उद्दयमिता क्या है और एक सफल उद्यमी कैसे बनें? What is Entrepreneurship in Hindi?

उद्दयमिता क्या है और एक सफल उद्यमी कैसे बनें? What is Entrepreneurship in Hindi and How to become a successful Entrepreneur?

Entrepreneurship का हिंदी अर्थ “उद्यमिता” होता है। परंतु इसका अर्थ एक छोटी दुकान खोलना नहीं बल्कि बड़े पैमाने पर किसी कंपनी को शुरू करना है। आज भारत में उद्यमिता के अनेक उदाहरण देखने को मिलते हैं।

Paytm, Flipkart, Snapdeal, Amazon, Facebook, OLX, Zomato जैसे बहुत से उदाहरण आज देखने को मिलते हैं। इन सभी कंपनियों को जिसने शुरू किया वह आज अच्छे पैसे कमा रहे हैं।

उद्दयमिता क्या है और एक सफल उद्यमी कैसे बनें? What is Entrepreneurship in Hindi?

ज्यादातर यह देखा जाता है कि नौकरी करने वाले कभी भी खुश नहीं होते है। ना ही उन्हें अच्छे पैसे मिलते हैं। उनसे काम भी खूब कराया जाता है। यदि कोई गलती होती है तो बॉस नौकरों को डांटता भी है। इसलिए कुछ लोग खुद ही स्वयं का मालिक बनना चाहते हैं।

वह कोई ऐसा व्यापार शुरू करना चाहते हैं जिसमें वही मालिक रहे और उनके लिए दूसरे लोग काम करें। एक सफल व्यवसायी बनने पर आप अच्छी मात्रा में पैसे कमा सकते हैं और दूसरे लोगों को रोजगार भी दे सकते हैं। इसलिए आजकल हर पढ़ा लिखा युवक एक सफल व्यवसायी बनना चाहता है।

एक सफल उद्द्यमी बनने का रहस्य Secret to become a Successful Entrepreneur

एक सफल व्यवसायी बनना इतना भी आसान नहीं है। इसके लिए आप की सोच दूर तक होनी चाहिए। लोगों की जरूरत पहचानने का हुनर होना चाहिए। आपको कुछ उदाहरण देते हैं।

इसे भी पढ़ें -  सही कैरियर का चुनाव कैसे करें? Right Career Guidance in Hindi

लोगो की जरूरत पहचानने का हुनर होना चाहिये

Paytm कंपनी की स्थापना विजय शेखर शर्मा ने 2010 में की थी। उस समय ज्यादातर लोग बैंकों में जाकर पैसे निकालते थे और पैसों का नकद लेनदेन करते थे। परंतु विजय शेखर ने यह जान लिया था कि भविष्य में सभी लेनदेन डिजिटल रूप से किया जाएगा।

आज उनकी बनाई गई पेटीएम कंपनी भारत में सबसे बड़ी डिजिटल लेनदेन वाली कंपनी बन गयी है। लाखों-करोड़ों लोग पेटीएम कंपनी का इस्तेमाल पैसों का लेनदेन करने के लिए करते हैं। इस तरह की काबिलियत आप के अंदर होनी चाहिए।

इसी तरह फ्लिपकार्ट कंपनी के द्वारा कोई भी इंटरनेट से किसी भी चीज को खरीद सकता है। फ्लिपकार्ट आज भारत की सबसे बड़ी ई कॉमर्स कंपनियों में से है, जो हजारों लाखों प्रोडक्ट्स अपनी वेबसाइट पर बेचती है। घर बैठे ही कोई ग्राहक अपनी मनपसंद सामग्री को फ्लिपकार्ट की मदद से खरीद सकता है।

मेहनती होना जरूरी है

यदि आप एक सफल उद्यमी बनना चाहते हैं तो आपको मेहनत से पीछे नहीं हटना चाहिए। नौकरी करने वाले लोग ज्यादातर अपने आराम के बारे में सोचते हैं।

उनकी मानसिकता होती है कि 6 से 8 घंटे नौकरी कर ले, उसके बाद घर पर आराम करें। यदि आप मेहनत से दूर भागेंगे तो कभी भी एक सफल उद्यमी नहीं बन पाएंगे।

बिजनेस आइडिया होना चाहिए

आपके दिमाग में यह बात स्पष्ट होनी चाहिए कि आप कौन सा बिजनेस शुरू करेंगे। उसकी समाज में क्या उपयोगिता है। यह सब बातें पता लगाकर ही आपको कोई व्यापार शुरू करना चाहिए।

उदाहरण के तौर पर मुकेश अंबानी ने यह देखा कि सभी इंटरनेट देने वाली कंपनियां महंगा डाटा पैक देती हैं, जबकि सभी लोगों को सस्ते डाटा पैक की आवश्यकता थी। उन्होंने JIO (जिओ) लांच किया।

आज Jio कंपनी भारत की सबसे बड़ी इंटरनेट सेवा प्रदान करने वाली कंपनी बन गयी है। इस तरह आपके बिजनेस आइडिया में दम होनी चाहिए। यदि वह समाज और लोगों के लिए उपयोगी है तो आपका बिजनेस जरूर कामयाब होगा।

असफलता के लिए तैयार रहें

बहुत से बिजनेसमैन शुरू में असफल होते हैं परंतु उन्हें अपने बिजनेस आइडिया पर पूरा विश्वास होता है। वह लगन से अपना काम करते रहते हैं और बाद में उन्हें सफलता मिल जाती है।

इसे भी पढ़ें -  30 Suvichar in Hindi for Success सफलता के लिए सुविचार

हो सकता है कि आप शुरू शुरू में असफल हो जाए परंतु आपको अपने पर पूरा विश्वास होना चाहिए। असफल होने पर पीछे नहीं हटना चाहिए।

व्यापारिक बुद्धि होनी चाहिए

एक सफल व्यवसायी / बिजनेसमैन आप तभी बन पाएंगे जब आप के अंदर व्यापारिक बुद्धि होगी। यदि आपको लगता है कि आप व्यापार नहीं कर सकते हैं तो बेहतर होगा कि आप नौकरी करें। कुछ लोगों के अंदर जन्मजात व्यापारिक बुद्धि होती है जैसे धीरूभाई अंबानी, मुकेश अंबानी, अनिल अंबानी, रतन टाटा आदि।

सफल उद्द्यमी के कुछ मुख्य हुनर

जुनून नहीं तो बिजनेस नहीं

एक बड़ा और सफल व्यवसायी बनने के लिए आपके अंदर जुनून होना चाहिए। जिस प्रोडक्ट को आप बनाना चाहते हैं या जिस सेवा को आप देना चाहते हैं उसके प्रति समर्पण होना चाहिए। उदाहरण के लिए रतन टाटा का सपना था कि वे मध्यवर्गीय भारतीय परिवार के लिए एक ऐसी कार बनाएं जिसमें सभी लोग आ जाए।

हम सभी जानते हैं कि भारत में मध्यवर्गीय परिवारों की आमदनी कम होती है, इसलिए रतन टाटा ने सिर्फ 1 लाख रूपये में नैनो कार बनाई, जिससे एक कम आमदनी वाला व्यक्ति भी बारिश में बच सके और अपने परिवार के साथ यात्रा कर सके।

हटकर सोचने की जरूरत

एक सफल व्यवसायी की सोच साधारण लोगों से अलग होती है। उसकी सोच का दायरा बड़ा और विस्तृत होता है। यह कहा जा सकता है कि उसकी सोच असाधारण होती है। इसीलिए वो बड़े व्यापार को स्थापित कर पाता है।

भारत में किसी ने यह नहीं सोचा होगा कि एक समय ऐसा आएगा कि खाना मंगाने के लिए घर से निकलना ही नहीं होगा। घर पर बैठे-बैठे आप अपने मोबाइल से Zomato (जोमाटो) कंपनी के ऐप से फूड ऑर्डर कर सकते हैं। यह अपने आप में एक नया आईडिया है। आजकल सभी लोग फोन से ही खाना ऑर्डर करते हैं। इसे ही कहते हैं हटकर सोचना।

मुश्किल सुलझाने वाले बने

ऐसा कहा जाता है जो लोग समस्याओं का समाधान नहीं ढूंढ पाते वे खुद ही एक समस्या बन जाते हैं। यदि आपके सामने कोई समस्या है और आप उसका हल नहीं निकाल पा रहे हैं तो आप के अंदर उस कार्य को करने की योग्यता नहीं है।

इसे भी पढ़ें -  बैंक पीओ की तैयारी कैसे करें How to prepare for Bank PO in Hindi

एक बड़ा और सफल व्यवसायी बनने के लिए आपको ढेरों समस्याओं से होकर गुजरना होगा। आपको हर समस्या का समाधान प्रस्तुत करना होगा, तभी आप सफल व्यापारी बिजनेसमैन बन पाएंगे।

फील्ड में जाकर बुनियादी जानकारी ले  

आप जिस भी क्षेत्र में अपना व्यापार बना खड़ा करना चाहते हैं उस क्षेत्र की आपको समझ और बुनियादी जानकारी होनी चाहिए। उदाहरण के तौर पर यदि आप पापड़ का उद्योग लगाना चाहते हैं तो आपको पहले कुछ दिन किसी पापड़ बनाने वाली फैक्ट्री या कंपनी में काम करके बुनियादी जानकारी ले लेनी चाहिए। इससे बहुत फायदा होता है। आपको बुनियादी जानकारी होना बहुत ही जरूरी बात है।

जोखिम लेना आवश्यक है

बिना जोखिम लिए आप कोई भी बिजनेस नहीं कर पाएंगे। हर बिजनेस में रिस्क होता है। नया काम सफल भी हो सकता है और असफल भी। इसलिए आप के अंदर जोखिम लेने की क्षमता होनी चाहिए।

रचनात्मक शक्ति होना जरूरी है

रचनात्मक शक्ति के होने से आप जरूरत के हिसाब से नए प्रोडक्ट और सेवाएं बना पाते हैं। एक सफल बिजनेसमैन बनने के लिए आपके अंदर रचनात्मक शक्ति होनी चाहिए। उदाहरण के लिए चाइना के बिजनेस टायकून जैक मा ने Alibaba नामक कंपनी की स्थापना की।

OLX और Quikr जैसी कंपनियाँ पर विज्ञापन दिया जा सकता हैं। पुरानी चीजो को यहाँ बेचा जा सकता है। यह विचार इससे पहले किसी ने नही सोचा की पुरानी चीजों को बेचकर भी पैसा कमाया जा सकता है। इसे ही रचनात्मक शक्ति कहते हैं।

सफल उद्द्यमीयों के कुछ प्रमुख उदहारण / बिजनेस और उनके संस्थापक

  • OLX –  Fabrice Grinda and Alec Oxenford 
  • Flipkart- Marc Lore, CEO of Walmart eCommerce US.
  • Zomato- Pankaj Chaddah
  • Paytm-  Vijay Shekhar Sharma
  • Snapdeal- Rohit Bansal and Kunal Bansal
  • Quikr- Pranay Chulet
  • Amazon- Jeff Bezos
  • Facebook- Mark Zuckerberg,
  • Ola Cabs- Bhavish Agrawal
  • Airtel- Sunil Mittal
  • Tata Group – Ratan Tata
  • Shahnaz Husain Group- Shahnaz Husain
  • Cafe Coffe Day- V. G. Siddhartha

1 thought on “उद्दयमिता क्या है और एक सफल उद्यमी कैसे बनें? What is Entrepreneurship in Hindi?”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.