दशहरा पर निबंध Dussehra Festival Essay in Hindi (विजयदशमी त्यौहार)

इस लेख में आप (विजयदशमी त्यौहार) दशहरा पर निबंध Dussehra Festival Essay in Hindi हिन्दी में पढ़ेंगे। इसमें आप दशहरा का इतिहास, कहानी, महत्व, उत्सव, मेला, के विषय में पूरी जानकारी दी गई है। साथ ही दशहरा पर रावन दहन के विषय में जानकारी दी गई है।

दशहरा पर निबंध (विजयदशमी) Dussehra Festival Essay in Hindi

अश्विन और कार्तिक के महीनों में, हिंदू, रावण पर भगवान राम की जीत का सम्मान करने के लिए उपवास, अनुष्ठान और समारोह का 10 दिवसीय समारोह मानते हैं। दशहरा दानव, महिषासुरा पर योद्धा देवी दुर्गा की जीत की भी प्रतीक है। इस प्रकार, यह बुराई पर अच्छाई की जीत का उत्सव है।

यह उत्सव नवरात्रि से शुरू होता है और “दशहरा” के दसवें दिन के त्यौहार के साथ समाप्त होता है। नवरात्रि और दशहरा पूरे देश में एक ही समय में अलग-अलग रीति-रिवाजों के साथ मनाया जाता है, लेकिन ज्यादा उत्साह और ऊर्जा से यह गर्मी के अंत और सर्दियों के मौसम की शुरुआत में मनाया जाता है।

नवरात्रि के बाद दसवें दिन को दशहरा कहा जाता है, जिस पर उत्तरी भारत में मेले का आयोजन किया जाता है, रावण के पुतलों का जलाया जाता है। इसे “विजया दशमी” भी कहा जाता है क्योंकि आज भी यह रावण के ऊपर भगवान राम की जीत का प्रतीक है।

विजयादशमी को भारतीय घरों  के लिए एक शुभ दिन माना जाता है, जिसमें वह पूजा करते है, शक्ति प्राप्त करते हैं. और शक्ति संरक्षित करते हैं।

शास्त्रों के मुताबिक, इन नौ दिनों में वे तीनों शक्तियों को प्राप्त होती हैं, अर्थात शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक, जिससे उन्हें बिना किसी कठिनाई के जीवन में प्रगति करने में मदद मिलती है।

और पढ़ें -  कुंभ मेला का इतिहास, कहानी, तथ्य Kumbh Mela History Story Facts in Hindi

भगवान राम के जीवन का एक नाटकीय रूप रामलीला, जो दशहरा से पहले नौ दिनों के दौरान आयोजित किया जाता है। दसवें दिन (विजयादशमी), रावण उसके पुत्र, भाई-मेघनाद और कुंभकर्ण के बड़े-बड़े पुतलों को आग लगाते हैं।

इस नाटकीय मुठभेड़ का नाटकीय क्रियान्वयन पूरे देश में आयोजित किया जाता है जिसमें लोगों का हर वर्ग उत्साह से इसमें भाग लेता हैं।

पूरे भारत देश में दशहरा व्यापक रूप से मनाया जाता है। देश के हिंदू आबादी के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण त्योहार है. हालांकि विभिन्न क्षेत्रों में एक अलग तरीके से मनाया जाता है।

रामलीला की दशहरा समारोह के दौरान एक अनूठी विशेषता है जहां रामायण की कहानियां, खासकर भगवान राम और रावण के बीच के नाटकों का अभिनय किया जाता है।

दशहरा पूज़ा की कहानी Dussehra Story in Hindi

यह पूजा नवरात्रि के 10 वें दिन विजय दशमी उत्सव का एक प्रतिष्ठित भाग है। रावण के पुतलों को जलाने के और भगवान राम के लंका के राक्षस राजा रावण को जीतने के अलावा, कुछ अनुष्ठान और रीति-रिवाज भी हैं, जिन्हें दशहरा पूजा करते समय मनाया जाता है।

दशहरा के पीछे दो व्यापक रूप से ज्ञात किंवदंतियां हैं, दोनों का सार बुराई पर अच्छाई की जीत है। श्रीलंका के राजा रावण पर भगवान राम की विजय उत्तर भारत में सबसे लोकप्रिय है, जबकि दक्षिण भारत का उत्सव दैत्य राजा महिषासुर पर देवी दुर्गा की विजय की कथा पर आधारित है।

दशहरा पर्व का महत्व Dussehra Festival Importance in Hindi

भारत में दशहरा बहुत महत्व है। इस त्योहार से यह पता चलता है कि बुराई कितनी ही बड़ी और शक्तिशाली क्यों ना हो, पर अंत में उसे अच्छाई से हारना ही पड़ता है। यह त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत हर हाल में होती है।

रावण जिसने सीता माता का अपहरण किया था, उसने एक बुरा काम किया था। दशहरे के दिन ही श्रीराम ने रावण का अंत किया था। इस तरह बुराई पर अच्छाई की जीत हुई थी।

और पढ़ें -  2020 पुथांडू त्यौहार (तमिल नव वर्ष) Puthandu Festival in Hindi Tamil New Year

दशहरा त्योहार कैसे मनाते है? How Dussehra is Celebrated in India?

लगभग सभी धर्म के लोग के पर्व का आनंद उठाते हैं। परंतु दशहरा को मुख्य रूप से हिन्दू मनाते हैं। हिन्दू धर्म के लोग प्रतिदिन घरों में, पंडालों में तथा मंदिरों में जा कर माता रानी की आरती व पूजा करने जाते हैं।

जगह-जगह मेला लगते हैं जहां लोग अच्छी-अच्छी नई चीजें खरीदते हैं। साथ ही कई तरह के सवदिष्ट भोजन भी खाने को मिलता है।

कई जगहों पर रामलीला का आयोजन किया जाता है जहां पर रामायण का नाटकीय रूप दिखाया जाता है। यह हमारी हिन्दू परंपरा को बनाए रखने का एक सुंदर नाटक होता है।

हर बड़े खेल के मैदान में रावण के पुतले लगाए जाते हैं। जिन्हें पूजा के अंतिम दिन (विजयदशमी) पर राम सेना का नाटकीय रूप आयोजन कर के राम द्वारा जलाया जाता है। रावण दहन देखने के लिए लोगों की अच्छी भीड़ उमढ़ पड़ती है।

भारत के विभिन्न राज्यों में दशहरा का उत्सव Dussehra Celebration in Different States of India

भारत के विभिन्न राज्यों में विजयदशमी, दश्हेरा का अलग ही रंग-रूप देखने को मिलता है:

  • हिमाचल प्रदेश में दहशरा- यहाँ का दशहरा बहुत प्रसिद्ध है। इस दिन यहां के निवासी नये वस्त्र पहनकर ढोल नगाड़े और वाद्ययंत्र लेकर अपने ग्रामीण देवता की पूजा करते हैं। जुलूस भी निकालते हैं। देवताओं की मूर्तियों को आकर्षक पालकी में सजाकर सुंदर प्रकार से पूरे नगर से निकाला जाता है। साथ ही मुख्य देवता रघुनाथ जी की भी पूजा की जाती है।
  • पंजाब में दशहरा- यहाँ के निवासी नवरात्रि के 9 दिन तक व्रत रखते हैं। उसके बाद उल्लास के साथ दशहरे का त्यौहार मनाते हैं। आने वाले मेहमानों को मिठाइयां दी जाती हैं। इस दिन मैदानों में रावण दहन का कार्यक्रम होता है।
  • बस्तर में दशहरा- यहाँ निवासी दशहरे के दिन दंतेश्वरी माता की पूजा करते हैं। यहां पर यह त्यौहार 75 दिनों तक मनाया जाता है दंतेश्वरी माता दुर्गा मां का ही दूसरा रूप है।
  • बंगाल, आसाम और उड़ीसा में दशहरा- दुर्गा पूजा के रुप में मनाया जाता है। पूरे बंगाल में यह त्यौहार पांच दिनों तक मनाया जाता है। दुर्गा माता की बड़े बड़े भव्य मूर्तियां बनाई जाती हैं। शाम के समय वहां पूजा होती है। बलि भी दी जाती है। स्त्रियां देवी के माथे पर सिंदूर लगाती हैं। उसके बाद देवी की मूर्तियों को बड़े-बड़े ट्रक में रखकर विसर्जन के लिए ले जाया जाता है। विसर्जन के समय भक्त बहुत ही भावुक हो जाते हैं। वह रोने लग जाते हैं।
  • तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में दशहरा- का त्यौहार 9 दिन तक चलता है जिसमें तीन देवियां लक्ष्मी सरस्वती और दुर्गा की पूजा की जाती है
  • मैसूर का दशहरा– भी बहुत प्रसिद्ध है। इस दिन मैसूर महल को दीप मालाओं से सजाया जाता है। अनेक देशी विदेशी पर्यटक मैसूर महल को देखने आते है।
  • गुजरात में दशहरे का त्यौहार-  गरबा नृत्य करके मनाया जाता है। डांडिया भी किया जाता है।
और पढ़ें -  कारगिल विजय दिवस पर निबंध Kargil Vijay Diwas Essay in Hindi

दशहरा मेला Dussehra Mela

दशहरा मेला उत्सव का मुख्य आकर्षण है। शहरों में मेलों का आयोजन किया जाता है जहां खरीदारी के लिए दुकानें लगाई जाती है।

बच्चों के लिए खेल और अन्य गतिविधियों का आयोजन किया जाता है, और सड़कों पर हलचल होती है। लोग रावण का भूसा का बना विशाल पुतला देखने के लिए इकट्ठे होते हैं। कोटा मेला और मैसूर मेला, दशहरा पर कुछ प्रसिद्ध मेले हैं।

आशा करते हैं आपको दशहरा पर निबंध (Dussehra Festival Essay in Hindi) अच्छा लगा होगा।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.