विद्यार्थी और राजनीति पर निबंध Essay on Students and Politics in Hindi

विद्यार्थी और राजनीति पर निबंध Essay on Students and Politics in Hindi

आज के विद्यार्थी ही हमारे देश के भावी नागरिक हैं। वे ही नए भारत के निर्माता बनेंगे। इसलिए, राजनीतिक चेतना एक राष्ट्र की वृद्धि और विकास में योगदान देने वाला एक अनिवार्य कारक है। क्या छात्रों को राजनीति में भाग लेना चाहिए? यह हमारे देश के सामने सबसे चौंकाने वाले सवालों में से एक है।

विद्यार्थी और राजनीति पर निबंध Essay on Students and Politics in Hindi

राजनीति में छात्रों की भागीदारी का विरोध करने वालों ने अपने विचार रखे हैं कि राजनीति एक गंदा खेल है। यह समूह और दल बनाता है और स्थायी दुश्मनी की ओर ले जाता है। यह विद्यार्थियों के मन की शांति को बिगाड़ता है। एक विद्यार्थी का प्राथमिक कर्तव्य है कि वह पहले अपनी पढ़ाई पर ध्यान दे। लोगों का कहना है कि छात्र राजनीति की इस जटिल प्रणाली में हिस्सा नहीं ले सकते हैं।

राजनीतिक आंदोलनों का मतलब है सक्रिय भागीदारी, जुलूस निकालना, जनसभाओं का आयोजन, राजनीतिक नारे लगाना, किसी पार्टी की निंदा करना या दूसरे को स्वीकार करना आदि। राजनीति विद्यार्थियों की पढ़ाई में बड़ा दखल डालती है।

उनकी दिलचस्पी मुख्य पहलू से हट जाती है। राजनीति में रुचि लेने से एक विद्यार्थी केवल हड़ताल, प्रदर्शन, जुलूस और नारेबाजी ही सीखता है। जिसके परिणामस्वरूप वह जीवन में अपना वास्तविक उद्देश्य खो देता है और भटक जाता है। राजनीति में भागीदारी इस प्रकार एक विद्यार्थी के करियर को बिगाड़ देती है।

वहीँ दूसरी तरफ राजनीति में भागीदारी एक छात्र को एक अच्छा नागरिक बनने के लिए प्रशिक्षित भी करती है। यह उसे जीवन के लोकतांत्रिक तरीके से प्रशिक्षण देता है। वह एक जिम्मेदार और सुसंस्कृत नागरिक के रूप में विकसित होता है।

यह उसमें देशभक्ति की भावना पैदा करता है। उसे संसार का व्यावहारिक ज्ञान देता है। एक नेता के रूप में वह साहस, उद्देश्य, सेवा की भावना और अपने साथियों के लिए सहानुभूति और आत्म-अनुशासन जैसे गुणों को विकसित करता है।

इसे भी पढ़ें -  इंटरनेट पोर्नोग्राफी पर निबंध Essay on Internet Pornography in Hindi

विद्यार्थी जीवन एक व्यक्ति के जीवन की प्रारंभिक अवधि है। एक विद्यार्थी को इस अवधि के दौरान उसके सभी गुणों का विकास करना चाहिए। यह उसे एक सफल जीवन जीने में मदद करता है। अगर विद्यार्थी को राजनीति से पूरी तरह से दूर रखा जाता है, तो उनके व्यक्तित्व में वृद्धि होने की संभावना है।

एक विद्यार्थी को राजनीति में भाग लेना चाहिए, लेकिन इसमें सक्रिय भागीदारी नहीं होनी चाहिए। यदि कोई व्यक्ति उचित सीमा के भीतर रहता है तो सभी गतिविधियाँ अच्छी लगती हैं। इसलिए, विद्यार्थियों को अपनी पढ़ाई पर प्राथमिक ध्यान देना चाहिए। उन्हें उसी समय खुद को इस बात से अवगत कराना चाहिए कि पढाई उनके लिए जरुरी है। राजनीति का खेल तो हमेशा से ही चलता आ रहा है।

वैसे राजनीति एक विज्ञान है जो राज्य और उसके लोगों के सामान्य कल्याण को बढ़ावा देता है। किसी भी अन्य विज्ञान की तरह इसके भी नियम और कानून हैं जो काम करने पर विशिष्ट प्रभाव पैदा करते हैं।

राजनीति में विद्यार्थियों की भागीदारी के बारे में कई बहसें होती हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि विद्यार्थियों को अपने देश की समृद्धि को नियंत्रित करने वाले कानूनों को समझने में कुछ भी गलत नहीं है। यह सब कार्य करने के लिए विद्यार्थी का दिमाग पर्याप्त रूप से विकसित नहीं होता है।

इसके अलावा आज के युवा उत्साही होते हैं, यह समय उनका सीखने का समय है, अनुभवों को लेने का समय है, जानकारी इकट्ठा करने का समय है। अनुभव या ज्ञान के बिना युवा केवल दूसरों के विचारों को प्रचारित करते हैं।

युवावस्था विद्यार्थी के विकास का एक ऐसा चरण है जहाँ मन अनुभवहीन होता है इसलिए क्रोध का प्रकोप होता है। उनमें उत्साह तो होता है, लेकिन इसे सही तरीके से उपयोग करने की आवश्यकता है ताकि यह ज्ञान में बदल जाए जिससे विद्यार्थी और राष्ट्र दोनों की उन्नति हो सके।

इसे भी पढ़ें -  स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध Swachh Bharat Abhiyan Essay Mission in Hindi PDF

हालांकि, विद्यार्थी राजनीति में आने की तैयारी कर सकते हैं। विद्यार्थियों को राजनीतिक बैठकों में भाग लेने की अनुमति दी जानी चाहिए ताकि वे इन बैठकों में होने वाले ज्ञान के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकें।

विद्यार्थी सीखेंगे कि अपनी बात कैसे रखी जाए, वे आलोचना को स्वीकार करना सीखेंगे, और अधिक महत्वपूर्ण बात, वे समझेंगे कि एक ही काम करने के अलग-अलग तरीके हो सकते हैं। जब विद्यार्थी राजनीति की दुनिया में कदम रखने का फैसला करेंगे तब वे परिप्रेक्ष्य और मूल्यवान अनुभव प्राप्त करेंगे जिससे वे व्यावहारिक ज्ञान प्राप्त कर पाएंगे।

विद्यार्थियों को देश की राजनीति में भाग लेना चाहिए ताकि वे सरकार, राज्य और उनके मामलों से अवगत हो सकें। विद्यार्थियों द्वारा इस तरह की राजनीतिक भागीदारी से अधिक जागरूकता और बेहतर प्रशासन सुनिश्चित होगा। वर्तमान समय में विद्यार्थियों द्वारा राजनीतिक भागीदारी का अत्यधिक महत्व है।

लेकिन आधुनिक आलोचकों की राय है कि विद्यार्थियों को राजनीति से दूर रखा जाना चाहिए, वे भूल जाते हैं कि जैविक अवधारणाओं के भीतर हमारा समाज ही आगे बढ़ सकता है। विद्यार्थी भी हमारे समाज का एक हिस्सा हैं जो हमारा शरीर है। शरीर का कोई भी अंग जो अविकसित है, वह शरीर को अपंग बनाता है।

इस प्रकार हम यह मान सकते हैं कि समाज की भलाई के लिए, विद्यार्थी समुदाय के कल्याण के लिए, राष्ट्र की समृद्धि के लिए और ब्रह्मांड में हर स्थायी शांति के लिए, विद्यार्थियों को सभी मामलों में अपनी बात रखने की अनुमति दी जानी चाहिए।

दूसरी तरफ राजनीति की आड़ में विद्यार्थी विनाशकारी साधनों का सहारा लेते हैं। वे अपनी पढ़ाई को अनदेखा करते हैं और उन्हें लगता है कि नकल करना उनका अधिकार है और बिना अटेंडेंस के ही परीक्षा में शामिल हो सकते हैं।

राजनेताओं को समझना चाहिए कि अपने स्वार्थ के लिए उन्हें विद्यार्थियों को राजनीती में आने का लालच नहीं देना चाहिए। लेकिन विद्यार्थी उन सभी राजनीतिक क्रियाओं में भाग ले सकते हैं जो उनके अच्छे भविष्य से सम्बंधित हो।

इसे भी पढ़ें -  भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस National Youth Day in India Hindi

कॉलेज में छात्र संघ चुनाव के दौरान कुछ छात्र नेता अपने राजनीतिक और व्यक्तिगत उद्देश्यों को पूरा करने के लिए अपने पद का दुरुपयोग करते हैं। इस तरह की गतिविधियां पढ़ाई में बाधा डालती हैं और विद्यार्थियों का कीमती समय बर्बाद करती हैं।

अतः यह कहना उचित होगा कि आधुनिक युग में और विशेष रूप से वर्तमान परिदृश्य में, जब तक की विद्यार्थी वयस्क नहीं हो जाते, तब तक विद्यार्थियों को राजनीति से अलविदा कहना ही अच्छी बात होगी।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.