ग्रामीण जीवन पर निबंध (गाँव का जीवन) Essay on Village Life in Hindi

इस लेख मे हमने ग्रामीण जीवन पर निबंध (गाँव का जीवन) Essay on Village Life in Hindi हिन्दी मे लिखा है। इसमे आप ग्रामीण क्षेत्रों मे शिक्षा, घर, जीवन शैली, स्वास्थ्य सुविधाएं, लोग और परंपराओं के विषय मे पूरी जानकारी दी है। यह निबंध स्कूल और कॉलेज के छात्रों के लिए 1200 शब्दों मे लिखा गया है।

आईए शुरू करते हैं – गाँव के जीवन या ग्रामीण जीवन पर निबंध (Essay on Village in Hindi)

प्रस्तावना Introduction (ग्रामीण जीवन पर निबंध-1200 Words)

गाँव का जीवन या लोगों का ग्रामीण जीवन उनका माना जाता है जो शहरों से दूर रहते हैं और शहरों की तरह उन्हें सभी प्रकार की सुविधाएँ नहीं मिल पाते हैं। शहरी लोगों के तुलना में गाँव के लोगों का जीवन बहुत अलग होता है।

आज की इस लेख में हम ग्रामीण – गांव में रहने वाले लोग कैसे अपना जीवन व्यतीत करते हैं उनके रहन-सहन का तरीका और साथ ही वहां के सुंदर वातावरण के विषय में आपको बताएंगे।

भारत मे गाँव Villages in India

आज भारत एक विकासशील देश है। तब भी आज शहरों के मुकाबले भारत में बहुत अधिक गाँव है। रिपोर्ट के अनुसार लगभग 75 प्रतिशत से ज्यादा भारतीय जनसंख्या गाँव में रहते हैं। गाँव का जीवन शांत, हरियाली और प्रदूषण मुक्त होता है।

गाँव के खेतों की सुंदरता और हरियाली देखने का मज़ा कुछ और ही होता है। गाँव में सभी बड़े निर्णय पंचायत ऑफिस के अधिकारी और सरपंच के माध्यम से पारित होते हैं।

ग्रामीण शिक्षा Education in Rural areas

आज भी इस आधुनिक युग में गाँव का जीवन शहरों से बहुत अलग है। गाँव में पूर्ण रूप से शिक्षा की सुविधाएँ आज भी उपलब्ध नहीं हो पाए हैं। आज भी ज्यादातर गाँव में मात्र प्राइमरी स्कूलों की सुविधा है और कुछ बड़े गाँव में मात्र हाई स्कूल की सुविधा है।

इसे भी पढ़ें -  भारत में सिंचाई प्रणाली Types of Irrigation System in India Hindi

कॉलेज या उच्च शिक्षा के लिए आज भी गाँव के बच्चों को बड़े शहरों में जाना पड़ता है। ऐसे में जिन लोगों के घर में अपने बच्चों को शहर भेजने के लिए पैसे नहीं होते हैं वह उनकी शिक्षा वही रोक देते हैं। इस प्रकार ज्यादातर लोग गाँव में अशिक्षित रह जाते हैं।

गाँव के घर और जीवन शैली House & Lifestyle in Villages

पहले भारत के सभी गाँव में बांस और भूसे से बने चाट हुआ करते थे और घर भी मिट्टी के होते थे परन्तु अब प्रधानमंत्री आवास योजना की मदद से गाँव में गरीब लोगों को मुफ्त में पक्के घर मिल रहे हैं।

लगभग सभी गाँव के लोग खेती-किसानी करते हैं और अपने घरों में मुर्गियां, गाय-भैंस, बैल, और बकरियां पालते हैं। साथ ही गाँव के लोग शहरी लोगों की तरह सब्जी-मंडी में सब्ज़ियाँ खरीदने नहीं जाते हैं। हर कोई अपने खेतों और बगीचों में सब्ज़ियाँ लगाते हैं और खुद के घर की सब्ज़ियाँ खाते हैं।

गाँव के लोगों का मुख्य कार्य खेती होता है। आज भी शहरों में जिन अनाजों को लोग खाते हैं सभी गाँव के खेतों से ही आता है। आज भी इस 21वीं सदी में कई ऐसे गाँव हैं जहाँ तक पहुँचने के लिए अच्छी सड़क तक नहीं हैं।

हाला की प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के अनुसार ज्यादातर गाँव को अब पक्की सड़कों से जोड़ा जा चूका है परन्तु फिर भी कुछ ऐसे गाँव हैं जहाँ पर सड़क ना होने के कारण वहां जाना तक बहुत मुश्किल होता है। उन जगहों पर सड़क ना होने के कारण बारिश के महीने में कीचड़ भर जाता है, गड्ढों के कारन जाना मुश्किल हो जाता है।

शहर के मुकाबले गाँव में बहुत कम लोग रहते हैं। गाँव में लोगों के घर के आस-पास बहुत खुली जगह होती है और हर किसी व्यक्ति के पास मोटरसाइकिल या कार नहीं होता है। गाँव में ज्यादातर लोगों के पास वाहन के रूप में बैल गाड़ी होता है। परन्तु कुछ जगहों में अब गाँव में भी लोगों के पास गाडी-मोटर की सुविधाएँ हैं।

इसे भी पढ़ें -  पुस्तक मेला पर निबंध Essay on Book Fair in Hindi

स्वास्थ्य से जुड़ी सुविधाएँ Health care facilities in villages

अब गाँव के पास भी सरकार की और से प्राथमिक चिकित्सा केंद्र जगह-जगह खोले जा चुके हैं जिससे गाँव के लोगों को भी चिकित्सा के क्षेत्र में सुविधाएँ मिल रही है। इमरजेंसी के समय के लिए सरकार ने अब ज्यादातर प्राथमिक चिकित्सा केंद्रों में मुफ्त 108 एम्बुलेंस सर्विस प्रदान की है जो बहुत मददगार साबित हुए हैं।

गाँव के लोग साप्ताहिक छोटे बाज़ार लगते हैं जहाँ लोग कपड़े, खाने का समान, बिजली आ समान और अन्य ज़रूरी समान खरीदने जाते हैं। अगर उन्हें कुछ बड़ी चीजें खरीदना होता है तो वह पास के शहर जाते हैं।

गाँव में मौसम बहुत ही सुहाना और वातावरण बहुत स्वच्छ होता है। आज शहरी इलाकों में प्रदूषण के कारण सांस लेना तक मुश्किल हो गया है। परन्तु गाँव में ऐसा नहीं है। गाँव में कम वाहन चलने के कारण प्रदूषण ना के बराबर होता है और इसलिए वातावरण भी स्वच्छ होता है।

परन्तु जिन ग्रामीण क्षेत्रों में पानी की कमी होती है वहां के जल संपदा बहुत अस्वच्छ होते हैं क्योंकि ज्यादातर गाँव में लोग जिस तालाब के पानी में कपड़े धोते हैं, गाय-भैंस को नहलाते हैं उसी में स्वयं नहाते हैं और उस पानी को खाने-पीने के काम में भी लेते हैं।

आज भी ज्यादातर गाँव में लोग बाहर शौच करते हैं जिसके कारण कई प्रकार की बीमारियाँ – जैसे टाइफाइड, डायरिया आदि से भी भुगतना पड़ता है। आज सरकार के कई अभियान जैसे – स्वच्छ भारत अभियान के द्वारा लोगों को स्वच्छता के विषय में जागरूक करने की मुहीम शुरू की जा चुकी है परन्तु इस प्राचीन काल से आये हुए अन्धविश्वास और अस्वच्छ भारत की आदतों को सुधारने में हमें बहुत समय लगेगा।

गाँव के लोग People of Village

जिन क्षेत्रों में कुछ प्राकृतिक कारणों से खेती किसानी सही प्रकार से नहीं हो पा रही है उन क्षेत्रों के गाँव में ज्यादातर लोग गरीबी रेखा (BPL-Below poverty line) के नीचे होते हैं। उनके पास खेत ना होने या खेतों में पानी की सुविधा सही प्रकार से ना हो पाने के कारण उनके पास एक वक्त का खाना खाने के लिए भी अनाज नहीं होता है।

इसे भी पढ़ें -  अपने लक्ष्य को कैसे प्राप्त करें? How to achieve your goals? in Hindi

ज्यादातर राज्यों की सरकार के इन गरीबी रेखा के लोगों के लिए जन धन योजना बैंक अकाउंट प्रदान किया है और साथ ही परिवार के अनुसार 2 रुपए वाला चावल प्रदान किया जा रहा है और साथ ही प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के अनुसार घर-घर LPG गैस दिए जा रहे हैं।

पहले कुछ वर्ष पहले गाँव का जीवन रात होते ही अंधकार में डूब जाता था क्योंकि ज्यादातर गाँव में बिजली की सुविधा नहीं थी। आज लगभग ज्यादातर गाँव में बिजली की सुविधा पहुँच चुकी है। अब गाँव के बच्चे भी मेहनत कर रहे हैं और शिक्षा के क्षेत्र में बहुत सफलताएँ प्राप्त कर रहे हैं।

पारंपरिक त्यौहार और संस्कृति Traditional Festivals and Culture

आज भले ही शहरी क्षेत्रों में लोग भारत के संस्कृति और परंपरा को कई हद तक भुला चुके हैं वहीँ आज भी ग्रामीण लोगों के दिल में हमारे देश की परंपरा और संस्कृती कूट-कूट कर भरी हुई है। गाँव के त्यौहार में शहरों के जितना आतिशबाजी और रौशनी तो नहीं होता है परन्तु उसमें सही नियम, और लोग मिलझूल कर त्यौहार का आनंद उठाते हैं।

निष्कर्ष Conclusion

भले ही गाँव का जीवन देखने मे बहुत ही कष्टदायी दिखता हो परंतु होता बहुत ही सुंदर और मनमोहक है। आज इंटरनेट और अच्छे रोड रास्तों के कारण भारत का ग्रामीण जीवन भी बहुत आगे निकाल चुका है।

आशा करते हैं आपको गाँव के जीवन या ग्रामीण जीवन पर निबंध अच्छा लगा होगा। अगर आपको यह निबंध अच्छा लगा हो तो इस आर्टिकल को अपने सोशल मीडिया पर ज़रूर शेयर करें।

5 thoughts on “ग्रामीण जीवन पर निबंध (गाँव का जीवन) Essay on Village Life in Hindi”

  1. Dear sir,
    There have been lot of changes in the villagers. They get more benefits. Now there are four wheeler, motorcycle, you can found in many villages. I agree they have simple life but young generation have been changed. I love villages, beautiful environment, pure air.

    Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.