पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र है पर निबंध Essay on Books are Our Best Friends in Hindi

पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र है पर निबंध Essay on Books are Our Best Friends in Hindi

बड़े बुजुर्ग हमेशा कहते हैं की पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र होती हैं। बचपन में जब हम छोटे थे तो माँ पुस्तकों में चित्र दिखाकर ही हमे कहानियाँ सुनाया करती थी। नर्सरी की कक्षा में पुस्तकों में केला, आम, अमरूद, इमली, पतंग जैसी अनेक चीजें दिखाकर ही हमारे टीचर पढ़ाते थे

धीरे-धीरे हम सभी बढ़ते चले जाते हैं और इसके साथ हमारी पुस्तकें भी बदलती जाती हैं। कॉलेज या विश्वविद्दालय में आ जाने पर हमारी पुस्तकें और मोटी हो जाती है। एक पुस्तक सदैव अच्छी मित्र होती है। सभी लोग यह कहते है।

पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र है पर निबंध Essay on Books are Our Best Friends in Hindi

पुस्तकों को बहुत सी श्रेणी में बांटा जा सकता है जैसे स्कूल की पुस्तकें, कॉलेज और विश्वविद्यालय की पुस्तकें, डिक्शनरी, साहित्यिक पुस्तकें जैसे आत्मकथा, उपन्यास, रेखाचित्र, व्यंग, आलोचना, कहानियां, इत्यादि। कॉलेज में हर विषय की अपनी अलग पुस्तके होती हैं।

इंजीनियरिंग की अलग पुस्तके होती हैं, डॉक्टरी का कोर्स करने वालों के लिए अलग पुस्तके होती हैं। इसी तरह वकालत के लिए मोटी मोटी पुस्तकें होती हैं जिसमें सभी तरह के कानूनी, नियम और धाराएं लिखी होती हैं। आईएस (IAS) पीसीएस (PCS) जैसी प्रशासनिक परीक्षाओं के लिए अलग पुस्तके होती हैं।

और पढ़ें -  सांप्रदायिक एकता पर निबंध Communal Harmony Essay in Hindi

पुस्तको से हमें हर तरह का ज्ञान प्राप्त होता है। इतिहास की पुस्तक पढ़कर हमें पता चलता है कि कौन सा राजा किस प्रकार का था, किस तरह वह राज्य करता था और उसने अपने राज्य में क्या सुधार किए।

उसी तरह भूगोल की पुस्तक पढ़कर हमें विश्व और अपने देश की जलवायु, ऋतुओं, फसलों, नदी, पर्वत, जंगलों मौसम इत्यादि के बारे में जानकारी मिलती है। नागरिक शास्त्र की पुस्तक पढ़कर हमें अपने देश के संवैधानिक ढांचे की जानकारी मिलती है।

पुस्तकों को निम्न प्रकार से वर्गीकृत किया जा सकता है-

पुस्तकों के प्रकार –

  •        स्कूल की पुस्तकें
  •        कॉलेज और विश्वविद्यालय की पुस्तकें
  •        धार्मिक पुस्तकें
  •        शब्दकोश (डिक्शनरी) पुस्तकें
  •        साहित्यिक पुस्तकें
  •        प्रतियोगी परीक्षाओं की पुस्तकें  
  •        सरकार द्वारा जारी की गयी सरकारी रिपोर्ट्स रूपी पुस्तकें

पुस्तकों से लाभ Benefits of Books

ज्ञान का स्रोत

पुस्तक पढ़कर हम सभी को ज्ञान प्राप्त होता है। अपने शहर, प्रदेश, देश ही नहीं विश्व के बारे में हमें सभी जानकारियां पुस्तक पढ़ कर ही प्राप्त होती हैं। अब आधुनिक तकनीक के जमाने में इंटरनेट पर सभी तरह की पुस्तकों की इ-बुक (e-book) में मौजूद है। अब हम सभी अपने मोबाइल फोन, कंप्यूटर पर ही हर तरह की पुस्तक पढ़ सकते हैं

बच्चों को अच्छी शिक्षा और संस्कार देती हैं

पुस्तक पढ़ कर ही हमें अच्छे संस्कार प्राप्त होते हैं। हमें पता चलता है कि बुरे काम नहीं करने चाहिए, रिश्वत नहीं लेनी चाहिए, झूठ नहीं बोलना चाहिए, चोरी नहीं करना चाहिए।  सभी धर्मों का सम्मान, बड़ों का आदर, छोटों को प्यार देना चाहिये।

यह सब हमें पुस्तक पढ़ कर ही पता चलता है। पुस्तके हमें बताती हैं कि किसी से भी ईर्ष्या, द्वेष नहीं करना चाहिए। सभी को अपना भाई बहन समझना चाहिए।

पुस्तकों के बिना कोई शिक्षित नहीं बन सकता

क्या आपने कभी सोचा है कि यदि पुस्तके ही ना होती तो आप किस प्रकार शिक्षा पाते। इसलिए हम सभी को पुस्तकों का आभारी होना चाहिए। बच्चों के शिक्षा पाने में पुस्तकें महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। सभी चीजें बोलकर नहीं समझाई, सिखाई जा सकती है।

और पढ़ें -  सड़क सुरक्षा पर निबंध Essay on Road Safety in Hindi

उनको लिखना आवश्यक होता है। जब कोई बालक अपनी पुस्तक में किसी पाठ को दो-तीन बार पड़ता है तो उसे पाठ अच्छी तरह कंठस्थ होता है। उच्च शिक्षा पाकर हम सभी अच्छी नौकरी पाते हैं। इसलिए पुस्तकों का महत्व हम सभी के जीवन में सदैव बना रहता है।

पुस्तकें रोजगार पैदा करती हैं

वर्तमान में पुस्तकों का व्यवसाय बहुत बढ़ गया है। इस काम में हजारों लाखों का मुनाफा होता है इसलिए अनेक लोग अब पुस्तकों का व्यवसाय करने लगे हैं। छोटे व्यापारी पुस्तकें बेचने का काम करने लगे हैं।

जबकि बड़े पूंजीपति प्रिंटिंग प्रेस लगाकर पुस्तकें प्रकाशित करते हैं और उन्हें देशभर के बजारों में वितरित करते हैं। वो सभी अच्छा मुनाफा कमाते हैं। प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तो पुस्तकों का बाजार बहुत ही गर्म है। हर प्रतियोगी परीक्षा होने से पहले ही उसकी पुस्तकें बाजार में आ जाती हैं। सभी विद्यार्थी ऐसी कॉम्पटीशन बुक्स को बड़ी संख्या में खरीदते हैं।

वर्तमान में ई पुस्तकों (E- Books) बहुत प्रचलित हो गई है

घर घर में कंप्यूटर, लैपटॉप और मोबाइल फोन आ जाने से अब सभी पुस्तकें सॉफ्ट कॉपी के रूप में उपलब्ध हैं। पाठक उन्हें कभी भी अपने मोबाइल फोन या कंप्यूटर पर आसानी से पढ़ सकता है। अब लाइब्रेरी में जाकर घंटों समय देकर पुस्तकें ढूंढने की जरूरत खत्म हो गई है। अब किसी भी पुस्तक को कुछ ही सेकंड में सॉफ्ट कॉपी में डाउनलोड करके आसानी से पढ़ा जा सकता है।  

पुस्तक लेखन में कैरियर

बहुत से लोग पुस्तक लेखन का काम करते हैं। उन्होंने इसे अपना करियर बना लिया है। कुछ लोग आत्मकथा, कहानी आलोचना रेखाचित्र संस्मरण उपन्यास एकांकी जैसी साहित्यिक किताबें लिखते हैं तो कुछ लोग शब्दकोश जैसी पुस्तकें लिखते हैं। आज के समय में अनेक लेखक पुस्तकें लिखकर अच्छा लाभ कमा रहे हैं

खाली समय बिताने का सर्वश्रेष्ठ साधन

अक्सर कई लोग खाली समय होने पर पुस्तक पढ़ते हैं। इससे हमें ज्ञान भी मिलता है और नई नई बातें भी पता चलती हैं। बुजुर्ग, वृद्ध लोगों को खाली समय में धार्मिक पुस्तकें जैसे गीता, रामायण, रामचरितमानस पढ़ना पसंद होता है। रामचरितमानस के दोहों को पढ़कर उन्हें अत्यधिक प्रसन्नता मिलती है।

और पढ़ें -  सफलता के लिए 15 अच्छी आदतें 15 Good habits for success in Hindi

इतिहास की जानकारी मिलती है

क्या आपने कभी सोचा है कि यदि इतिहासकार इतिहास को पुस्तकों में लिखते ही नहीं तो क्या होता? आज से हजारों साल पहले की सभी बातें पुस्तकों में दर्ज है। यदि इतिहासकार उन्हें लिखते ही नहीं तो हमें कभी प्राचीनकाल के राजा महाराजाओं, लोगो, उनकी संस्कृति, सभ्यता, परम्परा, खान-पान, रीति रिवाजों, विश्वास पहनावा, धार्मिक जानकारियों के बारे में नहीं पता चल पाता। इस तरह पुस्तकों में लिखकर ज्ञान को रिकॉर्ड कर दिया जाता है जो भविष्य की पीढ़ी के काम आता है।   

पुस्तकें भावी पीढ़ी की मदद करती हैं

यह बात पूरी तरह प्रमाणिक है। डॉक्टर बीमारियों / महामारी का इलाज ढूंढ कर उसका उपचार पुस्तकों में दर्ज कर देते हैं। इसी तरह वैज्ञानिक अपनी नई खोज और तकनीक को पुस्तकों में दर्ज कर देते हैं। जिससे हमारी भावी पीढ़ी को उस ज्ञान के बारे में पता चल सके।

3 thoughts on “पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र है पर निबंध Essay on Books are Our Best Friends in Hindi”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.