राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका Role of Youth in Nation Building in Hindi

राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका Role of Youth in Nation Building in Hindi

राष्ट्र निर्माण या राष्ट्रीय विकास, आमतौर पर लोकतांत्रिक तरीके से एक राष्ट्र में सामाजिक सामंजस्य, आर्थिक समृद्धि और राजनीतिक स्थिरता के निर्माण में सभी नागरिकों को उलझाने की एक रचनात्मक प्रक्रिया है। युवा एक राष्ट्र के भवन ब्लॉक हैं। अधिक मजबूत युवा ही अधिक विकसित राष्ट्र का निर्माण करते है। राष्ट्र-निर्माण में युवाओं की भूमिका केंद्रीय स्थान पर होती है।

राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका Role of Youth in Nation Building in Hindi

जो देश सही दिशा में अपने युवाओं का उपयोग करते हैं, वे अधिक विकसित होते हैं। युवाओं के मन की ऊर्जा और चमक एक राष्ट्र के लिए मशाल-वाहक के रूप में कार्य करती हैं। इसके विपरीत, देश जो युवा को जीवन के हर विभाग में पीछे कर देते है वे विफल होते है। यह भारत के पिछड़ेपन के कारणों में से एक है। विकसित देश अपनी कीमत से पूरी तरह वाकिफ हैं।

वे अपने युवाओं को एक परिसंपत्ति के रूप में मानते हैं। सबसे महत्वपूर्ण, देश अपने युवाओं की जरूरतों को पूरा करते हैं और उन्हें शिक्षा, रोजगार, मनोरंजक गतिविधियां आदि उपलब्ध कराते हैं। ऐसे स्वस्थ और प्रतिस्पर्धी वातावरण के माध्यम से ही युवाओं को देश का नेतृत्व करने के लिए तैयार करना चाहिए।

यदि युवा सही दिशा में नहीं है और राष्ट्र के भविष्य के बारे में उदासीन है तो यह राष्ट्र के लिए एक बोझ बन जाएगा। युवा जाति, रंग, भाषा और लिंग के आधार पर भेदभाव, गरीबी, बेरोजगारी, असमानता और आदमी के द्वारा मनुष्य के शोषण से मुक्त विश्व चाहते हैं।

हमारी आबादी का एक प्रमुख हिस्सा गठित करने के बावजूद हमारे युवा हर क्षेत्र में पीछे हैं। उनके पास देश की प्रगति में खेलने की प्रमुख भूमिका है लेकिन सरकार की लापरवाही के कारण वे आज के समाज में कई नई चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। उन्हें पहचान के संकट, आत्मविश्वास, कम आत्मसंमान की कमी, निराशा, नैतिक मुद्दों और भविष्य के विषय में अस्पष्टता की भावना से पीड़ित किया जाता है। वे हिंसा और ड्रग्स द्वारा चिह्नित संस्कृति में फंस गए है।

यदि इन युवकों को अपनी प्रतिभा का व्यायाम करने का अवसर नहीं दिया जाए तो यह मानव संसाधन का बड़ा अपव्यय होगा। नस्लवाद दुनिया भर में चल रहा एक अहम मुद्दा है। धर्म एक और मुद्दा है। हम सब एक है और हमें इन छोटे मतभेदों के कारण एक दूसरे से दूर नहीं होना चाहिए। अपराध और हिंसा को रोकने की जरूरत है।

दुनिया की लगभग २५ प्रतिशत आबादी युवा है। इस तरह जनसंख्या का एक बड़ा भाग राष्ट्र के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हालांकि, यह महत्वपूर्ण है कि युवाओं के विचारों और राय की स्वतंत्रता का व्यायाम हो। उन्हें अपने विचारों को साझा करने और अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करने के लिए सही मंच मिलना चाहिए।

तीन प्रमुख तत्व हैं, जो एक राष्ट्र की प्रगति की दिशा में योगदान देते हैं। ये हैं- शिक्षा, रोजगार और सशक्तिकरण। एक राष्ट्र एक स्थिर गति से विकसित होता है, जब देश के युवा शिक्षित होते हैं और उनकी शिक्षा को सही उपयोग में रखा जाता है। हमारे देश में अधिकांश युवक अशिक्षित हैं। अतः, अशिक्षा हमारे राष्ट्र की सबसे बड़ी समस्याओं में से एक है।

हमारे देश की निरक्षर आबादी हमारे राष्ट्र की प्रगति में बाधा डालती है। हमारे देश की सरकार को उन्हें सही शिक्षा प्रदान करने के लिए विशेष प्रयास करने होंगे। राष्ट्र के बेरोजगार युवकों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराना भी बहुत जरूरी है। रोजगार के अवसरों का अभाव सामाजिक अशांति को जन्म दे सकता है।

युवाओं को उनके जीवन  का प्रभार लेने के लिए सशक्त बनाना महत्वपूर्ण है। यह जरूरी है कि युवकों की क्षमता के अनुसार रोजगार के अवसर मुहैया कराए जाएं ताकी वे जीवन में किसी गलत रास्ते पर न जा सकें। सस्ती और गुणवत्तायुक्त शिक्षा और प्रशिक्षण तक पहुँच की कमी के कारण हमारे समाज में बेरोजगारी और रोजगार की समस्या व्याप्त है।

समुदाय द्वारा युवाओं को रचनात्मक क्षेत्रों में कॅरियर को आगे बढ़ाने के लिए समर्थन और प्रेरणा का अभाव है। लैंगिक आधारित भेदभाव ने युवा महिलाओं और लड़कियों को सामाजिक आर्थिक गतिविधियों में हिस्सा लेने से वंचित कर दिया है। टिकाऊ विकास के लिए, युवाओं को समान अवसर प्रदान करना जरूरी है।

युवा राष्ट्र की प्रगति और विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। अतः, यदि युवाओं की शक्ति का बुद्धिमानी से और श्रेष्ठतम उपयोग किया जाए तो यह निश्चय ही राष्ट्रीय विकास को जन्म दे सकता है।

राष्ट्र-निर्माण के लिए कुछ मुख्य अभियान Some of the main campaign for Nation-building

राष्ट्र-निर्माण का कार्य दुस्साध्य है और इसे चरणों में बाँटा जा सकता है। हमारे समाज में कई बुरे आचरण प्रचलित हैं। अगर युवा इन प्रथाओं के खिलाफ एक अभियान में जुड़ा हो, तो परिणाम ज्यादा अनुकूल हो सकता है।

  • युवाओं को बेहतर खेती, नई तकनीकों और उर्वरकों और कीटनाशकों के उचित उपयोग के लिए वैज्ञानिक ज्ञान के प्रसार का काम सौंपा जा सकता है।
  • आर्थिक अपराधों के खिलाफ एक अभियान में, उनकी ऊर्जा का इस्तेमाल सार्वजनिक राय के सांचे में किया जा सकता है ताकि इस तरह के अपराधों के रोकथाम में तेज़ी लाई जा सके।
  • युवा विभिन्न विकृतियों से लड़ने के उद्देश्य से सरकारी कार्यक्रमों के कार्यांवयन में प्रशासन के एक हाथ के रूप में सफलता पूर्वक काम कर सकते हैं। युवा बल के सहयोग और जुड़ाव को देखते हुए सरकार निष्क्रिय जनशक्ति को जुटाने में सफल होगी।
  • युवाओं को सभी प्रकार की विकासात्मक गतिविधियों की ओर आकर्षित किया जाना चाहिए।  युवाओं को व्यवसायिक धाराओं में प्रशिक्षित किया जाना आवश्यक है।
  • शिक्षा को नौकरी मुखी बनाया जाना चाहिए। तभी हम एक स्वस्थ और मजबूत भारत का निर्माण कर सकेंगे। हर देश को देखना होगा कि उसकी युवा शक्ति का ठीक से उपयोग हो।
  • विश्वविद्यालयों में राजनीतिक गतिविधियों को प्रतिबंधित करना होगा। अधिकांश विश्वविद्यालय परिसर राजनीति में लीन हो गए हैं। जहां भी कोई देश में दंगे होते हैं, राजनीतिक ताकतें युवा शक्ति का इस्तेमाल दंगों के दौरान अपने हित को बढ़ावा देने के लिए करती हैं, कारणवश हज़ारों कॉलेज छात्र शहरों की गलियों में आंदोलन करते है। एक कानून लागू किया जाना चाहिए और, ऐसे चुनावों और समूहों पर प्रतिबंध लगाना चाहिए।
  • अगर हम भारत में चरस और मारिजुआना जैसी दवाओं की घुसपैठ और उपयोग पर नियंत्रण नहीं करते हैं, तो युवाओं के लिए नशीले पदार्थों का एक खूंखार जाल गिरने की संभावना है जो हमारे युवा दिमाग के लिए आपदा साबित होगी। हम इस प्रकार एक शक्तिशाली बल खो देंगे।

युवा राष्ट्रीय विकास की ओर अधिक योगदान कर सकते हैं। भगत सिंह, जवाहरलाल नेहरू और महात्मा गांधी, इन सभी ने भारत में स्वशासन के नियम को हासिल करने के लिए अलग रणनीतियां अपनाई थीं।

स्वतंत्रता संघर्ष मे, तब अलग अलग धारणा थी, भगत सिंह अराजकतावादी कम्युनिस्ट थे, नेहरू समाजवाद में विश्वास करते थे; इसलिए पूरे राष्ट्र की चेतना को घेरना मुश्किल हो रहा था और आजादी हासिल करने के लिए एक आम विचारधारा में महायुद्ध हो रहा था।

एक मनोरम नेता की जरूरत थी। अथः महात्मा गांधी ने अहम भुमिका निभाई। वह सत्याग्रह और अहिंसा की पहल से राष्ट्र में एक क्रांति लाए। वर्तमान दिन में ऐसा लगता है जैसे पूरा देश स्वतंत्रता संघर्ष के दूसरे चरण से गुज़र रहा है।

पृथक राज्य आंदोलन, जातिगत आधारित राजनीति, सरकारी संस्थाओं में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार, साम्प्रदायिक दंगे, माओवादी अराजकता, आतंकवाद। 21वीं सदी में ये सब रावण हमारे सामने है। अगर कल ब्रिटिश तानाशाह थे, तो आज स्वदेशी है।

लेकिन यह वास्तव में कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह ब्रिटिश, भारतीय या पाकिस्तानी है क्योंकि मुख्य अपराधी, स्वार्थ है। ज़ाहिर है, स्वार्थी लोगों के खिलाफ लड़ाई जारी रहनी चाहिए। किसी काम को दुरुस्त करने के लिए पहले भ्रष्टाचार को कम करना होगा। यह समय अच्छाई बनाम बुराई की लड़ाई लड़ने का है।

आज का युवा दुनिया के संसाधनों, आराम, विलासिता के लिए एक चूहा दौड़ में फंस गया है। हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने सिर्फ एक महत्वपूर्ण लड़ाई जीती थीं; हमें युद्ध जारी रखने की जरूरत है। हमें कई और अधिक लड़ाइयों जीतनी है, आशा है कि युवा राष्ट्र निर्माण के कार्य को निस्वार्थ रूप से ऊपर उठाएंगे।

युवा हमारे राष्ट्र का भविष्य हैं और जनसंख्या के सबसे गतिशील खंड का प्रतिनिधित्व करते हैं। युवा और उनके कार्य राष्ट्र के विकास में योगदान देते हैं।  यदि हमारे देश के युवक गंभीरता से देश के विकास के लिए काम करना शुरू कर दें तो वे राष्ट्र के महत्वपूर्ण तत्व बन सकते हैं और विकास में योगदान दे सकते हैं।

5 thoughts on “राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका Role of Youth in Nation Building in Hindi”

  1. युवा शक्ति देश और समाज की रीढ़ होती है। युवा देश और समाज को नए शिखर पर ले जाते हैं। युवा देश का वर्तमान हैं, तो भूतकाल और भविष्य के सेतु भी हैं। युवा देश और समाज के जीवन मूल्यों के प्रतीक हैं। युवा गहन ऊर्जा और उच्च महत्वाकांक्षाओं से भरे हुए होते हैं। उनकी आंखों में भविष्य के इंद्रधनुषी स्वप्न होते हैं। समाज को बेहतर बनाने और राष्ट्र के निर्माण में सर्वाधिक योगदान युवाओं का ही होता है। ‘मेरा भारत महान’ इस पंक्ति को सार्थक करने के लिए युवा पूरी तरह से प्रयासरत हैं। हरनाटांड़ के युवा बेहतर भविष्य के लिए मतदान के माध्यम से ईमानदार और विकासपरक सोच वाले प्रतिनिधि को चुनने और भ्रष्ट लोगों का सामाजिक दुत्कार को पहली सीढ़ी मान रहे हैं। समाज में तेजी से आ रहे बदलाव के प्रति बड़ी संख्या में युवाओं का नजरिया शार्टकट की बजाय कर्म और श्रम के माध्यम से सफलता प्राप्त करने की ओर होता जा रहा है।

  2. Vedo me bhi likhkha he ” yuva shakti parashakti” .is vaky ne hi jab prachin kalme yuvano ni mahtta ka nirdesh kiya tha to fir use sabit Karne K liye hame kisi or sabut ki kya aavshyakta Ho sakti he

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.