अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर निबंध Essay on International Girl’s Day in Hindi

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर निबंध Essay on International Girl’s Day in Hindi: इस लेख में हम जानेंगे कि अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस कैसे मनाया जाता है, इसका इतिहास, महत्व, और उद्देश्य। साथ ही इस दिन ने लड़कियों की शिक्षा में कैसे बढ़ावा दिया है जानेंगे।

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर जानकारी Importance of International Girl’s Day in Hindi

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस प्रत्येक वर्ष 11 अक्टूबर को पूरे विश्व भर में मनाया जाता है। इसकी शुरुआत 11 अक्टूबर 2012 को संयुक्त राष्ट्र महासभा के द्वारा किया गया था। इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य लोगों को इस बात के लिए जागरूक करना है कि लड़कियों को भी समाज में उतना ही अधिकार और सम्मान मिलना चाहिए जितना कि लड़कों को मिलता है।

लड़कियों का भी पूरा अधिकार बनता है कि वह समाज में अपनी बात को रख सके और उन पर हो रहे किसी भी प्रकार के अन्याय के खिलाफ आवाज़ उठा सकें। यह दिन उन लोगों को भी जागरूक करने के लिए है, जो बालिकाओं को सामाजिक सीमाओं में बाँधकर रखते हैं।

इतिहास

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस दुनिया भर में संचालित एक गैर सरकारी संगठन, अंतरराष्ट्रीय योजना की परियोजनाओं का स्वरूप है जो विश्व स्तर पर और विशेष रूप से विकासशील देशों में लड़कियों को पोषण के महत्व को मौत के बारे में जागरूकता बढ़ाती है।

संयुक्त राष्ट्र महासभा में कनाडा की महिला मंत्री रोना एंब्रोस 19 दिसंबर 2011 को बालिकाओं के अंतरराष्ट्रीय दिवस को औपचारिक रूप देने के लिए प्रस्ताव रखा। संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 11 अक्टूबर 2012 को बालिकाओं के अंतरराष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाने का प्रस्ताव को पारित किया।

इसे भी पढ़ें -  बच्चों के बीच अपराध निबंध Article on Crime among Children's in Hindi

प्रत्येक अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस का एक विषय होता है इसके सबसे पहले दिवस का विषय बाल विवाह को समाप्त करना था।

उद्देश्य – अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस Essay on International Girl’s Day

बालिकाओं के लिये ये बहुत जरुरी है कि वो सशक्त, सुरक्षित और बेहतर माहौल प्राप्त करें। उन्हें जीवन की हर सच्चाई और कानूनी अधिकारों से अवगत होना चाहिये। उन्हें इसकी जानकारी होनी चाहिये कि उनके पास अच्छी शिक्षा, पोषण, और स्वास्थ्य देख-भाल का अधिकार है।

ये बहुत जरूरी है कि विभिन्न प्रकार के समाजिक भेदभाव और शोषण को समाज से पूरी तरह से हटाया जाये जिसका हर रोज लड़कियाँ अपने जीवन में सामना करती हैं।

जीवन में अपने उचित अधिकार और सभी चुनौतियों का सामना करने के लिये उन्हें बहुत अच्छे से कानून सहित घरेलू हिंसा की धारा 2009, बाल-विवाह रोकथाम एक्ट 2009, दहेज़ रोकथाम एक्ट 2006 आदि से अवगत होना चाहिये।

यूनिसेफ की एक रिपोर्ट के मुताबिक पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा बाल विवाह बांग्लादेश में होते हैं और इसके बाद दूसरे नंबर पर भारत का नाम आता है। भारत मे बाल-विवाह के मामलों में पहला स्थान पश्चिम बंगाल, दूसरा बिहार व तीसरा स्थान झारखंड का है।

बालविवाह होने से बालिकाओं का शारीरिक और मानसिक विकास पूर्ण नहीं हो पता हैं और वे अपनी जिम्मेदारियों का पूर्ण रूप से निर्वाहन नहीं कर पाती हैं।

दुनिया भर में लड़कियों के अधिकारों का जश्न मनाने और उनकी वकालत करने के लिए अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस का दिन है। इस दिन को मनाने के लिए दुनिया के कई देशों जैसे कनाडा, ओंटारियो, ब्रिटिश कोलंबिया, लैब्राडोर, तथा भारत के प्रतिष्ठित इमारतों और स्थलों पर गुलाबी रंग चमकता है।

सन् 2012 में दक्षिण अफ्रीका की 1953 महिलाओं द्वारा 1953 के ब्लैक सैश मार्च को मनाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस पर टी-शर्ट का वितरण किया था। सन् 2015 को भारत मे अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस के सम्मान में छत्रपति शिवाजी टर्मिनस रेलवे स्टेशन को गुलाबी रंग से रोशन किया गया था।

इसे भी पढ़ें -  राष्ट्रीय कृमि निवारण दिवस पर निबंध Essay on National Deworming Day in Hindi

2016 में, लंदन में वुमेन ऑफ द वर्ल्ड (WOW) फेस्टिवल आयोजित किया गया था, जिसमें 250 लंदन स्कूली आयु वर्ग की लड़कियों को महिला मेंटर के साथ जोड़ा गया था। इसके अलावा 2016 में, संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति, बराक ओबामा ने एक घोषणा जारी की, जिसमें लैंगिक असमानता को समाप्त करने का समर्थन किया गया।

विश्व के कई देशो में बालिकाओं की समृद्धि और विकास के लिए विभिन्न प्रकार की योजनाएं लागू की गई हैं। इसी प्रकार भारत जैसे विकासशील देश में भी बालिकाओं के प्रति सामाजिक व्यवहार में बदलाव लाने तथा समाज मे उनकी स्थिति को सुधारने के लिए भारत सरकार द्वारा कई योजनाए लागू की गई हैं। जिनमें से कुछ वर्णित हैं।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ

इस योजना का मुख्य उद्देश्य लिंग-पक्षपातपूर्ण गर्भपात जैसी सामाजिक बीमारियों से बालिकाओं को बचाना है और पूरे देश में बालिकाओं की शिक्षा को आगे बढ़ाना है।

इस योजना को शुरू में उन जिलों पर लक्षित किया गया था, जिनमें पुरुष बच्चों की तुलना में कम लिंगानुपात यानी कम महिला बच्चों को मान्यता दी गई थी, लेकिन बाद में इसका विस्तार देश के अन्य हिस्सों को भी शामिल करने के लिए किया गया।

बालिका समृद्धि योजना

बालिका समृद्धि योजना एक छात्रवृत्ति योजना है। यह योजना उन लड़कियों और उनकी माताओं को वित्तीय सहायता प्रदान कराने के लिए बनाई गई है जो गरीबी रेखा से नीचे हैं।

योजना का मुख्य उद्देश्य समाज में उनकी स्थिति में सुधार करना, लड़कियों की विवाह योग्य आयु में वृद्धि करना और नामांकन में सुधार के साथ-साथ स्कूलों में लड़कियों का प्रतिधारण करना है।

इस योजना में नवजात के जन्म के बाद बालिका की मां को 500 प्रदान किए जाते है और बालिका के स्कूल जाते समय 300 से 1000 रु तक की वार्षिक छात्रवृत्ति प्राप्त हो सकती है।

सीबीएसई उदयन योजना

लड़कियों के लिए सीबीएसई उदयन योजना केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार के माध्यम से प्रशासित की जाती है। इस योजना का फोकस पूरे भारत में प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग और तकनीकी कॉलेजों में लड़कियों के नामांकन में वृद्धि करना है।

इसे भी पढ़ें -  आंबेडकर जयंती पर भाषण Speech on Ambedkar Jayanti in Hindi

इस योजना में वे प्रयास शामिल हैं जो समाज के आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों की छात्राओं के विशेष ध्यान के साथ सीखने के अनुभव को समृद्ध करने के लिए किए जाते हैं।

इस योजना के द्वारा 11 वीं और 12 वीं कक्षा में छात्राओं के लिए मुफ्त पाठ्यक्रम सामग्री, ऑनलाइन संसाधन जैसे वीडियो अध्ययन, मटेरियल छात्राओं के लिए सप्ताहांत पर आभासी संपर्क कक्षाएं तथा मेधावी छात्राओं के लिए सीखने और सलाह देने के अवसर आदि शामिल है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.