भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस National Youth Day in India Hindi

भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस National Youth Day in India Hindi

भारत में स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन पर 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है। 1984 में भारत सरकार ने इस दिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में घोषित कर दिया और 1985 से यह दिन भारत वर्ष में हर साल मनाया जाने लगा।

स्वामी विवेकानंद के अनमोल कथन और प्रेरणादायक सुविचार आज प्रतिदिन दुनिया भर के लाखों लोगों के जीवन के लिये महत्वपूर्ण बन चुके हैं। स्वामी विवेकानंद के शब्द छात्रों, नेताओं, उद्यमियों के लिए एक प्रेरणा का स्रोत हैं। स्वामी विवेकानंद के जीवन की कहानियां, व्याख्यान, भाषण, लेखन, व्यक्तित्व विकास के लिए एक प्राकृतिक स्रोत के समान हैं।

भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस National Youth Day in India Hindi

इतिहास History

भारत सरकार ने वर्ष 1984 में एक बड़ा निर्णय लिया था, कि महान स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन का जश्न हर साल राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में 12 जनवरी को मनाया जायेगा। चूंकि भारत सरकार ने उद्धृत किया और महसूस किया कि ‘स्वामीजी के सिद्धांत और आदर्श जिनके लिए वह जीते थे और काम करते थे, वे भारतीय युवाओं के लिए प्रेरणा का एक बहुत बड़ा स्रोत हैं और आने वाले सालों में भी रहेंगे।

12 जनवरी 2013 को स्वामी विवेकानंद की 150 वीं जयंती के चार साल के जश्न के उद्घाटन के अवसर पर पूर्व भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जी ने अपने संबोधन में कहा। गांधीजी ने भी हमारे देश के युवाओं के बीच स्वामी विवेकानंद के विचारों और आदर्शों को फैलाने के महान कार्य किया है और उन्होंने युवाओं की अनन्त ऊर्जा और सत्य के जानने की इक्छा के बारे में बताया है।

इस तरह उन्होंने युवओं के मन पढ़ने की खोज को व्यक्त किया। इस वाक्य के आधार पर यह पूरी तरह से सही है कि भारत सरकार ने स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में 12 जनवरी घोषित किया है। हमें इस महान देशभक्त और भारत के पुत्र के शाश्वत संदेश को फिर से उत्तेजित करके, हम अपने भारतीय युवाओं की आँखों में देश के लिये फिर से एक बार नई चमक देख सकते है।

हम राष्ट्रिय युवा दिवस क्यों मानते है ? Why we celebrate Nation Youth Day?

जैसा कि आप जानते हैं कि राष्ट्र के विकास युवाओं के विकास पर निर्भर है। आने वाली पीढ़ी अधिक रचनात्मक, ऊर्जावान, मेहनती और अभिनवी है। यही कारण है कि वे आगे जाकर प्रौद्योगिकियों, खेल, व्यापार, शिक्षा, स्वास्थ्य और राजनीति में अग्रसर होंगे। आज का युवा, भविष्य का डॉक्टर, खिलाड़ी व्यक्तित्व, उद्यमी, शिक्षक और नेता बनेगा।

युवा पीढ़ी के प्रयासों के आधार पर ही हमारे देश का आर्थिक विकास अत्यधिक संभव है। इसलिए, किसी भी देश के लिए युवा पीढ़ी के विकास में युवा पीढ़ी को प्रेरित करना, प्रोत्साहित करना यह बेहद महत्वपूर्ण कार्य है। यही कारण है कि राष्ट्रीय युवा दिवस हर साल भारत और अन्य देशों में मनाया जाता है।

इसे भी पढ़ें -  हरतालिका तीज व्रत कथा, महत्व, पूजा विधि Hartalika teej vrat katha in Hindi

उत्सव और इससे संबंधित गतिविधियां Celebration of National Youth Day

आज पूरे भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस स्कूलों और कॉलेजों में मनाया जाता है, जिसमें हर साल 12 जनवरी को कुछ कार्यक्रम प्रस्तुत किये जाते है। इन कार्यक्रमों में छात्र भाषण, पाठ, संगीत, युवा सम्मेलन, सेमिनार, योगासन, प्रस्तुतियां, निबंध लेखन, निमंत्रण और खेल की प्रतियोगिताओं को शामिल करते हैं।

स्वामी विवेकानंद के व्याख्यान और लेखन भारतीयों को प्रेरणा देते है और उनके गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस जी के व्यापक दृष्टिकोण, प्रेरणा के स्रोत हैं और युवाओं से जुड़े कई युवा संगठनों, अध्ययन मंडलियों और सेवा परियोजनाओं आदि को प्रेरित करते हैं।

  •   इस दिन लोग संगठनों द्वारा खोले गए रक्तदान शिविरों में रक्त दान करते हैं
  •   स्कूल और कॉलेज में स्वामी विवेकानंद के जीवन पर भाषण प्रतियोगिता और समूह चर्चा आयोजित किये जाते हैं।
  •   युवा पीढ़ी के प्रेरित करने के लिए, टीवी पर कार्यक्रम, समाचार, नेता के साक्षात्कार, भाषण, बहस इत्यादि को शिक्षित करने के लिए आप राष्ट्रीय युवा दिवस पर देख सकते हैं।
  • राष्ट्रीय युवाओं को इस दिन हमारे भारतीय नेता जिम्मेदारी, एकता और विकास के बारे में सिखाते हैं और हमें समर्पण और कड़ी मेहनत के साथ अपने लक्ष्यों की दिशा में कार्रवाई करने के लिए प्रेरित करते हैं।
  • युवा दिवस के दिन लोग फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल मीडिया पर स्वामी विवेकानंद की उद्धरण, वॉलपेपर, फोटो का साझा करते हैं। हम सभी लोग भी इस दिन स्वामी विवेकानंद के जीवन से कुछ नया सीखते हैं, जो हम सभी भारत के युवाओं को और उनके व्यक्तिगत विकास के लक्ष्यों को प्रोत्साहित करने में हम सबकी मदद करता हैं।

भारत के युवाओं के सामने चुनौतियां Challenges in front of Today’s Indian Youth

भारत के युवा अपनी रचनात्मकता, आत्मविश्वास, अखंडता, देशभक्ति के लिए जाने जाते हैं। स्वामी विवेकानंद, भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, सुख देव, राजगुरु इत्यादि सभी युवाओं ने भारत के लिए अपने निजी जीवन के सुख त्याग कर दिए।

हमारे सभी स्वतंत्रता सेनानी और आध्यात्मिक नेता बहुत महान थे वे देश के लिये न्योछावर हो गये और हमें कुछ चुनोती पूर्ण कार्य करना सिखा गये और उन्होंने हमें कुछ ऐसा करने के लिए प्रेरित किया जो हम सभी भाई करने में सक्षम हैं और हम में से ही अधिकांश अपने जीवन में सफलता भी प्राप्त कर रहे हैं

लेकिन आज के समय में हम में से अधिकांश युवा, हमारे महान नेताओं की कहानियों को भूल रहे हैं। और हम स्वार्थी बन रहे हैं। यह स्वार्थी स्वाभाव ही भ्रष्टाचार में परिवर्तित हो रहा है और हम सब धीरे-धीरे इन सबका हिस्सा बन रहे हैं पर इस दिवस की सहायता से हम देश के नागरिकों को प्रेरक कहानियाँ सुनाकर इस भ्रष्टाचार नामक गंदगी से बचा सकते है।

स्वामी विवेकानंद के सुविचार जो हमारे युवाओं के लिये प्रेरणा का स्त्रोत है Swami Vivekananda Quotes for Youth

इसे भी पढ़ें -  करवा चौथ व्रत कथा, महत्व व पूजा विधि Karva Chauth festival essay in Hindi

“ब्रहमांड की सारी शक्तियां पहले से ही हमारी है। वो हम ही है, जो अपनी आँखों पर हांथ रख लेते है और फिर रोते है कि कितना अन्धकार है”

“जब तक आप खुद पर विश्वास नहीं करते तब तक आप भगवान पर भी विशवास नहीं कर सकते”

“सत्य को हजार तरीकों से बताया जा सकता है फिर भी हर एक सत्य ही होता है”

“डर से भागो मत डर का सामना करो”

“विश्व एक व्यायाम शाला है, जहाँ हम खुद को मजबूत बनाने के लिए आते है”

“यह जीवन अल्पकालीन है, संसार की विलासिता क्षणिक है लेकिन जो दूसरों के लिये जीते है, वे वास्तव में जीते है”

“उठो जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो जाये”

“जो भी कार्य करो वो पूरी मेहनत के साथ करो”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.