विज्ञान के चमत्कार पर निबंध Essay on Vigyan ke Chamatkar

विज्ञान के चमत्कार पर निबंध Essay on Vigyan ke Chamatkar

21वीं सदी में मनुष्य ने इतनी प्रगति कर ली है कि चारों तरफ  चमत्कार देखने को मिलते हैं। यह चमत्कार विज्ञान की मदद से संभव हो सका है। आज हम हजारों किलोमीटर की यात्रा कुछ घंटों में हवाई जहाज से कर सकते हैं।

विदेश बैठे व्यक्ति से भी फोन की मदद से आमने सामने बैठकर विडियो कालिंग कर सकते हैं। हमारे दैनिक जीवन में विज्ञान का प्रभाव स्पष्ट दिखाई देता है।

आजकल सभी घरों में एसी, कूलर, टीवी, फ्रिज होता है। विज्ञान के आविष्कारों के बिना हम एक कदम भी नहीं चल सकते हैं। इस निबंध में हम आपको विज्ञान के प्रमुख चमत्कारों के बारे में बताएंगे।

पढ़ें : विज्ञान और भविष्य पर भाषण 

विज्ञान के चमत्कार पर निबंध Essay on Vigyan ke Chamatkar

चिकित्सा के क्षेत्र में

चिकित्सा के क्षेत्र में मनुष्य ने विज्ञान की सहायता से बहुत उन्नति कर ली है।  आजकल टेस्ट ट्यूब बेबी तकनीक (आईवीएफ तकनीक) की मदद से निसंतान दंपत्ति भी बच्चे प्राप्त कर सकते हैं। ऐसे दंपत्ति जो इनफर्टिलिटी की समस्या से जूझ रहे हैं वे भी माता पिता बनने का सुख पा सकते हैं।

इस प्रक्रिया को प्रयोगशाला में किया जाता है। ऐग (अंडों) को महिला के गर्भाशय से लिया जाता है और पिता के शुक्राणु के द्वारा फर्टिलाइज किया जाता है। फ़र्टिलाइज़ किए गए अंडाणु को 2 से 5 दिनों के लिए कल्चर किया जाता है।

2 से 4 बार टेस्ट ट्यूब में बांटने के लिए रखा जाता है। इन अंडो का सफलतापूर्वक फर्टिलाइजेशन होने के बाद मां के गर्भाशय में डाल दिया जाता है और बच्चा सामान्य रूप से विकसित होता है। इस तकनीक को टेस्ट ट्यूब बेबी तकनीक कहते हैं।

वर्तमान में मनुष्य ने विज्ञान की मदद से मलेरिया, डेंगू, जापानी बुखार (इन्सेफेलाइटिस), कैंसर, डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, हड्डी के रोग, हृदय रोग जैसे अन्य रोगों का समाधान निकाल लिया है। पहले जहां बहुत से लोग इलाज और दवाओं के अभाव में मर जाते थे।

इसे भी पढ़ें -  राष्ट्रीय तकनीक दिवस पर भाषण Speech on National Technology Day in Hindi

आज वही पर मृत्यु दर बहुत कम हो गई है। ज्यादातर रोगियों को बचा लिया जाता है। आज भिन्न भिन्न प्रकार के ऑपरेशन भी सफलतापूर्वक किए जा रहे हैं। यहां तक की कृत्रिम ह्रदय लगाकर भी लोगों को बचा लिया जाता है।

रहन-सहन के क्षेत्र में

आज विज्ञान के चमत्कार रहन-सहन के क्षेत्र में दिखाई देते हैं। घर में कपड़े धोने के लिए वॉशिंग मशीन हर घर में पाई जाती है। मनोरंजन के लिए टेलीविजन होता है। गर्मी से बचने के लिए पंखे और एयर कंडीशन, कूलर आज हर घर में लगा हुआ है।

पहले की तरह अब गर्मियों में पसीने बहाने की जरूरत नहीं रही। सर्दियां आने पर गर्म एयर कंडीशन चला कर कोई भी आराम से सर्दियाँ बिता सकता है। बर्तन धोने के लिए आज डिशवॉशर उपलब्ध है। भोजन पकाने के लिए हर कोई रसोई गैस का इस्तेमाल करता है। मसाले पीसने के लिए मिक्सर ग्राइंडर उपलब्ध है जिसमें कुछ ही सेकंड में मसाले पीस जाते हैं।

यातायात के क्षेत्र में

यातायात के क्षेत्र में विज्ञान के जबरदस्त चमत्कार देखने को मिलते हैं। पहले जहां लोग बैल गाड़ियों, घोड़े पर सवारी करते थे, वहीं आजकल परिदृश्य पूरी तरह बदल गया है। डीजल पेट्रोल जैसे ईंधन के आविष्कार के बाद तो तस्वीर ही पूरी तरह बदल गई है।

आज हर तरफ तरफ ऑटो, कार, टैक्सी, मोटरसाइकिल देखने को मिलते है। आजकल ज्यादातर लोगों के पास उनके खुद के वाहन जैसे कार, मोटरसाइकिल, मिनीबस होते हैं। वह कहीं पर भी आसानी से आ जा सकते हैं।

दूर की यात्रा करने के लिए ट्रेन, हवाई जहाज और पानी के जहाजों की मदद ले सकते हैं। हवाई जहाज दूर की यात्रा करने के लिए आजकल बहुत प्रचलित है। इसकी मदद से हजारों किलोमीटर की यात्रा कुछ घंटों में कर सकते हैं।   

संचार के क्षेत्र में

संचार के क्षेत्र में भी विज्ञान के बहुत से चमत्कार देखने को मिलते हैं। पहले जहां तार वाला टेलीफोन चलता था वही अब सबके हाथों में मोबाइल फोन देखने को मिलता है। मोबाइल फोन में किसी प्रकार का तार नहीं होता है। इसे लेकर कहीं भी जा सकते हैं। धीरे धीरे इसमें बहुत सी सुविधाएं आ गई है जैसे इंटरनेट सुविधा, वीडियो कॉलिंग सुविधा।  

इसे भी पढ़ें -  SBI Unnati Credit Card Eligibility, Benefits, Limit, and How to Apply in Hindi

इंटरनेट की उपलब्धि विज्ञान की एक बड़ी उपलब्धि मानी जाती है। आजकल सभी किताबों, अखबारों, लेखो को ऑनलाइन पढ़ा जा सकता है। ऑनलाइन वीडियो, फिल्म भी देख सकते हैं। ई-मेल के आविष्कार से हम किसी भी प्रकार के डॉक्यूमेंट विश्व में बैठे किसी भी व्यक्ति को फौरन ही भेज सकते हैं।

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स जैसे फेसबुक, टि्वटर, व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम की मदद से आज हम देश और विदेश में बैठे अपने मित्रों रिश्तेदारों से हमेशा जुड़े रह सकते हैं। उन्हें कभी भी संदेश भेज सकते हैं और कभी भी संदेश प्राप्त कर सकते हैं।

मनोरंजन के क्षेत्र में

मनोरंजन के क्षेत्र में विज्ञान के जबरदस्त चमत्कार देखने को मिलते हैं। आजकल सिनेमा हॉल में नवीनतम तकनीक का प्रयोग हो रहा है। 3D तकनीक वाली फिल्म देखने पर आपको वास्तविक आनंद मिलता है।

ऐसा लगता है कि जैसे वह दृश्य आपके सामने घटित हो रहा है। आज मनोरंजन के हजारों साधन उपलब्ध हैं। टेलीविजन में हजारों की मात्रा में चैनल्स उपलब्ध हैं जो सभी तरह का मनोरंजन सामग्री (कंटेंट) प्रस्तुत करते हैं।

समाचार, फिल्में, बच्चों के लिए मनोरंजन जैसे कार्टून, बाल फिल्में, रोमांचक प्रोग्राम, गीत संगीत, खाना पकाना, ट्रैवल एंड टूरिज्म चैनल, धारावाहिक जैसे सभी तरह के मनोरंजन आपको टेलीविजन पर मिल जाएंगे।

इतना ही नहीं आप अपने मोबाइल फोन पर सभी तरह के शो आसानी से देख सकते हैं। मनोरंजन के लिए यूट्यूब एक सशक्त माध्यम बन कर उभरा है। सोशल मीडिया जैसे व्हाट्सएप, फेसबुक, इंस्टाग्राम, टि्वटर पर भी आपको भरपूर मनोरंजन मिल जाएगा।

युद्ध के क्षेत्र में

आज विज्ञान ने युद्ध कला को भी पूरी तरह परिवर्तित कर दिया है। आज के जमाने में तलवार, भाले से युद्ध नहीं होता है बल्कि दूर से ही युद्ध होता है। ऐ के 47, रॉकेट लॉन्चर, स्नाइपर राइफल, टैंक, तोप, लड़ाकू विमानों जैसे हथियारों का प्रयोग किया जाता है।

भारतीय सेना के पास बोफोर्स तोप, सुखोई लड़ाकू विमान, एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल, ब्रह्मोस मिसाइल, अग्नि मिसाइल, बैलिस्टिक मिसाइल, इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल जैसे आधुनिक हथियार हैं।

भारत ने कुछ महीनों पहले एंटी सैटलाइट मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है। इस मिसाइल की मदद से युद्ध के दौरान दुश्मन देश के सेटेलाइट को नष्ट करके उसकी समाचार व्यवस्था को नष्ट किया जा सकता है। इस ऑपरेशन को मिशन शक्ति का नाम दिया गया है।

इसे भी पढ़ें -   JioPhone kya hai iske Design Features Price ki Puri jankari

विज्ञान के नुकसान

जहां एक ओर विज्ञान के बहुत से चमत्कार देखने को मिलते हैं, वही विज्ञान से कुछ नुकसान भी है। हमारे देश में हजारों लाखों फैक्ट्रियां हर दिन रासायनिक कचरा और अन्य प्रकार का दूषित कचरा नदियों में छोड़ रही है। इससे नदियों का जल दूषित हो रहा है। देश की सबसे बड़ी नदी गंगा आज बहुत मैली हो गई है। नदियों में मछलियाँ और अन्य जीव जन्तु मर रहे है।

शहरों की हालत तो और भी खराब है। हर जगह प्लास्टिक और अन्य प्रकार का कचड़ा देखा जा सकता है जो स्वतः नष्ट नहीं होता है। फैक्ट्रियों की चिमनी से लगातार जहरीला धुआं निकलता रहता है, जो वायुमंडल में सल्फर डाइऑक्साइड, कार्बन डाइऑक्साइड, सल्फर मोनोऑक्साइड जैसी खतरनाक गैसों को छोड़ता रहता है जिससे वायुमंडल प्रदूषित हो रहा है।

ऑक्सीजन कम हो रही है और कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ रही है। मनुष्य ने अपने फायदे के लिए जंगलों को काटना शुरू कर दिया है। हर जगह आवास, कॉलोनी, बाजार बनाए जा रहे हैं। लगातार जंगलों को काटने से वन्य जीवो का आवास नष्ट हो रहा है। वे विलुप्त होते जा रहे हैं।

विज्ञान के कई अन्य दुष्परिणाम देखने को मिलते हैं। विज्ञान की मदद से एक मशीन 20 से 50 लोगों के बराबर का काम अकेले ही कर लेती है। इस तरह बेरोजगारी भी बढ़ रही है। आज मनुष्य ने अनेक घातक हथियार बना लिए है। परमाणु बम, हाइड्रोजन बम, मिसाइल ऐसे हथियार हैं जो संपूर्ण मानवता को कुछ ही घंटों में नष्ट कर सकते हैं।

उपसंहार Vigyan ka Chamatkar- Conclusion

विज्ञान के बहुत से चमत्कार हमें देखने को मिलते हैं। विज्ञान ने हमारी बहुत मदद की है, पर हमें विज्ञान का इस्तेमाल अपने विवेक के अनुसार करना होगा। साथ ही हमें अपने आसपास के वातावरण और पृथ्वी को भी बचा कर रखना होगा जिससे आने वाली पीढ़ियां पेड़ पौधों, पशु पक्षियों को देख सके। यदि हम विवेकपूर्ण दृष्टि से विज्ञान की मदद लेते हैं तो इसके अच्छे परिणाम ही देखने को मिलेंगे।

1 thought on “विज्ञान के चमत्कार पर निबंध Essay on Vigyan ke Chamatkar”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.