Loading...

2017 स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध Swachh Bharat Abhiyan Essay Mission in Hindi

2
2017 स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध Swachh Bharat Abhiyan Essay Mission in Hindi

2017 स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध Swachh Bharat Abhiyan Essay Mission in Hindi

Featured Image Source – Wikimedia

स्वच्छ भारत अभियान क्या है ?

स्वच्छ भारत अभियान को क्लीन इंडिया मिशन (Clean India Mission) या क्लीन इंडिया ड्राइव या स्वच्छ भारत अभियान भी कहा जाता है। यह एक राष्ट्रीय स्तर का अभियान है, जो भारत सरकार द्वारा सभी पिछड़े बैधानिक कस्बों को साफ करने के लिए कवर करने के लिए चलाया जा रहा है।

इस अभियान में शौचालयों का निर्माण करवाना, ग्रामीण इलाकों में स्वच्छता कार्यक्रमों को बढ़ावा देना, सड़कों की सफाई करना और देश का नेतृत्व करने के लिए देश के बुनियादी ढांचे को बदलना शामिल है। यह अभियान आधिकारिक तौर पर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 2 अक्टूबर 2014 में महात्मा गांधी की 145वीं जयंती पर राजघाट, नई दिल्ली में शुरू किया था।

2017 स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध Swachh Bharat Abhiyan Essay Mission in Hindi

स्वच्छ भारत अभियान की आवश्यकता क्यों है?

भारत में स्वच्छ भारत अभियान लगातार चलाने की आवश्यकता है जब तक कि लक्ष्य प्राप्त न हो जाये। भारत के लोगों के लिए यह बहुत ही आवश्यक है कि वह भावनातमक शारीरिक, मानसिक, सामाजिक और बौद्धिक रूप से अच्छा महसूस करें। वास्तविक मायने में भारत में रहन सहन की स्थिति अग्रिम बनाना जरूरी है, जो कि स्वच्छता लाकर शुरू की जा सकती है।

नीचे कुछ बिंदुओं का उल्लेख किया गया है जो भारत में स्वच्छ भारत अभियान की जरूरी आवश्यकता को साबित करता है:

भारत में खुले शौच को खत्म करना और साथ ही हर किसी को शौचालय सुविधा उपलब्ध कराना वास्तव में बहुत ही आवश्यक है।
भारत में शौचालयों को फ्लशिंग शौचालयों में परिवर्तित करने की आवश्यकता है। मैनुअल स्केवेंजिंग सिस्टम को समाप्त करना आवश्यक है।

Loading...

सभी बर्बाद चीजें वैज्ञानिक प्रक्रियाओं द्वारा ठोस अपशिष्टों के रीसाइक्लिंग के माध्यम से पुन: उपयोग लायक बनाना आवश्यक है। अपशिष्ट प्रबंधन को लागू करना चाहिए।

भारतीय लोगो में व्यवहारिक बदलाव लाने के लिए व्यक्तिगत स्वच्छता और स्वस्थ स्वच्छता के तरीकों के अभ्यास किया जाना चाहिए।
इसका उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में आम जनता के रहने के लिए वैश्विक जागरूकता पैदा करना है और इसे सार्वजनिक स्वास्थ्य से जोड़ने के लिए बनाया गया है।

यह भी पढ़े -   प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana in Hindi

यह बर्बाद चीजों को स्थानीय स्तर पर अपशिष्ट निपटान प्रणाली को डिजाइन, निष्पादित और संचालित करने में मदद करता है।
यह भारत में स्वच्छता की सुविधा विकसित करने के लिए निजी क्षेत्रों की भागीदारी को शामिल करने के लिए शुरू किया गया है।
यह अभियान भारत को स्वच्छ और हरा भरा बनाने के लिए शुरू किया गया है।

ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करना आवश्यक है। यह स्वास्थ्य शिक्षा जैसे जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से समुदायों और पंचायती राज संस्थानों को प्रेरित करके स्थायी स्वच्छता को लाने के लिए शुरू किया गया है।
यह वास्तव में बापू का सपना सच साबित करने के लिए है।

शहरी क्षेत्रों में स्वच्छ भारत अभियान

शहरी क्षेत्रों के स्वच्छ भारत मिशन का लक्ष्य लगभग 1।04 करोड़ परिवारों को और 2।6 लाख सार्वजनिक शौचालय और साथ ही साथ 2।5 लाख समुदाय शौचालयों को प्रत्येक शहर में ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के साथ उपलब्ध कराने का है।

आवासीय क्षेत्रों में सामुदायिक शौचालयों का निर्माण करने की योजना बनाई गई है जहां व्यक्तिगत घरों के शौचालयों की उपलब्धता मुश्किल है बस स्टेशनों, पर्यटन स्थल, रेलवे स्टेशन, बाजार आदि सहित निर्दिष्ट स्थानों पर सार्वजनिक शौचालय बनाये जा रहे हैं।

शहरी क्षेत्रों में स्वच्छता कार्यक्रम में लगभग 4,401 कस्बों को 2019 तक पांच वर्षों में पूरा करने की योजना बनाई गई है। कार्यक्रमों की लागत ठोस कचरा प्रबंधन पर 7,366 करोड़ रुपये, सार्वजनिक जागरूकता पर 1,828 करोड़, सामुदायिक शौचालयों पर 655 करोड़ रुपये, व्यक्तिगत घरेलू शौचालयों पर 4,165 करोड़ रुपये की राशि निर्धारित की गयी है।

कार्यक्रम जिन्हें पूरा करने के लिए लक्षित किया गया है, वह हैं खुले में शौचालय को पूरी तरह से हटाना, गंदे शौचालयों को फ्लश शौचालयों में परिवर्तित करना, मैनुअल स्केवेन्गिंग को समाप्त करना, सार्वजनिक रूप से व्यवहारिक परिवर्तन लाने, और ठोस अपशिष्ट प्रबंधन लाना आदि।

ग्रामीण स्वच्छ भारत मिशन

ग्रामीण स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता कार्यक्रमों को लागू करने वाला मिशन है। इससे पहले निर्मल भारत अभियान (जिसे कुल स्वच्छता अभियान भी कहा जाता है, टीएससी) 1999 में भारत सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों को साफ करने के लिए स्थापित किया था, लेकिन अब इसे स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) में पुनर्गठन किया गया है।

इस अभियान का लक्ष्य है कि 2019 तक ग्रामीण क्षेत्रों को खुले शौचालय से मुक्त किया जा सके, जिसके लिए देश में 11 करोड़ 11 लाख शौचालयों के निर्माण के लिए लगभग एक लाख तीस हजार करोड़ रूपए लागत अनुमान लगाया गया। यह कचरे को जैव उर्वरक और उपयोगी ऊर्जा रूपों में परिवर्तित करने की एक बड़ी योजना है। इस अभियान में ग्राम पंचायत, पंचायत समिति और जिला परिषद की भागीदारी भी शामिल है।

यह भी पढ़े -   महिला सशक्तिकरण पर नारे सुविचार Women Empowerment Quotes in Hindi

ग्रामीण स्वच्छ भारत मिशन का उद्देश्य हैं

ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करना। 2019 तक स्वच्छ भारत को पूरा करने के लिए और ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता बनाए रखने के लिए लोगों को प्रेरित करना। आवश्यक टिकाऊ स्वच्छता सुविधाओं को उपलब्ध कराने के लिए स्थानीय कार्यरत निकायों (जैसे कि समुदायों, पंचायती राज संस्थानों आदि) को प्रेरित करना।

ग्रामीण इलाकों में ठोस और तरल अपशिष्ट प्रबंधन पर ध्यान केंद्रित करने के लिए समुदाय द्वारा अग्रिम पर्यावरणीय स्वच्छता प्रणालियों का प्रबंध करना। ग्रामीण क्षेत्रों में पारिस्थितिक रूप से सुरक्षित और स्थायी स्वच्छता को बढ़ावा देना।

स्वच्छ भारत-स्वच्छ विद्यालय अभियान

स्वच्छ भारत स्वास्थ्य विद्यालय अभियान केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा चलाया जाता है, जिसमें स्कूलों में स्वच्छता मुख्य उद्देश्य हैं। इसके तहत एक बड़ा कार्यक्रम 25 सितंबर 2014 से 31 अक्टूबर 2014 तक केन्द्रीय विद्यालयों और नवोदय विद्यालय संघों में आयोजित किया गया था, जहां कई स्वच्छता गतिविधियां आयोजित की गईं, जैसे छात्रों द्वारा स्कूल विधानसभा में विभिन्न सफाई पहलुओं पर चर्चा, स्वच्छता और स्वच्छता के विषयों पर महात्मा गाँधी की शिक्षाएं पुस्तकालयों, प्रयोगशालाओं, रसोई शेड स्टोर, खेल के मैदानों, उद्यान, शौचालयों, पेंट्री क्षेत्रों, आदि में स्वच्छता और स्वच्छता के विषयों से संबंधित , स्कूल क्षेत्र में सफाई पर योगदान पर भाषण स्वच्छता और स्वच्छता पर अन्य कई गतिविधियों सहित स्वच्छ लोगों से संबंधित निबंध लेखन, प्रतियोगिता, बहस, कला, पेंटिंग, फिल्म, शो, भूमिका, को शामिल किया गया है।

सप्ताह में दो बार विद्यालयों में आधे घंटे की सफाई अभियान आयोजित करने की योजना बनाई गई है, जिसमें शिक्षकों, छात्रों, माता-पिता और सामुदायिक सदस्यों द्वारा सफाई गतिविधियों को शामिल किया गया है।

स्वच्छ भारत उपकर: भारत में सभी सेवाओं पर स्वच्छ भारत 5% सेवा कर है। यह स्वच्छ भारत अभियान के लिए प्रत्येक भारतीय नागरिक से कुछ फंड एकत्र करने के लिए वित्त मंत्रालय द्वारा शुरू किया गया था ताकि इसे सफल अभियान बनाया जा सके। प्रत्येक व्यक्ति को इस स्वच्छता अभियान के लिए प्रत्येक 100 रुपये के लिए अतिरिक्त 50 पैसे सेवा कर देना होगा।

उत्तर प्रदेश में एक और सफाई की पहल

मार्च 2017 में योगी आदित्यनाथ (उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री) ने स्वच्छता सुनिश्चित करने के लिए सरकारी कार्यालयों में चबाने वाला पान, पान मसाला, गुटका और अन्य तम्बाकू उत्पादों (विशेषकर ड्यूटी के घंटों में) पर प्रतिबंध लगा दिया है। उन्होंने सेक्रेटरीयेट एनेक्स इमारत में अपनी पहली यात्रा के बाद इस पहल की शुरुआत की, जब उन्होंने दाग वाली दीवारों और कोनों को देखा।

यह भारत के उन्नति की ओर एक अभूत बड़ा कदम है जो जरूर भारत को बहुत आगे ले कर जायेगा।  जितना हो सके इस पोस्ट को शेयर करें और भारत को आगे ले जाने में अपना योगदान दें।

Print Friendly, PDF & Email
Loading...
Load More Related Articles

2 Comments

  1. Lakshya Soni

    May 23, 2017 at 2:16 pm

    Nice essay I Am very happy to write this

    Reply

  2. राम नारायण प्रधान

    July 12, 2017 at 6:37 am

    यह अच्छा लेख है ।पर्याप्त जानकारी मिला। कृपया स्वच्छ भारत विज्ञानं एवम् तकनीक की भूमिका chunouti एवम् सम्भावना पर लेख लिखें ।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

दिवाली में पटाखों का उपयोग क्यों ना करें? Say No to Crackers this Diwali in Hindi

दिवाली में पटाखों का उपयोग क्यों ना करें? Say No to Crackers this Diwali in Hindi पटाखों क…