लैरी पेज का जीवन परिचय Larry Page Biography in Hindi

लैरी पेज का जीवन परिचय Larry Page Biography in Hindi

लैरी पेज  का जन्म 26 मार्च 1973 में मिशिगन में हुआ था, लैरी  की माता और पिता दोनों ही कंप्यूटर विशेषज्ञ थे, इसलिए इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं थी कि लैरी भी कंप्यूटर में रूचि रखते थे। उन्होंने स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में कंप्यूटर इंजीनियरिंग का अध्ययन किया।

यही वह जगह है जहां वह सर्गेई ब्रिन से मिले थे और दोनों ने साथ में मिलकर, पेज और ब्रिन ने एक खोज करने का इंजन विकसित किया जो पृष्ठ की लोकप्रियता के आधार पर परिणाम प्रस्तुत करता है। इसे “गूगल” कहते है। 1998 में गूगल लॉन्च करने के बाद, यह  कंपनी दुनिया का सबसे लोकप्रिय सर्च इंजन बन गया है।

लैरी पेज का जीवन परिचय Larry Page Biography in Hindi

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा Early Life and Education

लैरी को लॉरेंस एडवर्ड पेज के नाम से भी जाना जाता है, उनके पिता का नाम कार्ल पेज है, जो कि  कंप्यूटर विज्ञान और कृत्रिम बुद्धि के अग्रणी व्यक्ति थे और उनकी मां कंप्यूटर प्रोग्रामिंग सिखाया करती थी। वह एक शिक्षिका थी।

इस्ट लेंसिंग हाई स्कूल से लैरी ने स्नातक की डिग्री को प्राप्त किया। मिशिगन विश्वविद्यालय से इंजीनियरिंग में बैचलर ऑफ साइंस डिग्री अर्जित करने के बाद, पेज ने स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में कंप्यूटर इंजीनियरिंग पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया, जहां वह सेर्गेई ब्रिन से मिले।

स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में एक शोध परियोजना के रूप में, पेज और ब्रिन ने एक खोज इंजन बनाया जो पृष्ठों की लोकप्रियता के अनुसार परिणामों को सूचीबद्ध करता है, यह निष्कर्ष निकालने के बाद सबसे लोकप्रिय परिणाम अक्सर सबसे उपयोगी होगा।

गूगल की शुरुआत Starting of Google

लैरी और सरजी ब्रेन ने मिलकर 4 साल तक खोज की और फिर उन्होंने एक पेज रेंक एल्गोरिथ्म को विकसित किया और तब उन्हें यह महसूस हुआ कि यह कई उन्नत सर्च इंजनों के निर्माण में इसका उपयोग किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें -  सुभाष चन्द्र बोस का जीवन परिचय Subhash Chandra Bose Biography Hindi

1926 में गूगल का पहला संस्करण आया और पूरी दुनिया में गूगल ने अपनी एक जगह बना ली। लोकप्रियता के आधार पर, यह इंजन पेजों को प्रदर्शित करता है। गूगल जो की एक गणितीय नाम है इसका अर्थ है एक नाम के आगे सौ शून्य अर्थात गूगल कई अरवों परिणाम प्रस्तुत करता है।

सन 1998 में ब्रिन और लैरी ने मिलकर अपने दोस्तों, निबेशकों और घर वालों से 10 लाख $ लिये और गूगल कंपनी को लांज किया।

2004 में गूगल शेयर मार्केट में आने के कारण लैरी और ब्रिन अरबपति हो गये। केलिफोर्नियाँ के सिलिकान वेली में गूगल का मुख्यालय है। 2004 में, गूगल ने सोशल नेटवर्किंग साइट ऑर्कुट लॉन्च की और गूगल  डेस्कटॉप खोज शुरू की।

वर्ष 2005 गूगल  के लिए काफी लाभदायक रहा। गूगल मानचित्र, ब्लॉगर मोबाइल, गूगल  रीडर, और आई गूगल को उस वर्ष रिलीज़ किया गया था। 2006 में गूगल ने YouTube को भी खरीद लिया और जीमेल में चैट फीचर पेश किया।

2007 में गूगल  ने चीन मोबाइल और Salesforce.com के साथ साझेदारी की। 2013 में गूगल पर 590 अरब खोजे की गई और यह दुनिया का सबसे प्रसिद्द सर्च इंजन बन गया।

फोब्र्स के अनुसार 400 अमेरिकी धनवानों में से तेरहवे स्थान पर लैरी को रखा गया। अक्टूबर 2013 में, उन्हें फोर्ब्स के अनुसार सबसे शक्तिशाली लोगों की सूची में नंबर 17 पर रखा गया था। पेज, गूगल के सी ई ओ के रूप में ब्रिन के साथ काम करते है और कंपनी के दिन-प्रतिदिन विकास की योजना बनाते है, ब्रिन परियोजनाओं के निदेशक के रूप में पुरुस्कार :

2003 में, ब्रिन और पेज दोनों को IE बिज़नेस स्कूल द्वारा ” MBA की मानद उपाधि दी गई। 2004 में ब्रिन और लैरी को  मारकोनी फाउंडेशन पुरस्कार मिला, जो “इंजीनियरिंग का सर्वोच्च पुरस्कार” कहलाता है।

कोलंबिया यूनिवर्सिटी में वह मारकोनी फाउंडेशन के फेलो निर्वाचित हुए। विश्व आर्थिक मंच ने 2002 में आने वाले कल के लिए ग्लोबल लीडर के रूप में पृष्ठ का नाम दिया।

इसे भी पढ़ें -  स्वामी विवेकानंद पर निबंध Essay on Swami Vivekananda in Hindi

2005 में ब्रिन और पेज को “अमेरिकन अकेडमी ऑफ़ आर्ट्स एंड साइंस” का सदस्य भी चुन लिया गया। वे कोलंबिया विश्वविद्यालय में मार्कोनी फाउंडेशन के फेलो भी चुने गए थे। ब्रिन और पेज को 2009 में,  फोर्ब्स की “दी वर्ल्ड्स मोस्ट पावरफुल पीपल” में 5वें स्थान पर रखा गया।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.