विश्व दुग्ध दिवस पर निबंध World Milk Day Essay in Hindi

विश्व दूध दिवस निबंध World Milk Day Essay in Hindi

विश्व दुग्ध दिवस प्रतिवर्ष 1 जून को दुनिया भर के लोगों द्वारा मनाया जाता है। वैश्विक दुग्ध के रूप में दूध के महत्व को पहचानने के लिये संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (एफ ए ओ) द्वारा स्थापित विश्व दुग्ध दिवस एक महत्वपूर्ण दिन है। यह 2001 से प्रत्येक वर्ष 1 जून को मनाया जाने लगा है।

विश्व दुग्ध दिवस पर निबंध World Milk Day Essay in Hindi

इतिहास History

विश्व दुग्ध दिवस 2001 से प्रत्येक वर्ष 1 जून को मनाया जा रहा है। यह दिन डेयरी सेक्टर से जुड़े गतिविधियों पर ध्यान देने का अवसर प्रदान करता है। यह दिन लोगों का दूध पर ध्यान केंद्रित करने और दूध-डेयरी उद्योग से जुड़ी गतिविधियों को प्रचारित करने का अवसर प्रदान करता है। तथ्य यह है कि कई देशों ने उसी दिन इसका प्रचार करने का विकल्प चुना हैं, जो व्यक्तिगत राष्ट्रीय समारोहों को अतिरिक्त महत्व देता है और यह प्रदर्शित करता है, कि दूध एक वैश्विक भोजन है।

दूध की महत्वता के माध्यम से विश्व दुग्ध दिवस इस उत्सव के द्वारा बड़ी  जनसंख्या पर असर डालता है। दूध शरीर के द्वारा सभी जरुरी पोषक तत्वों का एक बहुत अच्छा स्रोत है जिसमें मैगनिशियम, कैल्सियम, जिंक, ऑयोडीन, फॉसफोरस, पोटेशियम, आयरन, फोलेट्स, विटामिन ए, विटामिन  डी, विटामिन बी 12, राइबोफ्लेविन, प्रोटीन, स्वस्थ फैट आदि मौजूद होता है।

ये सभी तत्व बहुत ही ऊर्जावान आहार होते है, जो शरीर को तुरंत ऊर्जा प्रदान करते है क्योंकि इसमें उच्च गुणवत्ता के प्रोटीन सहित फैटी एसिड इसके आलावा आवश्यक और गैर-आवश्यक अमीनो एसिड भी मौजूद होते है।

उपभोक्ताओं को दूध के पोषण स्वास्थ्य उपयोगिता को याद दिलाने के लिये आर्टीकल्स, प्रेस विज्ञप्ति, खबर आदि प्रकाशित किये जाते हैं। बच्चों के लिये दूध के मुफ्त पैकेट वितरित किये गये स्थानीय स्तर पर मशहूर जगहों पर मुफ्त दूध वितरित करने के कैंप लगाये जाते है। विभिन्न दूसरे कार्यक्रम जैसे प्रश्न-उत्तर प्रतियोगिता, परिचर्चा,  खेल गतिविधियाँ, निबंध लेखन आदि स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय और दूसरे शैक्षणिक संस्थानों में विद्यार्थीयों को बढ़ावा देने के लिये इस प्रकार के आयोजन किये जाते हैं।

और पढ़ें -  2020 रज संक्रांति - मिथुन संक्रांति त्यौहार Mithun Sankranti - Raja Sankranti Festival in Hindi

एफ ए ओ (संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन) को एक विशिष्ट दिन का प्रस्ताव देने के लिए कहा गया था जिस पर दूध के सभी पहलुओं को रखा गया। पहला राष्ट्रीय दुग्ध दिवस 26 नवम्बर 2014 को मनाया गया था जिसमें 22 राज्यों के विभिन्न दुग्ध उत्पादकों ने भाग लिया था।

दुग्ध दिवस की थीम World Milk day themes

  • 2012 की विश्व दुग्ध दिवस की थीम थी ‘ताजा दूध पीयें और शरीर स्वास्थ्य रखे, दिमाग तेज रहे’।
  • 2013 की विश्व दुग्ध दिवस की थीम थी ‘दक्षिणपूर्व एशिया क्षेत्र के समृद्धि और स्वास्थ्य के लिये दूध’।
  • 2014 की विश्व दुग्ध दिवस  की थीम थी “मानव के लिये पहला भोजन दूध है” और “विश्व स्तरीय पोषण”।
  • 2015  की विश्व दुग्ध दिवस की थीम अभी तक उजागर नहीं हुआ है।

डॉ वर्गीस कुरियन को मिल्कमैन ऑफ़ इंडिया के नाम से पहचाना जाता है, उन्होंने देश को दूध की कमी से बाहर निकालकर विश्व में सबसे अधिक दुग्ध का उत्पादन किया। उन्होंने 30 संस्थानों की स्थापना की जिसमें विभिन्न किसानों एवं कर्मचारियों द्वारा चलाया जाता है। वर्गीज कुरियन ने अमूल ब्रांड की स्थापना की और सफल भी हुये।

1989 में उन्हें वर्ल्ड फूड प्राइज़ से सराहा गया और 1963 में रमोन मैगसायसाय अवार्ड से सम्मानित किया गया। वर्ष 1965 में उनको भारत सरकार द्वारा पद्मश्री पुरस्कार मिला। वर्ष 1966 में पद्म भूषण और 1999 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया। 2012, 9 सितंबर  को 90 वर्ष की आयु में उनकी मृत्यु हो गई।

दूध में कैल्शियम होता है। नवजात शिशुओं को मां के दूध पिलाया जाता है। यह हड्डियों को मजबूत बनाता है। मां के दूध के जैसा ही गाय का दूध होता है। इसे पीने से पहले दूध उबाला जाना चाहिए। परन्तु यदि दूध लंबे समय तक उबाला जाता है, तो दूध अपने अधिकांश खाद्य मूल्य को खो देते है।

हम दूध से बहुत सी चीजें तैयार कर सकते हैं। जैसे मक्खन, दही, लस्सी, पनीर, क्रीम और कई प्रकार की मिठाईयां। जिसको खाकर हम प्रसन्न हो जाते हैं। हम चाय में भी दूध की अधिकांश मात्रा का उपयोग करते हैं। अपने शुद्ध रूप में दूध अब दुर्लभ है। आज के लोग बेईमान हो गये हैं। वे पानी मिलाकर दूध बेचते हैं या क्रीम निकला हुआ दुग्ध बेचते है। ये दूध के खाद्य मूल्य को नष्ट कर देते हैं।

और पढ़ें -  अहोई अष्टमी व्रत कथा, महत्व, पूजा विधि Ahoi Ashtami Vrat Katha in Hindi

इन दिनों चाय दूध की तुलना में अधिक लोकप्रिय है। कोई संदेह नहीं है कि चाय स्वास्थ्य के लिये सकारात्मक रूप से हानिकारक है। दूध बीमारियों का प्रतिरोध करने के लिये हमारे शरीर में बैक्टीरिया को मजबूत करता है लेकिन चाय उन बैक्टीरिया को नष्ट कर देती है। जहां तक ​​संभव हो, चाय बच्चों को नहीं दी जानी चाहिए।

शहर के लोगों की तुलना में देश के लोग मजबूत होने का एक मुख्य कारण यह है कि उन्हें शहरों के लोगों की तुलना में अधिक मात्रा में दूध और दूध उत्पाद मिलते हैं। लस्सी उनके पसंदीदा पेय में से एक हैं। कई स्कूली बच्चों को दूध दिवस में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है ताकि वे एक छोटी उम्र से दूध पीने की अच्छी आदत शुरू कर सकें।

वे पनीर जैसे विभिन्न खाद्य पदार्थ बनाने के लिए दूध के विभिन्न तरीकों के बारे में भी जान सकते हैं। स्थानीय डेयरी की यात्रा प्रक्रिया के बारे में नए तथ्यों को जानने के लिए एक अच्छी जगह है और कई खेतों में अक्सर इस दिनों शैक्षणिक यात्राओं को प्रोत्साहित किया जाता है।

आमतौर पर यह माना जाता है कि पहली बार कांच की बोतलों में दूध वितरित करने के लिए दूध दिवस मनाया गया था। दूध वितरण इस परिस्थितियों से पहले काफी गलत थी लेकिन नई कांच की बोतलें सुरक्षित और साफ भंडारण में सक्षम थीं।

अंत में हम बस आपको इतना कहना चाहेंगे – ‘दूध पीते रहें और स्वस्थ तंदरुस्त रहें’।

1 thought on “विश्व दुग्ध दिवस पर निबंध World Milk Day Essay in Hindi”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.