एक्टिंग और ड्रामा में करियर Career as an Actor in Hindi

एक्टिंग और ड्रामा में करियर – Career as an Actor in Hindi

एक्टिंग एक ऐसा क्षेत्र है जहां पर कुशलता के साथ साथ भाग्य को भी परखा जाता है| यानी कि एक्टिंग के क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन होने के साथ साथ अच्छा भाग्य होना काफी ज्यादा जरूरी है|

हर साल कई लाख एक्टर बनने के लिए घर से निकलते हैं लेकिन उनका करियर एक्टिंग में बमुश्किल शुरू हो पाता है| एक्टिंग करियर अब काफी ज्यादा मुश्किल हो चुका है, और इसमें कॉम्पिटिशन में काफी ज्यादा बढ़ गया है|

लेकिन यदि आप अच्छे एक्टर हैं और एक्टिंग से मन से जुड़े हुए हैं तो आपको निराश होने की कोई आवश्यकता नहीं है| नीचे आर्टिकल में यह बताया गया है कि आप एक्टिंग में कैसे आगे बढ़ सकते हैं| 

एक्टिंग और ड्रामा में करियर Career as an Actor in Hindi

एक्टर्स के प्रकार Types of actors

  • टीवी/फिल्म एक्टर ( TV film actor) :- इस प्रकार के एक्टर बड़े या छोटे पर्दे पर अभिनय करते हैं| यदि आप लाइव नहीं परफ़ॉर्म कर सकते हैं तो आप यह कर सकते हैं| टीवी या फिल्म एक्टर बनने के लिए बहुत ज्यादा कॉम्पिटिशन का सामना करना पड़ सकता है| 
  • ड्रामा एक्टर (Drama Actor) :- इस प्रकार के एक्टर लाइव प्रस्तुति देते हैं| ड्रामा एक्टर बनना काफी ज्यादा मुश्किल होता है| 

कैसे बने एक्टर? How to be an actor?

एक एक्टर बनने के लिए आपको शुरुआत थिएटर से करनी होगी| एक्टर बनने के लिए तीन तरीके हैं जो निम्न हैं :- 

  1. एक्टर बनने के लिए पहला तरीका यह है कि आप बारहवीं कक्षा के बाद थिएटर जॉइन कर लें| वहां आपको अभिनय की बारीकियां सिखाई जाएंगी और वहां पढ़ने से आपके चुने जाने की संभावना बढ़ जाती है| 
  2. एक्टर बनने के लिए एक्टिंग में ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल कर सकते हैं| ग्रेजुएशन डिग्री हासिल करने के बाद आप एक्टिंग की बारीकियां सीख जाते हैं| 
  3. एक्टर बनने के लिए तीसरा तरीका यह है कि आप किसी भी विषय में ग्रेजुएशन करते हुए भी आप थिएटरों से जुड़े रहे और नुक्कड़ नाटक और अन्य प्रस्तुतियों का हिस्सा बनते रहे| 
इसे भी पढ़ें -  बीडीओ अधिकारी क्या होता है? उनके काम? कैसे बने? BDO in Hindi

कहाँ पढ़ा जा सकता है? Where to Study for acting ?

  • नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा, दिल्ली 
  • फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, मुंबई 
  • बैरी जॉन एक्टिंग स्टूडियो, मुंबई 
  • इंस्टीट्यूट ऑफ क्रिएटिव एक्सीलेंस, मुंबई 
  • अनुपम खेर एक्टर प्रीपेयर, मुंबई 
  • डबल ए एफ टी, नोएडा, मुंबई, कोलकाता, दिल्ली, 
  • विषलिंग वुडस इंटरनेशनल, मुंबई 
  • आर के फिल्म एंड मीडिया कम्पनी, नई दिल्ली 
  • जीमा, मुंबई 
  • दिल्ली फिल्म इंस्टीट्यूट, नई दिल्ली 
  • रमेश सिप्पी अकैडमी ऑफ सिनेमा एंड एंटरटेनमेंट, मुंबई 

एक्टिंग क्षेत्र के कार्य Works in acting field

एक्टिंग की अच्छी समझ होने का मतलब केवल यह नहीं कि आप एक्टर ही बने| एक्टिंग क्षेत्र में अन्य कार्य जो किये जा सकते हैं वे निम्न है :- 

1)एक्टिंग कोच (Acting Coach) :- एक एक्टिंग कोच बनकर आप एक्टिंग सिखा सकते है| खुद का एक्टिंग स्कूल खोलने के साथ साथ अन्य शैक्षिक संस्थान में भी पढ़ाया जा सकता है| एक एक्टिंग कोच की सालाना आय 20-25 लाख रुपये होती है| 

2)सेट डिजाइनर (Set designer) :- स्क्रिप्ट के अनुसार सेट को डिजाइन करना एक मुश्किल काम है| यदि आपकी कल्पना शक्ति अच्छी है और आप अच्छी तरह से सेट डिजाइन कर सकते हैं तब एक्टिंग के क्षेत्र में आप यह भी कर सकते हैं| सेट डिजाइनर की औसत सालाना आय 40-50 लाख के आसपास होती है|

3)निर्देशक (Director) :- यदि आपकी अभिनय कुशलता अच्छी है एवं आप अभिनय को आसानी से समझ एवं दर्शा पाते हैं तब आप निर्देशक के तौर पर भी आगे बढ़ सकते हैं| एक निर्देशक वह व्यक्ति होता है जो अभिनेता और अन्य लोगों को निर्देश देता है एवं उनसे स्क्रिप्ट के अनुरूप कार्य कराता है|

4)प्रोड्यूसर (Producer) :- प्रोड्यूसर एक ऐसा व्यक्ति होता है जो ड्रामा/फिल्म के लिए आर्थिक रूप से मदद जुटाता है एवं एक्टर्स को चुनता है| प्रोड्यूसर की आय समूची आय का नियत प्रतिशत होती है| 

कितना कमाया जा सकता है? How much an actor earns?

एक एक्टर बनने के बाद आपकी आय इस बात पर निर्भर करती है कि आप ड्रामा, टीवी या फिल्म में एक्टिंग कर रहे हैं या नहीं| आपकी आय आपकी भूमिका पर भी निर्भर करती है| आप मुख्य भूमिका में हैं या सहायक भूमिका में यह आपकी आय को तय करता है| 

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.