भारत के प्रमुख सम्मान व पुरस्कार List of National Awards and Honours in India

भारत के प्रमुख सम्मान व पुरस्कार List of National Awards and Honours in India

भारत सरकार द्वारा पुरस्कार अनेक क्षेत्रों में दिए जाते हैं जैसे- नागरिक पुरस्कार, सैन्य पुरस्कार, शांति पुरस्कार, नेतृत्व के लिए पुरस्कार, साहित्य पुरस्कार, खेल पुरस्कार, वीरता पुरस्कार और फिल्म पुरस्कार। आज के लेख में हम आपको इन पुरस्कारों के बारे में बतायेंगे।

भारत के प्रमुख सम्मान व पुरस्कार List of National Awards and Honours in India

Contents

नागरिक पुरस्कार Citizen award

भारत रत्न

यह भारत का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार है जो देश की सेवा के लिए दिया जाता है। यह देश की सार्वजनिक सेवा, खेल, विज्ञान, साहित्य, कला जैसी सेवाओं में दिया जाता है।

भारत रत्न पुरस्कार वर्ष में सिर्फ 3 लोग को ही दिया जा सकता है। अभी तक कुल 12 लोग इसे प्राप्त कर चुके हैं। डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन को पहली बार 1954 में भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

यह पुरस्कार अनेक जानी-मानी हस्तियों जैसे पंडित जवाहरलाल नेहरू, गोविंद बल्लभ पंत, डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद, डॉक्टर जाकिर हुसैन, लाल बहादुर शास्त्री, इंदिरा गांधी, मदर टेरेसा, आचार्य विनोबा भावे, नेल्सन मंडेला, राजीव गांधी, सरदार वल्लभभाई पटेल, मौलाना अबुल कलाम आजाद, जेआरडी टाटा, सत्यजीत रे, लता मंगेशकर, सचिन तेंदुलकर, अटल बिहारी बाजपेई जैसी प्रसिद्ध शख्सियतों को दिया जा चुका है।

पद्म विभूषण

यह पुरस्कार किसी क्षेत्र में विशिष्ट कार्य करने के लिए दिया जाता है। यह भारत का दूसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान है।

पद्म भूषण

इस पुरस्कार की शुरुआत 1954 में हुई थी। कला, विज्ञान, साहित्य, शिक्षा, सामाजिक कार्य, इंजीनियरिंग क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने के लिए दिया जाता है। यह भारत का तीसरा सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार है।

इस सम्मान में कांसे का बिल्ला दिया जाता है जिसमें कमल का फूल और तीन पट्टी बनी होती हैं। यह भारत का तीसरा सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार है। इस सम्मान में कांसे का बिल्ला दिया जाता है जिसमें कमल का फूल और तीन पत्तियां बनी होती हैं।

और पढ़ें -  फतेहपुर सिकरी का इतिहास History of Fatehpur Sikri in Hindi

पद्मश्री पुरस्कार

यह भारत का चौथा सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। इसे किसी भी क्षेत्र में विशिष्ट कार्य करने के लिए प्रदान किया जाता है। इसमें कांसे का बिल्ला दिया जाता है जिसमें कमल का फूल बना होता है।

सैन्य पुरस्कार

यह पुरस्कार तीन प्रकार का होता है- परमवीर चक्र, महावीर चक्र, वीर चक्र

परमवीर चक्र

यह उच्च कोटि की शूरवीरता, बहादुरी और त्याग दिखाने के लिए दिया जाता है। यह सम्मान मरणोपरांत दिया जाता है। इस पुरस्कार की घोषणा 26 जनवरी 1950 को की गई थी। कुल 21 लोगों को अभी तक यह पुरस्कार दिया दिया गया है।

मेजर सोमनाथ शर्मा को पहली बार परमवीर 1947 में दिया गया था। यह पुरस्कार पाने वाले को सरकार द्वारा यात्रा, स्वास्थ्य, आवास, पुनः नियोजन और 20 हजार महीना की पेंशन दी जाती है।

महावीर चक्र

यह सम्मान युद्ध के दौरान असाधारण वीरता और बहादुरी, शौर्य दिखाने के लिए दिया जाता है। यह पुरस्कार भी मरणोपरांत दिया जाता है। यह चाँदी का बना हुआ गोला होता है जिसमें पांच कोने वाला तारा उभरा हुआ होता है। गोले के केंद्र पर सोने की पालिश चढ़ी होती है। यह सम्मान आधा सफेद रंग और आधा नारंगी रंग के फीते में दिया जाता है।

वीरता चक्र

यह सम्मान युद्ध में सैनिकों द्वारा असाधारण वीरता दिखाने के लिए और बलिदान करने के लिए मृत्यु उपरांत दिया जाता है।

शांति पुरस्कार

अंतरराष्ट्रीय गांधी शांति पुरस्कार

यह पुरस्कार भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की स्मृति में दिया जाता है। गांधीजी के सिद्धांतों और बताए रास्ते पर चलने के लिए यह पुरस्कार दिया जाता है। इसे 1995 में आरंभ किया गया था।

गांधीवादी तरीकों जैसे शांति, अहिंसा, देशप्रेम द्वारा देश में सामाजिक आर्थिक और राजनीतिक बदलाव करने वाले व्यक्ति को यह पुरस्कार दिया जाता है। इसमें पुरस्कार के रूप में एक करोड़ रुपए की धनराशि और प्रशस्ति पत्र दिया जाता है। 1995 में पहला अंतरराष्ट्रीय गांधी शांति पुरस्कार तंजानिया के राष्ट्रपति जूलियस नायरेरे को प्रदान किया गया था।

साहित्य पुरस्कार

भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार

भारत सरकार द्वारा साहित्य के क्षेत्र में प्रदान किया जाता है। इसकी स्थापना 1965 में की गयी थी। इसमें 11 लाख रूपये, स्मृति चिन्ह दिया जाता है। यहां देश की 22 भाषाओं में किसी भी भाषा में साहित्य सेवा के लिए दिया जा सकता है। पहला भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार मलयालम जी शंकर कुरूप को 1965 में दिया गया था।

और पढ़ें -  हुमायूँ का मकबरा इतिहास, वास्तुकला Humayun Tomb History in Hindi

मूर्तिदेवी पुरस्कार

स्वर्गीय शांति प्रसाद जैन की माता का नाम मूर्तिदेवी था। शांति प्रसाद जैन ने ही भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार की स्थापना की थी। मूर्ति देवी पुरस्कार की स्थापना 1961 में की गयी थी। इसमें 4 लाख रूपये, प्रशस्ति पत्र, स्मृति चिन्ह, और वाग्देवी की प्रमिता दी जाती है।

साहित्य अकादमी पुरस्कार

यह पुरस्कार साहित्य में उल्लेखनीय योगदान के लिए दिया जाता है। इसमें 1 लाख नकद और सत्यजीत रे द्वारा डिजाइन की गई साहित्य अकादमी पट्टिका दी जाती है। इस पुरस्कार की शुरुआत 1954 में की गई थी।

भाषा सम्मान

यह पुरस्कार भारतीय साहित्य अकादमी द्वारा 24 भाषाओं में उल्लेखनीय साहित्य प्रदान करने के लिए दिया जाता है। इस पुरस्कार की शुरुआत 1996 में हुई। इसमें 1 लाख रूपये नगद और स्मृति का भेट की जाती है।

नव लेखन सम्मान

यह पुरस्कार साहित्य के क्षेत्र में योगदान देने के लिए दिया जाता है। इसे भारतीय ज्ञानपीठ संस्था प्रदान करती है। इसमें 50 हजार रूपये नकद, सरस्वती की प्रतिमा, और प्रशस्ति पत्र दिया जाता है। 2017 को ‘13वां नवलेखन पुरस्कार आलोक रंजन को दिया गया।

सरस्वती सम्मान

यह देश की 22 भाषाओं में दिया जाता है। इस पुरस्कार की स्थापना के के बिड़ला ग्रुप द्वारा 1991 में की गयी थी। इसमें 15 लाख रूपये नकद, स्मृति चिन्ह और प्रशस्ति पत्र दिया जाता है। इस पुरस्कार के प्रथम विजेता हरिवंशराय बच्चन थे। उन्हें यह पुरस्कार उनकी 4 खंडो की आत्मकथा के लिए दिया गया था।

राष्ट्रीय खेल पुरस्कार

राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार

भारत में दिया जाने वाला सबसे बड़ा पुरस्कार है। इसकी शुरुवात 1991 में की गयी थी। भारत के राष्ट्रपति यह सम्मान देते हैं। सचिन तेंदुलकर, ध्यानचंद, विश्वनाथन आनंद जैसे प्रसिद्ध खिलाड़ियों को राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। इस पुरस्कार में व्यक्ति को 7.5 लाख रूपये नकद, प्रशस्ति पत्र और स्मृति चिन्ह प्रदान किया जाता है।

द्रोणाचार्य पुरस्कार

में 5 लाख रूपये की नकद धनराशि और द्रोणाचार्य की कांसे की मूर्ति प्रदान की जाती है। यह पुरस्कार 1985 में शुरू हुआ था। जिस प्रकार गुरु द्रोणाचार्य ने पांचो पांडव और कौरवों को प्रशिक्षण दिया था उसी तरह खेलों में कोच खिलाड़ियों को अपना सर्वश्रेष्ठ प्रशिक्षण और ज्ञान देते हैं।

अर्जुन पुरस्कार

इस पुरस्कार में 5 लाख की नकद धनराशि, अर्जुन की कांस्य की मूर्ति प्रदान की जाती है। इस पुरस्कार की शुरुआत 1961 में शुरू हुई थी। जैसे अर्जुन पांचो पांडवों में सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर थे, उसी तरह यह पुरस्कार कुशल खिलाड़ियों को प्रदान किया जाता है। यह पुरस्कार खेलों के कोच को दिए जाते हैं।

और पढ़ें -  विमुद्रीकरण के फायदे और नुकसान Advantages Disadvantages of Demonetization in Hindi

ध्यानचन्द्र पुरस्कार

इस पुरस्कार का नाम भारत के प्रसिद्ध हॉकी खिलाड़ी ध्यानचंद सिंह के नाम पर रखा गया है। यह पुरस्कार किसी खिलाड़ी को खेलों में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए दिया जाता है। जीवन भर के कार्यकाल और सेवा को देखा जाता है। यह पुरस्कार 2002 में शुरू हुआ। इसमें प्रतिमा, 5 लाख रुपये नकद, पोशाक और प्रशस्ति पत्र दिया जाता है। 2017 का ध्यानचन्द्र पुरस्कार भूपेन्द्र सिंह को एथलेटिक्स खेल के लिए दिया गया।

वीरता पुरस्कार

राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार

यह पुरस्कार 6 से 18 साल तक के बच्चों को विषम परिस्थितियों में अदम्य साहस और वीरता दिखाने के लिए दिया जाता है। इस पुरस्कार में राष्ट्रपति द्वारा मुहर और प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाता है।

यह पुरस्कार 1957 में शुरू किया गया। 14 साल के बालक हरीश मेहता को पहली बार 1957 में दिया गया था। उन्होंने अपनी जान पर खेलकर पंडित नेहरू इंदिरा गांधी और जगजीवन राम की जान बचाई थी।  

फिल्म पुरस्कार

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार

यह पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ निर्देशक, सर्वश्रेष्ठ फिल्म, सर्वश्रेष्ठ अभिनेता, सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री, सर्वश्रेष्ठ सिनेमा लेखन जैसे क्षेत्रों में दिया जाता है। इस पुरस्कार की शुरुआत 1954 में हुई थी। यह सिनेमा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने के लिए दिया जाता है।

यह पुरस्कार राष्ट्रपति द्वारा दिया जाता है। 2018 में बेस्ट पापुलर फिल्म का अवॉर्ड बाहुबली 2 फिल्म को मिला। बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड श्रीदेवी को मॉम फिल्म के लिए दिया गया।

आइफा फिल्म पुरस्कार – इंडियन इंटरनेशनल फिल्म अवॉर्ड्स (IIFA)

पुरस्कार सिनेमा के क्षेत्र में योगदान देने के लिए दिया जाता है। आइफा फिल्म पुरस्कार की स्थापना 2000 में की गई थी। इसका पहला आयोजन लंदन के मिलेनियम डोव में किया गया था।

यह पुरस्कार हर साल विश्व के जाने-माने शहरों में दिया जाता है। इसका मकसद बॉलीवुड, भारतीय फिल्मों का अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रचार करना भी है। इस पुरस्कार से भारतीय फिल्मो को दुनिया भर में पहचान और ख्याति मिली है।

दादासाहेब फाल्के अवार्ड

यह पुरस्कार सिनेमा के क्षेत्र में दिया जाता है। इसकी स्थापना 1969 में की गई थी। दादा साहब फालके को “भारतीय सिनेमा का पितामह” कहा जाता है। यह पुरस्कार उनकी याद में दिया जाता है। उन्होंने भारत की पहली पूर्ण अवधि (2.30 घंटे की फिल्म) राजा हरिश्चंद्र का निर्देशन किया था। इस पुरस्कार में 10 लाख रूपये नकद, शाल, एक स्वर्ण कमल पदक दिया जाता है।

1 thought on “भारत के प्रमुख सम्मान व पुरस्कार List of National Awards and Honours in India”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.