भारत का राष्‍ट्रीय फल आम National fruit of India Mango details in Hindi

भारत का राष्‍ट्रीय फल आम National fruit of India Mango details in Hindi

एक विशेष फल को देश के राष्ट्रीय फल के चिन्ह में नामित किया जाता है, जब वह देश की कुछ प्रमुख मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करता है। ये सांस्कृतिक विशेषताओं के एक शक्तिशाली पहलू का प्रतिनिधित्व करता है, जिसका दुनियाभर में एक अलग स्थान होता है। देश के धार्मिक और आध्यात्मिक विरासत में इस फल की एक महत्वपूर्ण उपस्थिति होती है।

आम को हम फलों का राजा कहते है, यह भारत का राष्ट्रीय फल है। इसकी मीठी सुगंध और मधुर स्वादों ने दुनिया भर के लोगों के दिलों को जीत लिया है। आम, दुनिया में सबसे प्रचलित उष्णकटिबंधीय फलों में से एक है।

भारत का राष्ट्रीय फल देश की समृद्धि को व्यक्त करता है। यह भारत में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। आम, उष्णकटिबंधीय देशों के सबसे अधिक प्रचलित फलों में से एक है। पहाड़ी क्षेत्रों को छोड़कर लगभग सभी क्षेत्रों में भारत में आम की खेती की जाती है।

आम, विटामिन ए, सी और डी का एक समृद्ध स्रोत है। भारत में आम की सैकड़ों क़िस्म हैं जो विभिन्न रंग और आकार के होते हैं। पौराणिक काल से भारत में आमों की खेती की जा रही है। यहां तक की हमारे पौराणिक कथाओं और इतिहास में भी आमों की कई कहानियां हैं- प्रसिद्ध भारतीय कवि कालिदास ने अपनी कविताओं में आम की प्रशंसा में कई कविताएं गायी है, महान अलेक्जेंडर, ने हेन टिसांग के साथ आमों के स्वाद का आनंद लिया।

महान मुगल राजा अकबर ने दरभंगा (आधुनिक बिहार) में 100,000 से अधिक आम के पेड़ लगवाये थे। आम को पकने के बाद खाया जाता है और अचार के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। कुछ लोग कच्चे आम की चटनी खाना भी पसंद करते हैं।

भारत का राष्‍ट्रीय फल आम National fruit of India Mango details in Hindi

आम का इतिहास History of Mango

आम और उसके ज़बरदस्त स्वाद के सुख का अनुभव भारतीयों को बहुत ही कम उम्र से पता चल जाता हैं। जीवाश्म सबूत भारत में बंगाल और म्यांमार में 25-30 मिलियन वर्ष पूर्व आम की उपस्थिति के सबूत मिले हैं।

और पढ़ें -  मोबाईल फोन की लत से कैसे छुटकारा पायें? How to get rid of mobile phone addiction in Hindi?

इसे वैदिक ग्रंथों में भी संदर्भित किया है जैसे बृहदारण्यक उपनिषद, पुराण, रसला और सहकार बौद्ध धर्म में आमों के महत्व को और इसके तथ्य से रेखांकित किया गया था कि- भगवान बुद्ध ने आम के पेड़ की छाया में आराम करने का फैसला किया और बौद्ध भिक्षु उनके साथ आमों को हर जगह ले गये।

कहा जाता है कि अलेक्जेंडर ग्रेट कई फलों की किस्में लेकर यूरोप लौट आये। मेगटेथेनस और हेन टिसांग जैसे विदेशी यात्रियों ने फल के स्वाद लिए और उनकी भारी प्रशंसा में उल्लेख किया कि भारतीय शासकों के लिए यह समृद्धि का एक प्रतीक है और भारत में यह सड़कों के किनारों पर लगे हुए पाए जाते हैं।

माना जाता है कि बौद्ध भिक्षुओं ने चौथी शताब्दी बी सी के आसपास मलेशिया और चीन जैसे दक्षिण पूर्व एशियाई देशों में इस फल को उगाया। तब से इसे पूर्वी अफ्रीका से फारसियों द्वारा और पोर्तुगीज द्वारा पश्चिमी अफ्रीका और ब्राजील में भी उगाया जाने लगा।

आम के पेड़, पत्तियां और फल Mango tree leaves and fruits

आम के पेड़ का आकार 10 से 40 मीटर की ऊंचाई के बीच मध्यम आकार के होते हैं। वे 10 मीटर के औसत व्यास के साथ बड़े सममित रूप से एक मंडप की तरह सदाबहार दिखाई देते हैं। छाल का रंग गहरा भूरा होता है।

पत्तियां लम्बी और 15-45 सेंटीमीटर लंबाई की होती है। ऊपरी सतह एक कोमल परत के साथ गहरे हरे रंग के होते हैं जबकि अंदर का रंग हल्का हरा होता है। पत्तियां 5 या इससे अधिक के समूह में व्यवस्थित होती है।

फूलों को लगभग 20 सेंटीमीटर लंबाई के पुष्‍प गुच्‍छी की तरह होते हैं। फूल की लंबाई 5-10 मिलीमीटर लंबी पंखुड़ी की तरह होते है और ये छोटे रंग के सफेद होते हैं और ये एक मीठी-मीठी गंध फैलाते है। कच्चे फल आमतौर पर हरे रंग के होते हैं लेकिन पके फल का रंग भिन्न होता है।

यह पीले, नारंगी तथा लाल रंग के होते है। फल आकार में अंडाकार होते हैं और यह गूदेदार होते हैं। फल की लंबाई 25-40 सेमी से भिन्न-भिन्न होती है। प्रत्येक फल में एक चपटा चड्ढा होता है जो आकार में अंडाकार होता है और आमतौर पर रेशेदार गुदेदार भाग के साथ जुड़ा रहता है।

और पढ़ें -  भारत के 10 सबसे ऊंची चोटियां Top 10 Highest Peaks in India in Hindi

 आम की खेती Farming of Mango

भारत आम के उत्पादन में दुनिया में सबसे अग्रसर है, और यह कुल उत्पादन का लगभग आधा भाग भारत में उगाया जाता है। यूरोप और स्पेन में आम उगाया जाता है संयुक्त राज्य अमेरिका में दक्षिण फ्लोरिडा और कैलिफोर्निया क्षेत्रों में भी आम की खेती की जाती है। कैरेबियाई द्वीप में भी आमों की काफी खेती देखने को मिलती हैं। भारत के आंध्र प्रदेश राज्य भी आमों के उत्पादन में आगे है।

यह आम तौर पर समुद्र के स्तर से 1400 मीटर की ऊंचाई तक उष्णकटिबंधीय और गर्म उप-उष्णकटिबंधीय जलवायु में अच्छे से फूलता फलता है। फूलों के दौरान आर्द्रता, बारिश और ठंड आदि मौसम में आमों की उत्पादकता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

आम की खेती के लिए उपयुक्त मानसून और शुष्क गर्मी की ज़रुरत होती है। आम के पेड़ को 5.5-7.5 पी एच के साथ थोड़ा अम्लीय मिट्टी की आवश्यकता होती हैं। आम के पेड़, सूखा लेटाइट और जलोढ़ मिट्टी में अच्छी तरह से विकसित होते हैं, जो कम से कम 15.24 सेंटीमीटर गहराई में लगाए जाते है।

इस खेती की वनस्पति विधि को किसानों द्वारा पसंद किया जाता है और किसान के आधार पर यह खेती बहुत आसानी से की जाती है तथा आम के  पौधे 3 से 5 वर्षों के बाद अच्छी तरह पौष्टिक पौधे फल पैदा करना शुरू कर देते हैं। ज्यादातर किसान फरवरी से अगस्त के बीच फल तोड़ते है। आम का जीवन काल कम होता है – लगभग 2-3 सप्ताह, इसलिए उन्हें 12-13 डिग्री सेल्सियस के निम्न तापमान में रखा जाता है।

भारत में आमों की लगभग 1500 किस्मों की खेती की जाती है, जिनमें से 1000 व्यावसायिक मूल्य हैं। इनमें से सबसे लोकप्रिय और प्रसिद्ध शुरूआती समय में पकने वाले आम- बंबई, हिमसागर और केसर है।

मध्य समय में पकने वाले आम- अल्फोंसो, बंगानापल्ली और लंगड़ा है, और सबसे आखिरी मौसम में पकने वाले आम- फजीली, नीलम और चौसा प्रजातियाँ है। कई संकर किस्मों को भी शुरू किया गया है, जैसे: अम्रपाली (दशहरी एक्स नीलम) और अर्काअरुणा (अल्फान्सो एक्स बंगानपल्ली) आदि।

स्वास्थ्य लाभ Health benefits

पका हुआ आम मुख्यरूप से मीठा होता हैं, हालांकि कुछ किस्मों के पकने के बाद भी खट्टा स्वाद बचा रहता है। खट्टे और कच्चे आमों का उपयोग अचार और चटनी आदि में किया जाता है या इसे नमक और मिर्च के साथ कच्चा खा सकते है।

और पढ़ें -  पेड़ों का महत्व निबंध Essay on The Importance of Tree in Hindi

आमपना और आमरस जैसे पेय क्रमशः कच्चे और गूदेदार आम से बने होते हैं। पके आम के गूदे का उपयोग आम की कुल्फी, आइस क्रीम और शर्बत जैसे कई डेसर्ट बनाने में किया जाता है।

आम में एंटी ऑक्सीडेंट्स जैसे कि क्वैर्सेटिन, एस्ट्रगलीन और गैलिक एसिड होते हैं, जो कि निश्चित प्रकार के कैंसर से लड़ने के लिए सिद्ध हुए हैं। फाइबर, पेक्टिन और विटामिन सी के उच्च स्तर रक्त में कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन के स्तर को कम करने में मदद करता है। आम के गुदे में विटामिन ए का समृद्ध स्रोत होता है जिससे आँख की रोशनी सुधारने में सहायता मिलती है।

आम के फल में कम ग्लाइसेमिक सूचकांक होता है और मधुमेह रोगियों द्वारा सेवन किया जाता है। आम का गुदे में मौजूद विटामिन और कैरोटीनोइड की प्रचुर मात्रा प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देती है। आम के सेवन से मांसपेशियों के पतन और अस्थमा के खतरे में कमी आती है।

आर्थिक मूल्य Economic Importance

भारत में सबसे व्यापक रूप से आमों की खेती होती है। आम के पेड़ की लकड़ी का इस्तेमाल कम लागत के फर्नीचर, आदि बनाने के लिए किया जाता है। छाल से प्राप्त टैनिन का उपयोग चमड़े के उद्योगों में किया जाता है।

यद्यपि भारत आमों के उत्पादन का नेतृत्व करता है, इसका अधिकांश भाग देश के लोगों की आबादी के द्वारा सेवन किया जाता हैं और इसका बहुत कम भाग निर्यात किया जाता है। प्राचीन काल से आमों को भारत में एक विशेष स्थान दिया गया है। इसका स्वाद दिव्य है और इसे ‘देवताओं का भोजन’ कहा जाता है।

यह सभी सामाजिक पृष्ठभूमि में लोगों के बीच उत्सव का एक स्रोत है। पूरी तरह से पका हुआ आम, हमारे देश की समृद्धि का प्रतीक है। आम भी दुनिया के लिए हमारे देश द्वारा एक उपहार हैं। जैन देवी अंबिका को आम के पेड़ के नीचे बैठे हुए चित्रित किया गया है। आम के फूल सरस्वती पूजा का एक अभिन्न अंग हैं। पांच आम के पत्ते एक साथ रखना हिंदू अनुष्ठानों में शुभ माने जाते है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.