राधा कृष्ण की कहानियाँ Radha Krishna Stories in Hindi

राधा कृष्ण की कहानियाँ Radha Krishna Stories in Hindi

क्या आप राधा-कृष्णा की प्रेम कथा पढना चाहते हैं?
क्या आप जानते हैं राधा और कृष्ण का विवाह क्यों नहीं हो सका?

विश्व में राधा कृष्णा की जोड़ी को अमर माना जाता है। कहा जाता है, राधा और कृष्ण की कहानी उनके सच्चे प्रेम को दर्शाती हैं। श्रीकृष्ण के प्रति राधा की भक्ति और समर्पण निष्कपट था। यहां राधा-कृष्ण के कुछ किवदंतियां या कथाओं ने एक-दूसरे के लिए उनके प्रेम को चित्रित किया हैं।

Image Source – Infinite Eyes

राधा कृष्ण की कहानियाँ Radha Krishna Stories in Hindi

गर्म दूध की कथा Hot milk Radha Krishna Story

यह एक दिलचस्प कहानी है जो राधा और कृष्ण के अंनत प्रेम के संबंध को दर्शाती हैं। राधा ने भगवान कृष्ण से विवाह नहीं किया था, बल्कि राधा के लिए कृष्ण के अतृप्त प्रेम को देखकर दासियों को ईर्ष्या होती थी, एकबार  राधा को परेशान करने के लिए उन्होंने एक शरारती योजना बनाई और उन्होंने गर्म दूध का गरमागरम तपता हुआ कटोरा लिया है और उन्होंने राधा को वह कटोरा दिया और कहा कि कृष्ण ने यह दूध का कटोरा उनके लिए भेजा है, और राधा ने गर्म दूध पी लिया।

जब दासियाँ कृष्ण के पास लौटी, तो उन्होंने कृष्ण के दर्दनाक छाले देखे। यह दर्शाता है कि कृष्ण राधा के हर छिद्र में रहते हैं, इसलिए गर्म दूध से राधा को कुछ नहीं हुआ, लेकिन गर्म दूध ने कृष्ण को प्रभावित किया। श्री कृष्ण ने उनके सभी दर्द और दुखों को खुद पर ले लिया।

चरणामृत की कथा Radha Krishna Charanamrit Story (श्री कृष्ण और राधा का विवाह क्यों नहीं हुआ?)

यह राधा और कृष्ण के बीच गहन प्रेम को दर्शाती एक और प्यारी कहानी है। एक बार श्रीकृष्ण बहुत बीमार हो गए थे। कृष्ण ने कहा कि अगर उनको उनके किसी प्रेमी या सच्चे भक्त द्वारा चरणामृत मिलेगा, तो वह ठीक हो जाएगें। सभी गोपीयों से पूछा गया, लेकिन उन्होंने इस प्रस्ताव से भय हो कर स्वीकार नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि वे अपने चरणों का जल श्रीकृष्ण को पिलाकर पाप नहीं कर सकती।

इसे भी पढ़ें -  हिन्दू वैवाहिक रस्म हल्दी Hindu Wedding Ritual Haldi in Hindi

जब राधा को जब इस स्थिति के बारे में पता चला, तो  राधे ने कहा: “जितने चरणामृत की ज़रूरत है आप उतना ले सकते है। मुझे तब सुख मिलेगा, जब तक मेरे प्रभु अपने दर्द और बीमारी से मुक्त नहीं हो जाते।” राधा ने सहृदय प्रेम के साथ चरणामृत दिया।

यह इस तथ्य के कारण है; यह माना जाता है कि राधा भगवान कृष्ण से विवाह नहीं कर सकी। राधा कृष्ण को उनके दिल से आंतरिक रूप से प्रेम करती थी लेकिन फिर भी उन्होंने श्रीकृष्ण को उनकी बीमारी से बचाने के लिए कृष्ण को चरणामृत दिया।

राधा और कृष्ण दिव्य प्राणियों में से एक थे और उनका प्यार अनन्त था। चाहे वे शादी करते या नहीं, उनके प्यार ने उन्हें हमेशा के लिए एकजुट कर दिया और आज भी लोग उनकी पूजा करते हैं।

8 thoughts on “राधा कृष्ण की कहानियाँ Radha Krishna Stories in Hindi”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.