कर्म ही धर्म है निबंध Work is Worship Essay in Hindi – कार्य ही पूजा है

कर्म ही धर्म है निबंध Work is Worship Essay in Hindi – कार्य ही पूजा है

जब हम कर्म(काम) और धर्म(पूजा) दोनों की एक साथ बात करते हैं, तो हमें इन दोनों शब्दों का सही अर्थ समझना बहुत जरुरी हो जाता है। कर्म का अर्थ है हमारे द्वारा किये गये प्रयास व हमारी उस कार्य के लिए की गई कड़ी मेहनत और धर्म का मतलब है कुछ कार्य शक्ति को श्रद्धा के साथ पूर्ण करना। अब इन दोनों शब्दों के अर्थ के बारे में जानने के लिए हम इस बात को समझते है कि किस प्रकार कर्म ही धर्म हो सकती है।

कर्म ही धर्म है निबंध Work is Worship Essay in Hindi – कार्य ही पूजा है

कार्य ही पूजा है Labor is Worship in Hindi

जैसे जब हम अपने कर्म की इज्जत करते हैं या उस कार्य को पूरे मन लगाकर करते है तो वह कार्य सफल हो जाता है। इसे हम इस प्रकार भी समझ सकते है- कर्म ही पूजा है। भगवान ने हर इंसान को दो हाथ, एक मुंह और दो पैर के साथ धरती पर भेजा है।

इसका मतलब है, कि भगवान भी हमसे कर्म करवाना चाहता है। हमें अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए कार्य करना अति आवश्यक है। जब कोई व्यक्ति ईमानदारी से काम करता है, तो उसे जीवन में सफलता मिलती है। जब वह आधे मन से कार्य करता है, तो वह असफल हो जाता है।

जब तक हम प्रयास नहीं करेंगे, तब तक हम अपने सामने रखे भोजन को भी नहीं खा सकते हैं इसलिये जीवन कर्म के बिना अधूरा है। यह जीवन केवल तभी उपयोगी होता है जब तक हम सभी कार्य करते हैं। कार्य करना जीवन का मुख्य उद्देश्य है। आलस्य और सुस्तता जीवन के लिये अभिशाप के समान है। कर्म के बिना जीवन का कोई व्यक्तित्व नहीं है।

इसे भी पढ़ें -  उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना की पूरी जानकारी UP Mukhyamantri Yuva Swarojgar Yojana details in Hindi

सफल उद्योगपतियों ने काम के मूल्य को समझ लिया और अपने जीवन में अपने कर्म में खुद को समर्पित किया। निराशा और अवशोषण जीवन में अभिशाप के अलावा कुछ भी नहीं है। किस्मत भी बहादुर व्यक्ति का पक्ष लेती हैं।

बहादुर व्यक्ति हमेशा प्रसिद्ध और पुरस्कृत होते हैं। विवेकानंद, स्वामी दयानंद और महात्मा गांधी सभी ने कर्म की वेदी पर ही बलिदान दिया और वे आज सभी प्रसिद्ध है। निश्चित रूप से उनके लिए कर्म ही पूजा थी। हमारे पहले प्रधानमंत्री, स्वर्गीय श्री पं. जवाहर लाल नेहरू कर्म ही धर्म है के पक्ष में थे।

अब, हम इतना काम इसलिए करते है क्योंकि, कार्य का मतलब प्रयास है, और कर्म जीवन का सार है। मुझे लगता है कि अगर हम कर्म करते हैं तो हम जीवन के अमृत को पी रहे हैं। सभी प्रकार के आनंद, सभी उपलब्धि सभी प्रगति का मतलव केवल एक जादुई शब्द है ”कर्म” या ‘काम’।

जब हम किसी व्यक्ति, देश या समुदाय की प्रगति पर विचार करते हैं, तो यह संबंधित लोगों द्वारा किये गये कार्यों के साथ स्पष्ट रूप से मापा जा सकता है। 1947 में, विभाजन के बाद भारत में पंजाब के निवासियों को पंजाब में अपने घरों से पूरी तरह से बाहर निकाल दिया गया था और उन्होंने अपना सब कुछ खो दिया था और वे भारत के अन्य हिस्सों में भाग गये थे।

आज हम सभी उन्हें भारत में सबसे सफल व्यवसायियों के रूप में देखते हैं। यह सब उनकी कड़ी मेहनत के कारण ही हुआ है तथा हम कह सकते है उनका कर्म ही उनकी पूजा थी।

सन 1945 में, जापान के हिरोशिमा और नागासाकी शहर पूरी तरह से नष्ट हो गए थे और ज़मीन में समा गये थे, लेकिन आज वही पूरी तरीके से नष्ट जापान दुनिया का सबसे विकसित तकनीकी देश बन गया है। ऐसा क्यों है? जापान के लोगों की कड़ी मेहनत के कारण आज वह प्रगृति कर रहे हैं। इन दो उदाहरणों के साथ, हम सभी सहमत होंगे कि कड़ी मेहनत करके हम प्रगृति के रास्ते पर पहुँच सकते है।

इसे भी पढ़ें -  चीन की विशाल दीवार का इतिहास History of The Great Wall of China in Hindi

कर्म करने का सबसे अच्छा तरीका कार्य का आनंद लेना है। जब हम कोई कार्य आनंद लेकर करते हैं, तो यह आसानी से एक सफल हो सकता है। यह तभी होता है जब हम किसी भी कार्य को बोझ समझकर नहीं करते है। जैसे ही काम बोझ बन जाता है, यह पूजा की पवित्रता को खो देता है और फिर इसकी गुणवत्ता भी गिरने लगती है।

हमारा लक्ष्य होना चहिये कि काम को आनंद के साथ किया जाये। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि इसके परिणाम क्या हो सकते है, तभी हम इष्टतम परिणाम प्राप्त पा सकते हैं। केवल तभी जब हम पूजा के रूप में काम करते हैं।

आविष्कार और खोज कि कहानी Story of invention and discovery – Labor is Worship

हम पुराने समय में जाते हैं और किताबों में पढ़ते है, तो हम कर्म के जादू और उपलब्धियों को देख सकते हैं कि कई शताब्दियों पहले के लोग कैसे थे। तब मनुष्य एक जानवर के जैसा था। वह एक जानवर की तरह रहता था, एक जानवर की तरह खाया करता था।

जानवर की तरह नग्न रहता था और सब जानवरों के साथ ही रहते थे फिर धीरे-धीरे मनुष्य विकास और प्रगति के वर्तमान चरण में आया, उसने अपने जानवर जैसे जीवन को बदलना शुरू किया। उसने एक सज्जन इंसानों की तरह जीवन जीने के तरीके सीखे।

हाँ यह सही है, कि यह सब मनुष्यों के कर्म का नतीजा है फिर भी वह सदियों पहले उसी पशु मंच पर रहा होगा। पिछले सदियों से मनुष्य ने निरंतर कार्य किया है। जिससे उसने अन्य सभी लोगों के अलावा एक प्रजाति बनाई है। भगवानरूपी निर्माणकर्ता द्वारा मनुष्य को निस्संदेह एक मस्तिष्क और कर्म करने की एक अनोखी क्षमता के साथ उपहार मिला है और इसलिए परिणाम हमारे सामने है।

जो आदमी कड़ी मेहनत करता है वह धरती पर खुशियाँ लाता है। हमने कई जरूरत के अनुसार खोज की है जैसे इंसान ने अपना खाना पकाने के लिए आग की खोज की। उसने ठंड से खुद को बचाने के लिये कपड़े की खोज की जिससे उसका तन ढक सके।

इसे भी पढ़ें -  बौद्ध धर्म पर निबंध Essay on Buddhism in Hindi - Boudh Dharm

पहले उसके पास कोई आश्रय नहीं था। तो, उसने झोपड़ियां और घरों का निर्माण किया। इंसान ने चीजों का तेजी से उत्पादन करने के लिए मशीनों का आविष्कार किया। मनुष्य लगातार एक के बाद एक चीज का आविष्कार कर रहा है।

इस तरह कर्म करके वह केवल अपने प्रयासों में सफल हुए, क्योंकि उन्होंने दिन रात काम किया। सभी कठिनाइयों के बावजूद भी कोलंबस ने तो अमेरिका की खोज कर डाली। मार्कोनी ने अपने पूरे जीवनकाल को समर्पित करने के बाद रेडियो का आविष्कार किया। तो इस तरह कर्म और पूजा दोनों एक ही हैं।

सुख सुविधा Comfort life

कर्म और पूजा दोनो का उद्देश्य है कर्म के जरिये परेशानियों को ख़त्म करना है। लोग पृथ्वी पर खुशीयां लाने की कोशिश कर रहे हैं। मनुष्य ने विभिन्न प्रकार की मशीनों का विभिन्न उद्देश्यों के लिए का आविष्कार किया। हमने अपने हाथों से पहले मशीने तैयार की जिससे आज हमें अपने कार्य धीरे-धीरे और दर्दनाक तरीके से करने की ज़रूरत नहीं है।

मशीनें तेजी से और बेहतर ढंग से काम करती हैं। यह सब कार्य हमें सच्चाई के दर्शन कराता है कि “कर्म ही धर्म है”। मनुष्य का काम समाज में बेहतर और खुशहाली स्थितियों का निर्माण करना है। एक उपासक इच्छा, भूख और दुःख से मुक्त होना चाहता है। एक आदमी जो मनुष्यों की जीवित स्थितियों में सुधार के लिए कार्य करता है वह भी एक उपासक है।

निष्कर्ष Conclusion

यह मानव जाति के लिए एक आशीर्वाद है। लेकिन युद्ध शुरू करने, लोगों को लूटने, काले विपणन, तस्करी आदि जैसे दुष्ट कार्य को हम धर्म का नाम नहीं दे सकते है। मनुष्य के कल्याण के लिये किया गया कार्य पूजा होता है इसलिए तो हम कहते हैं ‘कर्म ही धर्म है’।

1 thought on “कर्म ही धर्म है निबंध Work is Worship Essay in Hindi – कार्य ही पूजा है”

  1. इतना अच्छा स्टोरी हम तक देते रहने के लिए दिल से धन्वाद

    Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.