शराब बंद के फायदे नुकसान Advantages Disadvantages of Alcohol Ban in Hindi

शराब बंद के फायदे नुकसान Advantages Disadvantages of Alcohol Ban in Hindi (Liquor Ban)

शराब का सेवन एक हानिकारक बात है, यह तो हम सभी जानते हैं, पर फिर भी इस तथ्य के बावजूद ना ही शराब की बिक्री कभी कम होती है और ना ही इसका सेवन। मदिरा या शराब अलकोहलीय पदार्थ है।

रम, व्हिस्की, महुआ, ब्रांडी, बीयर आदि सभी एक हैं क्योंकि सभी में अल्कोहल होता है। इन में अल्कोहल की मात्रा और नशा लाने की क्षमता अलग अलग जरूर होती है। परंतु सभी को हम शराब ही कहते हैं।

शराब का सेवन आमतौर पर लोग करते ही क्यों हैं ?? यह सोचने वाली बात है !! दरअसल शराब को लेने के हर किसी के अलग-अलग कारण हो सकते हैं; कोई जश्न अथवा खुशी में पीता है, तो कोई बहुत उदास हो कर पीता है, और काफी लोगों को इसके सेवन की बहुत खराब लत होती है, पर मुख्य बात तो यह है कि शराब के फायदों से ज्यादा नुकसान पाए गए हैं।

इसलिए भारत सरकार ने हमेशा से ही चाहा है कि शराब पर प्रतिबंध लगाया जाए। पर कभी कोशिश पूरी हुई है और कभी नाकामी मिली। कुल मिलाकर कहें तो शराब का सेवन एक खराब बात नहीं है, पर इसे थोड़ी या सीमित मात्रा में ही लेना चाहिए।

शराब बंद के फायदे नुकसान Advantages Disadvantages of Alcohol Ban in Hindi

शराब पीने के फायदे Health benefits of Drinking Alcohol

शराब के अपने आप में स्वास्थ्य संबंधी कुछ फायदे हो सकते हैं। जैसे –

  • शराब का सेवन कम मात्रा में किया जाए तो मानसिक तनाव को कम करता है।
  • ज्यादातर लोग खुशी या जश्न या त्योहारों के मौकों पर शराब का सेवन करना पसंद करते हैं, यह उनके लिए खुशी जाहिर करने का एक तरीका होता है।
  • चूंकि शराब एक प्रकार की शामक औषधि होती है, इसलिए शराब के सेवन से नींद अच्छी आती है।
  • शराब के सेवन से पेट के उत्तकों में रक्त का संचालन बढ़ जाता है, जिसके कारण भूख अच्छी लगती है एवं खुराक बढ़ जाती है।
  • क्योंकि शराब के सेवन से रक्त प्रसार बढ़ जाता है, इस कारण सर्दियों में शराब का सेवन शरीर को गर्म रखता है। जिन देशों में अक्सर मौसम सर्द एवं बर्फीला रहता है, वहां शराब का सेवन आम होता है, लोग आमतौर पर खाने के साथ शराब को नियमित रूप से थोड़ी मात्रा में लेते हैं।
  • जो लोग बहुत दुबले पतले हैं, उनके लिए शराब का सेवन वजन बढ़ाने का एक अच्छा उपाय हो सकता है क्योंकि शराब में काफी कैलोरीज होती है।
  • शराब एक शामक औषधि है, इस कारण यह दर्द के अहसास को कम करती है अथवा दर्द निवारक की तरह काम करती है।

इस सब के विपरीत, स्वास्थ्य विशेषज्ञो की माने तो शराब के नुकसान ही ज्यादा पाए गए हैं; यही कारण है कि ज्यादातर देशों में शराब को प्रतिबंधित किया गया है और प्रतिबंध के ज्यादा से ज्यादा फायदे देखे गए हैं। आइए हम देखते हैं कि शराब पर प्रतिबंध लगाने के क्या फायदे और क्या नुकसान हो सकते हैं ?

शराब पर प्रतिबंध के फायदे Advantages of Liquor Ban (Alcohol Prohibition Adv)

घरेलू हिंसा

अत्यधिक शराब के सेवन से मनुष्य अपना आपा खो देता है। वह सब कुछ भूल जाता है कि वह कहां है, किसके साथ है, उसे यह भी नहीं पता चलता कि वह क्या बोल रहा है, क्या कर रहा है और ऐसी ही परिस्थितियों में घरेलू हिंसा के मामले सामने आते हैं जहां पुरुष ज्यादातर शराब पीकर घरों में महिलाओं के साथ मारपीट करते हैं। अगर शराब के सेवन पर प्रतिबंध लगा तो घरेलू हिंसा के मामलों में काफी गिरावट आएगी।

इसे भी पढ़ें -  मुख्यमंत्री अमृतम योजना क्या है? Mukhyamantri Amrutum Yojana Card details in Hindi

शराब और वाहन

ज्यादातर लोग शराब पीकर गाड़ी चलाते पाए गए हैं जिसके कारण सड़क दुर्घटना के मामले देखने को मिलते है। हालांकि शराब पीकर वाहन चलाना अवैध है, इसके बावजूद काफी लोग शराब का सेवन करके वाहन चलाते हैं।

ट्रक ड्राइवर भी अपनी लंबी यात्रा की थकान उतारने के लिए शराब पीकर ही वाहन चलाते हैं, जिसके कारण भीषण सड़क दुर्घटनाएं देखने को मिलती है। अगर शराब पर प्रतिबंध होता है तो घटनाओं की दर कम होगी।

अपराध

शराब के अत्यधिक सेवन से अपराध के मामलों में वृद्धि देखी गई है। शराब पीकर लोग तोड़फोड़, मारपीट, दंगे आदि करते देखे गए हैं क्योंकि शराब पीकर इंसान अपना होश भूल बैठता है। शराब पर प्रतिबंध अपराध को कम करेगा।

स्वास्थ्य

शराब एक ऐसा पेय पदार्थ है जिससे व्यक्ति की सेहत को काफी भारी नुकसान उठाने पड़ते हैं। अगर सीमित मात्रा में लिया जाए तो ठीक है, पर लोग ज्यादातर अत्यधिक मात्रा में ही सेवन करते हैं, जो कि शरीर में बहुत सारी बीमारियों को न्योता देता है।

अत्यधिक शराब पीने से शरीर में बीमारियां आती है, जैसे लीवर की खराबी, मस्तिष्क की नसों में कमजोरी, अत्यधिक मोटापा। कुछ अन्य नुकसान भी है जैसे शराब की लत लगना, अपने आप पर काबू हो जाना। शराब के अत्यधिक सेवन से व्यक्ति की मृत्यु के मामले भी सामने आए हैं। ऐसे में शराब पर प्रतिबंध लाभदायक होगा।

परिवार

शराब पीना सिर्फ एक व्यक्ति के लिए नहीं बल्कि उसके पूरे परिवार के लिए ही अति हानिकारक होता है। एक शराबी व्यक्ति कभी भी अपने परिवार को सुख सुविधाएं, खुशियां नहीं दे पाता है क्योंकि व्यक्ति शराब के नशे में ही धुत रहता है और अपनी ज्यादातर पूंजी शराब में ही उड़ा देता है। वह शराब के नशे के कारण मदहोश रहता है उसे अपने परिवार या संबंधियों की परवाह नहीं होती है। शराब पर प्रतिबंध पिड़ित परिवारों के लिए राहत लाएगा।

धन की हानि

एक शराब की लत वाले व्यक्ति के ज्यादातर पैसे शराब खरीदने या अन्य अवैध काम, जैसे जुए आदि में ही जाते हैं। ऐसे में शराब की लत के कारण वित्तीय क्षती भी देखी गई है अर्थात ऐसे मामलों में धन का काफी नुकसान देखा जाता है। शराब पर प्रतिबंध इस समस्या को भी सुलझाने में सक्षम होगा।

शराब पर प्रतिबंध के नुकसान Disadvantages of Liquor Ban (Alcohol Prohibition Disadv)

अवैध धंधे

शराब का सेवन एक ऐसा नशा है जिसकी लत लग जाती है एवं इस से छुटकारा पाना आसान नहीं है। प्रतिबंध के बाद शराब का मिलना आसान नहीं होगा, पर जो शराब के आदी हैं उन्हें तो शराब हर कीमत पर चाहिए होगी, ऐसे में अवैध शराब की बिक्री में वृद्धि की आशंका है। लोग गैरकानूनी रूप से जहरीली या नकली शराब भी धड़ल्ले से बेच पाएंगे।

आथिर्क पक्ष

शराब के निर्माण एवं बिक्री द्वारा सरकार को जो वित्तीय फायदा होता है वह खो जाएगा, अथार्त जो आर्थिक लाभ सरकार को शराब की बिक्री से मिलता है वह खत्म हो जाएगा।

आपराधिक मामले

प्रतिबंध के उपरांत लोगों को शराब सीधे तरीके से उपलब्ध नहीं हो पाएगी, ऐसे में शराब माफिया एवं तस्करों की मात्रा में वृद्धि देखी जा सकती है। यह माफिया एवं तस्कर अवैध रूप से शराब को बड़ी मात्रा में सभी को उपलब्ध कराएंगे, कारण वश अपराध बढ़ने की भी भारी आशंका है।

कम रोज़गार

शराब व्यवसाय में काम करने वाले लोगों का रोजगार छिन जाएगा अथवा बेरोजगारी में वृद्धि होगी, जो की देश के आर्थिक स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं है और न ही उनके लिए जिनके घरों में इस काम से चूल्हे जलते हैं।

शराब और विकल्प

वैकल्पिक नशीली दवाओं की मात्रा एवं उपयोग समाज में बढ़ जाएगा, क्योंकि शराब आसानी से नहीं मिल पाएगी, इस कारण नशे की लत के मरीजों को कुछ ना कुछ विकल्प चाहिए होगा ताकि वह अपनी तलब पूरी कर सकें।

निष्कर्ष Conclusion

शराब के उपलब्ध होने पर पूर्ण रुप से प्रतिबंध लगा देना मुश्किल का हल नहीं है, दरअसल सरकार को अन्य कुछ रास्ते खोज निकालने होंगे जिसके कारण सरकार को आर्थिक तौर पर नुकसान भी ना हो और शराब के दुर्भाग्य पूर्ण प्रभाव से भी बचाव हो सके।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.