वचन की परिभाषा, भेद, नियम Vachan in Hindi VYAKARAN

आज के इस आर्टिकल में हां आपको बताएँगे – वचन की परिभाषा, भेद, नियम Vachan in Hindi VYAKARAN.

वचन की परिभाषा, भेद, नियम Vachan in Hindi

वचन की परिभाषा

किसी भी वस्तु को उसकी संख्या के आधार पर, संबोधित करना, वचन कहलाता है। अर्थात वचन, किसी भी वस्तु का संख्यावाचक कहा जा सकता है। उदाहरण के तौर पर वाक्य “मैंने सेबों को खा लिया” को देखा जा सकता है।

इसमें “सेबों को खा लिया ” को देखने के पश्चात यह यकीनन कहा जा सकता है कि यहां पर सेब की संख्या एक से अधिक है। इस वाक्य में जिस प्रकार हमने सेबों की संख्या पहचानी उसे ही वचन का बोध माना जाता है। 

उदाहरण के तौर पर-

  • मैंने सेबों को खा लिया। 
  • मैंने सेब खा लिया। 

इन दोनों ही वाक्यों में सेब एवं सेबों में संख्या का अंतर, वचन बदलने के कारण आ रहा है। सेब, एकवचन है और सेबों बहूवचन। 

वचन के भेद 

  • एकवचन 
  • बहूवचन 

एकवचन 

एकवचन का शब्द उन शब्दों को कहा जाता है जो अपने एकमात्र होने का बोध कराएं। उदाहरण के तौर पर :- कुर्ता, गमला, कंप्यूटर, मेज, रोशनदान, समुन्द्र, नदी, पर्वत, ट्रेन, गाड़ी, पटरी, शहर, गांव, सड़क, पहिया, औजार, मिस्त्री, कपड़ा, बटन, पत्नी, बालक, स्कूल, कक्षा, शिक्षक, कलम, दवात, इत्यादि। 

बहुवचन 

जिस शब्द के कारण हमें यह पता चलता कि संज्ञा या सर्वनाम की मात्रा एक से अधिक है उसे बहुवचन शब्द कहते हैं। उदाहरण के तौर पर :- कुर्ते, गमले, मेजों, रोशनदानों, समुन्द्रों, नदियों, पर्वतों, ट्रेनों, गाड़ियां, पटरियां, शहरों, गांवों, सड़कों, पहियों, औजारों, मिस्त्रीयों, कपड़ों, बटनों, पत्नियां, बालकों, स्कूलों, कक्षाओं, शिक्षकों, कलमों, दवातों, इत्यादि। 

एकवचन से बहुवचन से जुड़े नियम 

1)जब वाक्य को संबंध दर्शाने के लिए प्रयोग किया जा रहा हो तब एकवचन एवं बहुवचन, दोनों ही स्थिति में शब्द समान रहता है। उदाहरण के तौर पर यह देखा जा सकता है कि मां का बहुवचन नहीं बनाया जा सकता है। 

इसे भी पढ़ें -  वाचिक संचार, अवाचिक संचार Verbal and Non Verbal Communication in Hindi

अन्य उदाहरण :- पिता, चाचा, काका, दादा, दादी, बुआ, मौसा, काकी, भैया, दीदी, इत्यादि। 

2)कुछ शब्द ऐसे भी होते हैं जो सदैव बहुवचन में ही रहते हैं। उदाहरण के तौर पर :- आंसू, पानी, अक्षत, समाचार, आशीर्वाद, होश, प्राण, दर्शन, भाग्यकेश, दाम इत्यादि। 

3)कई बार कई शब्दों को केवल बड़प्पन दिखाने के लिए बहूवचन में प्रयोग किया जाता है। उदाहरण के तौर पर :- 

  • हमें याद नहीं तुम आखिरी बार कब मिले थे। 
  • जब पिताजी ने परिणाम देखा तब वे बहुत खुश हुए।

4)जातिवाचक संज्ञा का अर्थ होता है, बहुत सारे तत्वों की एक जाति को दर्शाना, लेकिन जातिवाचक शब्दों के साथ एकवचन क्रिया का प्रयोग किया जाता है। उदाहरण के तौर पर :- 

  • हाथी के चार पांव होते हैं। 
  • बंदर बड़ा चंचल जीव है। 

5)गुणवाचक एवं भाववाचक संज्ञा का प्रयोग करते समय, बहुवचन एवं एकवचन दोनों का ही प्रयोग किया जा सकता है। दोनों ही तरीके से वाक्य सही होगा। 

उदाहरण के तौर पर :- 

  • वो आपकी विवशता को जानता हूँ। 
  • डॉ कलाम एक अच्छे वैज्ञानिक भी थे। 
  • मेरे पिताजी बहुत अच्छी तैराकी करते हैं। 
  • रमेश अच्छा अभिनय करते हैं। 

6)जातिवाचक संज्ञा की तरह ही समूहवाचक संज्ञा का प्रयोग भी एकवचन में ही किया जाता है। उदाहरण के तौर पर :- 

  • सेना को मत बताइए कि उसे क्या करना है। 
  • काफी वक़्त तक कक्षा शांत रही। 
  • नेताओं की टोली ने बहुत देर तक भाषण दिया। 
  • दिल्ली की अधिकतर जनसंख्या साक्षर है। 

7)कुछ ऐसे शब्द होते हैं जो बहुवचन एवं एकवचम दोनों में ही समान रहते हैं, इसी कारण उन्हे एकवचन में उनपर एक लगा दिया जाता है। उदाहरण के तौर पर :- 

  • मंजू के बाल सुख गए। 
  • मेरा एक हाथ खराब है। 
  • सुनो! तुम्हारा एक अंगूठा टूटा है ना। 
  • दादाजी ने अपने बाल काले कार लिए। 

8)कई बार कई शब्दों के साथ गण, दल, लोग, समूह, जन, जाति का प्रयोग करके उन्हे बहुवचन कर दिया जाता है। उदाहरण के तौर पर :- छात्रगण, स्त्रीजाति, दर्शकसमूह, नेतागण, नेता लोग, नेता दल इत्यादि।

इसे भी पढ़ें -  नमामि गंगे योजना की पूरी जानकारी Namami Gange Project details in hindi

9)आदरणीय और सम्मानीय व्यक्तियों के लिए भी बहुवचन का ही प्रयोग किया जाता है। उदाहरण के तौर पर :- 

  • मोदीजी वाराणसी से सांसद हैं।
  • मेरे पिताजी अच्छे तैराक हैं। 
  • मौसा जी अच्छे गायक हैं। 
  • अटल बिहारी वाजपेयी एक शानदार प्रवक्ता थे। 
  • भगत सिंह काफी अच्छे दार्शनिक थे। 

10)द्रवों को एक, दो करके नहीं संबोधित किया जा सकता है इस कारण वे सदैव एकवचन में ही प्रयोग किए जाते हैं। उदाहरण के तौर पर :- पानी, घी, पेट्रोल, ईंधन, डीजल, रायता, दही, दूध इत्यादि। 

11)कई ऐसे शब्द भी होते हैं जिन्हे दोनों ही वचनों में समान रूप से दर्शाया जाता है। ये शब्द पूल्लिंग के इकराँत, उकराँत एवं ऊकरांत होते हैं। उदाहरण के तौर पर :- एक मुनि, दस मुनि, एक डाकू, दस डाकू इत्यादि। 

12)अच्छे व्यवहार के लिए भी तुम के स्थान पर आप का प्रयोग किया जाता है। यह वचन में बदलाव कर देता है, जैसे “तुम कहाँ जा रहे हो” एकवचन है, लेकिन “आप कहां जा रहे हैं” बहूवचन जैसा है। 

13)वो संज्ञा जो धातु को दर्शाती है उसे एकवचन में ही प्रयोग किया जाता है। उदाहरण के तौर पर :- सोना, चांदी, पीतल, तांबा इत्यादि।

14)हर, हर एक, और प्रत्येक जैसे शब्दों का प्रयोग केवल एक वचन में ही किया जाता है। उदाहरण के तौर पर :- 

  • प्रत्येक छात्र का कर्तव्य केवल पढ़ना है।
  • यह हर एक शिक्षक की जिम्मेदारी है। 
  • हर पुरुष इस सच को जानता है। 

15)जब समूह एक से ज्यादा हो तब समूहवाचक संज्ञा का प्रयोग बहुवचन में किया जाता है। उदाहरण के तौर पर :- 

  • बन्दरों की बहुत सी टोलियाँ वहां पर आ गईं थी। 
  • अनेकों देशों के लोग भी महात्मा गांधी को अपने आदर्श मानते हैं। 

16)करणकारक के शब्दों का प्रयोग सदैव बहुवचन में किया जाता है। उदाहरण के तौर पर :- 

  • किसान आत्महत्या कर रहा है। 
  • नेता ने देश को खा लिया। 

एक वचन से बहुवचन में बदलने के नियम 

इसे भी पढ़ें -  हिन्दू वैवाहिक रस्म संगीत Hindu Wedding Ritual Sangeet in Hindi

1)पुल्लिंग शब्दों में आ की जगह पर ए का प्रयोग करने पर वे बहुवचन में बदल जाते हैं। उदाहरण के तौर पर :-

  • कपड़ा = कपड़े 
  • केला = केले 
  • जूता = जूते 
  • पेड़ा = पेड़े 
  • कुर्ता = कुर्ते 
  • घोड़ा = घोड़े 
  • कमरा = कमरे 
  • कौआ = कौए 
  • बेटा = बेटे 
  • गधा = गधे 
  • मुर्गा = मुर्गे 
  • तारा = तारे 
  • लड़का = लड़के 

2)स्त्रीलिंग एकवचन शब्दों में अ के स्थान पर एँ का प्रयोग किया जाता है। उदाहरण के तौर पर :-

  • आँख = आँखे 
  • बहन = बहनें 
  • पुस्तक = पुस्तकें 
  • सड़क = सड़कें 
  • रात =रातें 
  • दवात = दवातें 
  • किताब = किताबें 
  • बात = बातें 
  • झील= झीलें 
  • रात = रातें 

3)कई स्त्रीलिंग शब्दों में आ की जगह पर ए कर दिया जाता है। उदाहरण के तौर पर :- 

  • कला = कलाएं 
  • दवा = दवाएं 
  • हवा = हवाएं 
  • भुजा = भुजाएं 
  • अध्यापिका = अध्यापिकाएं 
  • साखा = साखाएं 
  • कन्या = कन्याएं 
  • कथा = कथाएं 
  • पत्रिका = पत्रिकाएं 
  • कक्षा = कक्षाएं 
  • माता = माताएं 
  • वस्तु = वस्तुएं 

4)स्त्रीलिंग के शब्दो में या कि जगह पर यां लगा दिया जाता है। उदाहरण के तौर पर :- 

  • राशि = राशियां 
  • गुड़िया = गुड़ियां 
  • चिड़िया = चिड़ियाँ 
  • डिबिया = डिबियां 
  • तिथि = तिथियां 
  • रीति = रीतियां 
  • लुटिया = लुटियां 
  • चुहिया = चुहियां 
  • शक्ति = शक्तियां 
  • गैया = गैयां 
  • धमकी = धमकियां 

5)कुछ स्त्रीलिंग शब्दों में ई को ई कर दिया जाता है। उदाहरण के तौर पर :- 

  • चुटकी = चुटकीयां 
  • टोपी = टोपियां 
  • थाली = थालियाँ 
  • सखी = सखियाँ 
  • घुड़की = घुडकियां 
  • रानी = रानियां 
  • गति = गतियां 
  • चुटकी = चुटकीयां 
  • लड़की = लड़कियां 
  • कली = कलियाँ 
  • रति = रतियाँ 

6)कुछ एकवचन और बहुवचन एक समान होते हैं। उदाहरण के तौर पर :- 

  • गिरी = गिरी 
  • चाचा = चाचा 
  • राजा = राजा 
  • काका = काका 
  • पिता = पिता 
  • माता = माता 
  • क्रोध = क्रोध 
  • फूल = फूल 

3 thoughts on “वचन की परिभाषा, भेद, नियम Vachan in Hindi VYAKARAN”

  1. वाक्य-अनेकों देशों के लोग भी महात्मा गांधी को अपने आदर्श मानते हैं।

    “अनेकों “स्थान पर “अनेक “होना चाहिए

    “अपने “के स्थान पर “अपना” होना चाहिए

    नया वाक्य-अनेक देशों के लोग भी महात्मा गांधी को अपना आदर्श मानते हैं।

  2. संत ने कन्या को कामधेनु दान कर दी इसमें कन्या का बहुवचन क्या होगा कन्याओं या कन्याएं

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.