अम्बेडकर जयंती पर भाषण Speech on Ambedkar Jayanti in Hindi

इस लेख में आप डॉ. बी. आर अम्बेडकर जयंती पर भाषण Speech on Ambedkar Jayanti in Hindi पढ़ सकते हैं। इसमें हमने स्पीच के कई प्रकार (600 शब्द /200 शब्द) लिखें हैं जिससे छात्र अपने स्कूल क्लास के अनुसार चुन कर सीख सकते हैं।

हर साल 14 अप्रैल को अम्बेडकर जयंती मनाई जाती है। भीमराव अम्बेडकर का जन्म 14 अप्रैल, 1891 को हुआ था। डॉ. बी.आर. अम्बेडकर को व्यापक रूप से “भारतीय संविधान के पिता” के रूप में माना जाता है।

वह हिंदू धर्म की सभी जातियों और महिलाओं के अधिकारों की समानता के कट्टर समर्थक थे। डॉ. बी.आर. अम्बेडकर स्वतंत्रता के बाद भारत के पहले कानून मंत्री चुने गए थे। वह एक वकील, एक अर्थशास्त्री और एक समाज सुधारक थे।

ऐसे युवक के लिए उनके पास उल्लेखनीय रूप से आगे की सोच वाले विचार थे। कई लोग उनके महान उदाहरण से प्रेरित हैं। 2015 से, अम्बेडकर जयंती को राष्ट्रीय अवकाश के रूप में मनाया जाता है।

कक्षा 7, 8, 9, 10, 11 और 12 के छात्रों को अम्बेडकर जयंती पर लंबे भाषण (600 words) से मदद मिलेगी। कक्षा 1, 2, 3, 4, 5 और 6 के छात्रों को अंबेडकर जयंती पर एक लघु भाषण (200 words) से लाभ होगा।

अम्बेडकर जयंती पर भाषण (600 Words) Long Speech on Ambedkar Jayanti in Hindi

आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय, अध्यापक गण, मेरे प्रिय साथियों, तथा यहां मौजूद सभी लोगों को सुप्रभात। मेरा नाम (आपका नाम) है, और मैं आपसे अम्बेडकर जयंती के बारे में बात करना चाहता हूँ।

हर साल 14 अप्रैल को, डॉ भीमराव रामजी अम्बेडकर, जिन्हें आमतौर पर बाबासाहेब अम्बेडकर के नाम से जाना जाता है, की जयंती को चिह्नित करने के लिए पूरे देश में अम्बेडकर जयंती मनाई जाती है। 14 अप्रैल, 1891 को उनका जन्म हुआ था।

और पढ़ें -  अंगदान पर भाषण Speech on Organ Donation in Hindi

डॉ. बी.आर. अम्बेडकर को भारतीय संविधान को तैयार करने में उनके काम के लिए “भारतीय संविधान के पिता” के रूप में मान्यता प्राप्त है। भारत के संविधान का भारत की स्वतंत्रता की सफलता में बहुत बड़ा हाथ है।

डॉ. बी.आर. अम्बेडकर स्वतंत्रता के बाद देश के पहले कानून मंत्री भी थे। वे एक सच्चे समाज सुधारक थे। उन्होंने हिंदू समाज में और समग्र रूप से भारतीयों के सभी जातियों के बीच समानता के लिए लड़ाई लड़ी।

डॉ बी आर अम्बेडकर ने भारतीय संविधान लिखकर सभी भारतीयों को समानता और बंधुत्व सिखाया, जिसकी प्रस्तावना यह घोषणा करती है कि कानून की नजर में सभी भारतीय समान हैं और सभी भारतीय बंधुत्व की अवधारणा के माध्यम से एक विशाल परिवार का गठन करते हैं।

उन्होंने लोगों में जो सही है उसके लिए आगे आकर खड़े होने की जरूरत पैदा की। उन्होंने उन नीतियों की वकालत की जिनसे निम्नतम जातियों, दलितों को लाभ हुआ। उन्होंने जाति विरोधी आंदोलन और दलित बौद्ध आंदोलन सहित विभिन्न आंदोलनों का आयोजन किया।

प्रतिवर्ष डॉ. बी.आर. अम्बेडकर जयंती के अवसर पर, भारत के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और आम जनता उन्हें श्रद्धांजलि देते हैं। डॉ बी आर अम्बेडकर के आदर्शों को बढ़ावा देने और फैलाने के लिए स्कूलों, कॉलेजों तथा अन्य शैक्षणिक संस्थानों में कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

निम्न वर्ग से होने के कारण उनका पालन-पोषण बहुत कठिन रूप से हुआ था। इसीलिए निचली जातियों के प्रति उनकी उदारता व सहानुभूति थोड़ी अधिक थी। डॉ. बी.आर. अम्बेडकर को व्यापक रूप से समानता और समाज सुधार के प्रतीक के रूप में माना जाता है।

अम्बेडकर जी नें देश के पहले कानून मंत्री बनने के बाद और भारतीय संविधान के लेखन के माध्यम से सभी को समान अवसर प्रदान करने का प्रयास करके भविष्य को प्रभावित किया।

उनके नक्शेकदम पर चलते हुए, कई व्यक्तियों ने बौद्ध धर्म के पक्ष में हिंदू धर्म को त्याग दिया, जो लोगों को जातियों में विभाजित नहीं करता है। वह दलितों सहित सभी दलित और गरीब निचली जातियों की आवाज थे।

और पढ़ें -  गणतंत्र दिवस पर श्रेष्ठ 21 सुविचार महापुरुषों द्वारा 26 January Republic day quotes in Hindi and English

डॉ. बी.आर. अम्बेडकर ने दो साल तक मुंबई के गवर्नमेंट लॉ कॉलेज के प्रिंसिपल के रूप में कार्य किया।
वह भारत के बाहर किसी विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त करने वाले पहले भारतीय भी थे।

दलित उत्थान की अपनी इच्छा के कारण, उन्होंने निचली जातियों के व्यक्तियों के लिए अलग आरक्षित सीटों की स्थापना की। निचली जातियों के लिए अलग आरक्षण की बात से गांधी जी बिल्कुल सहमत नहीं थे।

वह भारतीय संविधान की धारा 370 के विरोधी थे, जो जम्मू और कश्मीर राज्य को अद्वितीय शक्तियां प्रदान करती थी। जम्मू और कश्मीर से 5 अगस्त, 2019 को धारा 370 हटाई जा चुकी है। यह दर्शाता है कि उनके विचार कितने सटीक और दूरदर्शी थे।

1990 में, उन्हें भारतीय सुधारों में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। डॉ. बी.आर. अम्बेडकर को आज भी समानता का प्रतीक और मानवाधिकारों का हिमायती माना जाता है।

उनके कार्यों और विचारों का प्रभाव आम जनता पर पड़ता रहता है। उनकी दूरदर्शिता और मूल्य आज भी प्रासंगिक हैं। कई लोग, जिनमें मैं भी शामिल हूं, उन्हें एक आदर्श के रूप में देखते हैं।

आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

अम्बेडकर जयंती पर भाषण (200 Words) Short Speech on Ambedkar Jayanti in Hindi

आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय, अध्यापक गण, मेरे प्रिय साथियों, तथा यहां मौजूद सभी लोगों को नमस्कार। मेरा नाम (आपका नाम) है। मैं अंबेडकर जयंती पर अपने कुछ शब्द प्रस्तुत करने आया हूं।

प्रतिवर्ष 14 अप्रैल को अंबेडकर जयंती विश्व भर में मनाई जाती है। भीमराव अम्बेडकर का जन्म 14 अप्रैल, 1891 को हुआ था।

डॉ. बी.आर. अम्बेडकर को व्यापक रूप से “भारतीय संविधान के पिता” के रूप में माना जाता है। वह हिंदू धर्म की सभी जातियों और महिलाओं के अधिकारों की समानता के कट्टर समर्थक थे।

डॉ. बी.आर. अम्बेडकर स्वयं निम्न जाति से आते थे। बचपन से ही उन्हें कठोर परिस्थितियों का शिकार होना पड़ा है। उन्होंने निचली जातियों को ऊपर उठाने में बहुत मेहनत किया। उन्होंने तथाकथित निचली जातियों के मौलिक अधिकारों की रक्षा के लिए कई कानून बनाए।

और पढ़ें -  रक्तदान के फायदे : रक्तदान महादान Importance of Blood Donation in Hindi

वह भारतीय संविधान के निर्माण में एक प्रमुख व्यक्ति थे, जो हमारे देश के शासन की नींव के रूप में कार्य करता है। कई अन्य लोगों ने उनके पदचिन्हों पर चलकर समानता का मार्ग पाया है। अपने मजबूत व्यक्तित्व और निष्पक्षता की भावना के कारण वे एक उल्लेखनीय व्यक्ति थे।

हर साल 14 अप्रैल को, अम्बेडकर जी के महान कार्यों को याद करते हुए उनकी जयंती मनाई जाती है। हम भाग्यशाली हैं कि हमारे बीच ऐसे अद्भुत व्यक्ति के विचार और ज्ञान आज भी जीवित है। आईए आज हम उन्हें याद करें और उनके नक्शेकदम में चलने का प्रण लें।

आपका सभी का बहुत बहुत धन्यवाद।

आशा करते हैं आपको यह दोनों अम्बेडकर जयंती पर भाषण Speech on Ambedkar Jayanti in Hindi पसंद आए होंगे।

2 thoughts on “अम्बेडकर जयंती पर भाषण Speech on Ambedkar Jayanti in Hindi”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.