देशभक्ति पर निबंध Essay on Patriotism in Hindi

इस लेख में हमने देशभक्ति पर निबंध Essay on Patriotism in Hindi हिन्दी मे स्कूल और कॉलेज के छात्रों के लिए 1000+ शब्दों मे लिखा है।

देशभक्ति पर निबंध Essay on Patriotism in Hindi

देशभक्ति का अर्थ अपने देश से प्यार करना होता है। इसे गयाप्रसाद स्नेही की कविता से समझ सकते है-

“जो भरा नही है भावो से!
बहती जिसमे रसधार नही
वो ह्रदय नही पत्थर है
जिसमे स्वदेश का प्यार नही”

इसका अर्थ है जो व्यक्ति अपने देश से प्यार नही करता उसका ह्रदय पत्थर के समान कठोर है। सभी लोगो को अपने देश पर बहुत नाज होता है। जिस जगह जिस देश, स्थान पर हम रहते है सदैव उसके आभारी रहते हैं। हम सभी को देशभक्त होना चाहिये।

कभी भी गद्दारी नही करनी चाहिये। अपनी मातृभूमि की सदैव रक्षा करनी चाहिये। माँ और मातृभूमि का कर्ज हम कभी नही उतार सकते हैं। माँ हमे जन्म देती है और मातृभूमि हमारा पोषण करती है। दोनों ही स्वर्ग से अधिक महान होते हैं। गोपाल दास के शब्दों में-

वह ख़ून कहो किस मतलब का
जिस में उबाल का नाम नही
वह ख़ून कहो किस मतलब का
आ सके जो देश के काम नही

कौन है असली देशभक्त? Who is real Patriot?

  • जो देश की रक्षा हर हाल में करे। अपनी आन बान शान इस पर कुर्बान कर दे। अपने व्यक्तिगत स्वार्थ के बारे में न सोचे।
  • देश को आक्रमणकारियों, आतंकवादियों से बचाये।
  • जो सिर्फ बड़ी बड़ी बाते न करे बल्कि मन से भी देशभक्त हो। आज हमारे देश में ऐसे लोग है जो बाहर से देशभक्त होने का दिखावा करते है पर अंदर से देश को नुकसान पहुँचाना चाहते है।

देशभक्ति के लिए खतरनाक तत्व Harmful elements for Patriotism

  • धार्मिक कट्टरता, धार्मिक उन्माद फैलाने वाले लोग और नेता जो स्वार्थ की राजनीति करते है। अपने वोट बनाने के लिए जो धार्मिक उन्माद का सहारा लेते है।
  • जातिवाद के नाम पर देश को तोड़ने की बात करने वाले लोग
इसे भी पढ़ें -  आंबेडकर जयंती पर भाषण Speech on Ambedkar Jayanti in Hindi

बच्चो के अंदर कैसे देशभक्ति जगानी चाहिये? How to encourage Patriotism among children?

जानते हैं कैसे हम बच्चों को देशभक्ति के विषय में और ज्ञान प्रदान कर सकते हैं –

  • स्कूल, कॉलेज में देशप्रेम से सम्बन्धित पाठक्रम होना चाहिये। ऐसी कहानियाँ होनी चाहिये जिससे बच्चो को इसके बारे में पता चल सके। महापुरुषों की जीवनी पढ़ाई जानी चाहिये।
  • देश के स्वतंत्रता सेनानियों पर पाठ होने चाहिये जिससे भारी पीढ़ी को हमारे गौरव पूर्ण इतिहास के बारे में पता चल सके। महात्मा गांधी, वल्लभभाई पटेल, भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, मंगल पांडे जैसे सेनानियों की जीवनी पढ़ाई जानी चाहिये।
  • विश्वविद्दालयों में महापुरुषो पर शोध कार्य होना चाहिये।
  • 15 अगस्त, 26 जनवरी, 2 अक्तूबर, 31 जनवरी जैसे राष्ट्रीय पूर्वो को पूरे देश में गर्व और घूम धाम से मनाना चाहिये। गोष्ठी होनी चाहिये। देश को आजादी दिलाने वाले शहीदों को हमे कभी नही भूलना चाहिये। उसकी वजह से ही आज हम आजादी की खुली हवा में साँस ले पा रहे हैं।
  • देशभक्ति पर फिल्मे बनानी चाहिए। कहानी, कविता, शायरी और अन्य साहित्य रचना होनी चाहिये।
  • देश के प्रमुख राजमार्गो, सार्वजनिक इमारतों, पुलों, हवाईअड्डो के नाम देशभक्तों के नाम पर रखना चाहिये।
  • जल सेना, थल सेना, वायु सेना, BSF (बोर्डर सिक्योरिटी फ़ोर्स) जैसी सेनाओ में भर्ती प्रक्रिया में छूट मिलनी चाहिये जिससे देश के युवा अधिक से अधिक मात्रा में इसमें सेवा देने के लिए जायें। सेवानिवृति होने पर पेंशन व अन्य सुविधाये मिलनी चाहिए।
  • शहीदों की विधवाओं को नौकरी और पेशन दी जानी चाहिए। उनके बच्चो को सुविधाये दी जानी चाहिये।
  • ऐसे सिपाही, सैनिक, देश के नागरिक जो वीरतापूर्ण कार्य देश के लिए करे सरकार को उनको सम्मानित करना चाहिये।
  • हमारे देश में कुल 29 राज्य है जो अक्सर जल विवाद, भाषा विवाद, सीमा विवाद, क्षेत्रवाद करते रहते है। एक राज्य दूसरे राज्य को पानी देने से मना कर देता है, कई राज्य नही चाहते की दूसरे राज्यों के बेरोजगार आकर वहां काम करें। कुछ राज्य हिंदी, अंग्रेजी और दूसरी भाषाओं के नाम पर विवाद करते है। कई बार देश की राष्ट्रभाषा हिंदी का अपमान किया जाता है। ये सब कार्य बिलकुल भी उचित नही है। ऐसा विवाद करने से देश की अखंडता को चोट पहुँचती है।
  • देश या विदेश में कहीं भी राष्ट्रगान “जन-गण-मन सुनाई दे तो खड़े होकर सम्मान दिखाना चाहिये। आजकल कई लोग राष्ट्रगान का अपमान करते हैं। वो सुनाई देने के बादजूद भी खड़े नही होते है, बैठे रहते हैं। सिनेमाघरों में इस तरह की घटनाये देखने को मिलती है।
  • तिरंगे का हमे सम्मान करना चाहिये।
  • सोशल मिडिया पर किसी तरह से देश विरोधी बात नही करनी चाहिये।
इसे भी पढ़ें -  अनेकता में एकता पर भाषण Speech on Unity is Strength in Hindi

कैसे देशभक्ति दिखा सकते है? How we can show Patriotism?

ऐसा बिलकुल नही है की देश के सभी नागरिको को अपने सीने पर गोली खाकर देशभक्ति दिखाने की जरूरत है। हम अनेक प्रकार से देश भक्ति दिखा सकते है। ये है तरीके

  • सार्वजनिक स्थानों को नुकसान न पहुचाये। कई लोग बसों, रेलों में कुछ न कुछ खुर्च कर लिख देते है। ट्रेनों की सीट को तोड़ देते है। ऐसा बिलकुल न करें।
  • सार्वजनिक स्थानों को स्वच्छ रखे। प्लास्टिक, कूड़ा, गंदगी न फैलाये।
  • सार्वजनिक स्थानों पर चोरी न करे।
  • अपना इनकम टैक्स ईमानदारी से चुकाये। टैक्स चोरी न करें। आपके दिए टैक्स से देश का निर्माण होगा। जितना जादा टैक्स आप देंगे उसे देश की सड़के, रेल मार्ग, वायु मार्ग, इन्फ्रास्ट्रक्चर बनाने में लगाया जाएगा।
  • ऐसे शहीद जिन्होंने हँसते हँसते अपनी जान दे दी उनका अपमान न करे।
  • जातिवाद, धर्म, मजहब के नाम पर देश को बाँटते की बात न कहे।
  • किसी भी ऐसे व्यक्ति, लोगो को आश्रय नही देना चाहिये जो हमे पैसे का लालच देकर देश को नुकसान पहुँचाना चाहते है। आजकल जम्मू- कश्मीर राज्य में ऐसा चल रहा है। कुछ लोग आतंवादियों से पैसा लेकर उनको अपने घरो में शरण देते है। उनकी पहचान गुप्त रखते है। बाद में वही आंतकवादी सेना पर आक्रमण करते है।
  • आजकल कुछ लोग मनी लांड्रिंग में लिप्त है। मनी लांड्रिंग का अर्थ है गैर कानूनी तरह से पैसे को देश के अंदर और बाहर ले जाना। ऐसे लोग भी देश द्रोही है। वो काले धन का लेन देन करते है। वो विदेशो मे बैंक में देश का पैसा जमा कर देते है। ये धन गैर कानूनी तरह से कमाया गया होता है। इस पर वो लोग टैक्स नही चुकाते है।
  • देश का पैसा विदेशो में जमा न करें। काला धन का लेन देन न करें। इसे बढ़ावा न दें।
  • ऐसा काम करे जिससे देश मजबूत हो। आपस में भाईचारा बढ़ाए। विभिन्न धर्म, मजहब, जातियों के लोग एक दूसरे की रीतियों, परम्पराओं, संस्कृतियों का सम्मान करें। मिल जुलकर रहे। आपस में प्रेम करे, तभी देश मजबूत बनेगा।
  • देश पर कोई संकट आने पर साथ मिलकर मुसीबत का सामना करना चाहिये।
  • देश को महान बनाने के लिए हमे कुरीतियों जैसे- दहेज़ प्रथा, बालश्रम, बाल विवाह, जातिवाद, ऊंच नीच, छुआछूत, रिश्वतखोरी, लालफीताशाही, भ्रष्टाचार जैसी कुरीतियों को खत्म करना चाहिये। इन्हें जड़ से उखाड़ फेकना चाहिये।
इसे भी पढ़ें -  स्वामी विवेकानंद के अनमोल विचार Swami Vivekananda Quotes in Hindi with PDF

हमारे देश के प्रमुख देशभक्त जिनके प्रयासों से देश आजाद हुआ Indian famous Patriots

देशद्रोह पर दंड का प्रावधान होना चाहिये Traitors should be Punsidhed

कुछ कुटिल लोग हमारे देश के लचीले कानून का फायदा उठाकर आये दिन सार्वजनिक स्थानों पर देश के खिलाफ नारे लगाते रहते है। इस तरह से असामाजिक तत्वों को कठोर दंड मिलना चाहिये।

सन 2016 में JNU जवाहरलाल नेहरु यूनीवर्सिटी दिल्ली में खालिद उमर और तत्कालीन छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया ने एक कार्यक्रम के दौरान देशविरोधी नारे लगाये थे। ऐसे लोगो के खिलाफ कार्यवाही होनी चाहिये।

आजकल अनेक व्यापारी जैसे विजय माल्या, नीरव मोदी देश के करोड़ो रुपये लेकर विदेश भाग गये है। कानून की नजर में ऐसे लोग भी देशद्रोही है।

जो पैसा लेकर वो विदेश जा चुके है वो देश की जनता की मेहनत का पैसा था। इस तरह के लोगो को कठोर दंड मिलना चाहिये। ये लोग देश का ही खाते है और इसकी ही आलोचना करते हैं। ऐसे लोगो के खिलाफ सरकार को कठोर कानून बनाने चाहिये।

निष्कर्ष Conclusion

दोस्तों आज का लेख हमने सर्वश्रेष्ठ बनाने का प्रयास किया है। देशभक्ति ऐसी भावना नही जिसे जबरन किसी पर थोपा जाये। यह भावना खुद ही स्वेच्छा से मन में पैदा होनी चाहिये। जिस देश में हमने जन्म लिया, जो भूमी हमारा पोषण करती है उसका सम्मान हमे सदैव करना चाहिये।

यदि देश के 132 करोड़ नागरिक सिर्फ खुद को देशभक्त बना ले तो स्वतः पूरा देश विकास और खुशहाली के मार्ग पर आगे बढ़ जायेगा। हम विकासशील देश से विकसित देश बन जायेंगे।

देशभक्ति की भावना सिर्फ 2 3 दिनों तक सीमित नही होनी चाहिये। यह साल के 365 दिन होनी चाहिये। आशा करते हैं आपको देशभक्ति पर निबंध Essay on Patriotism in Hindi हिन्दी में पसंद आया होगा।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.