आइसक्रीम बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें How to Start Ice Cream Making Business in Hindi

आइसक्रीम बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें How to Start Ice Cream Making Business in Hindi

आइसक्रीम भारत ही नही बल्कि विदेशों में भी लोगो को बहुत ही पसंद है। आइसक्रीम को खाने में हर कोई रूचि रखता है, चाहे वो बच्चा हो या कोई बड़ा व्यक्ति। आज हम आइसक्रीम के बनाने के बिजनेस के बारे में ही बात करेंगे, कि कैसे कोई इस बिजनेस को शुरू कर सकता है।

दोस्तों ये एक ऐसा बिजनेस है जो आप कम लागत में भी शुरू कर सकते है और जैसे जैसे आप को मुनाफा हो आप अपनी पूंजी को बढ़ा भी सकते है। वैसे तो बहुत से छोटे छोटे लघु उद्योग है जो आप कम लागत में और कम जगह में शुरू कर सकते है। उनमे ही एक आइसक्रीम का भी बिजनेस है।

भारत में आइसक्रीम की डिमांड

आइसक्रीम एक ऐसा फ़ूड है जिसकी गर्मियों के मौसम में बहुत ही डिमांड होती है। और सर्दियों के मौसम में भी डिमांड बनी रहती है। लेकिन गर्मियों की तुलना में कुछ कम डिमांड होती है। आमतौर पर तो लोग आइसक्रीम तो खाते ही है लेकिन आजकल शादियों और पार्टियों में भी आइसक्रीम की डिमांड बहुत ही ज्यादा है और इससे पता चलता है लोगो को आइसक्रीम कितना पसंद है।

आइसक्रीम के बिजनेस में अगर आप को सफल होना है तो अपने आइसक्रीम की क्वालिटी अच्छी रखे और रेट मीडियम रखे। आजकल बाजार में कई आइसक्रीम बनाने वाली कंपनी मौजूद हैं। जैसे – मदर डेयरी,  क्वालिटी वॉल्स,  वाडीलाल, अमूल,  हेवमोर आदि। आप भी चाहे तो इस तरह की आइसक्रीम बना सकते है और अपना एक अलग ब्रांड भी बना सकते है।

और पढ़ें -  जी इ एम - गवर्नमेंट ई मार्केट की जानकारी GeM Government e-Market Place Portal Details Hindi

आइसक्रीम बनाने के बिजनेस के लिए लाइसेंस

भारत में किसी भी खाने की चीज को बेचने के लिए सरकारी लाइसेंस की आवश्यकता पड़ती है और ये लाइसेंस FSSAI नामक संस्था द्वारा दिया जाता है। अगर आप को FSSAI के द्वारा लाइसेंस लेना है तो उसके लिए आप को ऑनलाइन आवेदन करना होगा।

आवेदन करने पर FSSAI द्वारा आप के द्वारा बने गई आइसक्रीम के सैम्पल का जाँच करेगी और उसकी क्वालिटी सही होने पर आप को इसका लाइसेंस मिल जायेगा और आप अपनी आइसक्रीम बेच सकेंगे, लेकिन इस बात का ध्यान रखे कि यदि क्वालिटी अच्छी नही हुई तो वो आप का आवेदन रद्द भी कर सकते है।

आइसक्रीम मेकिंग बिजनेस के लिए सही जगह

अपनी आइसक्रीम का बिजनेस शुरू करने से पहले आप को एक अच्छी जगह चुननी होगी क्योकि व्यापार के लिए एक सही जगह का होना बहुत ही जरुरी हो। इस बात का ध्यान रखे कि उस जगह पर पानी और बिजली को व्यवस्था हो और वो ऐसी जगह पर होना चाहिए जहाँ से अपने आइसक्रीम को ले जाने में कोई दिक्कत न हो।

कर्मचारी का चयन

आइसक्रीम मेकिंग बिजनेस में आप उन्ही लोगो को चुने, जिनको आइसक्रीम बनाने का काम आता हो और वे आइसक्रीम की मशीन चलने में कुशल हो।

आइसक्रीम बिजनेस  मे लागत

आइसक्रीम का बिजनेस शुरू करने के लिए कम से कम 5 लाख रुपये की आवश्यकता होगी। क्योकि इस बिजनेस में कई मशीने, आइसक्रीम बनाने के लिए सामग्री और कर्मचारियों का वेतन आदि जैसे खर्चे।

आप इस बिजनेस को शुरू करने के लिए भारत सरकार द्वारा कई प्रोग्राम चलाये जाते है जो स्वरोजगार को बढ़ावा देता है और इसके लिए आप को लोन भी देता है। भारत सरकार इसके लिए बहुत से नए नए प्लान लाया करती है।

आइसक्रीम बनाने में आवश्यक सामग्री

आइसक्रीम बनाने में बहुत सी चीजो की जरुरत पड़ती है। जैसे –  दूध, दूध का क्रीम, पाउडर, मक्खन, चीनी, अंडे, कलर पाउडर और फ्लेवर पाउडर आदि की जरुरत पड़ती है। ये सभी सामान बाजार में आसानी से मिल जाते है।

और पढ़ें -  पापड़ का व्यापार कैसे शुरू करे How to Start Papad Business in Hindi

आइसक्रीम बनाने के लिए मशीन

आइसक्रीम बनाने में कई तरह की मशीनों की जरूरत पड़ती है। जिससे आसानी से आइसक्रीम बने जा सकती है।

ये मशीने इस प्रकार है :

  • फ्रिज
  • मिक्सार
  • कूलर कंडेंसर
  • थर्मोकोल आइस कूलर बॉक्स
  • ब्रिन टैंक

ये सभी मशीने आप को आसानी से मिल जाएँगी आप चाहे तो इसके ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों तरह से खरीद सकते है। इन मशीनों की कीमत लगभग 2 लाख तक आयेगी।

आइसक्रीम बनाने की विधि

आइसक्रीम को बनाने की प्रक्रिया कई चरण में नीचे दी गई है

  • मिश्रण बनाना – आइसक्रीम बनाने के लिए सबसे पहले एक मिश्रण तैयार करना होता है जिसमे एक ब्लेंडर में दूध, चीनी और अंडे डालकर उसको अच्छे से मिलाते है।
  • पश्चुरिकरण प्रक्रिया – इस प्रक्रिया में मिश्रण को अच्छे से उबालते है। ताकि मिश्रण में उपस्थित पैथोजेनिक बैक्टेरिया मर जाये।
  • होमोजीनाइजेशन प्रक्रिया – इस प्रक्रिया के अंतर्गत दूध में उपस्थित वसा(Fat) को समाप्त किया जाता है और इसे एक यूनिफार्म टेक्सचर दिया जाता है। इस मिश्रण को रातभर 5 डिग्री सेल्सियस पर रखा जाता है
  • लिक्विड फ्लेवर और कलर –  आइस्क्रेम में अपने कलर और फ्लेवर के अनुसार उसमे फ्लेवर सौर कलर मिलाया जाता है इसके बाद आइसक्रीम को ज़माने के लिए उसे फ्रीजर में डाल देते है। आइसक्रीम जैम जाने के बाद इसको बाहर निकाल लिया जाता है और इसको पैक कर दिया जाता है।

आइसक्रीम की पैकिंग

आइसक्रीम तैयार होने के बाद इसको पैक किया जाता है। आइसक्रीम की पैकिंग कई तरह से होती है। महंगी आइसक्रीम की पैकिंग महंगी डिब्बे में होती है और सस्ती वाली का नार्मल तरीके से पैकिंग होता है।

आइसक्रीम मेकिंग बिजनेस में लाभ

आइसक्रीम के बिजनेस में मुनाफा आप की मार्केटिंग पर निर्भर करता है और इसके साथ साथ इस पर भी निर्भर करता है कि आप ने अपने आइसक्रीम में क्या सामग्री डाली है। यदि आप सस्ती सामग्री का उपयोग करेंगे तो आप को मुनाफा ज्यादा होगा और यदि महंगी सामग्री का उपयोग करेंगे तो आप का मुनाफा कम मिलेगा।

और पढ़ें -  प्लांट नर्सरी व्यापार क्या है? कैसे करें और फायदे What is Plant Nursery Business in Hindi? How to Start and Its benefits

सावधानियां

आइसक्रीम बनाते समय सभी तरह की साफ़ सफाई का ध्यान रखे और सभी तरह के सामग्री डाले ताकि आइसक्रीम की क्वालिटी में कोई कमी ना आये। इसके साथ साथ आइसक्रीम के पैकिंग में भे सावधानी बरतनी चाहिए।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.