सुभाष चन्द्र बोस से जुड़े हुये तथ्य Subhash Chandra Bose Facts in Hindi

सुभाष चन्द्र बोस से जुड़े हुये तथ्य Subhash Chandra Bose Facts in Hindi

सुभाष चन्द्र बोस भारत के अग्रणी और महान नेता थे जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता के लिये अपने प्राण न्योछावर कर दिए आइये आज हम आपके साथ सुभाष चन्द्र बोस से जुड़े हुये कुछ तथ्यों के बारे में जानते है। 

सुभाष चन्द्र बोस से जुड़े हुये तथ्य Subhash Chandra Bose Facts in Hindi

आईये जानते हैं सुभाष चन्द्र बोस से जुड़े हुये कुछ तथ्य जो आपको शायद ही पता होंगे –

  1. 23 जनवरी 1897 को सुभाष चन्द्र बोस का जन्म बंगाल के प्रांत उड़ीसा के कटक जिले में हुआ था।
  2. सुभाष चन्द्र बोस के पिता का नाम जानकीनाथ बोस था, उनकी माँ का नाम प्रभावती देवी था। 
  3. सुभाष चन्द्र बोस 14 भाई बहन थे।
  4. जनवरी 1902 में प्रोटेस्टेंट यूरोपियन स्कूल में उनका दाख़िला हुआ।
  5. 1909 तक प्रारंभिक शिक्षा ग्रहण करने के बाद सुभाष चन्द्र बोस का दाख़िला रेवेंशॉव कॉलेजिएट स्कूल में हुआ तभी उनके प्रधानाध्यापक यह पहचान गये कि यह छात्र कितना प्रतिभाशाली है।
  6. 1913 में उन्होंने प्रेसीडेंसी कॉलेज की पढ़ाई के लिये दाख़िला लिया।
  7. नेता जी के पिता चाहते थे कि उनका बेटा I.C.S  बने और अपने पिता के सपने को पूरा करने के लिये उन्होंने दिल लगाकर पढ़ाई की और 1920 में वह इस परीक्षा में सफल भी हुये पर वे अंग्रेजों की ग़ुलाम में कोई कार्य नहीं करना चाहते थे इसलिए उन्होंने 1921 में इस नौकरी से त्याग कर दिया।
  8. 1933 में उनको अंग्रेजों द्वारा देश निकाला दे दिया गया फिर 1934 में उनके पिता ने अपना शरीर त्याग कर दिया।
  9. 1936 में वह दो बार भारत आये वे कांग्रेस के अधिवेशन में भाग लेना चाहते थे पर ब्रिटिश सरकार ने उन्हें दोनों बार गिरफ्तार करके भारत से बाहर भेज दिया।
  10. सुभाष चन्द्र बोस एक अयोग्य स्वराज के लिये खड़े हुये थे जो कि अंग्रेजों के खिलाफ था पर गाँधी जी उनको इस बात पर आपत्ति थी कि वह इस स्वराज के अध्यक्ष बने गाँधी जी चाहते थे कि सुभाष चन्द्र बोस एक अलग मंत्रिमंडल बनाये और अंग्रेजों के खिलाफ अपने हक़ के लिये लड़ाई करें। पर सुभाष चन्द्र बोस शांति बनाकर उनके साथ ही लड़ाई करना चाहते थे अंत में दोनों के बीच इस बात पर मन मुटाव हो गया क्योंकि 1939 में बोस को  कांग्रेस के अध्यक्ष पद के लिए चुन लिया गया हालाँकि गांधी जी ये पद किसी ओर को देना चाहते थे।
  11. उस समय मुत्थुरामालिंगम थेवर ने उनका साथ दिया और सारे दक्षिण भारतीय वोट उनके लिए जुटा लिये। 
  12. दुनिया की पहली महिला फ़ौजी का गठन नेता जी ने ही किया था।
  13. एल्डोल्फ़ हिटलर ही वह शख्स था जिसने सुभाष चन्द्र बोस को पहली बार नेताजी कहा था।
  14. सन 1939 में द्वितीय विश्व युद्ध के बाद सुभाष बोस ने एक बहुत बड़ा आन्दोलन चलाया उसमे उन्होंने भारत  देश के सभी नौजवानों को इकट्ठा करके अंग्रेजों के खिलाफ जागरूक किया इस आन्दोलन में भारतीय जनता अंग्रेजों के खिलाफ भड़क गयी जिस कारण अंग्रेजों ने  तुरंत ही नेताजी को जेल में डाल दिया तो नेताजी ने वहां भी दो सप्ताह तक भूख हड़ताल कर दी और खाना खाने से मना दिया और इस तरह उनकी हालत बिगड़ने लगी तो उन्हें वहां से रिहा कर दिया और एक घर में उनको नजर बंद कर दिया गया। उनके नजर बंद होने के दौरान भी उन्होंने वहां से भागने की कोशिश की। उस घर में उन्होंने योजना बनाई जिसके अनुसार वो वहां से भागने में सफल हुये और भागकर सबसे पहले वह  बिहार गये उसके बाद पेशावर तथा अंत में वे जर्मनी चले गये और वहां उनकी हिटलर से मुलाकात हुई।
  15. सन 1934 में वे आस्ट्रिया गये वहां उनकी मुलाकात एक टाइपिस्ट महिला से हुयी वह उस महिला से अपनी एक किताब टाइप करा रहे थे और 1942 में उन्होंने उसी महिला से प्रेम विवाह कर लिया। बेडगस्टिन नामक स्थान पर हिन्दू धार्मिक रीति रिवाज से उन्होंने विवाह रचाया उनकी पत्नी का नाम एमिली था और उनकी एक बेटी भी हुयी।
  16. 16 जुलाई 1921 को उन्हें 6 महीने के लिये जेल जाना पड़ा। अपने पूरे जीवनकाल में सुभाष चन्द्र बोस कुल 11 बार जेल गये। 
  17. वियेना नामक स्थान पर एमिली ने एक पुत्री को जन्म दिया।
  18. उन्होंने अपनी बेटी का नाम अनिता बोस रखा था।
  19. एक बार दिसम्बर 1921 में, जब वेल्स के एक राजकुमार आये तो उनके आने की ख़ुशी में उत्सव हो रहा था पर नेता जी ने उन्हें अनदेखा कर दिया तो उन्हें सजा में जेल में डाल दिया गया था।
  20. सन 1943 में सुभाष चन्द्र बोस ने दक्षिण-पूर्व एशिया में अपनी एक सेना तैयार की। जिसको उन्होंने आज़ाद हिंद फौज (Indian National Army) का नाम  दिया। 
  21. 5 जुलाई सन 1943 को नेता जी ने सिंगापुर के एक टाउन हाल के सामने अपनी सेना को संबोधित करते हुये “दिल्ली चलो” एक नारा दिया और जापानी सेना से ब्रिटिश और कामनवेल्थ सेना से बर्मा तक कोहिमा और इम्फाल में जमकर मोर्चा लिया।
  22. नेताजी ने भारत की जनता को भारत स्वतंत्र कराने के लिये जागरूक किया।
  23. अगस्त सन 1945 में ताइवान में विमान दुर्घटना में उनकी की मौत हो गयी।
  24. 1941 के समय कुछ इतिहास कारों का मानना है कि जब नेता जी ने  जर्मनी और जापान से  मदद मांगी तो ब्रिटिश सरकार ने अपने कुछ गुप्तचरों को उन्हें जान से मार डालने का आदेश दे दिया था।
  25. इस समय उनकी बेटी अनिता केवल पौने तीन साल की थी। फिर AICC के द्वारा 1964 तक उनकी बेटी को 6000 रुपये सालाना दिया गया। 1965 में उनकी बेटी की शादी हो गयी तो ये पैसे बंद हो गये।
  26. उनकी बेटी अनिता अभी ज़िन्दा है। उसका नाम अनिता बोस फाफ है वह अपने पिता के परिवार के लोगों से आज भी मिलने के लिये कभी-कभी भारत आती है।
  27. मई 1956 में शाह नवाज़ द्वारा एक कमेटी बनाई गयी।
  28. यह कमेटी सुभाष चन्द्र की मृत्यु के विषय का सही कारण पता लगाने के लिये जापान गई थी पर ताइवान के साथ भारत के अच्छे राजनीतिक सम्बन्ध ना होने के कारण उन्हें सही मदद न मिल सकी।
  29. सुभाष चन्द्र बोस की मृत्यु का रहस्य आज भी विवाद में है कि उनकी मृत्यु एक विमान दुर्घटना में हुयी थी पर भारत में रह रहे उनके परिवारजनों का आज भी यही मानना है कि सुभाष चन्द्र बोस की मौत इस विमान दुर्घटना में नहीं हुयी थी।
  30. उनकी मृत्यु 1945 में नहीं हुई थी, रूस में उनको उस समय नज़र बंद किया गया था  घरवालों का कहना है कि यदि ऐसा नहीं होता तो भारत सरकार ने उनकी मृत्यु से संबंधित दस्तावेज़ अब तक सार्वजनिक क्यों नहीं किये है।
  31. 18 अगस्त को जापान में हर वर्ष उनका शहीद दिवस बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है
  32. भारत के आज़ाद होने के 75 साल पूरे होने पर इतिहास में पहली बार 2018 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त के अलावा भी लाल किले पर एक बार फिर तिरंगा फहराया।
इसे भी पढ़ें -  बिरसा मुंडा की साहसिक कहानी व इतिहास Birsa Munda History and Story in Hindi

आशा करते हैं आपको – सुभाष चन्द्र बोस से जुड़े हुये तथ्य Subhash Chandra Bose Facts in Hindi, अच्छे लगे होंगे।

1 thought on “सुभाष चन्द्र बोस से जुड़े हुये तथ्य Subhash Chandra Bose Facts in Hindi”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.