भारतीय आयुध कारखाना दिवस Essay on Ordnance Factories Day in Hindi

भारतीय आयुध कारखाना दिवस Essay on Ordnance Factories Day in Hindi

प्रतिवर्ष आयुध कारखाना दिवस 18 मार्च को भारत में मनाया जाता है। इस दिन को ऑर्डिनेंस फैक्ट्री डे भी कहा जाता है। भारतीय आयुध कारखाना भारत के रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत आता है जहां अपनी राजनीतिक शक्ति को बढाने हेतु सैन्य सामग्रियों का निर्माण किया जाता है।

भारत में सबसे पहले ऑर्डिनेंस फैक्ट्री की शुरुआत कोसिपुर, कोलकाता में 18 मार्च, 1802 में की गई थी जिसके कारण आयुध कारखाना दिवस प्रतिवर्ष इसी दिन पर मनाया जाता है। आयुध कारखाना के कई निर्माण विभाग होते हैं जैसे फील्ड गन कारखाना, लघु सशस्त्र कारखाना, पैराशूट कारखाना, उपकरण कारखाना आदि। चलिए आयुध कारखाना के विषय में विस्तार से जाने।

भारतीय आयुध कारखाना दिवस Essay on Ordnance Factories Day in Hindi

आयुध कारखानों का इतिहास दिवस History of Ordnance Factory

आयुध निर्माण कारखाना दिवस प्रतिवर्ष 18 मार्च को मनाया जाता है। इसी दिन भारत में 1802 को प्रथम आयुध निर्माण कारखाना का शुभारंभ हुआ था। इसी दिन की खुशी में प्रतिवर्ष 18 मार्च को आयुध निर्माण कारखाना दिवस का उत्सव मनाया जाता है।

यह कारखाना कोलकाता के कोसिपुर नामक जगह पर शुरू किया गया था जो भारत का सबसे पुराना ऑर्डिनेंस फैक्ट्री है। आयुध निर्माण कारखाना को देश की रक्षा का चौथा भुजा माना जाता है।

ऐसा इसलिए क्योंकि किसी भी युद्ध में लड़ने के लिए सबसे पहले सही परिमाण में हत्यारों की आवश्यकता पड़ती है जो मात्र ऑर्डिनेंस कारखानों की मदद से ही पूर्ण हो पाता है। आज अगर सही नजरिए से देखा जाए तो हमारे देश के आयुध निर्माण कारखानों का भारत की रक्षा प्रणाली में बहुत महत्वपूर्ण योगदान है।

इसे भी पढ़ें -  असम के बिहू त्यौहार पर निबंध Essay on Bihu Festival in Hindi

भारतीय आयुध कारखानों का इतिहास भारत में ब्रिटिश शासन से सीधे जुड़ा हुआ है। ईस्ट इंडिया कंपनी ने सैन्य हार्डवेयर को भारत में अपनी राजनीतिक ताकत बढ़ाने और उनके आर्थिक हितों की सुरक्षा के लिए एक महत्वपूर्ण तत्व के रूप में माना।

1775 के वर्ष में, ईस्ट इंडिया कंपनी ने कलकत्ता में फोर्ट विलियम में ऑर्डनेंस बोर्ड की नींव की प्रशंसा की। यह भारतीय सेना अध्यादेश के आधिकारिक शुरूआत का प्रतिनिधित्व करता है। आयुध निर्माण कारखानों का उद्देश्य रक्षा के उत्पादन में आत्मनिर्भरता पैदा करना और आम जनता के बीच गोला बारूद और हथियार के बारे में जागरूकता पैदा करना है।

आयुध कारखाना दिवस उत्सव कार्यक्रम Celebration of Ordnance Factories Day

भारत में पहले ऑर्डनेंस फैक्ट्री की नींव के दिन को याद करने के लिए ऑर्डेंस फैक्ट्री डे मनाया जाता है। इस दिन देश को सभी ऑर्डिनेंस कारखानों में महान उत्साह के साथ मनाया जाता है। प्रत्येक फैक्ट्री में एक महाप्रबंधक द्वारा ध्वज सम्मान के साथ यह उत्सव शुरू किया जाता है।

ऑर्डनेंस फैक्ट्री के सभी कार्यकर्ताओं, कर्मचारियों और अधिकारियों द्वारा उनके देश की सेवा के लिए प्रतिज्ञा का प्रशासन होता है। अधिकारी निगम द्वारा तय किए गए लक्ष्यों को ध्यान में रखते हुए अपने कारखानों के सुधार के लिए अपनी सेवाओं को समर्पित करने के लिए अपने संबंधित कारखानों के कर्मचारियों को भी बुलाया जाता हैं।

ऑर्डिनेंस फैक्ट्री डे देश के सभी ऑर्डिनेंस कारखानों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिन होता है इसलिए देश के सभी ऑर्डिनेंस कारखानों में इस दिन को धूमधाम से मनाया जाता है। इस मुख्य दिन को मनाने के लिए सभी श्रेणियों के कर्मचारी विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेते हैं।

इन कार्यक्रमों में खासकर प्रदर्शनियों में बंदूकें, गोले बारूद, कई प्रकार के राइफल, तोपखाने आदि के प्रदर्शन होता है। यह प्रदर्शनी कारखाना में काम करने वाले कर्मचारियों के साथ-साथ आसपास के लोगों के लिए भी खुला होता है। कार्यक्रम के दौरान परेड भी किया जाता है।

इस दिन कर्मचारियों के बीच एकता और एकता की भावना को भी बढ़ावा देता है। वे दिल से महसूस करते हैं कि वे एक बड़े परिवार के सदस्य हैं। ऑर्डनेंस फैक्ट्रियां, जो देश के अलग-अलग दूर-दराज के इलाकों में स्थित हैं, कल्याणकारी गतिविधियां भी व्यवस्थित करती हैं। वे अपने कर्मचारियों को स्कूली शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और आवास प्रदान करते हैं।

इसे भी पढ़ें -  महाशिवरात्रि की कहानी व निबंध Maha Shivratri Story Essay in Hindi

ऑर्डेंस फैक्ट्री बोर्ड Ordnance factory Board

ऑर्डनेंस फैक्ट्रीज बोर्ड ने 1775 के वर्ष में कोलकाता के आयुध भवन में मुख्यालय के साथ अपनी नींव रखी थी। यह भारत सरकार द्वारा संचालित सबसे पुराना औद्योगिक संगठन है और सरकार द्वारा संचालित दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादन संगठन है।

यह दुनिया में रक्षा उपकरणों के शीर्ष 50 निर्माताओं में से एक है। बोर्ड भूमि, समुद्र और वायु प्रणालियों के क्षेत्र में उत्पादों की विस्तृत श्रृंखला के परीक्षण, उत्पादन, अनुसंधान, विकास, रसद और विपणन में लगी हुई है।

ऑर्डेंस फैक्ट्री बोर्ड में 41 ऑर्डनेंस फैक्ट्रियां, 4 क्षेत्रीय सुरक्षा नियंत्रक, 3 क्षेत्रीय विपणन केंद्र और 9 प्रशिक्षण संस्थान शामिल हैं, जो पूरे भारत में फैले हुए हैं। इन कारखानों को “सशस्त्र बलों के पीछे बल” और “रक्षा के चौथे हाथ” के रूप में जाना जाता है।

बोर्ड रक्षा मंत्रालय द्वारा प्रबंधित किया जाता है। इंडियन ऑर्डनेंस फैक्ट्रीज भारत के सभी तीन सशस्त्र बलों- भारतीय वायु सेना, भारतीय सेना और भारतीय नौसेना को उत्पाद प्रदान करती है। हथियारों के हिस्सों, पैराशूट, रसायन और विस्फोटक, हथियारों और गोला बारूद, कपड़ों और चमड़े के सामान दुनिया भर के लगभग 30 देशों में निर्यात किए जाते हैं।

आयुध फैक्ट्री के कुछ एतिहासिक दिन Some Historical Days of Ordnance Factory

  • 1801 – कोलकाता के कोसिपुर में गन कैरिज एजेंसी की स्थापना।
  • 1802 – उत्पादन 18 मार्च को कोसिपुर में शुरू होता है।
  • 1906 – भारतीय आयुध कारखानों का प्रशासन “ऑर्डनेंस फैक्ट्रीज के आईजी” के रूप में एक अलग चार्ज के तहत आता है।
  • 1933 – “ऑर्डनेंस फैक्ट्रियों के निदेशक” को चार्ज दिया गया।
  • 1948 – रक्षा मंत्रालय के प्रत्यक्ष नियंत्रण में रखा गया।
  • 1962 – रक्षा मंत्रालय में रक्षा उत्पादन विभाग की स्थापना की गई।
  • 1979 – ऑर्डेंस फैक्ट्री बोर्ड 2 अप्रैल को स्थापित किया गया है।

भारत में ऑर्डनेंस फैक्ट्रियों की सूची List of Ordnance factories in India

  1. गोला बारूद फैक्ट्री, खड़की, पुणे
  2. कॉर्डेट फैक्टरी अरुवंकडु
  3. इंजन फैक्टरी अवदी, चेन्नई
  4. फील्ड गन फैक्टरी, कानपुर
  5. गन कैरिज फैक्टरी जबलपुर
  6. ग्रे आयरन फाउंड्री, जबलपुर
  7. गन एंड शैल फैक्ट्री, कोलकाता
  8. भारी मिश्र धातु अभियंता परियोजना तिरुचिराप्पल्ली
  9. उच्च विस्फोटक फैक्टरी, पुणे
  10. भारी वाहन फैक्टरी, चेन्नई
  11. मशीन टूल प्रोटोटाइप फैक्टरी, मुंबई
  12. धातु और इस्पात फैक्टरी, कोलकाता
  13. ऑर्डनेंस कपडा फैक्टरी, अवदी, चेन्नई
  14. ऑर्डनेंस केबल फैक्टरी, चंडीगढ़
  15. ऑर्डनेंस कपड़ों फैक्टरी, शाहजहांपुर
  16. ऑर्डनेंस उपकरण फैक्टरी, कानपुर
  17. ऑर्डनेंस उपकरण फैक्टरी, हजरतपुर, फिरोज़ाबाद
  18. ऑर्डनेंस फैक्टरी एम्बरनाथ, मुंबई
  19. ऑर्डनेंस फैक्ट्री अंबाजारी, नागपुर
  20. ऑर्डेंस फैक्ट्री भंडारा
  21. ऑर्डेंस फैक्ट्री भुसावल
  22. आयुध निर्माणी, बोलांगीर
  23. ऑर्डनेंस फैक्टरी, कानपुर
  24. ऑर्डेंस फैक्ट्री, चंद्रपुर
  25. ऑर्डेंस फैक्ट्री, डमडुम, कोलकाता
  26. ऑर्डनेंस फैक्टरी, देहू रोड, पुणे
  27. ऑर्डेंस फैक्ट्री, देहरादून
  28. ऑर्डेंस फैक्ट्री, इटारसी
  29. ऑर्डेंस फैक्ट्री, खमेरिया, जबलपुर
  30. ऑर्डेंस फैक्ट्री, कटनी
  31. ऑर्डेंस फैक्ट्री, मुरादनगर
  32. ऑर्डेंस फैक्ट्री प्रोजेक्ट, नालंदा
  33. ऑर्डेंस फैक्ट्री प्रोजेक्ट, कोरवा
  34. ऑर्डेंस फैक्ट्री प्रोजेक्ट, मेडक
  35. ऑर्डेंस फैक्ट्री, तिरुचिराप्पल्ली
  36. आयुध निर्माणी, वरागाँव
  37. ओप्पो इलेक्ट्रॉनिक्स फैक्टरी, देहरादून
  38. ऑर्डेंस पैराशूट फैक्टरी, कानपुर
  39. राइफल फैक्टरी ईशापुर , कोलकाता
  40. छोटे हथियार फैक्टरी, कानपुर
  41. वाहन फैक्टरी, जबलपुर

प्रशिक्षण संस्थान Training Institutes

  1. नेशनल एकेडमी ऑफ डिफेंस प्रोडक्शन, नागपुर
  2. ऑर्डनेंस फैक्ट्रीज इंस्टिट्यूट ऑफ लर्निंग, अंबाजारी, नागपुर
  3. ऑर्डनेंस फैक्ट्रीज इंस्टिट्यूट ऑफ लर्निंग, एम्बरनाथ, मुंबई
  4. ऑर्डनेंस फैक्ट्रीज इंस्टिट्यूट ऑफ लर्निंग, अवदी, चेन्नई
  5. ऑर्डनेंस फैक्ट्रीज इंस्टिट्यूट ऑफ लर्निंग, देहरादून
  6. ऑर्डनेंस फैक्ट्रीज इंस्टिट्यूट ऑफ लर्निंग, इशापोर, कोलकाता
  7. ऑर्डनेंस फैक्ट्रीज इंस्टिट्यूट ऑफ लर्निंग, खमेरिया, जबलपुर
  8. ऑर्डनेंस फैक्ट्रीज इंस्टिट्यूट ऑफ लर्निंग, कानपुर
  9. ऑर्डनेंस फैक्ट्रीज इंस्टिट्यूट ऑफ लर्निंग, मेडक

निष्कर्ष Conclusion

ऑर्डनेंस फैक्ट्रीज बोर्ड भारत के सशस्त्र बलों के विकास में एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ऑर्डेंस फैक्ट्रीज़ डे को उचित महत्व दिया जाना चाहिए। न केवल यह, संगठन विभिन्न सशस्त्र बलों को हथियारों की आपूर्ति करता है, बल्कि यह अन्तराष्ट्रीय ग्राहकों की इच्छाओं को भी पूरा करता है जैसे कि गोला बारूद, हथियारों, खान संरक्षित वाहनों, बुलेट प्रूफ वाहनों, कपड़ों आदि।

इसे भी पढ़ें -  हिन्दी दिवस पर भाषण Hindi Diwas Speech in Hindi

ऑर्डेंस फैक्ट्री दिवस पूरे भारत में ऑर्डनेंस बोर्ड के मूल्य को समझाने में सामान्य जागरूकता प्रदान करता है। भव्य उत्सवों में आम लोगों का भी स्वागत होता है जहां वे प्रदर्शनियों, परेड इत्यादि देख सकते हैं।

Featured Image – Flickr (Joe)

1 thought on “भारतीय आयुध कारखाना दिवस Essay on Ordnance Factories Day in Hindi”

  1. Sir insas ko modified kijiye rok bahut pdti h kya x95 ki Tarah ho Sakti he kiyon ki VIP Scott duty me dikt aati h because I am jk ofs duty

    Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.