का होना बहुत ही आवश्यक है । जीवन में सकारात्मक सोच के साथ-साथ अपने स्वभाव में भी सकारात्मक रवैया(Positive Attitude) लाना किसी भी मनुष्य को आसानी से अपने सफलता के शिखर पर पहुंचा सकता हैं ।

जिस प्रकार एक बीमार न होने वाले व्यक्ति को पूरा स्वस्थ नहीं कहा जाता है उसी प्रकार एक नकारात्मक सोच न रखने वाले व्यक्ति को सकारात्मक सोच वाला नहीं कहा जा सकता । सकारात्मक सोच रकने वाले लोगों का एक अलग ही पहचान होता है ।

वे बहुत ही आत्मविश्वास भरे, देखभाल करने वाले, सहनशीलता, प्यार और विनम्र भाव रखने वाले होते है । ऐसे लोग हर समय सहेदिल से दुसरे लोगों की मदद करने के लिए तैयार रहते हैं । 

सकारात्मक सोच क्यों और कैसे? Positive thinking Why & How?

सकारात्मक सोच क्यों?

सकारात्मक सोच रखने के कई फायदे है । वैसे तो सकारात्मक सोच रखने के फायदे साफ़ नज़र आते हैं पर हम नहीं चाहते की कुछ छुट जाए । इसको दो प्रकार के लोगों के लिए विभाजित किया गया है  ! एक तो स्वंय के लिए और दूसरा किसी व्यक्ति के कंपनी के लिए ।

स्वंय के लिए फायदे

  • जीवन में शक्ति और अच्छा व्यक्तित्व लाना
  • जीवन के खुशियों में बढ़ावा
  • दुसरे लोगों के लिए प्रेरणा स्रोत(Inspiration) बनना
  • यह बहुत ही स्फूर्तिदायक होता है
  • अपना एक अलग पहचान होना
  • अपने समाज के लिए योगदान और मदद के कारण देश के लिए यह गर्व की बात है

आपकी कंपनी के लिए फायदे

  • कंपनी के उत्पादों तथा तकनीकों में बढ़ावा
  • सभी लोगों में एकता बढ़ेगी साथ में सम्मिलित हो कर कार्य भी सही तरीके से पूर्ण होंने में मदद
  • असुविधाओं और मुश्किलों का आसानी से हल निकलना
  • उत्पादों के बिक्री तथा क्वालिटी में बढ़ावा
  • चारो तरफ से कंपनी का मुनाफा ही मुनाफा
  • अपने कंपनी के कर्मचारियों के साथ अच्छा संबंध
  • आपके सभी प्रकार के टेंशन(Tension) को दूर करके जीवन में खुशिया ही खुशियाँ लाये
इसे भी पढ़ें -  गुलज़ार साहब की शायरी हिन्दी में Best Gulzar Sahab Shayri in Hindi

हमारा पूरा जीवन कभी मुश्किलों में तो कभी खुशियों में गुज़रता है। लेकिन सबसे बड़ी मुश्किल जो हम  अपने आप से खड़ा करते है वह है अपने भीतर नकारात्मक सोच(Negative thoughts) को अपने जीवन में लाकर । नकारात्मक सोच आप के जीवन को पूरी तरीके से तबाह कर सकती है ! कैसे ? 

नकारात्मक सोच तथा रवैया हो सकता है आपके लिए विनाश का कारण ! कैसे ? निचे पढ़िए …

  • आपके जिंदगी में कडवाहट लाकर
  • आपके जीवन के उद्देश्य ख़त्म हो जाना
  • बीमार पड़ना
  • परिवार में टेंशन

सकारात्मक सोच कैसे ?

अगर आप सकारात्मक सोच को अपने अन्दर लाना चाहते हैं तो निचे दिए गए रास्तों को अपनाएं !

  • अच्छी चीजों को अपनाएं और बुरी चीजों से पूरी तरीकों से दूर रहें ।
  • अपने कार्य को करने में बिना किसी कारण देरी न करें ! समय जाये तो फिर न आए ! “कल करे सो आज कर आज करे सो अब पल में परलय होयगी, बहुरि करेगा कब ” कबीर का दोहा  
  • अपने जीवन को हमेशा दुखी मन से देखने के बजाये हमेशा अपने जीवन और भगवान का धन्वाद करे जिसने आपको इस धरती पर कुछ अच्छा अकरने किये भेजा ।
  • हमेशा जीवन में कुछ भी सिखने का मौका ढूंढे क्योंकि एक अच्छा छात्र ही एक अच्छा गुरु बन सकता है परन्तु उस ज्ञान का अमल या उपयोग होना बहुत जरूरी है ।
  • हमने पहले भी आप को बताया है नकारात्मक चीजों से पूरी तरीके से दूर रहें । शराब, सिगरेट तथा नशीली दवाइयों का सेवन न करें

ऊपर दिए गए अंकों से आप को यह तो पता चल ही गया होगा की आपको अपने भीतर क्यों और कैसे सकारात्मक सोच लाना चाहिए ! और नकारात्मक सोच से दूर रहेना चाहिए। अगर आपको हमारा पोस्ट अच्छा लगा हो तो शेयर करना ना भूलें।

38 thoughts on “सकारात्मक सोच क्यों और कैसे? Positive thinking Why & How?”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.