डॉक्टर दिवस पर निबंध (डॉक्टर्स डे) Essay on Doctors Day in Hindi

इस लेख में आप डॉक्टर दिवस पर निबंध (डॉक्टर्स डे) Essay on Doctors Day in Hindi पढ़ेंगे। इसमें डॉक्टर्स डे क्या है?, इतिहास, महत्व, कैसे मनाया जाता है?, उत्सव के विषय में पूरी जानकारी दी गई है।

डॉक्टर दिवस पर निबंध (डॉक्टर्स डे) Essay on Doctors Day in Hindi

जब तक आप बीमार या घायल नहीं हो जाते – चिकित्सक कितने महत्वपूर्ण, कीमती और आवश्यक सक्षम चिकित्सक हैं यह हमें समझ नहीं आता है। ‘डॉक्टर्स डे’ मेहनती डॉक्टरों पर ध्यान केंद्रित करता है और हमें आग्रह करता है कि वे ऐसे ही हमारे लिए काम करें, उनकी करुणा, और दवा का असर हमारे स्वसत्य को ठीक करने में लगा रहे।

डॉक्टर्स डे कब मनाया जाता है? When Doctors Day is Celebrated?

संयुक्त राज्य अमेरिका में 30 मार्च को राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस मनाया जाता है इस दिन हमारे समाज के लोग डोक्टरों के प्रति समर्पण, प्रतिबद्धता और आभार व्यक्त करते हैं। यह वह दिन था जब डॉ. क्रॉफर्ड डब्ल्यू. लांग ने सर्जरी में ईथर एनेस्थेसिया का इस्तेमाल किया था।

भारत में प्रसिद्ध चिकित्सक, डॉ बिधान चंद्र रॉय के सम्मान में 1 जुलाई को डॉक्टर दिवस मनाया जाता है। देश के अलग-अलग हिस्सों के अस्पतालों और क्लीनिकों में डॉक्टर दिवस पर लोग अपने डॉक्टरों और चिकित्सकों को श्रद्धांजलि देते है, और उनकी कड़ी मेहनत, प्रतिबद्धता से एक बेहतर और स्वस्थ समाज विकसित करने के प्रयासों के लिए उन्हें याद भी किया जाता है।

हालांकि विभिन्न कारकों के कारण हाल के दिनों में डॉक्टर और एक रोगीयों  के बीच रिश्ते बिगड़ते नज़र आ रहे हैं क्योंकि विभिन्न माध्यमों से चिकित्सा संबंधी जानकारी के बारे में ग़लत तरीके से गलत जानकारी दी जा रही हैं।

उनकी सफलता की दर को देखने के बजाय एक विफलता उन्हें आलोचना का शिकार बना रही है जहां उनकी कड़ी मेहनत को नज़रअंदाज़ कर दिया जाता है।

और पढ़ें -  हनुमान जयंती त्यौहार पर निबंध Essay on Hanuman Jayanti in Hindi

इस प्रकार डॉक्टरों को अपनी जिम्मेदारियों को महसूस करने के अलावा लोगों को भी इसे पहचानना चाहिए और समझना चाहिए कि वे भी एक इंसान हैं बल्कि डॉक्टर लोगों के स्वास्थ्य की भलाई के लिए जो प्रयास करते है, उनके इस महान काम के लिए हमें उनकी सराहना करना चाहिए।

डॉ बिधान चंद्र रॉय कौन थे? Who Was Dr. Bidhan Chandra Roy?

डॉ. बिधान चंद्र रॉय का जन्म 1882 में पटना में हुआ था। वे पांच भाई-बहनों में सबसे बड़े थे। डॉ बीसी रॉय ने कोलकाता के प्रेसीडेंसी कॉलेज से गणित में स्नातक की डिग्री प्राप्त की और पटना कॉलेज से गणित में मास्टर डिग्री प्राप्त की।

उन्होंने 1901 में कलकत्ता मेडिकल कॉलेज में दाखिला लिया। डॉ बीसी रॉय भारत में अपनी चिकित्सा शिक्षा समाप्त करने के बाद आगे की पढ़ाई के लिए थोड़े से पैसे पकड़े और भारत छोड़ गए।

उन्हें बार-बार सेंट बार्थोलोम्यू अस्पताल में प्रवेश से वंचित कर दिया गया था, लेकिन वे कोशिश करते रहे और उन्होंने अपना आवेदन जमा करना जारी रखा।

करीब 30 आवेदनों के बाद दस्तावेजों के मुताबिक डॉ बीसी रॉय को स्वीकार कर लिया गया। वह केवल दो वर्षों में रॉयल कॉलेज ऑफ फिजिशियन के सदस्य और रॉयल कॉलेज ऑफ सर्जन के एक साथी बन गए।

मुक्ति संग्राम के दौरान डॉ बीसी रॉय, महात्मा गांधी के करीब आए। 1933 में जब महात्मा ने पूना में अपना उपवास शुरू किया, तो डॉ बीसी रॉय उनसे मिलने गए। ‘

गांधीजी ने दवाओं को अस्वीकार कर दिया क्योंकि वे भारत में निर्मित नहीं थीं। जब डॉ. बी.सी. राय ने गांधीजी से दवाएँ लेने को कहा, तो उन्होंने कहा,

“मैं आपकी सलाह का पालन क्यों करूं? क्या आप मेरे 40 करोड़ देशवासियों को स्वतंत्र मानते हैं?” डॉक्टर ने जवाब दिया “नहीं, गांधीजी, मैं हर मरीज का मुफ्त इलाज नहीं कर सकता। लेकिन मैं यहां मोहनदास करमचंद गांधी का इलाज करने के लिए नहीं आया, बल्कि किसी ऐसे व्यक्ति के इलाज के लिए आया हूं जो मेरे देश के 40 करोड़ लोगों का प्रतीक है।”

डॉ. बीसी रॉय सभी को सस्ती स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने के लिए समर्पित थे। उन्होंने जादवपुर टीबी अस्पताल, चित्तरंजन सेवा सदन, कमला नेहरू मेमोरियल अस्पताल, विक्टोरिया इंस्टीट्यूशन और चित्तरंजन कैंसर अस्पताल सहित कोलकाता में विभिन्न संस्थानों की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

और पढ़ें -  पोस्टमैन या डाकिया पर निबंध Essay on Postman in Hindi

उनका प्राथमिक ध्यान महिलाओं और बच्चों की स्वास्थ्य देखभाल पर था। 1926 में महिलाओं और बच्चों के लिए चित्तरंजन सेवा सदन की स्थापना की गई।

उन्होंने एक महिला स्वास्थ्य प्रशिक्षण केंद्र भी स्थापित किया था। भारत में स्वास्थ्य के क्षेत्र में ऐसे महान कार्य करने के कारण ही राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस पर भारत में उन्हें हृदय व सम्मान से याद किया जाता है।

डॉक्टर दिवस का इतिहास History of Doctors Day in Hindi

यह विचार जॉर्जिया, USA में चार्ल्स बी. अलमोंड और उनकी पत्नी यूडोरा ब्राउन अलमोंड के द्वारा स्वीकार किया गया।

इसके बाद उन्होंने 30 मार्च को इस दिवस को मनाने के लिये सही दिन के रूप में निर्णय लिया गया ,क्योकि  इस दिन जॉर्जिया के एक प्रसिद्ध , डॉ. क्रॉफर्ड डब्ल्यू. लांग ने 1842 में पहली बार सर्जरी में ईथर एनेस्थेसिया का इस्तेमाल किया था।

अमेरिका के प्रतिनिधि सभा ने पहली बार 30 मार्च 1958 को डॉक्टर दिवस मनाने के लिए एक प्रस्ताव रखा और 30 मार्च 1933 को अमेरिका में डॉक्टर दिवस का पहला आयोजन हुआ।

बाद में 1990 में कांग्रेस और प्रबंधकारिणी समिति ने राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस की स्थापना के लिए स्वीकृति दी। 30 मार्च को राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस के रूप में घोषित किया गया और राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने इस पर हस्ताक्षर किए।

भारत में राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस Doctor Day Celebration in India

भारत में हर साल 1 जुलाई को डॉक्टर दिवस मनाया जाता है डॉ बिधान चंद्र रॉय द्वारा दिए गए योगदान के लिए हम इस दिन उनके सम्मान के रूप में उन्हें श्रद्धांजलि देते है। वह चिकित्सक तथा स्वतंत्रता सेनानी थे।

उन्हे वर्ष 1961 में भारत रत्न से सम्मनित किया गया। उन्होंने भारत में चिकित्सा के इतिहास में एक अमिट छाप छोड़ी है, उनका जन्मदिन और पुण्यतिथि दोनों ही 1 जुलाई को थे ।

डॉक्टर का दिवस भी लाल कार्नेशन का प्रतीक है। क्योंकि फूलों के रंग जो कि प्रेम, धर्मार्थ, बलिदान, बहादुरी और साहस आदि दर्शाते है, ये सभी मेडिकल प्रोफेशन और उनके द्वारा दिए जाने वाले योगदान के समानार्थी हैं।

डॉक्टर दिवस का महत्व Importance of Doctor Day in Hindi

इस महत्वपूर्ण दिन को मनाने के बहुत सारे कारण हैं। सभी डॉक्टर मानवता की सेवा करने और उन लोगों की जरूरतों को पूरा करने के महान आदर्शों के साथ अपना पेशेवर जीवन शुरू करते हैं; हालांकि कुछ चिकित्सक इन विचारों की दृष्टि पर खरे नहीं उतरते हैं और भ्रष्ट और अनैतिकता का रास्ता अपना लेते है।

और पढ़ें -  राम विवाह पंचमी की कहानी, महत्व Ram Vivah Panchami Story Importance in Hindi

इस प्रकार डॉक्टर दिवस पर डॉक्टरों को अपने स्वयं के करियर पर एक बार प्रतिबिंबित करने के लिए उन्हें उनकी जिम्मेदारी का एहसास कराया जाता है जिससे वे उन लोगों की ज़रूरत के मुताबिक इलाज करने के एक नैतिक मार्ग पर खुद को पुन: अनुप्रेषित करते हैं।

लगभग सभी लोगों को जीवन में कई बार डॉक्टर के पास जाना ही पड़ता है और हम उनकी दक्षता और उनके द्वारा दी गई सेवा पर निर्भर होते हैं। हमारी बीमारी के समय डॉक्टर हमारे लिये भगवान के समान होता है।

चिकित्सा सुविधाओं में एक विशाल और उल्लेखनीय प्रगति हुई है जिसे स्वीकार किया जाना चाहिए । यह अन्य डॉक्टरों को प्रोत्साहित करने का भी एक तरीका है जो प्रतिबद्धता की कमी के कारण अपने करियर में असफल हैं।

हर बार जब हम अपने कर्तव्यों का पालन करने में विफल हो जाते हैं और हमारी एक भूल होती है, तो हम डॉक्टरों के खिलाफ विरोध करने लगते हैं। इस तरह की घटनाओं के लिए वैकल्पिक रूप से जब हमें अपना आभार दिखाने के लिए हमें एक दिन मिला है, तो हमें उन डॉक्टरों को पेशे के प्रति अपने समर्पण भाव को नि:संकोच दर्शाना चाहिए।

विश्व में डॉक्टर दिवस समारोह Doctors Day Celebration Worldwide in Hindi

इस दिवस को हम अपने दिन को मज़ेदार बनाने के लिये या सामाजिक भव्यता के साथ नहीं मनाते बल्कि इसके बजाय इस दिन को हम बहुत ही शांत और गंभीर तरीके से मनाते है ।

आम तौर पर देश के अधिकांश हिस्सों में डॉक्टरों के योगदान के लिए उन्हें ग्रीटिंग कार्ड और फूलों के गुलदस्ते दिए जाते है। इसके अलावा वे एक साथ मिलते हैं जहां चिकित्सा पेशेवरों को अपने अनुभवों को साझा करने के लिए आमंत्रित किया जाता है और कुशल डॉक्टरों को सम्मानित किया जाता है।

आम तौर पर इस समारोह में डॉक्टरों को रोगियों द्वारा बधाईयां दी जाती है और कई जगहों पर चिकित्सकों और मेडिकल के सभी लोगों को धन्यवाद देने के लिये अस्पताल या अन्य संगठनों द्वारा डिनर की व्यवस्था भी की जाती है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.