महात्मा गांधी के बारे में 30+ रोचक तथ्य Interesting facts about Mahatma Gandhi in Hindi

महात्मा गांधी के बारे में 30+ रोचक तथ्य Interesting facts about Mahatma Gandhi in Hindi

देश को आजाद कराने में महात्मा गांधी का प्रमुख योगदान रहा है। उन्होंने बहुत से आंदोलन किए जिससे अंग्रेजों को अंत में देश छोड़ना पड़ा। भारतवासी प्यार से महात्मा गांधी को “बापू” और “राष्ट्रपिता” कहकर पुकारते हैं। उन्होंने अहिंसा के रास्ते पर चलते हुए भारत को आजाद दिला दी। कभी भी हिंसा का सहारा नहीं लिया।

उनकी शख्सियत बहुत ही सीधे सादे और ईमानदार व्यक्ति की थी। वह पढ़े लिखे और सरल व्यक्ति थे। हमेशा ईश्वर में विश्वास रखते थे। सभी जाति धर्म के लोगों को प्यार करते थे। इतना ही नहीं जब देश आजाद हुआ और एक नए राष्ट्र पाकिस्तान का उदय हुआ तब भी महात्मा गांधी ने कहा कि जो मुसलमान हिंदुस्तान में रहना चाहते हैं वे रह सकते हैं।

वे भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में प्रसिद्ध थे। विश्व के कई नेता और बड़ी हस्तियाँ महात्मा गांधी से प्रभावित थे। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में भारतीयों पर हो रहे अत्याचारों के खिलाफ आवाज उठाई और आंदोलन किया।

भारत में दलित जातियों का कोई भी सम्मान नहीं करता था। यहां पर अस्पृश्यता (छुआछूत) की कुरीति विद्यमान थी। महात्मा गांधी ने दलित जाति के वर्गों को “हरिजन” कहकर पुकारा था। उन्होंने अपना पूरा जीवन देश की सेवा करने में समर्पित कर दिया था।

पढ़ें: महात्मा गांधी जयंती
पढ़ें: महात्मा गांधी की जीवनी

महात्मा गांधी के बारे में 30+ रोचक तथ्य Interesting facts about Mahatma Gandhi in Hindi

महात्मा गांधी के बारे में आज हम आपको  30+ रोचक तथ्यों के बारे में बताएंगे-

  1. महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को पोरबंदर, गुजरात में हुआ था।
  2. महात्मा गांधी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था।
  3. महात्मा गांधी बहुत ही सीधे सरल स्वभाव के व्यक्ति थे। धन के लिए  कभी भी लालच नहीं करते थे। वकालत के पेशे में सिर्फ वही मुकदमे लेते थे जो सच्चे होते थे। बुरे और बेईमान लोगों का मुकदमा नहीं लेते थे।
  4. महात्मा गांधी की मृत्यु 30 जनवरी 1948 को हुई थी। नाथूराम गोडसे ने गोली मारकर उनकी हत्या कर दी थी।
  5. महात्मा गांधी के जन्म दिवस पर संयुक्त राष्ट्र ने 2 अक्टूबर को “विश्व अहिंसा दिवस” के रूप में मनाने का फैसला किया है।
  6. रवीन्द्र नाथ टैगोर ने सबसे पहले उन्हें महात्मा की उपाधि दी थी और रवीन्द्र नाथ टैगोर को गुरुदेव की उपाधि महात्मा गांधी ने दी थी।
  7. अमेरिका की टाइम मैगजीन ने 1930 में महात्मा गांधी को “मैन ऑफ द ईयर” का पुरस्कार दिया था।
  8. महात्मा गांधी ने अपने पूरे जीवनकाल में कभी भी हवाई जहाज से यात्रा नहीं की।
  9. बहुत से लोगों का मानना है कि महात्मा गांधी, भगत सिंह की फांसी रोक सकते थे परंतु उन्होंने कभी इस तरह बहुत अधिक ध्यान नहीं दिया।
  10. महात्मा गांधी की मृत्यु के बाद उनके शव यात्रा में 10 लाख  लोग शामिल हुए। 15 लाख लोग शव यात्रा के रास्ते में खड़े हुए थे। उनकी शव यात्रा भारत के इतिहास में सबसे बड़ी शव यात्रा थी। लोग खंभों, पेड़ और घर की छतों पर चढ़कर बापू को एक नजर देखना चाहते थे।
  11. एप्पल कंपनी के सीईओ “स्टीव जॉब्स” महात्मा गांधी की तरह गोल शीशे वाला चश्मा पहनते थे। इस तरह से वह महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देते थे।
  12. महात्मा गांधी को दूसरों से मसाज कराना बहुत पसंद था।
  13. स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद कुछ अंग्रेज पत्रकार महात्मा गांधी के पास आए और उनका इंटरव्यू अंग्रेजी में लेने लगे। इस पर महात्मा गांधी हिंदी में बोले “मेरा देश अब आजाद हो गया है। अब मैं हिंदी में ही बात करूंगा”
  14. महात्मा गांधी को 5 बार नोबेल पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया था। 1948 में पुरस्कार मिलने से पहले उनकी हत्या हो गई थी। इसलिए नोबेल कमेटी ने यह पुरस्कार उस साल किसी और व्यक्ति को नहीं दिया।
  15. अपनी आत्मकथा में महात्मा गांधी ने लिखा है कि वे बचपन में बहुत शर्मीले थे और स्कूल से भाग जाया करते थे। दूसरों से बात करने में उन्हें बहुत झिझक होती थी।
  16. 1931 में महात्मा गांधी ने पहली बार रेडियो पर अपना भाषण दिया था। उनके पहले शब्द थे “क्या मुझे इस माइक्रोफोन के अंदर बोलना पड़ेगा”
  17. दक्षिण अफ्रीका में महात्मा गांधी को फर्स्ट क्लास का टिकट होने के बावजूद ट्रेन से बाहर कर दिया गया था क्योंकि वे अश्वेत व्यक्ति थे।
  18. ट्रेन से यात्रा करते समय एक बार महात्मा गांधी का एक जूता नीचे गिर गया। उन्होंने अपना दूसरा जूता भी फेक दिया। जब बगल के यात्री ने कारण पूछा तो वे बोले एक जूता मेरे किसी काम नहीं आएगा। कम से कम मिलने वाले को तो दोनों जूते पहनने का मौका मिले।
  19. सुभाष चंद्र बोस ने महात्मा गांधी को “राष्ट्रपिता” की उपाधि दी थी।
  20. महात्मा गांधी ने अपनी आत्मकथा गुजराती भाषा में लिखी है।
  21. महात्मा गांधी की राइटिंग बहुत अच्छी नहीं थी। इसलिए वे सदैव इस बारे में चिंतित रहते थे।
  22. मरते समय महात्मा गांधी के आखिरी शब्द थे “हे राम।
  23. महात्मा गांधी समय के बहुत पक्के (पाबंद) आदमी थे। उन्हें हर जगह समय पर जाना पसंद था। वह दूसरों को भी समय का पालन करने को कहते थे।
  24. महात्मा गांधी ने 4 महाद्वीपों में और 12 देशों में नागरिक अधिकारों के लिए आंदोलन किया था।
  25. महात्मा गांधी प्रतिदिन 18 किलोमीटर पैदल चलते थे यह उनके जीवनकाल में दुनिया के 2 चक्कर लगाने के बराबर है।
  26. जिस दिन भारत आजादी का जश्न मना रहा था उस दिन महात्मा गांधी वहां मौजूद नहीं थे क्योंकि उस दिन उनका उपवास था।
  27. स्वंतत्रता पाने के बाद महात्मा गांधी कांग्रेस पार्टी को समाप्त करना चाहते थे।
  28. महात्मा गांधी के नाम पर भारत में 53 प्रमुख सड़के हैं और विदेशों में 48 प्रमुख सड़कें हैं।
  29. महात्मा गांधी ने डरबन, प्रीटोरिया और जोहानबर्ग के फुटबॉल क्लब की स्थापना करने में सहयोग किया था।
  30. महात्मा गांधी का व्यवहार टॉलस्टॉय, आइंस्टाइन, हिटलर जैसी महान हस्तियों से था।
  31. महात्मा गांधी के पिता का नाम करमचंद गांधी था वह ब्रिटिश राज में काठियावाड़ की एक छोटी सी रियासत पोरबंदर के दीवाने थे उनकी माता का नाम पुतलीबाई था।
  32. महात्मा गांधी का विवाह मई 1883 को 14 साल की आयु में कस्तूरबा से कर दिया गया था।  उस समय कस्तूरबा गांधी की आयु 13 वर्ष थी।
Loading...

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.