इंटर्नशिप क्या है? इंटर्नशिप के फायदे What is Internship in Hindi? Its Advantages

इस लेख में हम आपको इंटर्नशिप क्या है?  कैसे प्राप्त करें?  इंटर्नशिप के फायदे What is Internship in hindi?  How to get Internship? Advantages of Internship से सम्बंधित पूरी जानकारी देंगे । आपको यह लेख पसंद आयेगा ।

इंटर्नशिप क्या है? इंटर्नशिप के फायदे What is Internship in Hindi? Its Advantages

इंटर्नशिप क्या है?  What is Internship?   

पहले मेडिकल स्टूडेंट्स को एमबीबीएस का कोर्स करते समय इंटर्नशिप दी जाती थी। पर आजकल यह सभी कोर्सेज में दी जाती है। यह पूरी हो जाने पर स्टूडेंट को थीसिस भी लिखकर जमा करनी होती है। उसने इंटर्नशिप के दौरान कौन सी बातें सीखी इसका लिखित विवरण देना होता है।

इंटर्नशिप के अंतर्गत किसी स्टूडेंट को 2 से 6 महीने के लिए किसी कंपनी, फैक्ट्री या संस्था के साथ काम करने का अनुभव मिलता है। इस काम का लक्ष्य व्यवहारिक ज्ञान (Practical knowledge) प्राप्त करना होता है। आजकल मेडिकल, इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट जैसे कोर्सेज में इंटर्नशिप का प्रचलन काफी अधिक बढ़ गया है।

आज के समय में कंपनियां ऐसे लोगों को नौकरी देना चाहती हैं जिनके पास किताबी ज्ञान के साथ व्यवहारिक ज्ञान भी हो। ऐसी बहुत सी बातें होती हैं जो किताबों में नहीं लिखी होती हैं। इंटर्नशिप करने के बहुत से फायदे हैं।

इसे भी पढ़ें -  अतिरिक्त पाठयक्रम गतिविधियों के लाभ Benefits of Extra Curricular Activities in hindi

इससे करने से मालूम हो जाता है कि किस तरह इंडस्ट्री में काम किया जाता है। इंटर्नशिप से तकनीकी ज्ञान, सॉफ्ट स्किल, टीम में कैसे काम करते हैं जैसी चीजे सीखने को मिलती है। कॉरपोरेट्स वातावरण समझ में आता है।

इंटर्नशिप दो प्रकार की होती है पेड (Paid) और अनपेड (Unpaid) पेड इंटर्नशिप में एक निश्चित धनराशि दी जाती है। अनपेड इंटर्नशिप में कोई धनराशि नहीं दी जाती है। सिर्फ सर्टिफिकेट दिया जाता है।

इंटर्नशिप के फायदे Advantages of Internship

प्रैक्टिकल नॉलेज मिलती है

इंटर्नशिप करने से व्यवहारिक ज्ञान (प्रैक्टिकल नॉलेज) मिलती है। बहुत सी बातें किताबों में नहीं लिखी होती हैं, पर बिजनेस में उसे अपनाया जाता है। इसके साथ ही सोशल स्किल, बिजनेस एक्स्पोसर, सॉफ्ट स्किल, वर्कप्लेस कंपनी में कैसे काम करते हैं, टीम के सदस्यों के साथ कैसे व्यवहार करते हैं यह सब सीखने को मिलता है।

टाइमिंग एटीकेट्स सीखने को मिलते है

इंटर्नशिप करने से टाइमिंग एटीकेट्स की जानकारी मिलती है। ऑफिस में किस समय आना है, ऑफिस में सही समय पर आना जरूरी होता है। काम को समय पर सबमिट करना होता है। कॉलेज के समय स्टूडेंट्स समय को लेकर पाबंद नहीं होते हैं पर जब नौकरी कर रहे होते हैं तो उन्हें हर काम समय पर करना होता है।

जॉब पाने में मदद मिलती है

यदि आपको किसी बड़ी कंपनी के साथ इंटर्नशिप करने का मौका मिलता है तो उसका अनुभव आपके रिज्यूम में भी जुड़ जाता है। इससे आपको अच्छी नौकरी मिलने की संभावना बढ़ जाती है। कई बार इन्टर्नशिप करते हुए स्टूडेंट्स को उसी कंपनी में नौकरी मिल जाती है। विभिन्न सर्वे में यह पाया गया है कि बेहतर प्रैक्टिकल नॉलेज से नौकरी पाने की संभावना 50% तक बढ़ जाती है।

नए दोस्त और नेटवर्क बनता है

इन्टर्नशिप का एक बड़ा फायदा है कि आपको कई अच्छे दोस्त मिल जाते हैं। आपका नेटवर्क पहले से बड़ा और स्ट्रांग हो जाता है। कई बार नेटवर्क की मदद से आपको अच्छी नौकरी भी मिल जाती है।

इसे भी पढ़ें -  एमबीए कोर्स क्या है? What is MBA, Courses, Eligibilty & Exams in Hindi

कम्युनिकेशन स्किल सीखने को मिलती है

इंटर्नशिप का एक बड़ा फायदा है कि कम्युनिकेशन स्किल सीखने को मिलती है। जैसे अपने बॉस या टीम मेंबर से किस तरह बात करना है, फोन पर कैसे बात करना है, क्लाइंट या कस्टमर को कैसे डील करना है, कैसे ईमेल का जवाब देना है, क्लाइंट को कैसे कोटेशन देना, डील को कैसे क्लोज करना। यह सारी चीजें सीखने को मिलती हैं।

आत्मविश्वास बढ़ता है

इंटर्नशिप करने का सबसे बड़ा फायदा है कि इसके स्टूडेंट्स के अंदर आत्मविश्वास बढ़ता है। इससे यह भी पता चलता है कि नौकरी करते समय कंपनी, ऑफिस, वर्क प्लेस में किस तरह काम किया जाता है।। इससे जानकारी भी बढ़ती है

इंटर्नशिप कैसे प्राप्त करें? How to get Internship?

कॉलेज की मदद से इंटर्नशिप पाये

जिस कॉलेज में आप पढ़ रहे हैं उस कॉलेज मैं बहुत ही कंपनियां समर इंटर्नशिप के लिए आती रहती हैं। उन्हें कुछ होनहार युवाओं की जरूरत होती है। इंटर्नशिप से उन कंपनियों का भी कुछ फायदा हो जाता है। इसलिए वे खुद भी इंटर्नशिप देती है। इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट कॉलेज में कॉलेज ही इंटर्नशिप के लिए दूसरी कपनियों से सम्पर्क करते है।

स्वयं भी किसी कंपनी में अप्लाई कर सकते हैं

आप जिस कंपनी में इंटर्नशिप करना चाहते हैं उसमें सीधे जाकर संपर्क करें और इंटर्नशिप के लिए बात करें। आपको अपना रेस्यूम (Resume) अच्छी तरह बनाना होगा। एक छोटे से इंटरव्यू के बाद आपको इंटर्नशिप करने का मौका मिल जाएगा।

काउंसलर / जॉब प्लेसमेंट एजेंसीज की मदद लें

यदि आपको इंटर्नशिप पाने में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है तो आप किसी प्रोफेशनल काउंसलर या जॉब प्लेसमेंट एजेंसीज की मदद ले सकते हैं। उनका संपर्क बहुत सी कंपनियों से होता है। आपको तुरंत ही इंटर्नशिप मिल जाएगी।

सही इंटर्नशिप का चयन कैसे करें? How to select right Internship for you?

इंटर्नशिप का चयन करने के लिए आपको अपनी रुचियों (Interest) पर ध्यान देना होगा। उदाहरण के लिए यदि आप MBA का कोर्स कर रहे हैं और मार्केटिंग में स्पेशलाइजेशन लिया है तो आपको ऐसी कंपनी में इंटर्नशिप करनी चाहिए जहां पर आपको मार्केटिंग का अनुभव प्राप्त हो।

इसे भी पढ़ें -  संदीप महेश्वरी के प्रेरणादायक विचार Sandeep Maheshwari Quotes in Hindi PDF

ठीक इसी तरह यदि आप फाइनेंस से MBA कर रहे हैं तो आपको उस कंपनी का चुनाव करना चाहिए जहां पर आपको फाइनेंस से संबंधित चीजें सीखने को मिले। इंटर्नशिप के दौरान आपको अपनी रुचियों के अनुसार काम करना है।

आप जिस क्षेत्र में जाना चाहते हैं उसी क्षेत्र में इन्टर्नशिप का चयन करें। उदाहरण के लिए इंटरनेशनल बिजनेस, मार्केटिंग, सप्लाई चैन मैनेजमेंट, रिटेल मैनेजमेंट आदि।

इंटर्नशिप का उद्देश्य  Aim of Internship

आजकल लगभग सभी बड़ी कंपनियां इंटर्नशिप की सुविधा देती हैं। उनका मानना है कि भावी पीढ़ी को सिर्फ किताबी नॉलेज नहीं बल्कि व्यवहारिक ज्ञान भी देना चाहिए। इसलिए पेप्सी, कोकोकोला, डिटॉल, रेकिट बेंकाइजर, HUL, Nestle जैसी बड़ी कंपनियां पढ़ने वाले छात्रों को इंटर्नशिप की सुविधा देती हैं। इससे उन्हें भविष्य में अच्छे युवा काम करने के लिए मिल जाते हैं। इसका अन्य उद्देश्य ज्ञान को बांटना भी है।

शेयर करें

2 thoughts on “इंटर्नशिप क्या है? इंटर्नशिप के फायदे What is Internship in Hindi? Its Advantages”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.