संचार के साधन पर निबंध व महत्व Essay on Means of Communication in Hindi

संचार के साधन पर निबंध व महत्व Essay on Means of Communication in Hindi

आज की 21वीं सदी में संचार साधनों के बिना जीवन की कल्पना भी मुश्किल है। प्राचीन काल में कबूतरों, बाज जैसे पक्षियों के द्वारा संदेश का आदान प्रदान किया जाता था। संदेशवाहक घोड़े की सवारी करके संदेश लेकर जाता था जिसमे कई दिन लग जाते थे।

जैसे-जैसे विज्ञान का विकास होने लगा नये नये संचार उपकरण जैसे तार, टेलीग्राम, दूरभाष, रेडियो, टेलीवीजन, इंटरनेट, मोबाइल फोन का अविष्कार हो गया और अब हम सभी संचार के साधनों पर पूरी तरह से निर्भर हो गये है।

अब विज्ञान ने इतना विकास कर लिया है कि दुनिया में किसी भी व्यक्ति से तुरंत बात की जा सकती है। इतना ही नही विडियो कालिंग करके आमने सामने देखते हुए भी बात की जा सकती है। पहले लोग संचार के लिए चिट्ठियां लिखते थे।

ये पहुंचने में बहुत देर लगाती थी पर आज ऐसा बिलकुल नही है। देश, दुनिया में किसी भी व्यक्ति से तुरंत ही बात कर सकते हैं। संचार के साधनों के विकास से अब जीवन बहुत सरल हो गया है। अब सूचना का आदान प्रदान बहुत सस्ता और सुगम हो गया है।

संचार के साधन पर निबंध व महत्व Essay on Means of Communication in Hindi

आधुनिक समय में संचार के साधन  MODERN MEANS OF COMMUNICATION

आधुनिक समय में संचार के साधन इस प्रकार है-

  • रेडियो
  • टेलीवीजन
  • इंटरनेट, ई-मेल
  • लैंडलाइन, मोबाइल फोन
  • टेलीग्राम
  • पेजर
  • फैक्स
  • विडियो कालिंग
  • विडियो कॉन्फ़्रेंसिंग
  • मुद्रण माध्यम (Published means of communication) जैसे- समाचार पत्र (अखबार), पत्रिकाएँ, पुस्तकें, जर्नल, पैम्फलेट
  • इलेक्ट्रोनिक माध्यम (Electronic means of communication) जैसे रेडियो, टेलीवीजन, इंटरनेट, ई-मेल, लैंडलाइन और मोबाइल फोन, टेलीग्राम, पेजर, फैक्स, वीडियो कालिंग, विडियो कॉन्फ़्रेंसिंग,
इसे भी पढ़ें -  अमरनाथ मंदिर का इतिहास Amarnath Temple History Story in Hindi

संचार के लोकप्रिय साधन POPULAR MEANS OF COMMUNICATION

टेलीवीजन  TELEVISION

यदि कहा जाये कि आधुनिक समय में टेलीवीजन बेहद लोकप्रिय संचार का साधन है तो इसमें कोई अतिश्योक्ति नही होगी। इसका आविष्कार 1920 में किया गया था। फिलोफार्नवर्थ ने पहले टेलीवीजन का आविष्कार 25 अगस्त 1934 को किया।

यह मनोरंजन का बहुत बड़ा साधन है। बच्चे से लेकर वयस्कों को टेलीवीजन देखना बहुत पसंद है। इसके द्वारा दूर के चित्रों, विडियो को अपने घर में बैठकर ही बड़ी आसानी से देखा जा सकता है। इसके द्वारा हमे नई नई खबरे मिलती रहती हैं।

टेलीफोन / दूरभाष (TELEPHONE)

ऐलेक्ज़ैन्डर ग्राहम बेल ने अपने सहायक टॉमस वाटसन की मदद से टेलीफोन का अविष्कार 10 मार्च 1876 को किया था। इसके जरिये हम किसी दूर बैठे व्यक्ति से बात कर सकते हैं। वर्तमान समय में ये संचार का बहुत प्रसिद्द माध्यम है। पहला टेलीफोन न्यूयॉर्क और शिकागो के बीच 1892 में लगाया गया था।

मोबाइल फोन (MOBILE PHONE)

आज हम इसके बिना घर से नही निकल सकते है। यह संचार का माध्यम अत्यंत प्रसिद्द है। बच्चे, वयस्क, बूढ़े सब मोबाइल फोन के दीवाने हो गये हैं। आज नये नये फोन हर दिन देश में लांच होते रहते हैं। पहले मोबाइल फोन का आविष्कार मोटोरोला कम्पनी के डॉ मार्टिन कूपर ने 1973 में किया था। जापानी कम्पनी NTT ने दुनिया की पहली सेल्यूलर फोन सेवा टोक्यो में शुरू की थी।

विडियो कॉन्फ़्रेंसिंग (VIDEO CONFERENCING)

इसके द्वारा दुनिया में कहीं भी किसी व्यक्ति से आडिओ विडियो सुविधा के साथ बात की जा सकती है। आज के समय में यह बेहद लोकप्रिय हो गया है। आज लोग इनका उपयोग निजी एवं कॉमर्शियल जरूरतों के लिए कर रहे हैं। विडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के जरिये आज कम्पनी किसी अभ्यर्थी का इंटरव्यू दूर से ही ले सकती हैं।

आजकल अदालतें भी मुकदमे के लिए इसका इस्तेमाल कर रही हैं। फोन या कम्प्यूटर की मदद से इसमें आमने सामने किसी दूर बैठे व्यक्ति से बात की जा सकती है। 1920 के दशक में AT&T कम्पनी के बेल लैब्स और जॉन लोगी बेयर्ड से इसका अविष्कार किया था।

इसे भी पढ़ें -  सुरक्षा के लियें ज़बरदस्त नारे Best Safety Slogan Hindi

ई-मेल (E-MAIL)

आज ई-मेल एक बेहद लोकप्रिय संचार का साधन है। यह निशुल्क होता है, घर बैठे हम अपने प्रियजनों को ई-मेल लिखकर हालचाल पता कर सकते हैं। आजकल सरकारी, प्राइवेट कम्पनियां ई-मेल के जरिये अपने कर्मचारियों से सम्पर्क में रहती हैं। ई-मेल का आविष्कार शिव अय्यादुरई नामक भारतीय ने 1978 में अमेरिका में किया था।

इंटरनेट (INTERNET)

आज के समय में जिस व्यक्ति के पास इंटरनेट की सेवा नही होती है उसे पिछड़ा माना जाता है। इसके जरिये हम किसी को संदेश भेज सकते हैं। किसी भी चीज के बारे में इंटरनेट पर जानकारी ले सकते हैं। इसके द्वारा किसी को फोन कर सकते हैं। इंटरनेट का अविष्कार 1969 में अमेरिकी रक्षा विभाग DOD (Department of Defense) द्वारा पहली बार किया गया था।

कम्प्यूटर (COMPUTER)

आज हम पूरी तरह से कप्यूटर पर आश्रित हो गये हैं। घर से लेकर ऑफिस में आज कम्प्यूटर देखा जा सकता है। घर में हम इस पर टाइपिंग, टिकट खरीदने, लोगो से सम्पर्क करने का काम करते हैं। जबकि ऑफिस में हम कम्पनी की सभी फाइलों को कम्प्यूटर में रखते है।

पहले के जमाने में व्यापार के बहीखाते, रिकोर्ड्स मोटे मोटे रजिस्टर में लिखे जाते थे जिनको संभाल पर रखना बहुत मुश्किल काम था। अब ऑफिस के सभी रिकॉर्ड कप्यूटर में रखे जाते हैं। पहले कम्प्यूटर का अविष्कार चार्ल्स बेवेज ने 1822 में किया था। वो एक महान गणितज्ञ और दार्शनिक थे।

संचार के साधनों से लाभ  ADVANTAGES OF MEANS OF COMMUNICATION

इससे अनेक प्रकार के लाभ है। अपने प्रियजनों से बात करने के लिए इंतज़ार नही करना पड़ता है। आधुनिक संचार के साधन बहुत ही सस्ते है। किसी भी वर्ग का व्यक्ति इनका लाभ उठा सकता है। आजकल व्यापारी अपने व्यापार को बढ़ाने के लिए पूरी तरह संचार के साधनों जैसे फोन, इंटरनेट, कम्प्यूटर, फैक्स, ई-मेल जैसी सुविधाओं पर आश्रित हो चुके है।

इसे भी पढ़ें -  मोबाइल फ़ोन के फायदे और नुकसान Advantages and Disadvantages of Mobile Phones in Hindi

सरकारी तंत्र भी इसका बढ़ चढ़कर इस्तेमाल कर रहा है। आजकल विडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के जरिये किसी विभाग के काम की जांच की जाती है। सभी सरकारी विभाग आजकल ई-मेल की सुविधा का लाभ उठा रहे हैं। सूचनाओं का आदान प्रदान ई-मेल के जरिये कर रहे हैं।

निष्कर्ष

आज विश्व के आधुनिक संचार साधनों की मदद से दुनिया के किसी भी हिस्से में संदेश प्रेषित करना बहुत आसान हो गया है। यदि संचार के साधनो को हम अपने जीवन से निकाल दें तो फिर से आदिकाल में पहुँच जायेंगे। इसके बिना जीवन अधूरा है।

इसके इस्तेमाल से आज सभी मित्रो, प्रियजनों, रिश्तेदारों का आपसी सम्पर्क बढ़ गया है। अब अपने प्रियजन से बात करने के लिए इंतजार नही करना पड़ता है। बस फोन उठाकर कुछ नम्बर डायल करके हम उनसे हाल चाल पूछ सकते है। संचार के आधुनिक साधन हमारे लिए किसी वरदान से कम नही है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.