करवा चौथ व्रत कथा, महत्व व पूजा विधि Karva Chauth festival essay in Hindi

करवा चौथ व्रत कथा, महत्व व पूजा विधि Karva Chauth festival essay in Hindi

इस पोस्ट के माध्यम से आप करवा चौथ त्यौहार की कथा और पूजा जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। आप सभी को करवा चौथ की हार्दिक शुभकामनायें।

Featured Image – Wikimedia

पढ़ें : भगवान गणेश की कहानियां

करवा चौथ व्रत कथा, महत्व व पूजा विधि Karva Chauth festival essay in Hindi

2019 करवा चौथ पर निबंध Essay on Karva chauth in Hindi

करवा चौथ उत्तरी भारत में शादीशुदा हिंदू महिला द्वारा मनाया जाता है। करवा चौथ  2019  में 17 अक्टूबर  को मनाया जाएगा। यह त्यौहार हिन्दू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक के महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी के दौरान मनाया जाता है। इस दिन, विवाहित महिलाएं अपने पति की लम्बी आयु के लिए सूर्योदय से चंद्रमा उदय तक उपवास करती हैं|

विवाहित महिलाएं जो करवा चौथ का उपवास रखती है, वे चंद्रमा की पूजा करने के बाद उपवास तोड़ देते हैं। महिलाएं एक ओर हाथ में आटा की छन्नी पकड़कर चन्द्रमा को देखकर अपनी प्रार्थना के एक भाग के रूप में चंद्रमा को जल अर्पित करती हैं।

चूंकि त्यौहार मुख्य रूप से महिलाओं द्वारा मनाया जाता है, इसलिए जब तक चन्द्रमा नहीं निकलता तब तक पुरुषों को इस त्यौहार में शामिल नहीं किया जाता है हालांकि वे अपनी उपवास कर रही पत्नी के लिए ध्यान और चिंता प्रदर्शित करते है ।

इतिहास, महत्व व कथा History of Karva Chauth in Hindi

करवा चौथ त्यौहार सी जुड़ी दो प्रसिद्ध कहानियां हैं, लेकिन लेकिन जो कथा पूजा व्रत के दौरान अधिक आम तौर पर सुनाई जाती है वह हमने नीचे लिखा है। यह कहानी एक रानी की है जिसका नाम है वीरवती।

इसे भी पढ़ें -  अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस Essay on International Literacy Day in Hindi

करवा चौथ की कहानी / कथा Karva Chauth Story in Hindi

वीरवती अपने सात भाइयों के बीच एकमात्र बहन थीं, और इसलिए वह परिवार में सबसे ज्यादा प्रिय थीं। उनके विवाह के बाद,  रानी वीरवती का पहला कारवा चौथ का व्रत अपने माता-पिता के घर में मनाया गया था। यद्यपि रानी ने सूर्योदय से यह कठिन उपवास रखा , लेकिन रानी उत्सुकता से चंद्रमा के बाहर आने की प्रतीक्षा कर रही थी।

उन्हें प्यास और भूख से पीड़ित देखने में असमर्थ, उसके भाइयों ने पीपल के पेड़ में एक छाया बनायी जिसमें यह बिलकुल ऐसा दिखाई दे रहा था, कि मनो चंद्रमा उदय हो रहा है। वीरवती ने इसे चंद्रमा का रूप में समझ लिया और उपवास तोड़ दिया। हालांकि, इस पल में उन्होंने जैसे ही अपने मुंह में पहला निवाला लिया, और  उसके सेवकों द्वारा एक संदेश मिला कि उनके पति की मृत्यु हो गई है|

उनका मन बहुत दुखी हो गया, वह रातभर रोती रही तब उसके सामने एक देवी प्रकट हुई, और उन्होंने कहा कि अगर वह अपने पति को जीवित देखना चाहती है, तो उन्हें समर्पण के साथ फिर से करवा चौथ का व्रत रखना होगा, जिससे उनका  पति फिर से जीवित हो जायेगा।

वीरवती ने उनकी आज्ञा का पालन किया और फिर से करवा चौथ का उपवास भक्ति, और श्रद्धा के साथ किया यह देखकर, मृत्यु के देवता यम, को उनके पति को मजबूर होकर जीवित करना पड़ा।

करवा चौथ पूजा विधि Karwa Chauth Puja Process

करवा चौथ के लिए दिवाली से 9 दिन पहले से ही उपवास / व्रत रखा जाता है। करवा चौथ के व्रत को हिन्दू धर्म में विवाहित महिलाओं के जीवन में सबसे ज़रूरी और पवित्र व्रत के रूप में माना जाता है। करवा चौथ के व्रत को खासकर उत्तर भारतीय महिलाएं सबसे ज्यादा पालन करती हैं।

करवा चौथ के व्रत के दौरान सभी महिलाएं सूर्योदय से पहले भोजन करती हैं। नियम के अनुसार दिन के समय वह ना पानी पीती हैं और ना ही भोजन करती हैं। व्रत के दौरान शाम को सभी महिलाएं करवा चौथ कथा सुनते हैं। इन व्रत के दौरान सभी पूजा करने वाली महिलाएं एक नै दुल्हन के जैसे सजती हैं। वह नई सुन्दर साड़ी, चूड़ियाँ, टीका, बिंदी, नथनी, जैसी गहनों और श्रृंगार करती हैं।

इसे भी पढ़ें -  अंतर्राष्ट्रीय अंहिसा दिवस पर निबंध Essay on International Day of Non-Violence (2 OCTOBER)

करवा चौथ पूजा के लिए महत्वपूर्ण सामग्रियों जैसे एक छोटा मिट्टी का मटका(जिसको श्री गणेश का रूप माना जाता है), एक धातु का कलश जिसमें स्वच्छ पानी भरा हुआ हो, फूल, अम्बिका गौरी माता की छोटी मूर्ति, फल, मट्ठी, और चावल-दाल। साथ ही थाली में सिन्दूर, अगरबत्ती और चावल भी होना ज़रूरी होता है। यह सब चीजें देवी-देवताओं को चढ़ाने और उनकी पूजा करने के लिए ज़रूरी होता है।

महिलाएं खाना बनाती हैं और अपनी पूजा थाली को सजाती हैं। साथ ही इस दिन परिवार के लोग और दोस्त सब इक्कठा हो कर खुशियों में शामिल होते हैं। संध्या समय में सभी महिलाएं मिलकर मंदिरों या बगीचों में पूजा करते हैं जहाँ पुजारी करवा चौथ व्रत कथा सबको सुनाते हैं।

जैसे ही चंद्रोदय (चाँद दीखता है), महिलाएं चाँद की परछाई को थाली के पानी में देखती हैं या दुपट्टा, छन्नी से देखती हैं। उसके बाद वह अपने पति के मुख को भी वैसे ही छन्नी से देखती है और आशीर्वाद ले कर पानी पीती हैं और अपना व्रत तोड़ती हैं। इस पूजा में सभी पत्नियां अपने पति की लम्बी उम्र की कामना करती हैं। इस प्रकार करवा चौथ पूजा समाप्त होती है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.