राम प्रसाद बिस्मिल की जीवनी Ram Prasad Bismil Biography in Hindi

राम प्रसाद बिस्मिल की जीवनी Ram Prasad Bismil Biography in Hindi

क्या आप राम प्रसाद बिस्मिल का पूरा नाम जानते हैं?
राम प्रसाद बिस्मिल के कार्य जानना चाहते हैं?
क्या आप परीक्षा के लिए राम प्रसाद बिस्मिल पर निबंध  या जीवन परिचय पढना चाहते हैं?

‘सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है’

साद बिस्मिल, जिन्हें पंडित राम प्रसाद बिस्मिल के नाम से भी जाना जाता है, लखनऊ में काकोरी ट्रेन डकैती में भाग लेने के बाद वह भारत के सबसे लोकप्रिय क्रांतिकारियों (स्वतंत्रता सेनानियों) में से एक बन गये।

वह ब्रिटिश भारत में आर्य समाज और हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन के सबसे महत्वपूर्ण सदस्य थे। राम प्रसाद बिस्मिल हमेशा भारत में औपनिवेशिक शासकों के खिलाफ खतरनाक गतिविधियों को चलाने में अपनी हिम्मत और निडरता के लिए जाने जाते थे।

राम प्रसाद बिस्मिल का नाम भारत की स्वतंत्रता से पहले लिखी गई कुछ देशभक्ति कविताओं के साथ भी जुड़ा हुआ है, जिसमें उन्होंने भारतीयों को स्वतंत्रता के लिए संघर्ष में भाग लेने की प्रेरणा दी है।

‘सरफरोसी की तमन्ना’, हिंदी भाषा में सबसे ज्यादा सुनाई जाने वाली राम प्रसाद बिस्मिल की कविताएँ है जिसमें कहा जाता है कि राम प्रसाद बिस्मिल ने अमरता प्राप्त की थी। राम प्रसाद बिज्मिल के जीवन परिचय को पढ़ें।

राम प्रसाद बिस्मिल की जीवनी Ram Prasad Bismil Biography in Hindi

उनका बचपन Childhood & Early Life

राम प्रसाद बिस्मिल का जन्म 11 जून 1897 में उत्तर प्रदेश के शाहजहाँपुर, उत्तर प्रदेश में हुआ था इसलिए आज इसी दिन को राम प्रसाद बिस्मिल जयंती के नाम से भी मनाया जाता है। उनके पूर्वज ब्रिटिश प्रधान राज्य ग्वालियर के निवासी थे। राम प्रसाद बिस्मिल के पिता शाहजहाँपुर की नगर पालिका बोर्ड के एक कर्मचारी थे।

इसे भी पढ़ें -  महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का इतिहास व कहानी Mahakaleshwar Jyotirlinga History Story in Hindi

हालांकि, उनकी कमाई अपने दो बेटों, राम प्रसाद बिस्मिल और उनके बड़े भाई की मूल आवश्यकताओं के खर्च को चलाने के लिए भी पर्याप्त नहीं थी। पैसों  की कमी के कारण, राम प्रसाद बिस्मिल को आठवीं कक्षा के बाद अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी। हालांकि, उनको हिंदी भाषा का गहरा ज्ञान था इस कारण इनको हिंदी कविता लिखने के अपने जुनून को जारी रखने में मदद मिली।

क्रांतिकारी के रूप में राम प्रसाद बिस्मिल के कार्य Revolutionary Works

अपनी पीढ़ी के कई युवाओं की तरह ही राम प्रसाद बिस्मिल भी कई कठिनाइयों और यातनाओं से प्रभावित हुए थे और आम भारतीयों को भी अंग्रेजों के प्रहार का सामना करना पड़ रहा था। इसलिए उन्होंने बहुत कम उम्र में ही अपनी ज़िंदगी देश के स्वतंत्रता संग्राम में समर्पित करने का निर्णय लिया।

वह बहुत ही कम उम्र में उन्होंने आठवीं कक्षा तक अपनी शिक्षा पूरी की और वह  हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन के सदस्य बन गए। क्रांतिकारी संगठनों के माध्यम से राम प्रसाद बिस्मिल ने चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह, सुखदेव, अशफाक उल्ला खान, राजगुरु, गोविंद प्रसाद, प्रेमकिशन खन्ना, भगवती चरण, ठाकुर रोशन सिंह और राय राम नारायण आदि के साथ स्वतंत्रता संग्राम में भाग लिया।

इसके तुरंत बाद, राम प्रसाद बिस्मिल ने 9 क्रांतिकारियों के साथ हाथ मिलाकर हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन के लिए काम किया और रामप्रसाद बिस्मिल और उसके सहयोगी अशफाक उल्ला खान के गुरुमंत्र का पालन करके उन्होंने काकोरी ट्रेन डकैती के माध्यम से सरकारी खजाने को लूट लिया।

9 अगस्त, 1925 को काकोरी कांड की इस घटना को लोकप्रिय रूप से जाना जाने लगा, नौ क्रांतिकारियों ने लखनऊ के निकट सरकार के पैसों का परिवहन करने वाली ट्रेन को लूट लिया और भारत के सशस्त्र संघर्ष के लिए हथियार खरीदने के लिए इसका इस्तेमाल किया गया।

इस घटना ने ब्रिटिश सरकार के अधिकारियों के विभिन्न वर्गों के बीच एक झड़प पैदा कर दी और इसलिए, क्रांतिकारियों को दंडित किया गया। राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खान, राजेंद्र लाहिरी और रोशन सिंह के नाम काकोरी ट्रेन डकैती में थे और उन सभी को मौत की सजा सुनाई गई थी।

इसे भी पढ़ें -  बाजीराव मस्तानी की प्रेम कहानी Bajirao Mastani Story in Hindi

साहित्यिक कार्य Ram Prasad Bismil poems

राम प्रसाद बिस्मिल की कविताएँ और शायरी बहुत प्रसिद्ध हैं। उनकी क्रांतिकारी भावना ही थी जिस कारण वह हमेशा औपनिवेशिक शासक से भारत की स्वतंत्रता चाहते थे यहां तक ​​कि जब वे देशभक्ति कविताएं लिखते थे तो उनके जीवन का मूल्य ही उनकी मुख्य प्रेरणा हुआ करती थी।

कविता ‘सरफरोशी की तमन्ना’ सबसे प्रसिद्ध कविता है इसका श्रेय राम प्रसाद बिस्मिल को जाता है, हालांकि कई लोग राय देते हैं कि कविता मूल रूप से बिस्मिल अजीमबादी ने लिखी थी। जब वह काकोरी कांड के मुख्य क्रांतिकारी घटना में अभियोग के बाद जेल में थे, तब पंडित राम प्रसाद बिस्मिल ने अपनी आत्मकथा लिखी थी।

मृत्यु Ram Prasad Bismil death

काकोरी कांड में दोषी ठहराए जाने के बाद ब्रिटिश सरकार ने फैसला सुनाया कि मृत्यु के लिए राम प्रसाद बिस्मिल को फांसी दी जाएगी। उन्हें गोरखपुर में सलाखों के पीछे रखा गया था और तब 19 दिसंबर, 1927 में 30 साल की उम्र में उन्हें फांसी पर लटका दिया गया था।

उनकी मृत्यु ने देश के भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के मुख्य क्रांतिकारियों का बल छीन लिया था। उन्हें काकोरी कांड के शहीद के रूप में याद किया जाता है।

राम प्रसाद बिस्मिल पुस्तकें Ram Prasad Bismil books

  • Atmakatha : Nij Jeevan Ki Ek Chhata – an autobiography of Ram Prasad Bismil in Hindi
  • Mainpuri ki Pratigya (1918)
  • Sarfaroshi Ki Tamanna(1920)
  • Man Ki Lahar(1921)
  • Kranti Gitanjali(1925)
  • America Ki Swatantrata Ka Itihas (1916)

राम प्रसाद बिस्मिल की जीवनी Ram Prasad Bismil Biography in Hindi अच्छा लगा है तो अपने सोशल मीडिया पर ज़रूर शेयर करें।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.