बातूनी कछुए की कहानी Talkative Tortoise Panchatantra Moral Story in Hindi

आज हम आपको – ज्ञानवर्धक कहानी – बातूनी कछुए की कहानी Talkative Tortoise Panchatantra Moral Story in Hindi बताएँगे.

बातूनी कछुए की कहानी Talkative Tortoise Panchatantra Moral Story in Hindi

कहानी शीर्षक – बातूनी कछुआ

एक बार एक समय पर कंबुग्रीव नामक कछुआ एक झील के पास रहता था।  दो सारस पक्षी जो उसके दोस्त थे उसके साथ झील में रहते थे। एक बार गर्मियों में, झील सूखने लगी, और उसमें जानवरों के लिए थोड़ा सा पानी बचा था।

सारस ने कछुए को बताया कि दूसरे वन में एक दूसरी झील है जहाँ बहुत पानी है, उन्हें जीवित रहने के लिए वहां जाना चाहिए। वे योजना के अनुसार कछुए के साथ वहां जाने के लिए तैयार हुए। उन्होंने एक छड़ी को लिया और कछुए को बिच में मुँह से पकड़कर रखने को कहा और कहा कि अपने मुंह को खोलना नहीं,चाहे कोई भी बात हो। कछुआ उनकी बात मान गया।

कछुए ने छड़ी के बिच को अपने दांतों से पकड़ा और दोनों सरसों ने छड़ी के दोनों कोने को अपने चोंच से पकड़ लिया। रास्ते में गांवों के लोग कछुए को उड़ते हुए देख रहे थे और बहुत आश्चर्यचकित थे। उन दो पक्षियों के बारे में जमीन पर एक हंगामा सा मच गया था जो एक छड़ी की मदद से कछुए को ले जा रहे थे।

सरसों की चेतावनी के बावजूद, कछुआ ने अपना मुंह खोला और कहा: “यह सब क्या हंगामा क्यों हो रहा है?” ऐसा कहते ही वह नीचे गिर गया और उसकी मौत ही गई।

कहानी से शिक्षा Moral of the Story

जितना आवश्यकता हो उतना ही बोलना चाहिए। बेकार की बात ज्यादा करने से हनी स्वयं को ही होती है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.