जैक मा की प्रेरणादायक कहानी Alibaba Founder Jack Ma Success Story Hindi

जैक मा की प्रेरणादायक कहानी Alibaba Founder Jack Ma Success Story Hindi

क्या आप जैक मा / Ma Yun की बायोग्राफी या जीवन परिचय जानना चाहते हैं?
क्या आप जैक मा के Bounce Back को सिखाते हुए जीवन की कहानी को जानना चाहते हैं?

Featured Image Source – Flickr

जैक मा की प्रेरणादायक कहानी Alibaba Founder Jack Ma Success Story Hindi

जैक मा का प्रारंभिक जीवन Early Life of Jack Ma

जैक मा जन्म 10 सितम्बर, 1964 को चीन के एक छोटे से गाँव हन्ग्ज़्हौ में हुआ था। जैक मा के माता पिता पारंपरिक गाने गा और बजा कर काम किया करते था। जैक मा को बचपन से ही अंग्रेजी सिखने की बहुत इच्छा थी इसलिए वो Hangzhou International Hotel एक साइकिल से जाते थे जहाँ बड़े-बड़े विदेशी नागरिक आते थे।

जैक मा अंग्रेजी सिखने के लिए उन लोगों से पहले अपनी टूटी-फूटी अंग्रेजी में बात किया करते थे। चीन में अंग्रेजी भाषा को उतना ज़रूरी नहीं माना जाता था। परन्तु जब जैक मा ने कुछ अच्छी अंग्रेजी बोलना सिख लिया तो उन्होने दुसरे देशों से आपने वाले विदेशी लोगों के लिए एक टूरिस्ट गाइड के रूप में काम किया।

ऐसा करते-करते उनका अंग्रेजी बहुत अच्छा हो गया। उन्होंने यह काम लगभग 9 वर्ष तक किया। जैक मा ने Hangzhou Institute of Electronic Engineering में अंग्रेजी शिक्षक के रूप में भी काम किया था।

टूरिस्ट गाइड का काम करते-करते उनका एक अच्छा विदेशी मित्र बना। जैक मा का असली नाम मा यूँ था पर चीनी भाषा में इसे बोलना बहुत ही मुश्किल था इसलिए उस विदेशी मित्र ने उनका नाम जैक मा रख दिया तब से उनको जैक के नाम से जाना आने लगा। उसके बाद जैक माँ ने नौकरी ढूँढना शुरू किया।

इसे भी पढ़ें -  जमशेदजी टाटा जी की जीवनी Jamsetji Tata Biography in Hindi

जैक मा का संगर्ष Jack Ma’s Struggle

जैक मा 30 से भी ज्यादा नौकरियों के लिए कोशिश किया पर उन्हें हर जगह से बस नाकामी ही मिली। उन्होंने एक बार पुलिस की नौकरी के लिए कोशिश किया पर उन्हें देखते ही मना कर दिया गया।

जब पहली बार KFC का Restaurant उनके शहर में पहली बार खुला तो उन्होंने KFC में भी नौकरी के लिए Try किया पर वहां जिन 24 लोग नौकरी के लिए गए थे उनमें से 23 लोगों को नौकरी मिल गयी लेकिन एक मात्र उन्हें नहीं मिली। इससे यह पता चलता है की उनका जीवन कितना संगर्ष पूर्ण था।

जैक मा गए अमरीका Jack Ma’s goes first time to USA in 1995

जैक मा ने 1994 में पहली बार इन्टरनेट के विषय में सुना। जैक मा 1995 में अपने दोस्तों की मदद से इन्टरनेट के विषय में जानकारी लेने के लिए अमरीका गए। अमरीका में उन्होंने पहली बार इन्टरनेट देखा और चलाया।

उन्होंने इन्टरनेट पर सबसे पहले Bear शब्द को Search किया, वहां उन्हें Bear शब्द के बारे में अन्य-अन्य websites से कई प्रकार की जानकारी मिली। उन्होंने जब अच्छे से ध्यान दिया तो देखा की इन्टरनेट पर चीनी भाषा में इसके विषय में कोई जानकरी नहीं है और इस प्रकार उनके दिमागे में एक आईडिया सुझा।

यहाँ तक की उन्होंने चीन देश के विषय में भी इन्टरनेट पर search किया जिसके विषय में भी internet पर उनको search करने पर ज्यादा कुछ नहीं मिला। अपने देश की जानकारी इन्टरनेट पर न पा कर जैक बहुत दुखी हुए क्योंकि उन्हें लगा की अन्य देशों के मुकाबले टेक्नोलॉजी क्षेत्र में चीन बहुत पीछे है।

जैक मा ने चीन की जानकारी की पहली वेबसाइट बने Jack Ma created first about China Website on Internet

जैक मा और उनके अमरीकी मित्र ने मिलकर चीन की जानकारी से भरा हुआ अपना एक पहला वेबसाइट बनाया वेबसाइट। बनाने के कुछ ही घंटों के अन्दर जैक मा को कुछ चीनी लोगों के ईमेल आने लगे। यह देख कर जैक मा को इन्टरनेट की ताकत का पता चला।

जैक मा की प्रेरणादायक कहानी Alibaba Founder Jack Ma Success Story Hindi

Image Source – Says.com

उसी वर्ष 1995 में जैक मा उनकी पत्नी और क्कुह दोस्तों ने मिलकर कुछ पैसे जमा किये और एक वेबसाइट बनाने की कंपनी शुरू की थी जिसका नाम उन्होंने रखा China Yellow Pages. इस कंपनी को शुरू करने के लिए सभी दोस्तों ने मिल कर लगभग 20000$ जमा किये थे।

इसे भी पढ़ें -  पेशवा बाजीराव का इतिहास Bajirao Peshwa History Hindi

इस कंपनी का मुख्य काम था दूसरी कंपनियों के लिए वेबसाइट बनाना। 3 साल के अन्दर उसी कंपनी को 3 लाख $ का मुनाफा हुआ और जैक और उनकी टीम ने उसके बाद चीन की कंपनियों के लिए भी वेबसाइट बनाना शुरू किया।

जैक मा का कहना था की जब वे अपने दोस्तों के साथ वेबसाइट का काम करते थे तो उन्हें टीवी और ताश खेलना पड़ता था। ऐसा इसलिए क्योंकि उस समय का इन्टरनेट स्पीड इतना स्लो हुआ करता था की अधा पेज बनाने में 3.5 घंटे लग जाते थे। जैक मा ने अपने 33 वर्ष की आयु में अपना पहला कंप्यूटर ख़रीदा था।

1998-1999 में China International Electronic Commerce Center द्वारा स्थापित एक IT कंपनी में भी काम किया पर उसके बाद वे वहां से काम छोड़ कर अपने 17 दोस्तों की टीम के साथ दोबारा अपने जन्म स्थान Hangzhou लौट आये।

जैक मा ने अलीबाबा ग्रुप की शुरुवात की  Jack Ma Started Alibaba Groups

उसके बाद जैक मा अपने घर बैठे अपने 17 दोस्तों के साथ मिलकर अपना पहला B to B eCommerce वेबसाइट की शुरुवात की थी। जैक मा कहते हैं वो San Fransisco के एक कॉफ़ी शॉप में बैठे थे।

वैसे तो अपनी वेबसाइट का नाम वो Alibaba रखने का उनका मन पहले से ही था पर उन्होंने शॉप के एक Waitress से पुछा – क्या तुम अलीबाबा के विषय में जानते हो? तो जवाब आया खुल जा सिम-सिम। उसके बाद उन्होंने कई भारतीय, अमरीकी और अन्य देशों के लोगों से भी वही सवाल पुछा तो उन्होंने अपया कि सभी लोगों को Alibaba के विषय में पता था।  बस उसके बाद उन्होंने अपनी कंपनी को Alibaba Groups के नाम से शुरू किया।

उसके बाद से Alibaba Groups ने पुरे विश्व में अपना नाम बना लिया और 240 देशों से भी ज्यादा देशों में इसका कारोबार शुरू हो गया। सितम्बर 2014 के आंकड़ों के अनुसार Alibaba कंपनी ने New York Stock Exchange के अनुसार 25 Billion $ की कंपनी खड़ी कर दी जो की एक बहुत बड़ी सफलता थी। 10 सितम्बर 2017 Forbes के Report के अनुसार जैक मा 17वें की कुल कमाई 37.6 Billion USD है।2017 के report   के अनुसार आज इस कंपनी में 50000+ लोगकाम कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें -  तात्या टोपे का जीवन परिचय Tatya Tope Biography in Hindi

Alibaba Groups के सभी सहायक कंपनियां – Alibaba.com, Guangzhou Evergrande Taobao F.C., Taobao, Tmall, UCWeb, AliExpress, Juhuasuan.com, 1688.com, Alimama.com, Ant Financial, Cainiao, Lazada, Youku Tudou, Alibaba Cloud

आज वो हम सब को एक प्रेरणा देते हैं और सिखाते हैं की चाहें जीवन में आपके जितनी भी मुश्कलें या असफलताएं आ जाएँ कभी भी हार नहीं मनना चाहिए क्योंकि बार-बार असफलता झेलने वाले व्यक्ति को ही सफकता मिलती।

5 thoughts on “जैक मा की प्रेरणादायक कहानी Alibaba Founder Jack Ma Success Story Hindi”

  1. LIFE IS THE OTHER NAME OF STRUGGLE THOSE ACCEPT IT BECOME THE MILESTONE OF THE HISTORY AND THOSE WHO LEAVE THIS BECOME THE PERSON WHO BORN MERELY FOR DIE

    Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.