माचू पिच्चू इंका का रोचक इतिहास Machu Picchu Inca History in Hindi

माचू पिच्चू इंका का रोचक इतिहास Machu Picchu Inca History in Hindi

इतिहासकारों का मानना ​​है कि माचू पिच्चू का निर्माण इंका साम्राज्य की ऊंचाई पर किया गया था, 15वीं और 16वीं सदी में यहाँ पश्चिमी दक्षिण अमेरिका राज्य था। हालाँकि इसके निर्माण के तक़रीबन 100 साल बाद 1572 में स्पेनिश की जीत के बाद इन्का को इसे खोना पड़ा था। यह  कुज़्को से 80 किलोमीटर (50 मील) उत्तर पश्चिम में स्थित है। इसे “इंकाओं का खोया शहर “ भी कहा जाता है।

माचू पिच्चू इंका साम्राज्य के सबसे परिचित प्रतीकों में से एक है। इस बात का कोई सबूत नहीं है, कि विजय प्राप्तकर्ताओं ने कभी भी पहाड़-गढ़ के किले पर हमला किया था या वे यहां तक ​​पहुंचे थे। ऐसा माना जाता है कि उस समय के बहुत से निवासी चेचक (बड़ी माता) के वजह से ही मारे गये थे। माचू पिच्चू स्नान और घरों, मंदिरों और अभयारण्यों को मिलाकर 150 से अधिक इमारतों से बना है।

माचू पिच्चू इंका का रोचक इतिहास Machu Picchu Inca History in Hindi

कई आधुनिक पुरातत्वविदों का मानना ​​है कि, सम्राटों के लिए माचू पिच्चू एक शाही संपत्ति के रूप में उपयोग किया जाता था।  कुछ लोगों का यह भी मानना था, कि यह एक धार्मिक स्थल था, जिसमें पहाड़ों की समीप्यता और अन्य भौगोलिक विशेषतायें है। यह ऐतिहासिक स्थल धार्मिक घाटी के पर्वतों के टीलो पर बना हुआ है, जो कुज़्को से 80 किलोमीटर उत्तर में और उरुबाम्बा नदी के बहाव के पास स्थित है।

बहुत से पुरातत्वविदों के अनुसार इंका शासक, पचक्यूटि (1438-1472) की जागीर के तौर पर माचू पिच्चू का निर्माण किया गया था, बाद में इसे “लॉस्ट सिटी ऑफ़ द इन्का” भी कहा जाने लगा था। इन्का सभ्यता का यह सबसे प्रमुख चिन्ह है।

इसे भी पढ़ें -  मानव अंग तस्करी पर निबंध Essay on Human Organ Trafficking in Hindi

माचू पिच्चू को दुनिया के लिए पहली बार अनावरण किया गया था। विद्वान इसकी विभिन्न रूप से व्याख्या करते हैं- यह एक जेल, एक व्यापार केंद्र, नई फसलों के परीक्षण के लिए, एक स्टेशन के रूप में, राजाओं के राज्याभिषेक के लिए समर्पित शहर, आदि कई उदहारण है।

हीरम बिंघम द्वारा माचू पिच्चू की खोज Discovery of Machu Picchu by Hiram Bingham

1911 में अमेरिकन इतिहासकार और संरक्षक हिरम बिंघम ने इन्का साम्राज्य की यात्रा की और बहां वे माचु पिच्चू के स्थानिक लोगों से भी मिले। पैर और खच्चर से यात्रा करते हुए, हीरम और उनकी टीम ने कुज्को से उरुबाम्बा घाटी में अपना रास्ता बना लिया। जहां एक स्थानीय किसान ने उन्हें पास के पहाड़ की चोटी पर स्थित कुछ खंडहर के बारे में बताया।

वे किसान माचू पिच्चू को पर्वत बुलाते थे। बिंघम 24 जुलाई को, ठंड और हल्की बूंदा बांदी वाले मौसम में पहाड़ की पहाड़ी पर चढ़े, बिंघम ने किसानों के एक छोटे से समूह से मुलाकात की, जिन्होंने उन्हें बाकी के रास्ते को दिखाया। एक 11 वर्षीय लड़के के नेतृत्व में, बिंघम ने पहली बार माचू पिच्चू के प्रवेश द्वार पर पत्थर की छतों के जटिल संरचना की झलक देखी।

उत्साहित बिंघम ने अपनी खोज के बारे में एक सबसे अच्छी बिक्री वाली पुस्तक “इंकास का खोया शहर”(“The Lost City of the Incas”) में इसका विस्तार किया। इस स्थान की सबसे चर्चीली जगह इन्का ट्रेल ट्रैक है।

तीन दिनों का यह श्वास-फूलने वाला रास्ता 4214 मीटर की ऊँचाई पर ले जाता है और इस रास्ते में बहुत से प्राचीन इन्का पत्थर भी दिखाई देते है। एक विवाद जो लगभग 100 वर्षों तक चला था। यह तब तक नहीं था जब तक पेरू सरकार ने एक मुकदमा दायर नहीं किया।

माचू पिच्चू को विश्व के प्रशिद्ध स्थान के रूप में जाना जाता है- वास्तव में, यहाँ तक पहुँचने के लिए राजमार्ग और बसों का उपयोग किया जाता है- इस बात के सबूत है कि 19वीं और 20 वीं शताब्दी के दौरान मिशनरी और अन्य खोजकर्ता इस स्थान पर पहुंच गए थे लेकिन उन्होंने वहां के बारे में कुछ ज्यादा नहीं बताया था।

इसे भी पढ़ें -  ग्लोबल वॉर्मिंग पर निबंध, इसे कैसे रोकें? Global Warming Essay in Hindi PDF

माचू पिच्चू घाटी का सौन्दर्य Beauty of Machu Picchu

समुद्र के स्तर से 8,000 फीट की ऊंचाई पर चलने के बारे में आप क्या सोचते हैं? बादलों के नीचे और उरुंबाम्बा घाटी के पहाड़ी स्तंभों के ऊपर स्थित, माचू पिच्चू के लिए अगर आप एक उड़ान ले लें तो आप जान जायेंगे कि यह दक्षिणी अमेरिका में सबसे महत्वपूर्ण ऐतिहासिक स्थल क्यों है?

माचू पिच्चू की यात्रा एक अलग तरह का अनुभव प्रदान करता है। यहाँ आप बस और ट्रेन से जा सकते है। अगर आप हेलीकॉप्टर की सवारी लेते है तो उसका एक अलग ही मज़ा है।

इस जगह पर सूक्ष्म रूप से पत्थर का काम किया गया है , सीढ़ीदार खेती और परिष्कृत सिंचाई प्रणाली इंका सभ्यता के वास्तुशिल्प, कृषि और इंजीनियरिंग कौशल के साक्षी थे। इसकी केंद्रीय इमारतें इंकस के समय में बनाई गई थी। जिनमें चिनाई तकनीक के प्रमुख उदाहरण देखने को मिलते हैं जिसमें बिना चूने के प्रयोग से पत्थरों को एक साथ फिट किया गया था।

पुरातत्वविदों ने कई अलग-अलग क्षेत्रों की खोज की है। जिसमें एक साथ कई शहर शामिल हैं, जिसमें किसानों के क्षेत्र, एक आवासीय पड़ोस के स्थान, शाही जिला और एक पवित्र क्षेत्र आदि शामिल है।

माचू पिच्चू की सबसे विशिष्ट और प्रसिद्ध संरचनाओं में सूर्य का मंदिर और जिसमें इंतिहूआताना पत्थर(Intihuatana stone) शामिल है, माना जाता है कि यह मूर्ति ग्रेनाइट चट्टान, सौर घड़ी या कैलेंडर के रूप में काम करती है।

माचू पिच्चू विश्व विरासत स्थल Machu Picchu World Heritage Site

1983 में माचू पिच्चू को यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल और 2007 में दुनिया के नए सात अजूबों या आश्चर्यों में से एक के रूप में चुना गया था।  माचू पिच्चू, पेरू का सबसे अधिक आकर्षण का केंद्र है और दक्षिण अमेरिका का सबसे प्रसिद्ध खंडहर जो कि अब हर वर्ष में कई सैकड़ों हजार लोगों का पर्यटन के लिए स्वागत करता हैं।

इसे भी पढ़ें -  विद्यार्थी और राजनीति पर निबंध Essay on Students and Politics in Hindi

पर्यटन में वृद्धि, निकटवर्ती शहरों का विकास और पर्यावरणीय गिरावट के कारण इस साइट पर आने वाले पर्यटको से टोल लिया जाता है। यहाँ पर कई लुप्तप्राय प्रजातियों के लिए भी घर है। नतीजतन, पेरू सरकार ने हाल के वर्षों में खंडहरों की रक्षा के लिए और पहाड़ों के क्षरण को रोकने के लिए कई कदम उठाए हैं।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.