निपा वायरस क्या है? Nipah Virus Symptoms Prevention Treatment Facts in Hindi

निपा वायरस क्या है, पूर्ण जानकारी, कैसे फैलता है? इसके लक्षण क्या हैं? इसका इलाज,बचाव व तथ्य क्या है? Nipah Virus Symptoms Prevention Treatment Facts in Hindi

निफा / निपाह वायरस (एनआईवी-NiV) तीव्र श्वसन सिंड्रोम और एन्सेफलाइटिस तक, संक्रमण मनुष्यों में गंभीर जटिलताओं का कारण बन सकता है, और सूअरों जैसे कुछ जानवरों को भी यह प्रभावित कर सकता है। यह एक जानलेवा वायरस है जिसके कारण हाल ही में भारत में कई लोगों कि जान गयी है।

निपा वायरस क्या है? Nipah Virus Symptoms Prevention Treatment Facts in Hindi

निपा वायरस क्या है? What is Nipah Virus in Hindi?

एनआईवी या निपा वायरस एक उभरती हुई ज़ूनोटिक रोगजनक (जानवरों से मनुष्यों को प्रेषित एक वायरस) है।

इस वायरस के बारे में 1998 में मलेशिया के कंपंग सुंगई निपा में पहली बार पता चला। उस समय वहां के ज्यादातर सूअर में इसका वायरस मिला था और सूअर निपा वायरस को फ़ैलाने का कारण थे। परन्तु मुख्य रूप से यह वायरस फल खाने वाले चमगादड़ फैलाते हैं।

2004 में, बांग्लादेश के लोगों में भी निपा वायरस पाए गए थे जिनका कारण फल खाने वाले चमगादड़ के द्वारा दूषित या खाया किया हुआ फल जैसे ताड़, खजूर, आम आदि था। डब्ल्यूएचओ ने इस वायरस को अपनी ‘ब्लूप्रिंट प्राथमिकता’ रोग श्रेणी में सूचीबद्ध किया है।

निपा वायरस कैसे फैलता है? How Nipah Virus Spread Hindi?

  • वायरस लोगों के स्राव और विसर्जन के साथ निकट संपर्क के माध्यम से संक्रमण हो सकता है।
  • मानव से मानव को सीधे संपर्क से फैलता है।
  • संक्रमित चमगादड़ द्वारा आधे खाए गए फल खाने और संक्रमित जानवरों के कम पके हुए मांस भी वायरस को फैला सकते हैं।
  • ताड़ और खजूर रस भी संक्रमण का कारण बन सकता है अगर किसी संक्रमित चमगादड़ ने उसको आधा खाया हो।

निपा वायरस के संकेत और लक्षण Nipah Virus Sign and Symptoms

  1. यह संक्रमण किसी भी लक्षण के बिना मनुष्यों में हो सकता है।
  2. हालांकि, लोगों के लिए इन्फ्लूएंजा जैसी लक्षणों को देखना जरूरी है।
  3. बुखार, गले में दर्द, सिर दर्द, उल्टी, मतली, पेट में दर्द और मांसपेशीयों में दर्द कुछ आम संकेत हैं।
  4. संक्रमण सांस लेने में हस्तक्षेप के कारण तीव्र श्वसन संक्रमण (हल्के से गंभीर) तक बढ़ता सकता है।
  5. इस चरण के दौरान, लोगों को एटिप्लिक न्यूमोनिया और तीव्र श्वसन का अनुभव होता है, जिससे आगे गंभीर समस्याएं होती हैं।
  6. यह घातक एन्सेफलाइटिस को बढ़ता है, जिसका अर्थ है मस्तिष्क के ऊतकों की सूजन पैदा करना। लक्षणों में सूजन, चक्कर आना और तंत्रिका संबंधी लक्षणों का कारण बनता है।
  7. गंभीर मामलों में, दौरे और एन्सेफलाइटिस होने का खतरा रहता हैं। ऐसा होने पर 24 से 48 घंटों के भीतर कोमा की स्थिति भी जागृत हो सकती है।

निपा वायरस से निवारण Nipah Virus Prevention

  • संक्रमित लोगों के साथ निकट (असुरक्षित) शारीरिक संपर्क से बचें।
  • एनएच 95-ग्रेड और उससे उच्च मास्क पहनें।
  • साबुन के साथ नियमित रूप से हाथ धोएं।
  • आंशिक रूप से खाए गए फल या अनपेक्षित फलों के रस का सेवन करने से बचें।
  • कुछ जानवरों जैसे चिड़ियों, सूअरों के संपर्क से दूर रहें।
  • पाम के रस को उपभोग करने से पहले अच्छे से उबाल लें।
  • खाने से पहले फलों को अच्छे से धो लें और छीलें।
  • अपने और बच्चों का व्यक्तिगत रूप से स्वच्छता बनाए रखें।
  • अपने घर को ठीक से ढक कर रखे। ज्यादा समय खिडकियों को खोल कर ना रखें।

निपा वायरस का इलाज Nipah Virus Treatment in Hindi

  • वर्तमान में, मनुष्यों या जानवरों के लिए कोई टीका या दवा उपलब्ध नहीं है। प्राथमिक उपचार गंभीर श्वसन और तंत्रिका संबंधी जटिलताओं से पीड़ित लोगों के लिए गहन सहायक देखभाल है।
  • रोगों को लक्षणों की शुरुआत से अनुबंध करने से, ऊष्मायन अवधि(लक्षण दिखाने में) 4 से 14 दिनों के बीच होती है। कुछ मामलों में, 45 दिनों की ऊष्मायन अवधि भी रिपोर्ट की गई है।
  • तीव्र एन्सेफलाइटिस से बचने के बाद लोगों को पूरी तरह से ठीक होने की उम्मीद है। हालांकि, बचे हुए लोगों ने लंबी अवधि की न्यूरोलॉजिकल स्थितियों जैसे घबराहट, कमजोरी और व्यक्तित्व में परिवर्तन दिखे हैं।

निपा वायरस से जुड़े मुख्य तथ्य

  1. निपा वायरस जानवरों और मनुष्यों (एक घटना जो ज़ूनोसिस के रूप में जाना जाता है) को संक्रमित करता है। यह वायरस स्वाइन फ्लू और बर्ड फ्लू जैसे हालिया ज़ूनोटिक प्रकोपों ​​की सूची में शामिल हो गया है।
  2. डॉक्टरों का मानना है सही समय पर चिकित्सा ना हो पाने पर यह वायरस 40-100 प्रतिशत वायरस से प्रभावित मरीजों की जान ले सकता है।
  3. इसके शुरुवाती लक्षण साधारण होते हैं जो सामान्य वायरल इन्फेक्शन के जैसे होते हैं।\
  4. निपा वायरस श्वसन और तंत्रिका तंत्र दोनों को प्रभावित करता है। भारतीय उपमहाद्वीप में हालिया प्रकोपों ​​में, फेफड़े अक्सर प्रभावित होते हैं।
  5. सहायक देखभाल के अलावा कोई निश्चित उपचार नहीं है। सहायक देखभाल का मतलब है कि रोगियों की बारीकी से निगरानी की आवश्यकता हो सकती है और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया जा सकता है। मरीजों को श्वसन की आवश्यकता हो सकती है और उन्हें वेंटिलेटर पर रखा जाना पड़ सकता है।
  6. निपा वायरस के लिए अभी तक कोई टीका नहीं है।
  7. प्रकोप के क्षेत्र से दूर रहने वाले मरीजों के लिए – यदि आपके लक्षण हैं जो फ्लू जैसी हैं, जैसे सिरदर्द और बुखार – आपको निपा के बजाए आम फ्लू होने की अधिक संभावना है।
  8. संदिग्ध क्षेत्र में या आसपास रहने वाले लोगों के लिए सतर्कता और प्रारंभिक सलाह डॉक्टर से मांगना ज़रूरी है।
  9. निपा वायरस जैसे प्रकोप अधिक आम होने की संभावना है। अत्यधिक जनसंख्या और मानव-पशु इंटरैक्शन इसके प्रकोप को बढाने की अधिक संभावना बना देती है। वायरस ‘कूद’ प्रजातियों की एक तेजी से मान्यता प्राप्त घटना है।

नोट: यह सलाह और जानकारी केवल सामान्य ज्ञान प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय के लिए एक विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा एक विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से परामर्श लें। 1hindi इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Help Source –

इसे भी पढ़ें -  वायु प्रदुषण पर निबंध व पूरी जानकारी Essay on Air Pollution in Hindi

EconomicTimes

WHO

4 thoughts on “निपा वायरस क्या है? Nipah Virus Symptoms Prevention Treatment Facts in Hindi”

  1. Nigah virus ke bare me aapne bahut badhiya jankari share ki hai, par ye official news news walo ne jyaada batayi nhi hai, thanks jo aapne isko pure detail me explain karke bataya hai.

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.