सियार और ढोल: पंचतंत्र कहानी The Jackal and The Drum Story in Hindi

आज इस पोस्ट मे हमने सियार और ढोल: पंचतंत्र कहानी The Jackal and The Drum Story in Hindi हिन्दी मे लिखा है। यह ज्ञानवर्धक कहानी बच्चों को बहुत पसंद आती है। इसमे अंत मे हमने कहानी से शिक्षा (moral of story) भी दिया है।

सियार और ढोल: पंचतंत्र कहानी The Jackal and The Drum Story in Hindi

एक बार की बात है एक जंगल के पास दो राज्य के राजाओं की सेनाओं के बीच घमासान युद्ध हुआ। युद्ध में एक राजा जीत गया और दूसरा हार गया। उसके बाद सेनाएं अपने-अपने राज्य वापस लौट गई। युद्ध के क्षेत्र में बस एक ढोल पड़ा रह गया। यह वह ढोल था जो सेना के भांड व चारण बजा बजाकर रात के समय सेना को वीरता की कहानियां सुनाया करते थे।

एक दिन उसी जगह पर बहुत तेज़ आंधी तूफान आई। तेज़ हवा चलने के कारण पड़ा हुआ ढोल उड़कर एक पेड़ के पास जाकर अटक गया। उसी पेड़ की सुखी डालियां ढोल से इस तरह सट गई थी की तेज़ हवा चलती थी ढमाढम-ढमाढम की आवाज़ सुनाई देती थी।

एक दिन एक सियार उसी जगह पर घूमते-घामते पहुंचा। उसने जब ढोल की आवाज सुनी तो वह डर सा गया। ऐसी अजीब आवाज़ उसने कभी भी नहीं सुनी थी। वह सोचने लगा कि यह किसी नए प्रकार के जानवर की आवाज़ है। वह मन ही मन सोचने लगा ऐसी ढमाढम-ढमाढम की आवाज़ करने वाला जानवर तो बहुत ही खतरनाक होगा। सियार उस ढोल को गौर से देखने लगा और जानवर समझ के आवाज़ को और ध्यान से सुनने लगा।

तभी एक गिलहरी कूदकर ढोल के ऊपर बैठा और एक बीज कुतरने लगा। यह देख कर सियार सोचने लगा- अच्छा तो यह जानवर हिंसक नहीं है! उसी समय एक तेज़ हवा का झोंका उस ढोल पर पड़ा और पेड़ की टहनियों के कारण ढमाढम-ढमाढम की आवाज़ दोबारा शुरू हो गई।

इसे भी पढ़ें -  राजा और मुर्ख बंदर King and Foolish Monkey - Panchatantra Moral Story in Hindi

उसके बाद सियार ढोल के पास गया और उसे सूंघने लगा पर उसे वहाँ पर कोई भी जीव नहीं दिखा। फिर वह बोल- अच्छा यह एक खोल है असली जीव तो इसके अंदर है और आवाज से तो लगता है यह कोई मोटा-ताज़ा जीव है। 

उसके बाद वह अपने मांद (सियार का घर) मे वापस लौट और सियारी (सियार की पत्नी) को बोल -अरे सुनती हो ‘तैयार रहो दावत के लिए’ क्योंकि मुझे एक ऐसा जीव मिला है जो एक खोल के अंदर है और लगता है वह बहुत ही मोटा ताज़ा है। 

सियार ने बताया की उस खोल के दोनों तरफ एक चमड़े की परत है जिसके अंदर वह जीव है। सियारी यह सब सुन कर खुश हो गई। फिर सियार और सियारी ने योजना बनाई की अगले दिन वो दोनों जाएंगे और उस चमड़े वाले भाग को फाड़ कर अपना हाँथ घुस कर उस जीव को पकड़ लेंगे। 

योजना के अनुसार दोनों अगले दिन सुबह उस ढोल के पास पहुंचे। तभी सियार के इशारा करते ही सियारी और उसने एक साथ अपने दांतों से चांदी वाले भाग को फाड़ दिया। जैसे ही चमड़ी वाला भाग फटा दोनों ने अपना हाँथ एक साथ घुसाय और एक दूसरे के हाँथ को पकड़ कर खींचने लगे। कुछ देर बाद उन्हें पता चला की वहाँ कुछ नहीं था। दोनों अपना माथा पीट कर रह गए।

कहानी से शिक्षा (Moral of Story)

इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि बड़े-बड़े शेखी मारने वाले लोग भी अंदर से खोखले होते हैं।

पंचतंत्र की कुछ और कहानियाँ

बंदर और लकड़ी का खूंटा
नेवला और ब्राह्मण की पत्नी
हाथी और गौरैया

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.