क्या है टैरोट कार्ड रीडिंग? What is Tarot Card reading in Hindi

क्या है टैरोट कार्ड रीडिंग और इसका इतिहास? What is Tarot Card reading in Hindi

टैरोट कार्ड रीडिंग ज्योतिष का ही एक अभिन्न अंग है। ज्योतिष का अर्थ होता है विभिन्न तरह के तथ्यों को जोड़कर किसी भी व्यक्ति का एक संभावित भविष्य निर्धारित करना। ज्योतिष के विभिन्न अंग जैसे अंक ज्योतिष, रेखा ज्योतिष हैं। टैरोट कार्ड रीडिंग भी ज्योतिष का ही एक अभिन्न अंग है।

क्या है टैरोट कार्ड रीडिंग और इसका इतिहास? What is Tarot Card reading in Hindi

टैरोट कार्ड रीडिंग को ताश के पत्तों द्वारा प्रयोग किया जाता है। ताश के पत्तों को पढ़ना ही टैरोट कार्ड रीडिंग कहलाता है। ऐसा माना जाता है कि इन ताश के पत्तों को पढ़कर भविष्य में होने वाली घटनाओं का अंदाजा लगाया जा सकता है।

टैरोट कार्ड रीडिंग के दौरान वह व्यक्ति जिसे अपना भविष्य ज्ञात करना होता है उसे विभिन्न तरह के पत्ते दिए जाते हैं जिनपर रहस्यमय और रंगीन चित्र बने होते हैं। व्यक्ति के चुने हुए कार्ड के द्वारा यह पता लगाया जा सकता है कि उस व्यक्ति का भविष्य क्या होने वाला है। 

टैरोट कार्ड रीडिंग की उत्पत्ति 

टैरोट कार्ड रीडिंग यूं तो मौजूद समय में संपूर्ण विश्व में फैला हुआ है लेकिन इसका प्रयोग सर्व प्रथम चौदहवीं शताब्दी में किया गया था। इसे इटली में सबसे पहले प्रयोग किया गया था। टैरोट कार्ड रीडिंग से जुड़ी यह बात काफी ज्यादा रोचक है कि इसे सबसे पहले मनोरंजन के साधन के रूप में प्रयोग किया गया था।

मनोरंजन के तौर पर शुरू की गई टैरोट कार्ड रीडिंग आगे चलकर काफी ज्यादा महत्वपूर्ण ज्योतिष विद्या के रूप मे स्थापित हो गई। टैरोट कार्ड रीडिंग अपने शुरुआती वर्षों में बहुत अधिक प्रसिद्ध नहीं थी लेकिन 18वीं शताब्दी के आते आते यह इंग्लैड व फ्रांस तक पहुंच गई और अत्यधिक प्रसिद्ध भी हो गई। 

और पढ़ें -  महाराणा प्रताप के बारे में 30 रोचक तथ्य Amazing Facts about Maharana Pratap in Hindi

महिलाओं का बोल बाला 

ज्योतिष की किसी भी विधा को उठाकर अगर देखा जाए तो यह पाएंगे कि उस विधा के क्षेत्र में अधिकतर ज्योतिष पुरुष ही होते हैं लेकिन टैरोट कार्ड रीडिंग एकमात्र ऐसी ज्योतिष है जहां पर महिला ज्योतिष काफी ज्यादा हैं। 

इसके पीछे यह तर्क दिया जाता है कि टैरोट कार्ड रीडिंग में गणित का प्रयोग जरा भी नहीं किया जाता लेकिन इसे प्रयोग करने के लिए ज्योतिष का अनुमान अचूक होना चाहिए। प्राचीन तथ्यों के अनुसार महिलाएं हमेशा ही पुरुषों से ज्यादा अच्छे से अनुमान लगाती हैं, इस कारण वे ज्यादा अच्छी टैरोट कार्ड रीडर होती हैं। 

टैरोट कार्ड पंच तत्वों के आधार पर कार्य करता है। इसके ऊपर कुल सभी पंच तत्वों को दिखाया जाता है जो कि पृथ्वी, आकाश, अग्नि, हवा और पृथ्वी हैं। टैरोट कार्ड के कार्ड्स पर बने ये सभी तत्व व्यक्ति के भविष्य का अनुमान लगाने मे सहायता करते हैं। 

टैरोट कार्ड रीडिंग में कुल 78 कार्ड होते हैं। ये सभी कार्ड दो वर्गों में बंटे होते हैं जिनमें से पहला वर्ग मेजर अरकाना कार्ड का होता है, और इसमें दूसरा वर्ग माइनर अरकाना कार्ड का होता है। ये दोनों प्रकार के ही कार्ड टैरोट कार्ड रीडिंग में प्रमुख होते हैं। लैटिन भाषा में अरकाना शब्द का अर्थ होता है रहस्यमयी कार्ड। 

टैरोट कार्ड रीडिंग से भविष्य ज्ञात करने के तरीके :- 

टैरोट कार्ड रीडिंग के द्वारा भविष्य पता करने के कई तरीके हैं, वे तरीके निम्नलिखित हैं-

  • पहला तरीका तीन कार्डों का तरीका है। इस तरीके के दौरान तीन कार्डों की सहायता से भविष्य ज्ञात किया जाता है। तीन कार्ड के तरीकों के दौरान भूत भविष्य और वर्तमान की स्थिति बताने के लिए तीन कार्डों का प्रयोग किया जाता है। ये तीनों कार्ड अलग अलग समस्याएं और सुझाव एक साथ दर्शाते हैं। 
  • दूसरा तरीका पांच कार्डों का तरीका है। इस तरीके में प्रयोग में केवल पांच कार्ड ही लिए जाते हैं। पांच कार्डों के तरीके के दौरान 2 कार्ड सुझावों को दर्शाते हैं और अन्य दो कार्ड समस्याओं को दर्शाते हैं। बचा हुआ एक अन्य कार्ड सवाल पूछे जाने पर सवाल पूछने वाले व्यक्ति की मानसिकता को दर्शाता है। 
  • तीसरा तरीका सात कार्डों का तरीका है। इस तरीके में केवल सात कार्डों द्वारा भविष्य को ज्ञात किया जाता है। सात कार्डों में से दो कार्ड संबंधित व्यक्ति से जुड़ी समस्याओं को दर्शाते हैं वहीं अन्य दो कार्ड उन समस्याओं से जूझने के तरीके को भी दर्शातें हैं। 
और पढ़ें -  69+ तुलसीदास के दोहे हिन्दी अर्थ सहित Tulsidas Ke Dohe in Hindi (सर्वश्रेष्ट चौपाई व्याख्या सहित)

टैरोट कार्ड रीडिंग कैसे कराएं 

टैरोट कार्ड रीडिंग एक काफी ज्यादा संवेदनशील प्रकार का ज्योतिष है। यदि आप टैरोट कार्ड रीडिंग कराने जा रहे हैं तो निम्न प्रकार की सावधानियां और सुझाव जरूर दिमाग में रखें :- 

  • सबसे पहले यह जान लें कि आप टैरोट कार्ड रीडिंग किन सवालों के जवाब जानने के लिए कराना चाहते हैं। जब आप टैरोट कार्ड रीडिंग कराने जाएं तो उस सवाल को अच्छी तरह से ध्यान में रखें और पुनः पुनः अपने मन में दोहराएं या बेहतर होगा कि आप उस सवाल को कहीं पर लिख लें। 
  • सवाल को दोहराने के बाद एक एक करके तीन कार्ड चुने। 
  • पहला कार्ड हमेशा यह दर्शाएगा कि सवाल पूछते समय आपकी मानसिक स्थिति क्या थी। 
  • दूसरा कार्ड हमेशा यह दर्शाएगा कि आप अपनी समस्याओं से उबरने या अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए क्या कर सकते हैं। 
  • अंतिम कार्ड आपको आपकी टैरोट कार्ड रीडिंग का पूर्णतः हल बताएगा। 

1 thought on “क्या है टैरोट कार्ड रीडिंग? What is Tarot Card reading in Hindi”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.