रेडियोधर्मी प्रदूषण पर निबंध Essay on Radioactive Pollution in Hindi

रेडियोधर्मी प्रदूषण पर निबंध Essay on Radioactive Pollution in Hindi

रेडियोधर्मी प्रदूषण, जिसे रेडियोलॉजिकल प्रदूषण भी कहा जाता है, जिससे हवा, पानी, भूमि पर रहने वाले मानव या प्राकृतिक जीव-जन्तु प्रभावित हो सकते हैं। इन सभी में रेडियोधर्मी पदार्थों की उपस्थिति, या उनकी मौजूदगी अनपेक्षित या अवांछनीय है।

रेडियोधर्मी प्रदूषण पर निबंध Essay on Radioactive Pollution in Hindi

पर्यावरण विकिरण के स्रोत Source of Environmental radiation

पर्यावरण विकिरण के स्रोत दोनों प्रकार के होते है –

1. प्राकृतिक (पृष्ठभूमि) विकिरण Natural (background) radiation

इसमें ब्रह्मांडीय किरण शामिल हैं, जो अंतरिक्ष से पृथ्वी की सतह पर पहुँचती है

रेडियोधर्मी प्रदूषण पृथ्वी की सतह तथा उसके समस्त परिवेश को प्रभावित करता है । रेडियम 224, यूरेनियम 235, यूरेनियम 238, थोरियम 232, रेडोन 222, पोटेशियम 40 और कार्बन 14 जैसे कई रेडियोधर्मी तत्व चट्टानों, मिट्टी और पानी में होते हैं।

2. मानव निर्मित विकिरण Man-made radiation

इसमें प्लूटोनियम और थोरियम उत्पादन और परमाणु हथियार, परमाणु ऊर्जा संयंत्रों, परमाणु ईंधन और रेडियोधर्मी आइसोटोप की तैयारी के विस्फोट के खनन और शोधन शामिल हैं।

इसमें परमाणु हथियारों के उत्पादन में परमाणु हथियारों के परीक्षण शामिल हैं। ये परीक्षण पर्यावरण में बड़ी मात्रा में रेडियोधर्मी तत्व फैलाते हैं और अन्य सामग्रियों को भी रेडियोधर्मी बनाते हैं। इनमें स्ट्रोंटियम 90, सीज़ियम 137, आयोडीन 131 और कुछ अन्य शामिल हैं।

रेडियोधर्मी सामग्री गैसों और महीन कणों में बदलकर, हवाओं द्वारा दूर स्थानों तक ले जाए जाते हैं और बारिश की बूंदों के द्वारा रेडियोधर्मी कण ज़मीन पर गिरते हैं, इसे परमाणु पतझड़ कहा जाता है। मिट्टी द्वारा ये रेडियोधर्मी पदार्थ पौधों द्वारा ग्रहण कर लिये जाते है, तब वे खाद्य श्रृंखलाओं के माध्यम से मनुष्यों और जानवरों तक पहुंचते हैं।

इसे भी पढ़ें -  पृथ्वी बचाओ पर निबंध Essay on Save Earth in Hindi

आयोडीन 131 से सफेद ब्लड कॉरप्यूसल्स, बोन मेरो, स्प्लीन, लिम्फ नोड्स, त्वचा कैंसर, बाँझपन और आंखों की दृष्टि आदि नुकसानदायक बीमारियाँ फैलती है और फेफड़े के ट्यूमर का कारण बनती है। स्ट्रोंटियम 90 हड्डियों में संग्रह होता है और अधिकांश जानवरों और मनुष्यों में हड्डियों के कैंसर और ऊतक के पतन इसी कारण से हो सकता है।

रेडियोधर्मी सामग्री को भूमि से जल निकायों द्वारा साफ़ किया जाता है। जहां जलीय जीव उन्हें अवशोषित करते हैं। इन जीवों के माध्यम से रेडियोधर्मी सामग्रियां लोगों की खाद्य श्रृंखलाओं तक पहुंच जाती है-

परमाणु रिएक्टर और परमाणु ईंधन Nuclear reactors and nuclear fuel

परमाणु ऊर्जा संयंत्र के संचालन में बड़ी मात्रा में ऊर्जा का उपयोग होता है। इस ऊर्जा का उपयोग बड़े टर्बाइनों में किया जाता है, जो बिजली उत्पादन करते हैं। दोनों ईंधन तत्व और शीतलक विकिरण प्रदूषण में योगदान देते हैं। परमाणु रिएक्टरों की बर्बादी में रेडियोधर्मी सामग्री भी शामिल है। सबसे बड़ी समस्या इन रेडियोधर्मी अपशिष्टों का नियंत्रण करना है। यदि इस कचरे का सही ढंग से नियंत्रण न किया जाये और कहीं भी उन्हें फेंक दिया

जाता है, तो वे जीवित प्राणियों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। निष्क्रिय गैसें और हेलोजेन वाष्प के रूप में बच जाते हैं और प्रदूषण का कारण होते हैं क्योंकि वे ज़मीन की सतह पर बैठते हैं या बारिश के साथ सतह के पानी तक पहुंचते हैं।

रेडियो आइसोटोप Radio isotope

14C जैसे कई रेडियोधर्मी आइसोटोप 125I, 32P और उनके यौगिकों का उपयोग वैज्ञानिक अनुसंधान में किया जाता है। ये रेडियोधर्मी सामग्रियां गंदे पानी में एकत्रित हो जाती है और नाले के माध्यम से जल स्रोतों तक पहुँचती हैं। पानी से वे अन्न श्रृंखला के माध्यम से मानव शरीर में प्रवेश करते हैं।

एक्स-रे और रेडिएशन थेरेपी X-ray and radiation therapy

मनुष्य भी स्वेच्छापूर्वक कैंसर के निदान के लिये ​​एक्स-रे और अन्य थेरेपी के माध्यम से खतरनाक रेडियेशन प्राप्त करते हैं। बिजली संयंत्रों, परमाणु रिएक्टरों, ईंधन प्रोसेसर आदि में काम कर रहे लोग या आसपास रहने वाले लोग भी विकिरण जोखिम के कारण कमजोर हो रहे  हैं।

इसे भी पढ़ें -  डिफोरेस्टेशन - वनोन्मूलन पर निबंध Essay on Deforestation in Hindi

रेडियोधर्मी प्रदूषण के प्रभाव Effects of radioactive pollution

हानिकारक प्रभाव Harmful Effects

1909 में विकिरण के प्रभाव को पहली बार देखा गया था। तब यह पाया गया कि रेडियो सक्रिय खनिज से विकिरण के कारण यूरेनियम खनिक को त्वचा की जलन और कैंसर हो सकता हैं। विभिन्न जीव आयनीकृत विकिरणों के लिए अलग संवेदनशीलता दिखाते है, उदाहरण के लिए, परीक्षणों से पता चला है कि देवदार के पेड़ विकिरणों का शिकार हो जाते है जबकि ओक के पेड़ आराम से उन विकिरणों में निर्वहन करते हैं।

यह भी बताया गया है कि उच्च ऊंचाई वाले पौधों विकिरणों के खिलाफ एक सुरक्षात्मक तंत्र के रूप में पॉलीप्लाइड विकसित करते है। दक्षिण भारत में तटीय क्षेत्रों के कुछ हिस्सों में पृष्ठभूमि विकिरण की एक उच्च डिग्री है, जो प्राचीन काल में मानवों के लिए काफी हानिकारक मानी जाती थी।

कोशिकायें जो सक्रिय रूप से विकसित होकर विभाजित हो रही हैं, वे अचानक ही क्षतिग्रस्त हो जाती हैं। इस श्रेणी में त्वचा की कोशिकायें, आंतों का अस्तर, अस्थि मज्जा, जननांग और भ्रूण शामिल होते हैं। विकिरणों में तत्काल या शॉर्ट-रेंज और विलंब या लंबी-सीमा वाले प्रभाव हो सकते हैं।

तत्काल प्रभाव Immediate effect

अनावरण के बाद वे कुछ दिनों या कुछ हफ्तों के भीतर दिखाई देते हैं। इनका प्रभाव बालों और नाखूनों में दिखाई देता है ,रक्त कोशिकाओं के अनुपात में परिवर्तन, चयापचय में परिवर्तन, और रक्त कोशिकाओं के अनुपात आदि शामिल है।

विलंबित प्रभाव Delayed effect

यह अनावरण के कई महीनों या सालों बाद भी दिखाई देते हैं। यह प्रभाव आनुवंशिक परिवर्तन, म्यूटेशन, ट्यूमर, कैंसर आदि के विकास के कारण होते है। उत्परिवर्तनों का असर मानव जाति में जारी रह सकता है।

सभी जीव विकिरण प्रदूषण से प्रभावित हैं कुछ जीव विशिष्ट रेडियोधर्मी सामग्री को अधिमान्य रूप से जमा करते हैं। उदाहरण के लिए, कस्तूरी 65Zn संग्रह, मछली 55Fe संग्रह, समुद्री जानवरों 90Srसंग्रह आदि।

रेडियोधर्मी प्रदूषण नियंत्रण Radioactive pollution control

रेडियोधर्मी प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए निम्नलिखित निवारक उपायों का पालन किया जाना चाहिए-

इसे भी पढ़ें -  कुछ प्रेरणादायक सकारात्मक सुविचार Some Inspirational Positive thoughts in Hindi

1. परमाणु रिएक्टरों, उद्योगों और प्रयोगशालाओं से रेडियोधर्मी सामग्री का रिसाव पूरी तरह से बंद होना चाहिए।

2. रेडियोधर्मी अपशिष्ट पदार्थों का निकास सुरक्षित होना चाहिए। उन्हें बिना किसी नुकसान के या सुरक्षित स्थानों में संग्रहीत किया जाना चाहिए ताकि वे बिना किसी नुकसान के नष्ट हो सकें और बहुत कम विकिरण के साथ रेडियोधर्मी अपशिष्ट सीवरेज(Radioactive waste sewerage) में छोड़े जाने चाहिए।

3. निवारक उपायों पर विचार किया जाना चाहिए ताकि विकिरण प्राकृतिक स्तर अनुमेय सीमा से ऊपर नहीं बढ़े।

5. परमाणु ऊर्जा संयंत्रों में दुर्घटनाओं के खिलाफ सुरक्षा उपायों पर ध्यान दिया जाना चाहिए।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.