एसआईपी या सिप क्या है? What is SIP in Hindi?

इस लेख में आप एसआईपी या सिप क्या है? What is SIP in Hindi? तथा इसकी पूरी जानकारी इस लेख में आप जान सकते हैं। दोस्तों हम सभी पैसा तो कमा लेते है परन्तु बचाने के लिए उसे बैंक में रखते है और सोचते है कि पैसा सेव (money saving) करना ही बस काफी है और उस धनराशि को अपने पास रख लेते है और समझते है कि ये बचत करने का सबसे अच्छा तरीका है लेकिन ऐसा नहीं है।

क्योंकि इस तरीके से वह धनराशि बढ़ती नहीं है और अंत में आपको उतनी ही राशि मिलती है जितनी आपने शुरु में रखी हुई होती है, असल में यह नही जान पाते की पैसे को सेव करने के साथ साथ निवेश करने की भी आवश्यकता होती है। (म्यूचूअल फंड क्या है?)

जिससे हमारा पैसा लगातार रूप से बढ़ सके, लेकिन जब निवेश की बात आती है तो हमें म्यूच्यूअल फंड्स या शेयर मार्किट के बारे में ही ख्याल आता है और यह ख्याल आते ही हमें बड़ा जोखिम दिखने लगता है, और हम निवेश का विचार त्याग देते है, लेकिन आज हम बात करने वाले है कम जोखिम पर पैसे का निवेश कैसे कर सकते है? और अपने धन को किस प्रकार दोगुना-तिगुना कर सकते है तो चलिए शुरू करते है –

एसआईपी या सिप (SIP) क्या है? What is SIP in Hindi?

SIP (सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) के माध्यम से म्यूचुअल फंड स्कीमों में निवेश आसानी से किया जा सकता है, इसके जरिए हम न केवल अपना पैसा save कर सकते है बल्कि mutual funds में निवेश भी कर सकते है। जिन लोगो को mutual funds की जानकारी नहीं है उनके लिए सिप (SIP) एक अच्छा चुनाव है। 

देखा जाए तो यह मध्यम वर्गीय लोगो के लिए बहुत ही अच्छा चुनाव है क्योंकि वो ज्यादा पैसा को निवेश नहीं कर सकते ओर 500/-, 1000/-, 2000/- जैसा आप चाहे, का निवेश कर सकते है ऐसा करने से उन्हें जोखिम भी कम रहता है और समय के साथ साथ उनका पैसा भी बढ़ जाता है। 

यदि मैं आपको शार्ट में बताऊ तो SIP के माध्यम से आप कम नुकसान के रिस्क के साथ निवेश कर सकते है और ज्यादा मुनाफा कमा सकते है। आप बहुत आसानी से SIP के माध्यम से स्टॉक, बॉन्ड, कमोडिटी, म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते है।

SIP कैसे काम करता है ? How SIP Works in Hindi?

आखिर यह कैसे काम करता है? यह सभी के दिमाग में चलता है इसमें प्रतिमाह निवेश करने से आपको एक ठोस धनराशि की प्राप्ति होती है। जमा की जाने वाली धनराशि को आप सप्ताहिक, मासिक या क्वार्टरली भी जमा कर सकते है।

साथ ही किसी भी समय आप यदि चाहे तो जमा की जाने वाली धनराशि को बढ़ा या घटा सकते है। आप इस धन राशि को जब चाहे SIP बंद कर के बैंक मे withdraw भी कर सकते हैं।

और पढ़ें -  ब्रायलर मुर्गी के शेड में लाइट की व्यवस्था Light Management inside Broiler Shed

सिप (SIP) में एक निश्चित राशि का निवेश करके कंपनी के शेयर खरीदे जाते है। जैसे आपके पसंद की किसी कंपनी के शेयर की कीमत 200/- है ओर आप हर माह 1000/- का निवेश करते है तो 1000/+ में आपको उस कंपनी के 5 शेयर दिए जाएंगे, इसकी कीमत बढ़ने पर आप अपने share को बेच सकते है इस प्रकार ऐसा करके आप अपने निवेश से ही पैसा काम सकते है। 

लेकिन एसआईपी उस पैसे को लाभदायक व्यवसायों में निवेश करता हैं और आपको कमाई का एक हिस्सा देते हैं और अवधिनुसार निवेश के साथ पुनर्निवेश की जा रही राशि बड़ी होती रहती है। तो सही मायने में देखा जाए तो सिप (SIP) उन लोगों के लिए है जिनको म्यूचूअल फंड और शेयर मार्केट की बिल कुल भी जानकारी नहीं है।

सिप (SIP) करने के लिए प्रक्रिया एवं आवश्यक दस्ताबेज Process and Documentation for SIP in Hindi

अक्सर हमारे दिलो दिमाग में यह सवाल घूमता है कि हम आखिर कहां से और कैसे SIP कर सकते है और उसका process क्या है? यदि आप सिप (SIP) करना चाहते हैं तो इसके लिए आपके पास कुछ आवश्यक दस्तावेज़ होना अति आवश्यक है जैसे पैन कार्ड, एड्रेस प्रूफ, पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ और कैंसिल चेक। 

ऐसा इसलिए क्योकि इसमें आपके अकाउंट से संबंधित सभी जानकारी होती है साथ ही आपको अपनी नो योर कस्टमर (KYC) कराना आवश्यक है जिसमे आपको नाम, जन्म तिथि, मोबाइल नंबर, एड्रेस आदि जरूरी जानकारी देनी होगी यह प्रक्रिया ऑनलाइन भी की जा सकती है।

सिप (SIP) के फ़ायदे Benefits of SIP in Hindi

सिप (SIP) कराने के कई फायदे है जिनको निम्न हैडिंग से जाना जा सकता है-

छोटा निवेश Small Investment

यह सिप (SIP) की सबसे अच्छी बात है कि अन्य  निवेशों की तरह बड़ा निवेश नहीं है जिसमे आपको मोटी धनराशि के साथ-साथ जोखिम भी रहता है। यह एक छोटी धनराशि होती है जिसको निवेश करना सभी के लिए संभव होता है।

आसान प्रक्रिया Simple Process

सिप (SIP) करना बहुत ही आसान है सबसे पहले आपको अपना प्लान का चुनाव करना होगा जैसे अपने अपना प्लान 500/- प्रति माह का सेलेक्ट किया तो mutual fund आपके सिप (SIP) अकाउंट में मौजूद राशि का निवेश शेयर खरीदने में कर देगा। जिससे आपको भविष्य में फायदा होगा।

कम जोखिमल Low Risk

सिप (SIP) में जोखिम शेयर मार्केट की तुलना में बहुत ही कम है मान लीजिए आपने शेयर मार्केट में एक मोटी धन राशि लगा दी और मार्केट नीचे चला गया तो आप नुकसान में आ सकते है।

वहीं सिप (SIP) में आप इक्कठा पैसा ना लगा कर उसे छोटे छोटे टुकड़ों में लगाते है तो ऐसा करने से आपको जोखिम भी कम रहता है। इसका शेयर मार्केट के ऊपर नीचे जाने से कोई असर नहीं पड़ता।

टैक्स में राहत Tax Relaxation

सिप (SIP) अकाउंट होने पर निवेश की गई या निकाली गई धनराशि पर किसी भी प्रकार का टैक्स नहीं लगता इस प्रकार आप टैक्स में भी राहत पा सकते है।

और पढ़ें -  60+ भारत मे लघु व्यापार के लिस्ट Small Scale Business Ideas in India (Hindi)

वरदान है It’s a Boon

एसआईपी निवेशकों के लिए एक वरदान के जैसा है क्योंकि यह निवेशक को न सिर्फ शेयर मार्केट के जोखिम से बचाती है बल्कि उसे लंबी अवधि में सिस्टेमेटिक तरीके से लगातार निवेश करते हुए एकमुश्त धन जमा करने का जरिया भी बनती है।

Compounding का फ़ायदा

पैसे को लगातार बढ़ाने के लिए compounding का विशेष महत्व है। Compound से मतलब व्याज पर व्याज से है, इसमें निवेश की गई राशि से प्राप्त इंटरेस्ट को दोबारा इन्वेस्ट करने से व्याज प्राप्त होता है इस प्रकार यह compounding का भी फायदा देता है।

निवेश की लागत पर लाभ Profit of Investment

हमें पता नही होता कि कौन सा समय निवेश के लिए अच्छा है, देखा जाये तो निवेश करने का सबसे अच्छा टाइम वही है आप जब तैयार हो तब निवेश करे। बाजार कम होने पर आप ज्यादा यूनिट को खरीद सकते है। इससे आपके द्वारा निवेश की गयी राशि के बढ़ने के चांस ज्यादा बढ़ जाते है।

ऑनलाइन SIP करने का तरीका Process for Online SIP in Hindi

सिप (SIP) करने के लिए आप अपनी पसंद के म्यूचुअल फंड कंपनी की वेबसाइट पर जाकर और साइन अप करके अपना अकाउंट बना सकते है।

साइन अप करने के बाद आपको अपने उस बैंक खाते की डिटेल्स देनी होगी जिससे SIP की रकम निकाली जाएगी इसके बाद KYC करवाना होगी केवाईसी आप ऑनलाइन वेबसाइट पर या किसी एजेंट के माध्यम से भी करा सकते हैं। 

इसके बाद अपनी रिस्क कैपेसिटी के अनुसार SIP चुनना होगा अगर आप ज्यादा रिस्क ले सकते हैं तो इक्विटी लिंक्ड फंड सही साबित हो सकते है कम रिस्क लेने के उद्देश्य से बैलेंस्ड फंड सही साबित हो सकते है इसके बाद आपके निवेश की जाने वाली धनराशि को सेलेक्ट करने की आवश्यकता है यह प्रक्रिया representative के माध्यम से भी पूरी की जा सकती है। 

आप बिरला सन लाइफ म्यूचुअल फंड, क्वांटम म्यूचु्ल फंड के अलावा कैम्स (CAMS) और कार्वी की बेवसाइट पर जाकर भी E-KYC की प्रक्रिया को पूरी कर सकते हैं इसके लिए आपको बेसिक जानकारी और पैन और एड्रेस प्रूफ की सॉफ्ट कॉपी अपलोड करनी होगी साथ ही वीडियो वेरिफिकेशन भी किया जायेगा।

क्या करें Do’s

छोटी राशि से शुरू करें Start with a small amount

हमेशा छोटी राशि से शुरुआत करें क्योकि नए निवेशक के रूप में आप चीजों को सीखते है और नुकसान होने की दशा में बड़े निवेश की तुलना में आपको ज्यादा नुकसान का सामना नहीं करना पड़ेगा।

स्वचालित निवेश करे Automate Investments

SIP में निवेश करने के लिए आपको एक निश्चित राशि और एक निश्चित समय चुनना होता है। आप समय साप्ताहिक / मासिक / त्रैमासिक / अर्ध-वार्षिक या वार्षिक आधार पर चुन सकते है फिर उसके बाद आपको समय-समय पर वह निश्चित राशि जमा करनी होती थी और आप जब आपकी समय अवधि पूरी हो जाती है।

और पढ़ें -  CIBIL Score क्या होता है? पूरी जानकारी (in Hindi)

हमेशा धैर्य रखें Always be patient

लगातार आगे बढ़ने के लिए धेर्य रखे क्योंकि निवेश के क्षेत्र में एक बात हमेशा कही जाती है ‘slow and steady wins the race‘ मतलब ये कि जो व्यक्ति धीमी और स्थिर दौड़ दौड़ता है वही जीतता है इसीलिए हमेशा धैर्य रखें।

गलतियाँ जिनसे बचें Avoid Mistakes During Busing SIPs 

अपने जोखिम से ज्यादा निवेश करना Investment more than capacity

अक्सर देखने में आता है की ज्यादा फायदे के चक्कर में निवेशक ज्यादा निवेश कर बैठता है जिसकी बजह से उसे नुक्सान का सामना करना पड़ता है इसीलिए अपने वर्तमान आर्थिक स्थिति को देखकर ही निवेश की धनराशि का चुनाव करें।

लम्बे समय तक निवेश न करना Investment for Short Period

अधिकतर निवेशक लम्बे समय तक निवेश न करके बहुत ही कम समय के लिए निवेश करते है जिसके कारण उन्हें ज्यादा लाभ नही हो पाता क्योकि वो यह समझ ही नही पाते की जितने ज्यादा समय तक उनका पैसा इन्वेस्ट रहेगा उतना ही उन्हें लाभ होगा।

उदाहरण के लिए आप हर माह 1000/- का इन्वेस्ट मेंट करते है तो एक साल में आपको 12% इंटरेस्ट के हिसाब से कुल 12809/- मिलेंगे जब की निवेश की अवधि यदि 5 साल कर दी जाये तो 82,486/- मिलेंगे और यदि अवधि को 10 साल कर दिया जाये तो करीब 2,32,000/- मिलेंगे इसीलिए निवेश करने का आदर्श तरीका यही है कि इसमें लंबी अवधि के लिए निवेश बनाए रखा जाए।

सिप तो सिर्फ छोटी जरूरतों के लिए Only for Small Requirement

लोगो की यह धारणाएं है की सिप (SIP) केवल छोटी जरुरत को पूरा करने के लिए ही मात्र है लेकिन असल में ऐसा नही है यह केवल छोटी रकम निवेश करने के लिए ही डिजाइन नही कि गयी है बल्कि हकीकत यह है कि इसे उन निवेशकों को एसआईपी से बड़े पैमाने पर जुडऩे का प्रोत्साहन देने के लिए तैयार किया गया है।

जो मात्र 1000 रुपए में भी इक्विटी मार्केट का लाभ उठाने के इच्छुक हैं। आपका एसआईपी कमिटमेंट आपकी वर्तमान वित्तीय परिस्थिति और जिसके लिए आप एसआईपी प्रारंभ करना चाहते हैं, उस लक्ष्य के आधार पर निर्धारित होना चाहिए। एसआईपी में निवेश करने की कोई ऊपरी सीमा नहीं है।

यदि आप अगले 15 सालों में एक ठोस धनराशि कमाना चाहते है तो आप 1.5 लाख/प्रतिमाह की एसआईपी भी शुरू कर सकते हैं, जो 12%की वार्षिक इंटरेस्ट से 15 सालों में 75 लाख के करीब होगी।

निष्कर्ष Conclusion

दोस्तों यह थी एसआईपी या सिप क्या है? What is SIP in Hindi? तथा इसके विषय में पूरी जानकारी। लेख कैसा लगा कमेंट करके जरुर बताये और ज्यादा से ज्यादा लोगो को शेयर करें जिससे लोगो को sip के बारे में जानकारी हो सके।

Mutual Fund investments are subject to market risks, read all scheme related documents carefully.

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.