बाइबिल की 15 बेहतरीन कहानियां Best Bible Stories in Hindi

इस लेख में आप पढेंगे – बाइबिल की 15 बेहतरीन कहानियां Best Bible Stories in Hindi

दोस्तों आज हम आपके सामने एक ऐसा टॉपिक लेकर आये है, जो एक धार्मिक ग्रन्थ है, जिसको पढ़कर हमे ज्ञान प्राप्त होता है, इसमें दी गयी शिक्षा को उपयोग में लाकर एक आम मनुष्य खास बन सकता है। कहा जाता है, बाइबिल को 40 लेखकों ने 1500 साल में लिखी थी।

अन्य धार्मिक ग्रंथो की तरह ही, बाइबल वास्तविक घटना, स्थान, लोगों और उनकी बातचीत का विवरण देती है। अभी तक जितने भी इतिहास कार और पुरातत्ववेत्ता हुए है, उन्होंने बाइबिल की प्रामाणिकता को बार–बार स्वीकार किया है।

बाइबल के 40 लेखक, लगातार हमे एक ही संदेश देते हैं, कि परमेश्वर, जिसने हमें बनाया है, वह हमारे साथ एक रिश्ता रखना चाहता है और उस पर विश्वास रखने को कहता है। बाइबिल की कहानियां हमें केवल प्रेरित ही नहीं करती, बल्कि हमें जीवन और परमेश्वर के बारे में बताती है।

पढ़ें : बाइबिल क्या है? इसका इतिहास महत्व

आज हम एक एक करके बाइबिल की उन 15 मुख्य कहानियों के बारे में बात करेंगे जो हमे जीवन में शिक्षा देती है। तो दोस्तों शुरू करते है- 

1. सृजन की कहानी Story of Creation

जब प्रारंभ में पृथ्वी पर कुछ भी नहीं था, तो सभी जगह अंधेरा ही अंधेरा था, अंधेरे का सभी जगह अधिकार था। सभी कुछ बिना आकार का था। केवल ईश्वर का ही अस्तित्व था। एक दिन, ईश्वर ने अपने देव दूत को आज्ञा दी कि ब्रह्मांड में प्रकाश होना चाहिए, आज्ञानुसार प्रकाश बनाया गया था। सृष्टि के निर्माण के पहले दिन, ईश्वर ने रात और दिन बनाए।

दूसरे दिन, भगवान ने पानी को अलग करने के लिए आकाश बनाया। इसके बाद तीसरे दिन, भूमि और समुद्र का निर्माण किया गया। उन्होंने आज्ञा दी कि भूमि वनस्पति और बीज-उत्पन्न करने वाले पौधे अपने जैसे गुण वाले पोधो का उत्पादन स्वयं करे। चौथे दिन, भगवान ने सूर्य, चंद्रमा और सितारों को बनाया, ताकि दिन रात हो सके।

पांचवें दिन, भगवान ने उन सभी जीवित प्राणियों को बनाया जो समुद्र और हवा में विचरण कर सके। छठे दिन, ईश्वर ने उन सभी जानवरों का निर्माण किया गया था, जो भूमि पर रहकर और अपनी तरह के गुण वाले जानवरों का निर्माण कर सके।

जब सभी कुछ बन गया तो उनके दिमाग में मनुष्य को बनाने का ख्याल आया, फिर उसने मनुष्य को धरती की धूल से बाहर निकाला और उसमें प्राण फूंक दिए। पुरुष की पसली से, उसने स्त्री को बनाया, और उसने सारी पृथ्वी पर पुरुष और स्त्री को अधिकार दिया कि अपनी ही जैसी प्रजाति का आगे विकास करे।

भगवान ने उनके द्वारा बनाए गए प्राणियों को खुश किया, और सातवें दिन, भगवान ने आराम किया।

सीख

ईश्वर सर्वशक्तिमान है, उसने ही संपूर्ण ब्रह्मांड में उपस्थित सभी वस्तु का निर्माण किया है।

2. मसीह का जन्म The Christ is Born

मरियम नामक एक कुंवारी लड़की थी, जो गलील के एक शहर, नाजरथ में रहती थी। वह भगवान से बहुत प्यार करती थी। वह युसूफ़ नाम के एक व्यक्ति से शादी करने वाली थी।

लेकिन मरियम कुवारी ही गर्भवती हो गयी, जब इसके बारे में युसूफ़ को पता चला तो उसका मन विचलित हुआ की क्या उसे ऐसी लड़की के साथ शादी करना चाहिए। लेकिन परमेश्वर ने उसके पास देव दूत भेजा जिसने बताया जी जीसस संसार में मैरी के गर्भ से आएँगे। इसीलिए युसूफ़ को उससे शादी कर लेना चाहिए, ईश्वर का आदेश मानकर उन्होंने उससे शादी कर ली।

ऐसा कहा जाता है, रोमन सम्राट आगस्टस के आदेश पर उस देश की जनगणना की आज्ञा दी गयी। उस समय मरियम गर्भवती थी। प्रत्येक व्यक्ति को बेथलहम में जाकर अपना नाम दर्ज कराना था। वहाँ बड़ी संख्या में लोग आये थे। सभी धर्मशालाये और आवास पूरी तरह से भरे थे।

अंत में उनको एक अस्तबल में जगह मिली। उस समय लोग खुद को गर्म रखने के लिए अक्सर घर के अंदर जानवरों को रखा करते थे, खासतौर पर रात के समय, और यहीं वो पवित्र जगह थी, जहाँ मरियम ने प्रभु यीशु को जन्म दिया और यही पर 25 दिसंबर को आधी रात के समय महाप्रभु ईसा का जन्म हुआ।

यह भविष्यवाणी की गई थी कि उद्धारकर्ता बेथलहम में पैदा होगा, और एक कुंवारी से पैदा होगा, इसलिए यीशु ने उसके बारे में की गई भविष्यवाणियों को पूरा किया।

सीख

यीशु ने मानव जाति के उद्धारकर्ता के रूप में जन्म लिया।

पढ़ें : यीशु मसीह की कहानी

3. जॉन द बैप्टिस्ट John the Baptist

एलिज़ाबेथ, जो मैरी की बहन थी, वह गर्भवती हो गई। यहोवा के एक स्वर्ग दूत ने जॉन के पिता से कहा था, कि तुम्हारा बेटा जन्म से ही पवित्र आत्मा से भरा होगा, और उसे जॉन नाम दिया जाएगा।

जॉन एक जंगली आदमी के रूप में बड़ा हुआ, जो रेगिस्तान में रहता था, और उसने ईश्वर के संदेश का प्रचार किया, उसी ने ईसा मसीह के आने की भविष्यवाणी की गई थी। उन्होंने लोगों को नदी में ईसाई दीक्षा देने और पश्चाताप करना सिखाने, के लिए बहुत समय बिताया।

इसे भी पढ़ें -  स्वामी विवेकानंद पर निबंध Essay on Swami Vivekananda in Hindi

जब यीशु ईसाई दीक्षा लेने के लिए जॉन के पास गये, तो जॉन बहुत खुश हुआ, और पवित्र आत्मा यीशु से लिपट गया। उस क्षण, स्वर्ग से एक आवाज़ आई और कहा “यह मेरा बेटा है, जिससे मैं प्रसन्न हूं।”

सीख

ईश्वर वास्तविक है, और जो उसे सुनता है,विश्वास करता है, वह उससे बात करता है।

4. डेविड और गोलियत David and Goliath

जब राजा सैऊल ने परमेश्वर की नज़रों में पाप किया, तो परमेश्वर उससे बहुत नाराज़ हुए तब उन्होंने सैऊल के पैगंबर सैमूल को सैऊल की जगह दूसरा राजा नियुक्त करने का आदेश दिया। सैमूल ने ईश्वर के निर्देशों का पालन किया और जेसी नामक एक व्यक्ति को सैऊल की जगह नियुक्त कर दिया, जो बेंजामिन के गोत्र से आया था।

जेसी के आठ बेटे थे, जिनमें से सात सैमूल को दिखाए गए थे। सैमूल ने सोचा कि निश्चित रूप से परमेश्वर उनमें से एक को चुनेंगे, क्योंकि वे दिखने में मजबूत और ठीक थे। लेकिन, प्रभु ने सैमूल से कहा कि वह किसी व्यक्ति की बाहरी प्रदर्शन पर विचार नहीं करता है, बल्कि वह उनके दिल को देखता है। सैमूल को सबसे छोटे बेटे का अभिषेक करने के लिए कहा गया था, लड़के का नाम डेविड था, जो एक चरवाहा था।

जब इसराइलियों और फिलिस्तीन के मध्य बीच युद्ध हुआ, तो गोलियथ नाम का एक दानव था, जो हर दिन सभी इसराइली को चुनौती देता, कोई है जो उसे युद्ध में हरा सके। कोई भी उसका सामना करने के लिए पर्याप्त बहादुर नहीं था।

जब डेविड ने उसे भगवान की सेनाओं को चुनौती देते हुए सुना, तो उसने राजा से कहा कि वह उस दानव से युद्ध करेगा। इस बात को लेकर राजा चिंतित हो गये, क्योंकि डेविड एक योद्धा नहीं था, लेकिन फिर भी राजा ने उसे अपना शाही कवच ​​दे दिया और जीतने का आशीर्वाद भी दिया।

डेविड ने उस शाही कवच को हटा दिया जाता है, क्योंकि वह इसका अभ्यस्त नहीं था। उसने इसके बजाय, उस दानव का सामना करने के लिए, एक साधारण चरवाहे लड़के के रूप में कपड़े पहने, गुलेल ली। क्योंकि गुलेल ही उसका एकमात्र हथियार है।

जैसे ही दानव उसकी ओर आया, डेविड ने गुलेल से एक पत्थर मारा। छोटा पत्थर गोलियत के सिर में जा गिरा और उस दानव की तत्काल ही मृत्यु हो गई। उस दानव के मरते ही फिलिस्तीन के युद्घ के मैदान में भाग दौड़ मच गयी, लेकिन इजरायली सेना ने उन्हें काट दिया और उन्हें हरा दिया।

सीख

भगवान किसी की बाहरी वेशवूषा नही देखता, बल्कि एक व्यक्ति के दिल को देखता है।

5. खोयी हुई भेड़ The Lost Sheep

ज़्यादातर फरीसियों को यीशु से समस्या थी, क्योंकि उन्होंने पापियों के साथ भोजन किया, और उनका साथ दिया क्योंकि वो उनको प्यार से सुधारना चाहते थे। उन्होंने एक उदाहरण से समझाया है कि “यदि आप में से एक के पास 100 भेड़ें हैं, और उनमें से एक खो जाये, तो क्या आप बाकी को छोड़कर खोई हुई भेड़ों को देखने नही जाएंगे? और जब आप इसे पा लेते हैं, तो आप बहुत खुश होते हैं और सभी को बताएँगे कि आपको अपनी खोई हुई भेड़ मिल गई। आप अपने दोस्तों को बुलाएंगे और जश्न मनाएंगे। उसी तरह, जब कोई पापी पछतावा करता है, तो स्वर्ग में बहुत आनंद मिलता है।”

सीख

यीशु उन लोगों को बचाने के लिए आए थे, जो खो गए उन्हें दोबारा प्राप्त करने के लिए वह कभी हार नहीं मानेंगे।

6. आदम और हव्वा- Adam and Eve

पृथ्वी पर सबसे पहले अस्तित्व में आने वाले इंसान आदम और हव्वा थे। वे सभी मानव जाति के पिता और माता कहे जाते हैं।

परमेश्‍वर ने आदम को धरती की धूल से बनाया और उसे साँसें देकर जीवन दान दिया, और उसके सामने उन सभी जानवरों को लाकर दिखाया, जो उसने बनाए थे, और आदम को जानवरों का नाम-करण करने का सम्मान भी दिया गया था, आदम ने परमेश्वर कि मदद से सभी के नाम रखे।

परमेश्वर ने महसूस किया कि, आदम के पास कोई उपयुक्त सहायक नहीं होने के कारण परमेश्वर ने आदम को एक गहरी नींद में भेजने का फैसला किया, और उसने अपनी पसली से हव्वा को बनाया, जिसे आदम ने “महिला” कहा, क्योंकि उसकी उत्पत्ति आदमी से हुई थी।

परमेश्वर ने ईडन उद्यान को अपने घर के रूप में बनाया, जिसमे सभी प्रकार के पेड़ पौधे थे, परमेश्वर ने सिर्फ एक पेड़ को छोड़ कर उन्हें सभी खाने की अनुमति दी, क्योंकि  एक को छोड़कर, सभी अच्छे और ज्ञान के पेड़ थे।

एक दिन, आदम और हव्वा बगीचे में थे, सर्प, जो कि उन सभी प्राणियों का शिल्पकार था, जिसको परमेश्वर ने बनाया था, सर्प ने उस पेड़ के फल खाने के लिए हब्बा को लुभाया जिसकी परमेश्वर ने माना किया था। हब्बा ने उस फल को अपने पति के साथ साझा किया।

परमेश्वर की आज्ञा का पालन ना करना पाप था, इसलिए परमेश्वर के पास कोई और विकल्प नही था, सिवाए उस उद्यान से उन्हें निर्वासित करने के। परमेश्वर ने कहा कि क्योंकि तुमने पाप किया, तो उन्हें इसका परिणाम भुगतना पड़ेगा। ज़मीन पर भोजन बनाने के लिए उन्हें बहुत मेहनत करनी पड़ेगी, उन्हें दर्द महसूस होगा, और वे अंततः बहुत कठिन जीवन के बाद मर जाएंगे।

सीख

कभी भी ईश्वर की आज्ञाओं की अवहेलना न करें, क्योंकि वे आपको पाप से बचाने के लिए मौजूद हैं।

7. रगिस्तान में दानव Devil In the Desert

यीशु रेगिस्तान में चालीस दिन और रात उपवास करते रहे। वह अकेले थे और भूखे भी। शैतान ने उसके पास जाकर पत्थरों को रोटी में बदलने की कोशिश की, लेकिन यीशु ने जवाब दिया कि आदमी अकेले रोटी पर नहीं, बल्कि परमेश्वर के वचन पर जीवित रहता है।

फिर, शैतान यीशु को पवित्र शहर के सबसे ऊपर ले गया। उसने यीशु से कहा कि शास्त्रों के लिए खुद को वहाँ से फेंक दो और स्वर्ग के दूत, यीशु को बचा लेंगे। लेकिन यीशु ने उसे उत्तर दिया कि हमें प्रभु की परीक्षा नही लेनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें -  सुंदर पिचाई की प्रेरणादायक कहानी Sundar Pichai Biography in Hindi

तब शैतान ने जीसस को उसके समक्ष झुक कर पूजा करने की कहा। लेकिन यीशु ने शैतान को फटकार लगाई और उसे बताया कि पूजा केवल भगवान के लिए है। तभी शैतान ने यीशु को छोड़ दिया, और प्रभु के स्वर्ग दूतप उसके पास आए और उनको ले गये।

सीख

यदि आप परमेश्वर के वचन के लिए उपवास करते हैं, तो कोई भी आपको ठोकर खाने का कारण नहीं बना पाएगा।

8. यीशु ने तूफान को शांत किया Jesus Calms the Storm

यीशु ने कई महान चमत्कार किए, जिसके साक्षी उनके चेले बने।

यीशु को तूफान को शांत करने की कहानी के पीछे के प्रतीकवाद को जीवन में तूफान का सामना करने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए बहुत प्रोत्साहन और आशा करनी चाहिए। यीशु और उनके शिष्य एक रात एक नाव में यात्रा कर रहे थे, और लोगों को उपदेश देने के थकाऊ दिन के बाद यीशु और उसके शिष्य ने आराम करने के लिए कुछ समय और एकांत खोजने के लिए विपरीत तट पर एक नाव में सवार हो गये। जब वह समुद्र को पार कर रहे थे तो, हवाओं के साथ एक तूफान इतना भयानक था कि शिष्यों को लगा कि वे मर जाएंगे। डर के मारे उन्होंने यीशु को जगाया और उन्हें बचाने के लिए कहा।

यीशु ने उनसे कहा, “तुम थोड़ा विश्वास करते हो,” फिर तुम क्यों डरते हो?

यीशु ने अपने चमत्कार से तूफ़ान तो रोक दिया। अचानक ही हवा और लहरें पूरी तरह शांत हो गयी, सब कुछ दोबारा से पहले जैसा सामान्य हो गया। उनके शिष्य यह सब देख कर आश्चर्यचकित थे, क्योंकि अभी भी उनके विश्वास में कमी थी कि यीशु परमेश्वर का पुत्र था।

सीख

भगवान में विश्वास के माध्यम से सभी चीजें की जा सकती हैं।

9. बैबेल का टॉवर The Tower of Babel-

जब बाढ़ आने के वर्षों बाद, नूह और उसका परिवार एक जगह बस गए लेकिन जब उनके और बच्चे हुए, तो वे एक जगह से दूसरी जगह जाने लगे। घूमते हुए जब वे बेबीलोन पहुँचे, तो उन्होंने वहाँ बसने का इरादा किया और एक ऐसी मीनार बनाने की सोची जो आकाश को छु सके। लोगों के दिलों में गर्व था, क्योंकि उन्हें लगता था, इस मीनार से वो उस ऊंचाई तक पहुँच सकते है, जहाँ परमेश्वर रहता है।

यह अभिमान उनका पतन का कारण था। जब परमेश्वर उस शहर में आया और देखा कि लोग क्या कर रहे हैं, तो वह बहुत ही क्रोधित हुए। निर्माण कार्य में रोक लगाने के उद्देश्य से परमेश्वर ने यह सुनिश्चित किया कि वहाँ के सभी लोग एक अलग भाषा बोलने लगे, जिससे की पड़ोसी अब एक दूसरे को समझ न सकें। जिस कारण लोग अब अलग अलग भाषा बोलने लगे। 

जब लोगों ने संवाद करने की कोशिश की, तो यह पूरी तरह से भ्रमित आवाज़ों में बदल गया। अब कोई दूसरे की भाषा को नही समझ पा रहा था, जिस कारण जल्द ही, एक ही भाषा बोलने वाले सभी लोगों ने शहर छोड़ दिया, और इस तरह, वे अपनी अलग-अलग भाषाओं को अपने साथ लेकर दुनिया भर में फैल गए। यही कारण है कि “बेबल” शब्द की उत्पत्ति के कारण ही इसे बेबल टॉवर को “कोलाहल” का टॉवर कहा जाता है।

सीख

यहाँ, बाइबल हमें सिखाती है कि कितनी अलग-अलग भाषाएँ अस्तित्व में आईं। हमे परमेश्वर से बराबरी नही करना चाहिए। बेबीलॉन के लोगों का गर्व, उनके पतन का कारण बना। शैतान की तरह, वे भगवान की तरह बनना चाहते थे। हमें प्रभु के सामने स्वयं को विनम्र रखना चाहिए।

10. पानी पर चलना Walking on Water

पानी को शराब में बदलने से लेकर पाँच रोटियों और दो मछलियों के साथ पाँच हज़ार लोगो को खाना खिलाने तक, यीशु ने लोगों को आश्चर्यचकित कर दिया था। यीशु ने पाँच हज़ार लोगो को खिला कर, लौटते समय उन्होंने अपने चेलों को नाव में बिठाया और उससे आगे बढ़ने को कहा, और यीशु प्रार्थना करने के लिए एक पहाड़ी पर चढ़ गये।

शाम को जब नाव समुद्र के बीच में पहुंची तो यीशु ज़मीन पर अकेला था। तभी उसने अपने चेलों को दूर से हवा, तूफ़ान से लड़ते हुए देखा क्योंकि वह बहुत मजबूत था। उनको बचने के लिए, वह पानी पर चलते हुए उनके पास गया।

लेकिन जब उनके शिष्यों ने उन्हें पानी पर चलते हुए देखा, तो उन्हें लगा कि वह भूत हैं और डर के मारे रो पड़े। तब उसने उन्हें शांत किया, और अपने होने का भरोसा दिया, और हवा और तूफ़ान को शांत किया। इस बात पर पीटर ने पूछा कि क्या वह भी पानी पर चल सकता है। यीशु ने कहा कि हाँ, जब तक वह उस पर विश्वास रखता है।

तभी पीटर नाव से बाहर निकला, तो वह यीशु के साथ पानी पर चलता रहा, लेकिन जैसे ही उसने नीचे देखा, वह डूबने लगा। यीशु ने उसे बचाया और उससे पूछा, “तुम्हें संदेह क्यों हुआ?” और कहा तुम्हें अपने आप पर भरोसा रखने की जरुरत है।  

सीख

परमेश्वर पर भरोसा करें, संदेह न करें।

11. वफादार बेटी Faithful Daughter

यीशु जब पृथ्वी पर थे, तब उन्होंने कई लोगों को चंगा किया। लोग उसके चारों ओर भीड़ लगा कर, उनके छूने का इंतज़ार करते थे, ताकि वे ठीक हो सकें।

एक बार यीशु के सामने एक राजा आया और उसने घुटने टेक कर यीशु से कहा कि वह उसके साथ उसके घर चलकर उसकी मरी हुई बेटी को जीवित करे। सभी लोग यीशु के हाथों को अपने ऊपर रखना चाहते थे।

राजा की बात सुनकर यीशु तैयार हो गये, जब वह लड़की के घर जा रहे थे, तो उसके पास भीड़ इकट्ठा हो गयी। इनमें एक महिला थी, जिसके शरीर से बारह साल से खून बह रहा था। उसने सोचा कि शायद वो यीशु को छूकर वह ठीक हो जाएगी। जब यीशु ने भी उसको छूकर ठीक कर दिया। यीशु उससे खुश था। उसने उससे कहा तुम्हारे विश्वास ने तुम्हें अच्छा बनाया है।”

इसे भी पढ़ें -  महाभारत की कहानियाँ हिन्दी में Mahabharat Stories in Hindi

जब यीशु राजा के घर पहुचे, तो उसने उस जवान लड़की को छुआ, छूते ही वह जीवित हो गयी। सभी ओर यीशु की जय जय कार होने लगी।

सीख

यीशु के माध्यम से चमत्कार संभव है, लेकिन आप सभी को विश्वास करना होगा।

12. दस कुवारी The Ten Virgins

यीशु ने अपने अनुयायियों को दस कुंवारी लड़कियों की कहानी सुनाई, जो एक दूल्हे से मिलने के लिए बाहर गई थीं। पाँच मूर्ख थी, और उनमें से पाँच बुद्धिमान थी। मूर्ख लड़कियाँ अपने साथ दीपक लेकर गयी, लेकिन उन्होंने तेल नहीं लिया। पांच बुद्धिमान महिलाओं ने जार में अतिरिक्त तेल ले कर गयी।

दूल्हे को आने में काफी समय लगा, जिसके कारण, सभी महिलाएं सो गईं, उनका दीया जल गया।

आधी रात को, शोर हुआ कि दूल्हा आ रहा है क्योंकि उन्हें दुल्हे को जाकर बधाई देनी थी। पांच मूर्ख महिलाओं ने बुद्धिमान महिलाओं से कुछ तेल उधार देने के लिए कहा, लेकिन बुद्धिमान महिलाओं ने मना कर दिया, क्योंकि उनके पास दो लैंप के लिए पर्याप्त तेल नहीं था, और उन्हें कुछ तेल खरीदने जाना था।

जब वो तेल खरीदने के लिए गयी, तो दूल्हा आया, और बुद्धिमान महिलाओं ने स्वागत किया और उसके साथ बैंक्वेट हॉल में प्रवेश किया। जब वो अन्य 5 वापस लौटी और उन्हें अंदर जाने के लिए कहा गया, तो उन्हें मना कर दिया गया।

इसका भाबार्थ यह है इस 10 कुवारी का मतलब संसार के लोगो से है, जिसमे कहा गया है, 10 प्रकार के लोगो में सभी के साथ यीशु का नाम है जिसे लोग दिन रात जपते है, 5 बुद्धिमान से मतलब 10 में से 5 उन लोगो से है जिन्हें परमेश्वर पर विश्वास है, जब की 5 मूर्खो से मतलब उन लोगो से है जिनको विश्वास नही है।         

सीख

ईश्वर पर भरोसा रखे, क्योंकि आप कभी नहीं जानते कि आपके लिए घर ले जाने का समय कब आएगा।

13. अब्राहम की वाचा Abraham’s Covenant

अब्राहम को दुनिया भर में राष्ट्रपिता के रूप में जाना जाता है, लेकिन एक समय था जब अब्राहम ने सोचा था कि उनके कभी कोई बच्चा नहीं होगा।

एक बार ईश्वर का एक वफादार आदमी जिसने कड़ी मेहनत करके ईश्वर का आशीर्वाद प्राप्त किया। उसके कोई संतान नही थी। यह उसके लिए दुःख की बात थी, उसको केवल एक पुत्र की कामना थी। परमेश्वर ने उससे वादा किया था, कि वो उसे उसे कई राष्ट्रों का पिता बनायेगे, इस वादे से अब्राहम बहुत खुश था। लेकिन इंतज़ार करते हुए कई साल बीत गए और उनकी पत्नी सराय को कोई एक बेटा नहीं हुआ।

कई सालों तक बच्चा ना होने के बाद, सराय ने अब्राहम को अपनी नौकरानी हैगर से शादी करने के लिए राजी कर लिया, जो मिस्र देश की थी। अब्राहम ने अपनी पत्नी की बात मान ली, और उससे शादी कर ली, शादी के बाद हैगर गर्भवती हो गई। जब उसे बच्चा पैदा हुआ, तो उसका नाम उसे इश्माएल रखा गया। लेकिन अब्राहम ने इसका बलिदान कर दिया। 

यह परमेश्वर द्वारा वादा किया हुआ बच्चा नहीं था, क्योंकि प्रभु ने वादा किया था, कि एक बेटा सराय के गर्भ से पैदा होगा। एक दिन, तीन लोग अब्राहम के पास आये, जिसका अब्राहम ने बहुत ही अतिथि सत्कार किया। ये लोग वास्तव में ईश्वर और उसके स्वर्ग दूत थे, जो वेश बदलकर आए थे।

उन्होंने अब्राहम को बताया कि अगले साल तक सराय का एक बेटा होगा। उनकी बात सुनकर सराय ज़ोर से हँसी क्योंकि एक बच्चा पैदा करने के हिसाब से वो अब बहुत ही बूढ़ी हो गयी थी। प्रभु ने अब्राहम और सराय को नए नाम भी दिए, और तब से उन्हें अब्राहम और सारा के नाम से जाना जाता था, क्योंकि सारा का अर्थ “राज कुमारी” है।

प्रभु ने अपना वादा निभाया, और अगले साल उसी समय, सराय को एक बेटा पैदा हुआ। उन्होंने उसका नाम इसहाक रखा, जिसका अर्थ है हँसी होता है, क्योंकि सारा उस समय बहुत हंसी थी। जब उसे बताया गया कि उसका एक बेटा होगा।

सीख

परमेश्वर वफादार है, और वह हमेशा अपने दिए हुए वादे पुरे करता है ।

14. निकोडेमस ज्ञान Teaching Nicodemus

जब निकोडेमस ने यीशु को बताया कि उनका मानना ​​है कि संकेत और चमत्कार के कारण यीशु ईश्वर से उत्पन्न हुए थे, यीशु ने उनसे कहा कि कोई भी भगवान के राज्य को तब तक नहीं देखेगा जब तक वे खुद दोबारा पैदा नहीं होते।

निकोडेमस ने परेशान होकर पूछा कि एक वयस्क व्यक्ति फिर से कैसे पैदा हो सकता है, और यीशु ने सुझाया कि परमेश्वर के राज्य को देखने एक व्यक्ति को परमेश्वर की आत्मा विलीन होने की आवश्यकता है।

सीख

परमेश्वर की आत्मा में विलीन होना महत्वपूर्ण है।

15. विधवा का चढ़ावा The Widow’s Offering

एक दिन, जब यीशु मंदिर में थे, तो उन्होंने देखा कि एक बूढ़ी औरत ने दो छोटे सिक्के भेंट की पेटी में डाल दिए। उन्होंने अपने शिष्यों से कहा, ” इस गरीब विधवा ने सब से ज्यादा दिया है। क्योंकि बाकी सभी ने अपने धन में से थोड़ा सा दान स्वरूप दिया, जबकि उसने अपनी गरीबी में सब कुछ दे दिया।”

सीख  

भगवान मात्रा को उसी तरह से नहीं देखते हैं जैसे हम करते हैं। वह आपके दिल की नियत को देखता है।

बाइबिल की कहानियों को पढ़कर हम अपने जीवन में नैतिकता और मूल्य को विकसित कर सकते है, क्योंकि इसका ज्ञान हमे परमेश्वर पर विश्वास करना सिखाता है। इसमें दी हुई कई कहानियो से हमे सीख मिलती है की हमे परमेश्वर की आज्ञा का पालन करना चाहिए।

यह हमें बताती है कि किस प्रकार एक उद्देश्य और अनु कंपा के साथ जिया जा सकता है। कैसे दूसरों के साथ संबंध बनाए रखे जा सकते हैं। यह हमें परमेश्वर की शक्ति, मार्गदर्शन और हमारे प्रति उसके प्रेम का आनंद लेने के लिए हमें प्रोत्साहित करती है। बाइबल हमें यह भी बताती है कि किस प्रकार हम अंनत जीवन प्राप्त कर सकते हैं।

Source

https://www.youtube.com/watch?v=s_IIRUNjcNw
http://www.amazingchange.org/moremiracles.htm
https://www.google.com/amp/s/parenting.firstcry.com/articles/20-bible-stories-for-children/%3famp
https://www.bibleandsuccess.com/p/motivational.html?m=1

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.