चिचेन इत्ज़ा या चिचेन इट्जा का इतिहास Chichen Itza History in Hindi

चिचेन इत्ज़ा या चिचेन इट्जा का इतिहास Chichen Itza History in Hindi

चिचेन इट्जा, आधुनिक मेक्सिको के युकातान प्रायद्वीप के उत्तरी सिरे पर स्थित है। यह एक मायावी शहर था। जो बाद में टोलटेक सभ्यता से प्रभावित हुआ।

सी. 750 और 1200 सी ई के बीच यह स्थान विशाल वास्तुकला के क्षेत्र में समृद्ध थी। यहाँ की मूर्तिकला जो सैन्यवाद के विषयों को दर्शाती है और जगुआर, ईगल्स, पंख वाले साँपों की कल्पना को दर्शाता है।

इस सीढ़ीदार पिरामिड का आधार चौकोर है और चारों ओर से शीर्ष पर स्थिति  मंदिर पर जाने के लिए सीढ़ियां हैं। वसंत और शरद के विषुव में, सूर्य के उदय और अस्त होने पर, यह संरचना उत्तर की सीढ़ी के पश्चिम में एक पंखदार सर्प की छाया निर्मित करती है। चिचेन इट्जा एक महान मेसोअमेरिकन शहरों में से एक था और आज मेक्सिको में सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है।

चिचेन इत्ज़ा या चिचेन इट्जा का इतिहास Chichen Itza History in Hindi

ऐतिहासिक अवलोकन History

चिचेन इट्ज़ा नाम संभवत या एक बड़े सिंकहोल से प्राप्त होता है जिसे पवित्र सेनोट या ‘ इट्ज़ा के कुएं का मुख’ के नाम से जाना जाता है, पूर्व-कोलंबियाई माया, सेनोट में माया के वर्षा देवता चाक की पूजा के निमित्त जेड,सोना और हड्डियों को इस कुएं में फेंक देते थे, जो कि  मानव बलिदानों की पुष्टि करती है। इस स्थल का प्रारंभिक इतिहास अभी भी स्पष्ट नहीं है लेकिन शास्त्रों के मुताबिक (सी. 250 – 900 सी ई) द्वारा इसका औपनिवेशीकरण निश्चित था।

टोटिहुआकन के पतन के बाद , मेसोअमेरिका के अलग-अलग हिस्सों में रहने वाले लोग इस जगह पर आये। चिचेन इट्ज़ा अपने इस्ला सेरिटोस बंदरगाह के माध्यम से संपन्न व्यापार का केंद्र था, जो कि सिद्ध करता था कि मध्य अमेरिका में कई जगह से माल की खोज होती थी, उदाहरण के लिए, उत्तर से बेरिलियम, दक्षिण से सोना, और तेहेंटेपेक के इस्तमास से लावा, काँच आदि। वहां कोको की खेती की जाती थी।

इसे भी पढ़ें -  मिस्र के पिरामिड The Great Pyramid of Giza Egypt History Architecture in Hindi

वास्तुशिल्प Architecture

चिचेन इट्जा के पहले चरण में कई प्राचीनकाल-संबंधी मायावी लक्षण दिखाए गए हैं। उदाहरण के लिए, तीन लिंटल्स का मंदिर प्रत्येक कोने में चाक मुखौटा है। अन्य संरचनाओं में दो छोटे मंदिर शामिल हैं, जिनमें एक चबूतरा स्थापित है, रेड हाउस और तेंदुये का मंदिर के नाम से जाना जाता था।

तेंदुएं के आकार का एक सिंहासन था, जो लाल रंग में रंगा था और उस पर इनलेड जेड से धब्बे बने हुए थे। और वहाँ एक पिरामिड है जो कि पुरोहित की कब्र के रूप में जाना जाता है, जिसका नाम मकबरे की खोज के आधार पर इसका नाम रखा गया।

इनकी आंतरिक दीवारों के आधार पर, बॉल खिलाड़ियों की टीमों के लिये शिल्प पैनलों  वाले ढ़ालदार बेंच बने हैं। एक पैनल में, एक खिलाड़ी का सर कलम कर दिया गया है और उसके घाव से रक्त की सात धारा निकल रही है; उनमें छह छटपटाते सर्प  बन जाते हैं और बीच वाली धारा एक घुमावदार पौधा बन जाती है।

काराकॉल मंदिर Caracol Temple

इस जगह पर सबसे प्रभावशाली स्मारकों में से एक है  काराकॉल मंदिर, इसको 800  सी ई में निर्माण किया गया था। इसका इस्तेमाल एक खगोलीय वेधशाला के रूप में किया जाता था। वहां एक कुकुल्कन का मंदिर भी था।

कुकुल्कन के पिरामिड Pyramids of Kukulcan

कुकुल्कन के विशाल पिरामिड, जिसे कैस्टिलो (कैसल) भी कहा जाता है, 1050 ई.पू. से पहले बनाया गया है। पिरामिड 24 मीटर ऊंचा है, प्रत्येक पक्ष 58- 9 मीटर चौड़ा है, और इसमें 9 का स्तर है। पिरामिड के प्रत्येक तरफ एक सीढ़ी है जो एक मामूली वर्ग संरचना तक जाती है।

वसंत और शरद के विषुव में, सूर्य के उदय और अस्त होने पर, यह संरचना उत्तर की सीढ़ी के पश्चिम में एक पंखदार सर्प की छाया निर्मित करती है – कुकुल्कन, या क्वेत्ज़लकोटल. इन दो वार्षिक अवसरों पर, इन कोनों की छाया सूरज की हरकत के साथ पिरामिड के उत्तर ओर गिरती है जो सर्प के सिर तक जाती है।

इसे भी पढ़ें -  अमरनाथ मंदिर का इतिहास Amarnath Temple History Story in Hindi

योद्धाओं का मंदिर Temple of Fighters

योद्धाओं के मंदिर के परिसर में विशाल सीढ़ीदार पिरामिड हैं। जिसके चारों ओर नक्काशीदार स्तंभों की पंक्ति है। जिस पर योद्धाओं का चित्रण निर्मित है। यह तीन स्तरीय पिरामिड है और यह दोनों क्षेत्रों के बीच सांस्कृतिक संपर्क के कुछ रूपों का संकेत देता है।

एक जो चीचेन इट्ज़ा में निर्मित है उसका निर्माण एक बड़े पैमाने पर किया गया था। 800 और 1050 सी ई के बीच नक्काशीदार योद्धा की तरह दिखने वाली समानांतर स्तंभ-पंक्ति बनाये गये थे।

ग्रेट बॉलकोर्ट Great Ball court

चिचेन इट्ज़ा का ग्रेट बॉलकोर्ट मेसोअमेरिका में 146 मी x 36 मीटर तक फैला हुआ है। पुरातत्वविदों ने कई कोर्ट का पता लगाया है, जिसमें चीचेन में मेसोअमेरिकी बॉलगेम खेला जाता था।

इसका निर्माण 1050 और 1200 सी ई के बीच किया गया था और यह कोर्ट से लंबवत हैं। मंदिर का मैदान जहाँ खत्म होता है वहां प्रत्येक उच्च दीवारों पर आपस में उलझे सर्पों वाले नक़्क़ाशीदार छल्ले हैं ।

टीजोमपंतली Tzompantli

सभी स्मारकों में, टीजोमपंतली मैक्सिकन पठार के सबसे करीब है। यह स्मारक, जो कम ऊंचा, सपाट मंच वाला है, यह मानव कपाल के नक़्क़ाशीदार आकृतियों से घिरा हुआ है। प्रत्येक पक्ष में शीर्ष के लिए एक सीढ़ी है।

बगल की तरफ ऐसे पेनल हैं । जिनपर नक़्क़ाशीदार हार्पि ईगल और जगुआर हैं जो मानव हृदय का भक्षण करते हुए प्रतीत होते हैं। ये 1050-1200 सी ई में निर्माण किये गए थे। ये सभी आगे संकेत करते हैं कि चिचेन इट्ज़ा में मानव बलि धार्मिक समारोहों का हिस्सा था।

Featured Image Source –(CC BY-SA 4.0), (CC BY-SA 2.5),(CC BY-SA 3.0), (CC BY-SA 1.0), 

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.