भारत का राष्ट्रीय वृक्ष बरगद National Tree of India Banyan details in Hindi

भारत का राष्ट्रीय वृक्ष बरगद National Tree of India Banyan details in Hindi

किसी देश का राष्ट्रीय वृक्ष राष्ट्र का चिन्ह होता है। इस तरह से वृक्ष का एक सांस्कृतिक महत्व होता है, जो देश की संस्कृति को व्यक्त करता हैं। माना जाता है कि बरगद पेड़ का अपना एक सांस्कृतिक महत्व होता है। भारत का मूल प्रतीक होने के कारण इस वृक्ष को दार्शनिक या आध्यात्मिक मूल्य के विशेषाधिकार प्राप्त है जो हमारे देश की विरासत हैं।

भारत का राष्ट्रीय वृक्ष बरगद है, जिसे औपचारिक रूप से Ficus bengalensis नाम से जाना जाता है। बरगद के पेड़ को विशाल स्वरूप और लोगों को छाया प्रदान करने के कारण मानवीय प्रतिष्ठान का केंद्र बिन्दु माना जाता है।

यह वृक्ष अक्सर कल्पित ‘कल्पवृक्ष’ कहलाता है, क्योंकि यह दीर्घायु से संबंधित मनोकामनायें पूरी करने  का एक प्रतीक भी है और इसमें महत्वपूर्ण औषधीय गुण भी पाये जाते हैं। बरगद का पेड़ आकार में बहुत बड़ा होता है। यह जीवों की एक बड़ी संख्या के लिए एक निवास स्थान है।

सदियों से बरगद का पेड़ भारत के ग्रामीण समुदायों के लिए एक केंद्रीय बिंदु रहा है। बरगद का पेड़ न केवल बाहर से ही बड़े पैमाने पर है बल्कि इनकी शाखाओं से कुछ नयी जड़ें भी निकलती है वृक्ष की शाखाएं वृक्ष के आसपास के क्षेत्र में जड़ और तना की एक भूल भुलैया जैसी आकृति बना देती है। बरगद के पेड़ में बाकी सभी पेड़ों में से सबसे बड़ी और मजबूत जड़ें पायी जाती हैं।

भारत का राष्ट्रीय वृक्ष बरगद National Tree of India Banyan details in Hindi (भारतीय राष्ट्रिय पेड़)

भारत का राष्ट्रीय वृक्ष बरगद National Tree of India Banyan details in Hindi (भारतीय राष्ट्रिय पेड़)
बरगद पेड़ का तना और जटाएं और पत्ते

मुख्य विशेषताएं Main characteristics

बरगद के पेड़ पूरे भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश के उष्णकटिबंधीय तथा उप-उष्णकटिबंधीय भागों में पाए जाते हैं। ये दुनिया के सबसे बड़े क्षेत्र में फैलने वाले वृक्ष है। वे वन, ग्रामीण और साथ ही साथ शहरी क्षेत्रों में भी लगते हैं।

इसे भी पढ़ें -  भारत में जल संसाधन Water resources in India Hindi

इन पेड़ों की शाखायें बहुत बड़ी होती हैं। शहरी क्षेत्रों में इन वृक्षों की जड़ें इमारतों के किनारों पर उनकी दीवारों को चिर कर अन्दर चली जाती हैं।

भारत का सबसे बड़ा बरगद का पेड़ पश्चिम बंगाल के शिबपुर, हावड़ा में भारतीय वनस्पतिक उद्यान में स्थित है। यह लगभग 25 मीटर लंबा है और इसका ऊपरी भाग लगभग 420 मीटर है तथा 2000 से अधिक हवा में लटकती हुई जटायें है। बरगद के पेड़ दुनिया के सबसे बड़े पेड़ों में से एक हैं और 100 मीटर तक फैली शाखाओं के साथ ये 20-25 मीटर तक लम्बे होते हैं।

इसमें एक विशाल तना होता है जिसकी चिकनी और भूरे रंग की छाल होती है। इसकी बहुत शक्तिशाली जड़ें होती हैं, जो कंक्रीट जैसी मजबूत सतहों यहाँ तक कि कभी-कभी पत्थरों में घुसपैठ कर सकती हैं।

पुराने बरगद के पेड़ की जटायें हवा में लटकती रहती है और जब पेड़ नया होता है तो वे पतली रेशेदार होती है। लेकिन जब वे बूढ़े हो जाते हैं तो दृढ़ता से मिट्टी में पकड़ बना लेती हैं, और उनकी मोटी शाखायें साफ दिखने लगती हैं।

ये हवा में लटकी जटायें एक मंडप जैसा बना देती है। बरगद के पेड़ आमतौर पर प्रारंभिक सहायता के लिए एक मौजूदा पेड़ के आसपास बढ़ता है और इसके भीतर जड़ें फैलता जाता है।

जैसे बरगद का पेड़ परिपक्व हो जाता है, जड़ों का जाल समर्थन पेड़ पर भारी दबाव डालता है, अंततः वह पेड़ नष्ट हो जाता है और मुख्य रूप से मुख्य वृक्ष का तना अंदर एक खोखले केंद्रीय स्तंभ के रूप में अवशेष बन जाता है। पत्तियां मोटी होती है। जिनके डंठल छोटे होते है।

पत्ती की कलियों को दो पार्श्व शल्क से सुरक्षित किया जाता है, जो पत्ते के परिपक्व होने पर गिर जाते हैं। पत्तियां ऊपरी सतह पर चमकदार होती हैं। पत्तियां आकार में बड़ी और गोल होती है। पत्तियों के आयाम लंबाई में लगभग 10-20 सेमी और चौड़ाई 8-15 सेंटीमीटर होती हैं।

इसे भी पढ़ें -  भारत के राष्ट्रीय उद्यान List of National Parks of India in Hindi

फूल एक विशेष प्रकार के पुष्पक्रम के भीतर विकसित होता है जिसे हाइपेनथोडियम कहा जाता है जो कि अंजीर परिवार के पेड़ की प्रजाति है। यह एक ऐसा प्रकार है जो नर और मादा के दोनों फूलों को ऊपरी भाग के रूप में जाना जाता है। बरगद के पेड़ों के फल अंजीर के जैसे होते हैं। यह 15-25 सेंटीमीटर व्यास और गुलाबी-लाल रंग के होते है, इनमें बाहरी की तरफ कुछ रेशे भी होते हैं।

वंश-वृद्धि और खेती Growth of Tree

बरगद का पेड़ छोटे पक्षियों के माध्यम से वृद्धि करता है जो अंजीर के फलों को निगलते हैं और फिर उन्हें बीजों के रूप में बाहर निकाल देते है। पेड़ का एक उपरिरोही के रूप में जीवन शुरू होता है और अक्सर मेजबान के रूप में अन्य परिपक्व पेड़ों का उपयोग करता है।

शुरूआत में इनको उच्च नमी की जरूरत होती  हैं, लेकिन एक बार स्थापित होने पर बोन्साई नामक एक विशेष विधि द्वारा संयंत्र को बहुत छोटे पैमाने पर घर के अंदर भी उगाया जा सकता है, ये पेड़ सूखा प्रतिरोधी होता हैं।

स्वास्थ्य लाभ Health benefits

फल खाने योग्य और पौष्टिक होते हैं। ये त्वचा से संबंधित समस्याओं को कम करने और सूजन कम करने के लिए भी उपयोग किये जाते है। छाल और पत्ती के अर्क का इस्तेमाल रक्तस्राव को रोकने के लिए किया जाता है।

पत्ती की कलियों के आसवन का उपयोग पुरानी दस्त / पेचिश के इलाज के लिए किया जाता है। बरगद से निकलने वाले दूध की कुछ बूंदों की सहायता से रक्तस्राव के बवासीर को राहत मिलती है। बड़े बरगद के पेड़ की जड़ें मादा बांझपन का इलाज करने के लिए उपयोग की जाती हैं।

दांतों को साफ करने के लिए लटकती हुई जड़ों का इस्तेमाल किया जाता है जो कि गम और दांत की समस्याओं को रोकने में भी मदद करती है। वनस्पति-दूध गठिया, जोड़ों के दर्द के इलाज के लिए फायदेमंद होते हैं, साथ ही घाव और अल्सर को ठीक करने के लिए भी फायदेमंद होते हैं।

इसे भी पढ़ें -  जल प्रदूषण से होने वाली बीमारियां Disease caused by Water Pollution in Hindi

छाल के अर्क का उपयोग मतली को दूर करने के लिए किया जाता है। वनस्पतिक दूध का उपयोग पीतल या तांबे जैसे धातुओं को साफ करने के लिए किया जाता है। लकड़ी का प्रयोग अक्सर जलाकर ईधन के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

सांस्कृतिक महत्व Cultural importance

बरगद का पेड़ का हमारे भारत देश में विशाल सांस्कृतिक महत्व है। यह हिंदूओं में पवित्र वृक्ष माना जाता है। यह मंदिरों में अपने भक्तों को छाया देने के लिये लगाया जाता है। बरगद का वृक्ष आमतौर पर एक अनंत जीवन का प्रतीक है क्योंकि इसकी उम्र बहुत ही लंबी होती है।

विवाहित हिंदू महिलायें अक्सर बरगद के पेड़ के आसपास धार्मिक अनुष्ठानों को करती हैं और जिससे वे अपने पतियों की लंबी उम्र और भलाई के लिए प्रार्थना करती है। हिंदू सर्वोच्च देवता शिव को ऋषियों से घिरे बरगद के पेड़ के नीचे बैठकर, ध्यान करते हुए रूप में चित्रित किया जाता गया है।

वृक्ष को त्रिमुर्ती का प्रतीक माना जाता है, हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार यह तीन सर्वोच्च देवताओं का संगम – भगवान ब्रह्मा जड़ों में प्रतिनिधित्व करते हैं, भगवान विष्णु जटाओं में विराजमान है और भगवान शिव को शाखाएं माना जाता है। बौद्ध विश्वासों के अनुसार, गौतम बुद्ध ने एक बरगद के पेड़ के नीचे ध्यान करके बोध प्राप्त किया था और इस प्रकार इस वृक्ष का बौद्ध धर्म में भी अधिक धार्मिक महत्व है।

बरगद का पेड़ अक्सर एक ग्रामीण प्रतिष्ठान का ध्यान का केंद्र होता है। बरगद के पेड़ की छाया शांतिपूर्ण मानवीय संपर्कों के लिए सुखदायक पृष्ठभूमि प्रदान करता है। बरगद का पेड़ अपनी छाया के नीचे घास भी नहीं बढ़ने देता है। इस कारण से बरगद के पेड़ या उसके हिस्सों को विवाह जैसे सांस्कृतिक समारोहों में अशुभ माना जाता है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.