कुत्ता जो विदेश गया : कहानी The Dog Who Went Abroad Story in Hindi

कुत्ता जो विदेश गया The Dog Who Went Abroad Story in Hindi

कुत्ता जो विदेश गया : कहानी The Dog Who Went Abroad Story in Hindi

चित्रांगा नाम का एक कुत्ता था, जो एक ऐसे शहर में रहता था जो कि अकाल से प्रभावित था। वहाँ लोगों को खाने के लिए कोई भोजन नहीं था, जिसके कारण वह कुत्तों, मवेशियों या किसी अन्य जानवर को भोजन नहीं दे सकते थे। भोजन की कमी के कारण, अन्य जानवरों के साथ, कुत्ते भी भूक से तड़प चुके थे।

चित्रांगा भूख को सहन नहीं कर पा रहा था और उसने यह महसूस किया कि इस स्थान पर रहने की कोई स्थिति दिखाई नहीं दे रही है। उसने भोजन और बेहतर परिस्थितियों की तलाश में एक विदेशी देश के लिए जाने का फैसला किया।

एक लंबी दूरी की यात्रा तय करने  बाद, वह एक निश्चित शहर में पहुंचा। वहां उसने देखा एक अमीर घरेलू महिला ने लापरवाही के कारण अपने घर का दरवाजा खुला छोड़ा है वह घर में गया जहाँ उसे प्रचुर मात्रा में भोजन मिला। उसने लंबे समय से कुछ नहीं खाया था, इसलिए उसने खूब दिल से पेट भर कर खाया फिर उसने चुपचाप छोड़ने का सोचा।

जल्द ही वह घर से बाहर आ गया, उसे पड़ोस के अन्य कुत्तों ने देखा, उन्हें एहसास हुआ कि वह उनके समुदाय का नहीं था , और वे उसका  पीछा करने लगे चूंकि, चितरंजन का पेट भरा हुआ था, वह तेजी से नहीं चल सकता था, और वह पकड़ा गया और उन कुत्तों ने उसे अपने तेज दाँतों से सारे शरीर में थोड़ा थोड़ा काट लिया।

वह किसी तरह बच कर वहाँ से भागा और सोचने लगा”अपने देश में शांति से जीना बेहतर है, चाहे वह अकाल से प्रभावित क्यों  न हो मुझे अपने घर लौट जाना चाहिए”।

इसे भी पढ़ें -  कुत्ते पर 51 अनमोल कथन 51 Best Quotes on Dog in Hindi

जब वह अपने देश लौट आया, तब भूख से मरने वाले कुत्तों को उत्सुकता थी। उसके दोस्त और रिश्तेदार उससे वहां के बारे में पूछताछ करने के लिये उसके चारों ओर इकट्ठे हो गए, “कृपया हमें उस विदेशी देश के बारे में बताओ जहाँ तुम गये थे। वह कैसा है? लोग कैसे हैं वहाँ? क्या वहाँ बहुत सारा भोजन हैं?”

कुत्ते ने कहा, “हे दोस्तों और रिश्तेदारों, मैं क्या कहूँ ? विदेशी देश में, महिलाएं लापरवाह हैं, वे दरवाजों और खिड़कियां खुला छोड़ देती हैं, खाने के लिए बहुत सारा भोजन हैं, लेकिन, आपकी जाति वाले और रिश्तेदार कभी कोई सहानुभूति नहीं दिखाएंगे। वे तुम्हें मौत के लिए पीड़ा देगा।”

कहानी से शिक्षा Moral of the Story

अपने घर से अच्छा और कोई स्थान नहीं होता है।
चाहे दुःख हो या मुश्किल अपने लोगों और घर से दूर कभी नहीं जाना चाहिए।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.