तंत्रिका कोशिका और उसके प्रकार Neuron It’s Structure and Types in Hindi

आज के इस लेख में हम आपको तंत्रिका कोशिका, इसके कार्य, प्रकार और संरचना (Neuron It’s Structure and Types in Hindi) के विषय में बताएँगे।

तंत्रिका कोशिका (Neuron or Nerve Cell) मानव शरीर का एक अभिन्न अंग है| गौरतलब है कि तंत्रिका कोशिका की सहायता से ही मानव शरीर में विभिन्न सूचनाओं का आदान प्रदान संभव हो पाता है| तंत्रिका कोशिका सीधा मष्तिष्क से जुड़ी होती है और उसे निर्देश देने का कार्य करती है|

तंत्रिका कोशिका और उसके प्रकार Neuron It’s Structure and Types in Hindi

तंत्रिका कोशिका क्या होती है? What is neuron? 

गौरतलब है कि मानव शरीर के हर भाग के तंत्रिका कोशिका. मौजूद होती है, चाहे वह कोई हुई अंग क्यूं न हो| तंत्रिका कोशिका तुरंत ही कार्य करती है, जैसे यदि आप किसी गर्म पदार्थ को छू दें तो आपने देखा होगा कि आपका हाथ तुरन्त ही उस जगह से हट जाता है|

ऐसा इस कारण होता है क्यूंकि आपकी उँगलियों की तंत्रिका कोशिका तुरन्त ही मष्तिष्क को यह संदेश देती हैं कि आगे खतरा है और यहां से हटना ही उचित है| गौरतलब है कि यह सब केवल कुछ मिनी सेकंड के अंदर ही हो जाता है| 

तंत्रिका कोशिका के कार्य Works Of Neurons 

तंत्रिका कोशिका के निम्न कार्य होते हैं :- 

  • तंत्रिका कोशिका का सर्वप्रथम कार्य है मष्तिष्क को सूचना पहुंचाना| ये सूचनाएं अलग अलग विषयों से जुड़ी होती हैं| जैसे यदि तंत्रिका को किसी प्रकार का खतरा महसूस होता है तो यह तुरन्त ही संदेश पहुंचाकर मस्तिष्क को कदम उठाने के लिए प्रतिबद्ध कर देती है| 
  • तंत्रिका कोशिका का अन्य कार्य अवचेतन मस्तिष्क से जुड़े रहना भी है| गौरतलब है कि अवचेतन मस्तिष्क मनुष्य के जीवन से जुड़ी सभी यादों को सुरक्षित एवं संग्रहित करके रखता है| इस कारण तंत्रिका कोशिका का कार्य अनेकों क्षणों की प्रतियां पहुंचाना भी होता है| 
इसे भी पढ़ें -  पोषण और उसके प्रकार Article on Nutrition and Its Type in Hindi

तंत्रिका कोशिका के प्रकार Types of neurons

तंत्रिका कोशिका और उसके प्रकार Neuron It's Structure and Types in Hindi

तंत्रिका कोशिका के प्रकार Types of neurons

तंत्रिका कोशिका को उसकी संरचना के आधार पर निम्न भागों में बांटा गया है :- 

एकध्रुवी

एकध्रुवी प्रकार की तंत्रीकाएं, एक सीढ़ीनुमा संरचना बनाने के लिए प्रयोग की जाती हैं| गौरतलब है कि इनका केवल एक सिरा होता है जिसके जरिए ये केवल एक कोशिका से जुड़ी होती हैं| ये मुख्यतः रीढ़ और मस्तिष्क के मध्य एवं संकीर्ण हिस्सों में पाई जाती हैं|

द्विध्रुवीय

इस प्रकार की कोशिकाएं दो ध्रुवों वाली होती हैं जो दो तांत्रिकओं से जुड़ सकती हैं|

बहूध्रुवीय

बहु ध्रुवीय कोशिकाएं, बहुत सी कोशिकाओं से जुड़कर गुच्छे जैसी संरचना का निर्माण करती हैं| ये मुख्यतः रीढ़ और मस्तिष्क के पास पाई जाती हैं| 

तंत्रिका कोशिका की संरचना Structure of Neurons 

एक न्यूरॉन या नर्व सेल की संरचना या अंग –

केंद्रक Nucleus

केंद्रक तंत्रिका कोशिका का केंद्र होता है| यह तंत्रिका कोशिका को कार्य करने के निर्देश देता है, एवं सभी तरह के संदेशों का वहन इसी की सहायता से होता है| यह तंत्रिका कोशिका का मस्तिष्क होता है| 

कोशिका काय Cell Body

कोशिकाय एक प्रकार का द्रव्य नुमा पदार्थ है| गौरतलब है कि यह केंद्रक के चारो तरफ बना होता है और इसका कार्य केंद्रक की सुरक्षा करना होता है| इसमें विभिन्न तरह के तरल पदार्थ पाए जाते हैं जो तंत्रिका कोशिका को कार्य करने की ऊर्जा प्रदान करते हैं|

द्रुमिका Dendrite

द्रुमिका, तंत्रिका कोशिका के सिरे पर बनी होती है| तंत्रिका कोशिका में इसका कार्य, दूसरी तंत्रिका से जुड़ने का होता है| 

तंत्रिकाक्ष Axon

तंत्रिकाक्ष, तंत्रिका कोशिका के मध्य में एक तार की तरह जुड़ा होता है| इसका कार्य होता है तंत्रिका के अंतिम सिरे द्वारा को संदेश पिछली तंत्रिका ने भेजा है उसके केंद्रक तक पहुंचाया जा सके|

तंत्रिका का अंतिम सिरा Axon Terminal

तंत्रिका का अंतिम सिरा एक हैंडल की तरह होता है| इसका मुख्य कार्य, दूसरी तंत्रिका से जुड़ने का होता है| दूसरी तंत्रिका से संदेश इसी के जरिए ग्रहण किए जाते हैं|

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.