इंद्रधनुष पर निबंध Essay on Rainbow in Hindi

इस लेख में इंद्रधनुष पर निबंध (Essay on Rainbow in Hindi) दिया गया है। यह निबंध कक्षा 4 से 9 तक परीक्षाओं में विभिन्न प्रकार से पूछे जाते हैं। यह लेख बेहद सरल भाषा में दिया गया है जिसे किसी भी पूछे गए स्थान पर लिखा जा सकता है।

इंद्रधनुष पर निबंध Essay on Rainbow in Hindi

आप लोगों नें आसमान में इंद्रधनुष तो देखा ही होगा। इसे अंग्रेजी में रैनबो (Rainbow) कहते हैं। अगर आप इसके विषय में पूरी जानकारी लेना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा पढ़ें।

इंद्रधनुष क्या होता है? What is Rainbow in Hindi?

इंद्रधनुष तो आमतौर पर सभी लोगों ने देखा होगा। जो अक्सर हमें बरसात के मौसम में आसमान में स्पष्ट दिखाई देता है और सात रंगों का बना हुआ होता है। जिसमें सबसे ऊपर बैगनी रंग और सबसे नीचे लाल रंग होता है।

इसका निर्माण बरसात के मौसम में बादलों में जल की छोटी-छोटी बूंद रह जाने के कारण होता है। दूसरे शब्दों में कहा जा सकता है कि आसमान में संध्या समय पूर्व दिशा में और प्रातःकाल पश्चिम दिशा में सात रंगों का एक विशालकाय वृत्ताकार चक्र दिखाई देता है, जिसे इंद्रधनुष कहते है, जो एक प्राकृतिक घटना है।

इस घटना में जब आसमान में वर्षा की छोटी-छोटी बूंदे रह जाती हैं और सूर्य किरण इन छोटी-छोटी बूंदों से होकर गुजरता है, तो प्रकाश अपने सात रंगों में विभक्त हो जाता है तथा एक अर्धचन्द्राकार रंगों का आकार ग्रहण कर लेता है जिसे आमतौर पर लोग इंद्रधनुष के नाम से जानते हैं।

और पढ़ें -  वन और वन्य जीवन संरक्षण पर निबंध Essay on Conservation of Forest and Wildlife in Hindi

दरअसल यह पूरी घटना एक पूर्ण आंतरिक परिवर्तन के कारण होती है, जिसमें प्रकाश वर्षा की बूंदों से गुजरती है तथा स्पेक्ट्रम के तहत किरण सात रंगों में विभक्त हो जाती है तब यह एक सात रंगों वाली विचित्र संरचना बना लेती है, जो देखने में नयनरम्य होती है।

इंद्रधनुष के प्रकार Types of Rainbow in Hindi

इंद्रधनुष दो प्रकार के होते है-

  1. प्राथमिक इंद्रधनुष
  2. द्वितीयक इंद्रधनुष

1. प्राथमिक इंद्रधनुष

प्राथमिक इंद्रधनुष का निर्माण तब होता है, जब प्रकाश की किरण पानी की बूंदो के द्वारा एक बार अपवर्तित तथा दो बार पूर्ण आंतरिक परावर्तित हो, इस इंद्रधनुष की तीव्रता अधिक होने के कारण स्पष्ट दिखाई देता है।

2. द्वितीयक इंद्रधनुष

द्वितीयक इंद्रधनुष का निर्माण मुखतः तब होता है, जब प्रकाश की किरण पानी की बूंदो के द्वारा दो बार अपवर्तित तथा दो बार परावर्तित हो किंतु इस इंद्रधनुष की तीव्रता कम होने के कारण यह स्पष्ट नहीं दिखाई देता।

इंद्रधनुष के सात रंगों का महत्व Importance of Seven Colours of Rainbow in Hindi

कहा जाता है दुनियाँ में जितने रंग है, वे किसी ना किसी रूप में मनुष्य में पाए जाते है। जिन्हे जीवन से अलग नहीं किया जा सकता है। ये रंग हमारे शरीर में स्वास्थ्य संतुलन बनाये रखते है, हमारी सोच को नई दिशा व ऊर्जा प्रदान करते है।

अक्सर बरसात के मौसम में जब बरसात के पहले या बाद में काले-काले बादल छाए रहते हैं या बरसात रिमझिम प्रकृति की होती और धूप निकलती है, तब अक्सर इंद्रधनुष दिखाई देता है। जो सात रंगों में विभक्त रहता है और इन रंगों के बारे में अलग-अलग धारणाएं हैं। 

स्कूल के छात्र इंद्रधनुष के रंगों को याद करने के लिए अंग्रेजी में VIBGYOR शब्द का उपयोग भी करते हैं।

इन इंद्रधनुष के साथ रंगों में सभी रंगों के बारे में निम्न प्रकार बताया गया है-

बैगनी रंग

बैंगनी रंग इंद्रधनुष में  देखने पर सबसे ऊपर पाया जाता है, जिसको एक सब्जी के नाम बैगन से लिया गया है। बैगनी रंग हर्ष, उल्लास, लग्जरी, आनंद आदि को प्रदर्शित करने वाला रंग है।

और पढ़ें -  लड़कियों पर 51 अनमोल कथन 51 Best Quotes on Girls in Hindi

जामुनी रंग

दूसरा रंग इंद्रधनुष में जामुनी रंग होता है, जो जामुन के समान गहरा नीला होता है तथा यह रंग हमेशा ऊँचा उठने के लिए निडर होकर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है।

नीला रंग

नीला रंग आसमान और समुद्र आदि का होता है। जो इन्द्रधनुष में तीसरे नंबर पर पाया जाता है, यह रंग हमें शांति से ठंडे दिमाग से सोचने तथा कार्य करने को प्रेरित करता है इसके साथ इक्षाशक्ति धैर्य नम्रता को दर्शाता है।

हरा रंग

इंद्रधनुष में पाया जाने वाला चौथा रंग हरा रंग होता है। हरा रंग हमारी प्रकृति की हरियाली संपन्नता और पृथ्वी की हरियाली रुपी हरी चुनरी को दर्शाता है। यह रंग हमें हमेशा खिलखिलाते रहने और हमेशा हरे – भरे रहने मतलब स्वास्थ्य रहने का पैगाम देता है।

पीला रंग

पाँचवा रंग इंद्रधनुष में पीला रंग होता है। जो रंग सूर्य में पाया जाता है तथा यह रंग हमें ऊर्जावान और हमेशा अच्छे कार्य करने के लिए प्रेरित करता है तथा क्षमता बुद्धिमता दर्शाता है।

नारंगी रंग

नारंगी रंग इंद्रधनुष में नीचे से दूसरा रंग होता है जो हमेशा अच्छा सोचो और आशा का प्रतीक होता है तथा यह हमें यह बताता है कि हर रात के बाद सुबह जरूर होगी अर्थात निराशा के बाद आशा जरूर होती है तथा ख़ुशी, आशीर्वाद सफलता का धोतक है।

लाल रंग

इंद्रधनुष का अंतिम रंग लाल रंग होता है। जो हमेशा त्याग बलिदान सफलता उत्साह भक्ति सौभाग्य आदि के बारे में और हमें इसी राह पर चलने के लिए प्रेरित करता है।

इंद्रधनुष के सात रंगों का नाम हिंदी और अंग्रेजी में Name of Rainbow Seven Colours in Hindi and English

 इंद्रधनुष के रंगों को ऊपर से नीचे के क्रम में हिन्दी और अंग्रेजी में वर्णित किया गया है-

हिंदीअंग्रेजी
1.लाल (लाल)
2.नारंगी (Narangi)
3..पीला (Peela)   
4.हरा (Hara) 
5.आसमानी (Asamani)
6.नीला (Neela)
7.बैगनी (Baigni)
Red
Orange
Yellow
Green
Blue
Indigo
Violet
VIBGYOR Rainbow Colour Table (Hindi and English)

इंद्रधनुष पर कविता Poem on Rainbow in Hindi

इंद्रधनुष: कविता

और पढ़ें -  दिलवाड़ा मंदिर का इतिहास History and Story of Dilwara Temples in Hindi

बरस-बरस बादल बिखरा है
आसमान धुलकर निखरा है

किरणें खिल-खिल झाँक रही हैं
अपनी शोभा आँक रही हैं

धरती के छोरों तक मिलता
आसमान के ऊपर खिलता

रंग हरा, नारंगी, पीला
लाल, बैंगनी, नीला-नीला

आसमान का रंग मिला फिर
इंद्रधनुष सतरंग खिला फिर
बूँदें जब झरती हों झर-झर
किरणें उतर रही हों सर-सर

बूँदों से जब किरणें मिलतीं
इंद्रधनुष बन करके खिलतीं।

रचनाकार – श्रीप्रसाद

निष्कर्ष Conclusion

इस लेख में आपने इंद्रधनुष पर निबंध Essay on Rainbow in Hindi तथा इंद्रधनुष पर पूरी जानकारी पढ़ा। आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको सरल तथा अच्छा लगा हो, तो इसे शेयर जरुर करें।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.