गुरूवायूर श्री कृष्ण मंदिर Guruvayur Sri Krishna Temple Details in hindi

गुरूवायूर श्री कृष्ण मंदिर Guruvayur Sri Krishna Temple Details in hindi

भगवान श्री गुरुवायुरप्पन का गौरवशाली निवास ‎गुरूवायूर श्री कृष्ण मंदिर लहराते हुए नारियल के पेड़ों के बीच केरल में स्थित है। यह जगह इतनी सुंदर है, कि इसकी महिमा का वर्णन करने के लिए शब्द कम पड़ते हैं। यह तृश्शूर जिला में लगभग 29 किलोमीटर दूर स्थित है, जिसे ‘भगवान का घर और  केरल की सांस्कृतिक राजधानी के रूप में जाना जाता है।

श्री कृष्ण का यह दिव्य मंदिर यहाँ के आसपास की प्राकृतिक सुंदरता को दर्शाता है। इस मंदिर के मुख्य देवता भगवान कृष्ण या गुरुवायुरप्पन है, जिन्हें हर सुबह पवित्र तुलसी माला और मोतीयों के हार के साथ सुशोभित किया जाता है। उनकी मूर्ति में भगवान विष्णु का एक उज्ज्वल प्रतिरूप है, जो अपने भक्तों को आशीर्वाद देता हुये दिखायी पड़ते हैं।

गुरूवायूर श्री कृष्ण मंदिर Guruvayur Sri Krishna Temple Details in hindi

मंदिर की मुख्य विशेषताएँ Main highlights of Temple

आमतौर पर इस जगह को दक्षिण की द्वारका के नाम से भी पुकारा जाता है। यह स्थान भगवान कृष्ण के मंदिर की वजह से बहुत खास माना जाता है। यह ऐतिहासिक मंदिर पिछले कई वर्षों से रहस्य में है। यह माना जाता है कि इस मंदिर का निर्माण गुरु, व्यास और पवन देव द्वारा किया गया था।

यहाँ के लोग भगवान के लिए अद्भुत विभिन्न प्रकार के प्रसाद बनाते हैं और यहाँ का सबसे लोकप्रिय प्रसाद थुलाभरम हैं। जिसमें भक्त अपने वजन के बराबर केले, चीनी, गुड़, और नारियल आदि भगवान को अर्पित करते है। यह केरल के सबसे लोकप्रिय पवित्र तीर्थस्थानों में से एक है, यहाँ दूर-दूर के शहरों से हिंदू भक्तों की एक बड़ी संख्या और यहां तक ​​कि विदेशों से भी लोग घूमने आते है।

इसे भी पढ़ें -  मेरा विद्यालय पर निबंध Essay on My School in Hindi

वास्तुकला Architecture

गुरुवायुर मंदिर में भगवान कृष्ण की प्रतापी मूर्ति एक दुर्लभ पत्थर से बनाई गई है, जिसे पाताल अंजना कहा जाता है। मंदिर के प्रवेश द्वार पूर्व नाडा की ओर खुलता है। इसका मुँह पूर्व दिशा की ओर है और जब सुबह-सुबह मंदिर के द्वार खुलते हैं, तो भक्त इस द्वार से सीधे मंदिर के मुख्य क्षेत्र में पहुंचते है।

बाहरी की तरफ एक 33.5 मीटर ऊंचा सोने का ध्वज(ध्वजस्तंभ) मढ़वाया गया है और यहाँ 7 मीटर की ऊंचाई पर दीपस्तंभ (दीपक का स्तंभ) है, जो शाम को प्रकाशित होता है। जब यह जलाया जाता है, तो ये दीपक वास्तव में बहुत खूबसूरत दिखता हैं।

मंदिर के मुख्य देवता मंदिर के श्रीकोविल में स्थापित है, जो मंदिर का सबसे पवित्र स्थान है। इस क्षेत्र के भीतर, गणपति जी , भगवान अय्यप्पा और एडिटथैथु काविल भगवती की छवियां भी हैं। यहाँ वर्ष में कभी भी किसी भी समय इस मंदिर में जाया जा सकता है, लेकिन जन्माष्टमी (श्री कृष्णा जन्मदिन) पर इस सुंदर मंदिर की यात्रा करने और भगवान कृष्ण के आशीर्वाद प्राप्त करने का सबसे अच्छा समय है।

Featured Image – Ramesh NG (CC BY-SA 2.0)

शेयर करें

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.