विश्व बैंक और इसके कार्य World Bank and Its Function in Hindi

विश्व बैंक और इसके कार्य World Bank and Its Function in Hindi

विश्व बैंक को अंतरराष्ट्रीय पुनर्निर्माण व विकास बैंक भी कहा जाता है। इस बैंक की स्थापना का मुख्य उद्देश्य है, सदस्य राष्ट्रों के विकास के लिए श्रण देना। विश्व बैंक समूह की स्थापना 1944 में की गई थी। आज की तारीख में विश्व बैंक एक अंतरराष्ट्रीय संगठन की तरह काम करता है। यह बैंक गरीबी से जूझ रहे पिछड़े देशों की मदद करता है।

किसी भी देश को सदस्य बनने के लिए पहले अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष का सदस्य होना चाहिए। विश्व बैंक समूह 5 अंतर्राष्ट्रीय संगठनों का समूह है, यह बैंक सदस्य देशों को वित्तीय सलाह एवं मदद देता है। वॉशिंगटन डीसी में विश्व बैंक का मुख्यालय है।

विश्व बैंक और इसके कार्य World Bank and Its Function in Hindi

विश्व बैंक के उद्देश्य The World Bank Objectives

पुनर्निर्माण के लिए सहायता

युद्ध के दौरान काफी राष्ट्रो को नुकसान होता है एवं वह क्षतिग्रस्त हो जाते हैं, अतः विश्व बैंक ऐसे में कमजोर सदस्य राष्ट्रों को दोबारा निर्माण के लिए सहायता प्रदान करता है।

अंतरराष्ट्रीय व्यापार को प्रोत्साहित करना

यह बैंक अंतरराष्ट्रीय व्यापार को लोकप्रिय बनाने में भी काफी मदद करता है, अंतरराष्ट्रीय व्यापार के भी अपने बहुत गहरे फायदे हैं। ऐसे व्यापार से लोगों के जीवन की गुणवत्ता में फर्क आता है एवं जीवन शैली का स्तर भी ऊंचा हो जाता है और साथ ही साथ शिक्षा तथा नौकरी के अवसर बढ़ जाते हैं।

विनियोग को प्रोत्साहित करना

विश्व बैंक में काफी सदस्य राष्ट्र ऐसे हैं जो कि कम उन्नतशील एवं पिछड़े हैं। उनके पास पूंजी का भी अभाव है अतः विश्व बैंक ऐसे राष्ट्रो में विनियोग को भरपूर प्रोत्साहित करते हैं ताकि ऐसे राष्ट्रों को आर्थिक लाभ हो और वह आगे बढ़ सके।

पूंजी की उपलब्धता

जैसा कि बताया गया है कि कुछ सदस्य राष्ट्र माली तौर पर कमजोर हैं अर्थात् ऐसे राष्ट्रों में विश्व बैंक पूंजी को उपलब्ध कराता है ताकि ऐसे राष्ट्रों में विकास एवं वृद्धि हो।

शांतिकालीन अर्थव्यवस्था की स्थापना

विश्व बैंक अपने सदस्य राष्ट्रों की युद्ध के कारण झूलसी अर्थव्यवस्था को शांतिकालीन अर्थव्यवस्था में बदलना चाहता है।

पूंजी-: स्थापित करने के दौरान विश्व बैंक की पूंजी 10 अरब डॉलर थी, जो कि एक लाख अंशों में बटी हुई थी।

संगठन Organization

  • प्रशासनिक मंडल – हर एक सदस्य देश के द्वारा गवर्नर तथा स्थानापन्न गवर्नर चुना जाता है।
  • सलाहकार परिषद – यह परिषद 7 सदस्यों से मिलकर बनती है। इस परिषद में अलग-अलग विषयों से संबंधित विशेषज्ञ होते हैं।
  • प्रबंधक निदेशक मंडल – इस मंडल में 20 सदस्य होते हैं।
  • श्रण समितियां – सदस्य देश अगर श्रण की मांग करते हैं, तो ऐसी अवस्था में जांच की जाती है, इन सब के उपरांत ही कोई कार्य होता है। ऐसे में श्रण समितियां अपना काम बखूबी करती हैं।
  • विशिष्ट उद्देश्य के लिए अन्य समितियां Other Committees for Specific Purpose – विकास समिति, संयुक्त अंकेक्षण समिति, लागत एवं बजट समिति, कार्मिक नीति समिति आदि।
इसे भी पढ़ें -  गुरुपूर्णिमा पर भाषण Speech on Guru Purnima in Hindi

विश्व बैंक के कार्य Functions of The World Bank

  • श्रण देना
  • पूंजी से श्रण देना
  • प्रशिक्षण का कार्यक्रम
  • गारंटी प्रदान करना
  • कोष में से श्रण देना
  • प्राविधिक सहायता प्रदान करना
  • अंतरराष्ट्रीय समस्याएं सुलझाना

विश्व बैंक की सफलताएं World Bank Successes

  • बैंक के कारण वित्तीय साधनों का विस्तार हुआ है।
  • पिछड़े देशों को श्रण प्रदान किया है।
  • सदस्य राष्ट्रों को तकनीकी सहायता प्रदान करी हैं।
  • अंतर्राष्ट्रीय वित्त निगम की स्थापना हुई है।
  • सदस्य राष्ट्रों की कई समस्याओं का समाधान किया है।

विश्व बैंक की असफलताएं Disadvantages of The World Bank

  • ब्याज एवं कमिशन की दरें काफी अधिक हैं।
  • अल्प विकसित देशों को दी गई सहायता अपर्याप्त है।
  • श्रण देने में सदस्य राष्ट्रों से पक्षपातपूर्ण व्यवहार रहा है।
  • विश्व बैंक द्वारा कई बार श्रण देने में विलंब होता है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.